Live News »

VIDEO: 2 साल के बच्चे की नाले में गिरने से मौत, निर्माणाधीन नाला बना है हादसे का कारण

VIDEO: 2 साल के बच्चे की नाले में गिरने से मौत, निर्माणाधीन नाला बना है हादसे का कारण

भरतपुर: भरतपुर के कस्बा वैर स्थित कुम्हेर गेट मौहल्ले में आज मुंबई जैसी लापरवाही देखने को मिली. जहां घर के बाहर बने नगर पालिका के नाले में एक मासूम की गिरने से मौत हो गई. जब तक परिजनों को जानकारी हुई, तब तक बालक हर्ष गम्भीर घायल हो चुका था. मौके पर मौजूद पड़ोसी बालक हर्ष को लेकर सीएचसी वैर पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने बालक को मृत घोषित कर दिया. 

ठेकेदार के प्रति रोष:
प्राप्त जानकारी के अनुसार बालक के पिता धर्मेंद्र गिर्राजजी परिक्रमा देने गोवर्धनजी धाम गया हुआ था. 2 वर्षीय हर्ष घर के बाहर खेला रहा था. घर के बाहर होकर नगर पालिका वैर का गन्दा पानी निकासी नाला बना हुआ है. खेलते खेलते मासूम उसी नाले में गिर गया. कुम्हेरगेट के बाशिंदों के नगर पालिका प्रबंधन व ठेकेदार के प्रति रोष व्याप्त है. वाशिंदों का कहना है कि दूसरी तरफ निर्माणाधीन नाले की वजह से कस्बे के गन्दे पानी को इस तरफ़ डाल रखा है, जिससे हादसा हुआ है. 

... वैर से सन्तोष पण्डित की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

भरतपुर: कई दिनों तीन युवकों ने नाबालिग से किया गैंगरेप, तीन माह की गर्भवती होने पर हुआ खुलासा

भरतपुर: कई दिनों तीन युवकों ने नाबालिग से किया गैंगरेप, तीन माह की गर्भवती होने पर हुआ खुलासा

भरतपुर: जिले के कामां थाना इलाके के एक गांव में सामूहिक दुष्कर्म के बाद 13 वर्षीय दलित नाबालिग बालिका तीन माह से ज्यादा की गर्भवती हो गयी. इस बात का पता उस समय चला जब पेट में दर्द की शिकायत पर बालिका को उसके परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे. अस्पताल में पता चला कि बालिका तो तीन माह की गर्भवती है. उसके बाद पीड़िता ने पूरा घटनाक्रम अपने परिजनों को बताया. पीड़िता ने बताया कि चार महीने पूर्व गांव के ही तीन युवकों ने उसको रास्ते में पकड़ लिया और सरसों के खेत में तीनों ने दुष्कर्म किया. उसके बाद जान से मारने की धमकी देते हुए वे लोग उसके साथ मौका मिलने पर बार बार दुष्कर्म करते रहे जिसे वह गर्भवती हो गयी.  

पांच मिनट का वीडियो संदेश रिकॉर्ड करने संत ने लगाई फांसी, महिला ने लगाया था दुष्कर्म का आरोप 

खेत में ले जाकर तीनों ने बारी बारी से किया दुष्कर्म:
13 वर्षीय नाबालिग दलित बच्ची को करीब 4 महीने पहले गांव के ही तीन युवक सद्दाम,तौफीक,मम्मन ने उस समय अपनी हवस का शिकार बनाया जब वह खेत पर पर जा रही थी. तब गांव के तीनों बदमाशों ने बालिका को रास्ते में धर दबोचा और वहां सरसों के खेत में ले जाकर तीनों ने बारी बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी. 

परिजनों को जान से मारने की धमकी दी:
गांव के तीनों दुष्कर्मी अब पीड़िता के परिजनों को जान से मारने की धमकी दे रहे है की उनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज नहीं किया जाए. पीड़िता के पिता ने बताया की उसकी नाबालिग पुत्री के साथ गांव के ही तीन लोग दुष्कर्म करते रहे जिससे वह गर्भवती हो गयी और अब हम उनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज करा रहे हैं. 

कोरोना संक्रमण को लेकर नया खुलासा, इतने दिन के बाद संक्रमित से नहीं फैलता वायरस 

दुष्कर्म का मामला दर्ज:
कामां थानाधिकारी धर्मेश दायमा ने बताया कि कामां थाना इलाके की एक विवाहिता ने कामां थाने पर पहुंचकर लिखित तहरीर दी है जिसमें उसने अवगत कराया है कि उसकी नाबालिग पुत्री के साथ गांव के ही लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया है इसके बाद दुष्कर्म का मामला दर्ज किया जा रहा है और पीड़िता का मेडिकल मुआयना कराया जा रहा है व इसकी जांच कामां के पुलिस वृत्ताधिकारी देवेंद्र सिंह राजावत करेंगे. 

भरतपुर की सेवर जेल तक पहुंचा कोरोना वायरस, सब्जी सप्लाई करने वाला निकला संक्रमित

 भरतपुर की सेवर जेल तक पहुंचा कोरोना वायरस, सब्जी सप्लाई करने वाला निकला संक्रमित

भरतपुर: राजस्थान के भरतपुर जिले की हाई सिक्योरिटी माने जाने वाली सेवर जेल पर अब तक तो उसकी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल उठ रहे थे, लेकिन अब जेल में कोरोना संक्रमण का खतरा भी मंडराने लगा है. भरतपुर के सेवर कस्बे में रविवार को कोरोना का जो पॉजिटिव मरीज मिला है. वे पिछले लंबे समय से सेवर जेल में सब्जी सप्लाई करने का काम करता है और अब संभावना नजर आ रही है कि कहीं कोरोना सब्जी के माध्यम से जेल में प्रवेश तो नहीं कर गया.

मौसम विभाग ने राजस्थान में लू चलने का अलर्ट किया जारी, हरियाणा और दिल्ली में भीषण की संभावना 

सब्जी मंडी के व्यापारियों की भी स्क्रीनिंग:
चिकित्सा विभाग द्वारा मामले को गंभीरता से लिया गया है और जेल में स्क्रीनिंग का कार्य शुरू करा दिया है. चिकित्सा विभाग की टीम जेल के रसोईये, सुरक्षाकर्मियों और कैदियों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही उनके सैंपल भी ले रही है. सीएमएचओ डॉ कप्तान सिंह ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ को बताया कि जेल के अलावा कुम्हेर गेट सब्जी मंडी के व्यापारियों की भी स्क्रीनिंग कराई जा रही है. कोरोना पॉजिटिव मरीज इसी सब्जी मंडी से सब्जी खरीद कर सेवर सेंट्रल जेल में सप्लाई करता था. 

भरतपुर में कुल 135 संक्रमित मिले:
भरतपुर जिले में कुल अब तक 8588 सैंपल लिए गए हैं, जिनमें 8064 की रिपोर्ट आई है और उनमें 135 लोग कोरोना संक्रमित मिले है. इनमें से 123 पॉजिटिव से निगेटिव हो चुके है. जबकि कुल 8 केस एक्टिव हैं, जिनमें से 7 लोगों का भरतपुर के आरबीएम अस्पताल के कोरोना वार्ड में और एक मरीज का एसएमएस जयपुर में इलाज किया जा रहा है. अब तक कोरोना पॉजिटिव 4 लोगों की मौत भी हो चुकी है, जिनमें तीन की जयपुर में और एक व्यक्ति की भरतपुर में मौत हुई है, परंतु मौत की वजह अन्य भी बताई जा रही है. 

Rajasthan Corona Updates: चित्तौड़गढ़ में एक मरीज की मौत, राजस्थान में 152 नए केस आये सामने, कुल मरीजों की संख्या पहुंची 6894

भरतपुर सेवर सेंट्रल जेल पर फिर लगा सवालिया निशान, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के बैरक से मिले 2 मोबाइल, एक ब्लूटूथ और 2 सिम

भरतपुर सेवर सेंट्रल जेल पर फिर लगा सवालिया निशान, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के बैरक से मिले 2 मोबाइल, एक ब्लूटूथ और 2 सिम

भरतपुर: हाई सिक्योरिटी माने जाने वाली भरतपुर की सेवर सेंट्रल जेल की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर से सवालिया निशान खड़ा हो गया है और एक बार फिर जेल मैं चलाए गए सघन तलाशी अभियान में कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की बैरक से दो मोबाइल सिम और अन्य सामान बरामद किया गया है.

एक ब्लूटूथ और दो सिम भी की गई बरामद:
जानकारी के मुताबिक चूरू जिले के राजगढ़ थाना इलाके में गैंगवार के दौरान हुए मर्डर के तार लॉरेंस बिश्नोई से जुड़ने की जानकारी चूरू पुलिस के सामने आई थी. पुलिस को मोबाइल डिटेल की लोकेशन सेवर जेल की मिली थी इसके बाद सेवर जेल की तलाशी ली गई. देर रात एडीएम सिटी राजेश गोयल और एडिशनल एसपी मूल सिंह राना की अगुवाई में भारी पुलिस जाब्ते के साथ जेल में सघन तलाशी अभियान चलाया गया. जिसमें गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की बैरक से पुलिस को दो मोबाइल दो सिम एक ब्लूटूथ मिला है.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कुल 6 हजार 657 कोरोना संक्रमित, अब तक 156 मरीजों की मौत, 163 नए मामले आये सामने

मादक पदार्थ और मोबाइल बरामद:
गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के खिलाफ सेबर पुलिस थाने में मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया है. गौरतलब है कि भरतपुर सेंट्रल जेल पर पहले भी सुरक्षा को लेकर कई बार सवालिया निशान लग चुके हैं और तलाशी के दौरान कैदियों के पास के मादक पदार्थ और मोबाइल आदि बरामद में हुए हैं.

अलीपुरा में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही मचा हड़कम्प, मुंबई से लौटा युवक पाया गया संक्रमित 

प्रसव पीड़ा से तड़प रही प्रसूता के लिए हड्डियों का डॉक्टर बना देवदूत, वार्ड में पहुंचने से पहले ही कराया प्रसव 

प्रसव पीड़ा से तड़प रही प्रसूता के लिए हड्डियों का डॉक्टर बना देवदूत, वार्ड में पहुंचने से पहले ही कराया प्रसव 

भरतपुर: कोरोना संकट के बीच देशव्यापी लॉकडाउन चल रहा है, ऐसे में लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड रहा है. मामला एक प्रसूता से जुडा है. प्रसव पीड़ा से प्रसूता तड़प रही थी, कि हड्डियों के एक डॉक्टर देवदूत बन कर सामने आया है. जानकारी के मुता​बिक हाई रिस्क एरिया आगरा से जनाना अस्पताल शनिवार को एक प्रसूता आई थी, लेकिन हाई रिस्क से आने की वजह से उसे अस्पताल में भर्ती नहीं किया था. 

ड्यूटी पर तैनात डॉ.संतोष ने स्थिति संभाली:
प्रसूता को आरबीएम के नए भवन में बनाये गए कोविड-19 प्रसूता वार्ड भेज दिया था,  वार्ड में पहुंचने से पहले ही महिला की ज्यादा हालत बिगड़ गई थी. अस्पताल के एमओटी कक्ष में ड्यूटी पर तैनात डॉ.संतोष ने स्थिति संभाली. एमओटी कक्ष में ही डॉ.संतोष मीणा ने महिला का प्रसव कराया.आगरा की इस महिला ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है. डॉ.संतोष मीणा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ से कहा कि मैं हालांकि हड्डी का डॉक्टर हूं, लेकिन हालत देखते हुए महिला की डिलीवरी करानी पड़ी. 

सितंबर तक मिल सकती है कोरोना वैक्सीन को लेकर Good News! भारतीय कंपनी को उत्पादन का कॉन्ट्रेक्ट देने का दावा

-प्रसव पीड़ा से तड़प रही प्रसूता के लिए हड्डियों का डॉक्टर बना देवदूत 
-वार्ड में पहुंचने से पहले ही महिला का डॉक्टर ने कराया प्रसव 
-दौसा निवासी डॉ.संतोष मीणा प्रसूता के लिए बने देवदूत 
-हाई रिस्क एरिया आगरा से जनाना अस्पताल आई थी आज एक प्रसूता 
-लेकिन हाई रिस्क से आने की वजह से उसे नहीं किया था अस्पताल में भर्ती 
-आरबीएम के नए भवन में बनाये कोविड-19 प्रसूता वार्ड भेज दिया था प्रसूता को
-वार्ड में पहुंचने से पहले ही महिला की ज्यादा बिगड़ गई थी हालत 
-अस्पताल के एमओटी कक्ष में ड्यूटी पर तैनात डॉ.संतोष ने संभाली स्थिति 
-एमओटी कक्ष में ही कराया डॉ.संतोष मीणा ने महिला का प्रसव
-जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है आगरा की इस महिला ने
-डॉ.संतोष मीणा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ से कहा-
-मैं हालांकि हड्डी का डॉक्टर
-लेकिन हालत देखते हुए महिला की करानी पड़ी डिलीवरी

1200 KM साइकिल चलाकर घायल पिता को लेकर बिहार पहुंची 15 साल की ज्योति, इवांका ट्रंप भी हुई मुरीद

भरतपुर के नदबई में बड़ा सड़क हादसा, 4 लोगों की हुई मौत

भरतपुर के नदबई में बड़ा सड़क हादसा, 4 लोगों की हुई मौत

भरतपुर: जिले के नदबई में आज सुबह एक बड़ा सड़क हादसा हो गया. हादसे में कार सवार 4 लोगों की मौत हो गई. हादसा कार की अज्ञात वाहन से टक्कर होने के चलते होना बताया जा रहा है. 

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट कटौती का किया ऐलान, सस्‍ते होंगे लोन 

हादसे की सूचना मिलने पर नदबई थाना पुलिस मौके पर पहुंची. उसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से शवों को नदबई CHC मोर्चरी में रखवाया गया है. सभी मृतक जयपुर के झोटवाड़ा निवासी बताए जा रहे हैं. हादसा आगरा-जयपुर राजमार्ग पर लुलहारा के पास हुआ है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 54 नए पॉजिटिव मामले आए सामने, मरीजों को ग्राफ पहुंचा 6281 

लॉकडाउन में फंसे हुए मजदूरों का पलायन, लेकिन अब रोड़ा बनी सीमाएं, नहीं दिया जा रहा प्रवेश 

लॉकडाउन में फंसे हुए मजदूरों का पलायन, लेकिन अब रोड़ा बनी सीमाएं, नहीं दिया जा रहा प्रवेश 

भरतपुर: राजस्थान के भरतपुर जिले के मथुरा रोड पर स्थित उत्तर प्रदेश की रारह सीमा पर बिहार के मजदूरों को यूपी में प्रवेश नहीं करने देने का मामला अब धीरे-धीरे तूल पकड़ने लग गया है. अब इस मामले पर राजस्थान और उत्तर प्रदेश पुलिस आमने-सामने हो गई है.शनिवार सुबह से ही बिहार के सैकड़ों मजदूर राजस्थान के विभिन्न इलाकों से रारह बॉर्डर पर पहुंच गए थे, लेकिन मथुरा पुलिस ने उत्तर प्रदेश के मजदूरों को तो अपनी सीमा में प्रवेश दे दिया, लेकिन बिहार के मजदूरों को रोक दिया गया.

सिक्किम बॉर्डर पर भारत-चीन के सैनिक आमने-सामने, नाकु ला सेक्टर के पास हुई झड़प ! 

वार्ता से नहीं निकला कोई हल:
इस बात को लेकर शनिवार से ही भरतपुर में मथुरा के अधिकारियों के बीच वार्ता हो रही है लेकिन अभी तक कोई समाधान भी नहीं निकला है. मामला रविवार सुबह ज्यादा तूल पकड़ गया, जब यूपी और राजस्थान के पुलिसकर्मी आमने-मजदूरों को प्रवेश कराने को लेकर फिर आमने-सामने हो गए. रविवार सुबह से ही समझाइश के दौर जारी है. लेकिन कोई भी निष्कर्ष नहीं निकल पाया.

बिहार के मजदूरों को नहीं दिया प्रवेश:
यूपी पुलिस राजस्थान पुलिस पर दादागिरी करने और मारपीट के आरोप लगा रही थी, साथ ही यूपी पुलिस के अधिकारी कह रहे हैं की सरकार ने कहा है कि जो जहां है वही रहे इसलिए वह अपनी सरकार के आदेश की अवहेलना नहीं कर सकते. भरतपुर के जिला कलेक्टर और एसपी भी रारह बॉर्डर पहुंच गए हैं. साथ ही मथुरा जिला प्रशासन के अधिकारी में मौके पर पहुंचे हैं और उम्मीद जताई जा रही है कि जल्दी ही बिहारी मजदूरों के यूपी सीमा में प्रवेश को लेकर सामने आ रही समस्या का समाधान जल्दी होगा.

अमेरिका में भारतीय राजदूत का बयान, भारत-अमेरिका मिलकर बना रहे कोरोना वैक्सिन 

सीएम गहलोत के जन्मदिन पर भरतपुर में हुआ रक्तदान शिविर का आयोजन

सीएम गहलोत के जन्मदिन पर भरतपुर में हुआ रक्तदान शिविर का आयोजन

भरतपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जन्मदिन के मौके पर उच्चैन कस्बे के स्वास्थ्य केंद्र में नदबई विधायक जोगिंदर अवाना द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें विधायक जोगिंदर अवाना ने स्वयं रक्तदान कर शिविर का शुभारंभ किया. रक्तदान शिविर में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने रक्तदान किया.

राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम गहलोत को जन्मदिन पर दी बधाई, निरंतर प्रगति करने की शुभकामनाएं दीं

कोरोना महामारी से संघर्ष:
इस मौके पर नदबई विधायक जोगिंदर अवाना ने कहा कि देश प्रदेश में चल रही कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए उनकी विधानसभा के सभी साथियों ने यह निर्णय लिया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जन्मदिन के मौके पर रक्तदान कर उन कोरोना योद्धाओं के हाथ मजबूत करेंगे जो कि कोरोना महामारी से संघर्ष कर रहे हैं.

जल्द ही मिलेगी महामारी से पूरे प्रदेश को राहत:
उन्होंने कहा कि में धन्यवाद देना चाहता हूं मुख्यमंत्री महोदय का जिन्होंने अपने जन्मदिन के सभी कार्यक्रम रदद् कर दिए और इसी बात को ध्यान में रखते हुए उनके जन्मदिन पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. शिविर में सैकड़ों लोगों ने रक्तदान कर कोरोना से चल रही जंग में अपनी भूमिका निभाई है. विधायक जोगिंदर अवाना ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कुशल नेतृत्व में सभी कोरोना महामारी से जमकर टक्कर ले रहे हैं और उम्मीद है कि जल्दी ही इस महामारी से पूरे प्रदेश को निजात मिल जाएगी.

बॉर्डर पर BSF जवान ने पहले की कमांडर की हत्या, फिर खुद को मारी गोली, हुई मौत

न पैसा बचा न राशन...! ऐसे में लॉकडाउन में कोई पैदल, तो कोई साइकिल पर गांव जाने को मजबूर हुए मजदूर

न पैसा बचा न राशन...! ऐसे में लॉकडाउन में कोई पैदल, तो कोई साइकिल पर गांव जाने को मजबूर हुए मजदूर

भरतपुर: कोरोना वायरस से बचने के लिए सरकार द्वारा किए गए लॉक डाउन से हालांकि हर वर्ग प्रभावित हुआ है लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी लॉक डाउन से उन हजारों मजदूरों को हुई है जो कि बड़ी परेशानियों के बीच अपने घर तक पहुंचने के लिए हजारों किलोमीटर का सफर तय कर रहे हैं. फर्स्ट इंडिया न्यूज़ को आगरा-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर ऐसे कई नजारे दिखाई दिए, जहां लॉक डाउन से मजबूर बड़ी संख्या में मजदूर अपने गंतव्य की ओर या तो पैदल ही जा रहे थे या फिर कई मजदूरों ने पांच-पांच हजार रुपए में साइकिल खरीद कर घर तक पहुंचने की व्यवस्था की हैं.

विभिन्न तरह के साधनों का लिया सहारा:
देश में कोरोनावायरस को हराने के लिए लॉक डाउन होने से लोग घरों तक सुरक्षित पहुंचने के लिए विभिन्न तरह के साधनों का सहारा ले रहे हैं. जयपुर से साइकिल द्वारा गोरखपुर जा रहे मजदूरों से जब फर्स्ट इंडिया न्यूज़ ने बात की तो उनका कहना था कि सरकार उनकी कोई मदद नहीं कर रही है और पैदल चल-चल कर पैरों में छाले तो पड़ ही गए हैं तो साथ ही भोजन के लाले भी पड़ गए हैं. इतना ही नहीं एक मजदूर तो मोटरसाइकिल में जुगाड़ लगाकर अपने परिवार को बिहार ले जाता हुआ नजर आया तो तो ही एक मजदूर स्कूटी पर ही अपनी पत्नी व छोटे बच्चों को बिठा कर अपने घर जाता हुआ नजर आया.

सीएम गहलोत के प्रयास लाये रंग, स्पेशल ट्रेन को मिली हरी झंडी, प्रवासी राजस्थानी भी आएंगे ट्रेन से

रोजी रोटी के लाले पड़े:
जिन फैक्ट्रियों और कारखानों में ये मजदूर काम करते थे उनके बंद हो जाने के बाद जब रोजी रोटी के लाले पड़े तो इन मजदूरों ने अपने घर पहुंचना ही उचित समझा और घर जाने के लिए हो गए रवाना. लॉक डाउन में फंसे कुछ मजदूर जयपुर से रवाना होने के 4 दिन बाद भरतपुर पहुंचे. यह मजदूर बिहार के रहने वाले हैं और जयपुर में सीतापुरा इलाके में मजदूरी करते थे.

पैदल ही निकले पड़े अपने गांव:
इन मजदूरों ने बताया कि खाने-पीने के लिए सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली और जब भूखा मरने की नौबत आई तो पैदल ही अपने गांव के लिए निकल पड़े हैं.  हालांकि अब सरकार द्वारा इन मजदूरों की सुध ली गई है और उन्हें बसों व रेल के जरिए उनके घर तक पहुंचाने की तैयारी भले ही की जा रही हो लेकिन हजारों मजदूर अभी भी  संकटों का सामना करते हुए अपने घर पहुंचने की मशक्कत में जुटे हुए हैं.

लॉकडाउन में फंसे मजदूरों की घर वापसी, राजस्थान के विभिन्न जिलों से बसों द्वारा पहुंचाया गंतव्य स्थान पर

Open Covid-19