Live News »

45 IFS और 156 RPS के बाद अब 26 RAS के तबादले 

45 IFS और 156 RPS के बाद अब 26 RAS के तबादले 

जयपुर। राजस्थान में नई सरकार आने के बाद लगातार अधिकारियों के तबादलों का दौर चल रहा है। आज सुबह कार्मिक विभाग ने 45 IFS और 156 RPS अधिकारियों के तबादले की सूची के बाद अब 26 RAS अधिकारियों के तबादले किए हैं। मार्च में आचार संहिता लगने वाली है ऐसे में तबादलों का सिलसिला लगातार जारी है। तबादलों की सूची नीचे विस्तार से दी गई है। 

बता दें कि 41 दिनों में करीब 418 आला अफसर इधर-उधर हुए हैं। इस दौरान करीब 26 छोटी बड़ी सूचियां आई। इनमें करीब 8 सूचियों में 134 IAS के तबादले हुए, वहीं करीब 8 सूचियों में 149 आईपीएस के तबादले हुए। 2 सूचियों में 48 आईएफएस इधर-उधर हुए और 8 सूचियों में 87 आरएएस हुए इधर-उधर हो चुके हैं। 

26 आरएएस के तबादले 

RAS परमेश्वर लाल प्रबंध निदेशक, SC-ST वित्त विकास सहकारी नि.लि.जयपुर 
RAS हृदेश कुमार शर्मा संयुक्त शासन सचिव, नगरीय विकास, आवासन विभाग 
RAS मेघराज सिंह रत्नू निदेशक, पुरातत्व एंव संग्रहालय विभाग, जयपुर 
RAS कजोड़मल डूंडिया अति.निदेशक, राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग 
RAS प्रज्ञा केवलरमानी भू प्रबंध अधिकारी, उदयपुर 
RAS ताराचंद मीणा निदेशक राज.राज्य कृषि विपणन एवं पदेन संयुक्त शासन सचिव
RAS विजयपाल सिंह तृतीय अतिरिक्त निदेशक प्रशासन एचसीएम रीपा बीकानेर 
RAS लक्ष्मीनारायण मंत्री उपायुक्त (प्रशासन),वाणिज्यिक कर विभाग,उदयपुर 
RAS सुनील कुमार शर्मा सचिव (प्रशासन),जयपुर विद्युत वितरण नि.लि.जयपुर 
RAS जगजीत सिंह मोंगा एमडी,गंगानगर शुगर मिल्स लिमिटेड,जयपुर 
RAS जसवंत सिंह एमडी,राजस्थान बीज निगम,जयपुर 
RAS हरफूल सिंह यादव विशेषाधिकारी,यूआईडी प्रोजेक्ट,सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग 
RAS रामलाल गुर्जर अति.मुख्य सतर्कता आयुक्त,गृह विभाग 
RAS सुनील भाटी अति.निदेशक,स्थानीय निकाय विभाग,जयपुर 
RAS विनीता सिंह उपनिदेशक,एचसीएम,रीपा,जयपुर 
RAS ऋषिबाला श्रीमाली उपमहानिरीक्षक,पंजीयन एवं मुद्रांक बीकानेर वृत
RAS मुकेश कुमार मीणा उपायुक्त,जयपुर विकास प्राधिकरण,जयपुर 
RAS गोविंद सिंह देवड़ा उपायुक्त,देवस्थान विभाग,जयपर (मु.उदयपुर)
RAS मान सिंह मीणा रजिस्ट्रार, बृज विश्वविद्यालय, भरतपुर 
RAS अमरनाथ अग्रवाल रजिस्ट्रार, बीकानेर विश्वविद्यालय बीकानेर

और पढ़ें

Most Related Stories

इस वक्त की सबसे बड़ी खबर ! राजस्थान से जुड़ी सभी सीमाएं की गई सील

जयपुर: राजस्थान से जुड़ी सभी सीमाएं सील की गई. अन्य राज्यों से लगने वाली प्रदेश की सभी सीमाएं सील की गई है. आपको बता दें कि आपराधिक ग​तिविधियों पर लगाम लगाने के लिए प्रदेश की सभी सीमाएं सील की गई है. सरकार के निर्देशों के बाद पुलिस ने राजस्थान की सीमाओं पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. अब सभी बॉर्डरों पर कड़ी नाकाबंदी हो रही है. हर आने और जाने वालों की जांच हो रही है. पुलिस मुख्यालय से आदेश जारी हुए है. 

जालोर के सायला में प्रेमी युगल ने की आत्महत्या, पेड़ पर फांसी लगाकर दी जान 

खरीद-फरोख्त से जुड़े मसले पर बोले गुलाबचंद कटारिया, कहा-साबित कर दें मेरा रोल, तो पलभर में राजनीति से ले लूंगा संन्यास

उदयपुर: प्रदेश में विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में मचे बवाल के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा भाजपा पर सरकार को गिराने के प्रयास करने के आरोप लगाने के बाद गुलाबचंद कटारिया ने अपनी प्रतिक्रिया दी. 

पलभर की देर किए बिना ले लेंगे राजनीति से संन्यास:
उदयपुर पहुंचे गुलाबचंद कटारिया ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में साफ किया कि यदि सरकार बहुमत में है तो उसे डरने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री यदि इस बात को साबित कर दें की कटारिया का इसमें जरा सा भी हाथ है तो वह पलभर की देर किए बिना राजनीति से संन्यास ले लेंगे.

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी:
कटारिया ने साफ किया कि कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी है और जिस को छुपाने के लिए सत्ताधारी दल इस तरह के हथकंडे अपना रहा है. कटारिया ने कहा कि एसओजी पूरे मामले की जांच कर रही है और जांच में सब साफ हो जाएगा.

भरतपुर में फिर टिड्डियों का आतंक, किसानों के चेहरे पर छाई चिंता की लकीरें

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

जयपुर: राजस्थान में विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण पर एसओजी ने शनिवार को प्रेसवार्ता की. एसओजी ADG अशोक राठौड़ ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री से समय मांगा है. हमने परिवाद के आधार पर FIR दर्ज नहीं की है. हमने फोन पर बातचीत के आधार पर FIR दर्ज की है. एसओजी ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. कुछ देर में दोनों की कोर्ट में पेशी होगी.

अनूठी पहल...! शादी में शामिल हुए मेहमानों को भेंट किए पौधे, देखभाल की दिलाई शपथ

दोनों आरोपियों के आरोप हुए सिद्ध:
आपको बता दें कि SOG ने अशोक सिंह और भारत मलानी को हिरासत में लिया था. दोनों आरोपियों के आरोप सिद्ध हुए है. अब दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है. ADG अशोक राठौड़ ने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है. दोनों से हमें महत्वपूर्ण जानकारियां मिली है. उसी के अधार पर अब अग्रिम कार्रवाई शुरू की जाएगी. 

सूरतगढ़ में रिश्तों का हुआ कत्ल, लाठी के वार से पिता ने उतारा पुत्र को मौत के घाट

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेसवार्ता के बाद बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनियां-राजेन्द्र राठौड़ की संयुक्त पीसी हुई. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया VC के जरिये जुड़े. प्रेसवार्ता में सीएम गहलोत के बयानों का सतीश पूनिया ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि सीएम की प्रेसवार्ता से सबको उम्मीद थी को वो जनता के हित का कोई निर्णय सुनाएंगे. लेकिन मेरे अब तक के राजनीतिक करियर में मुख्यमंत्री गहलोत को इतना विचलित कभी नहीं देखा. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई: 
सीएम गहलोत ने पत्रकार वार्ता में जो बात कही उससे साफ तौर पर नजर आ रहा था कि उनकी मन में हताशा, निराशा और बौखलाहट ये सब नजर आ रही थी. इसका कारण पूरे देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई. बड़े प्रदेशों में गिनती करें तो केवल राजस्थान बचा है. लेकिन रोचक बात ये है मुख्यमंत्री इतने पर्यावरण प्रेमी है, इतने जीवजंतु प्रेमी है कि कभी वो घोड़े की बात करते हैं और आज बकरे की कर दी. अब कोई उनसे पूछे की राजस्थान के विधायक बकरा मंडी कैसे हो सकते हैं. इसका जवाब उन्हें देना चाहिए. उन्होंने बेशर्मी जैसी भाषा का इस्तेमाल किया. हालांकि ये बात जरूर है कि वो घोड़े और बकरे की बात करते करते हाथि को भूल जाते हैं, हाथि का अस्तित्व ही खत्म कर देते हैं. 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

देश के लोकतंत्र में आपातकाल लगाने का काम इंदिरा गांधी के समय हुआ:
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने देश में लोकतंत्र की हत्या की बात कही. वो स्व इंदिरा गांधी के नेता के समय के नेता है. उनको ध्यान होना चाहिए कि देश में आपातकाल लगाने का काम देश के लोकतंत्र में पहली बार उन्ही की सरकार में हुआ. आज वो दुहाई देते हुए अनु. 356 का दुरुपयोग 93 कांग्रेस ने ही किया. इतना ही राजस्थान में भैरूसिंह जी की सरकार को अस्थिर करने के लिए भजनलाल जी का अटैची कांड बड़ा फैमस हुआ था. सीएम गहलोत ने अपनी बातों में कोरोना का जिक्र किया. मैं पिछले दिनों से देख रहा हूं कि सीएम गहलोत ने अपनी सरकार की विफलताओं को छिपाने के लिए कोरोना को लेकर बीजेपी नेताओं पर आरोप लगाने के अलावा कोई काम नहीं किया. राजस्थान कोरोना में पूरी तरह से फेल हो गया. इसके साथ ही पूनिया ने कई मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा. 


 

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

जयपुर: विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर चिकित्सा विभाग की ओर से पुरस्कार वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया. साथ ही 11 से 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा भी शुरू किया गया है. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने परिवार नियोजन की दिशा में बेहतर करने वाले 6 जिलों को सम्मानित किया.

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे: 
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि बढ़ती हुई जनसंख्या से हमारे विकास कार्य भी नजर नहीं आते. पेयजल, आवास, खाद्यान्न की समस्या इसी वजह से बढ़ रही हैं. इसी से रोजगार की समस्या भी बढ़ रही है. यदि जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे. आने वाली पीढ़ी के लिए छोड़ने के लिए हमारे पास संसाधन नहीं बचेंगे. वर्ष 1989 में पहली बार 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस शुरू किया गया, उद्देश्य यही है कि जनसंख्या को नियंत्रित किया जा सके. चिकित्सा मंत्री ने ये विचार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से व्यक्त किए. डॉ रघु शर्मा ने कहा कि पहले नारा था, 'हम दो हमारे दो'. लेकिन अब नारा 'हम दो, हमारा एक' होना चाहिए. एक तरफ जहां देश की टोटल फर्टिलिटी रेट 2.2 है, वहीं हमारे राज्य की दर 2.5 है. यानी यह राष्ट्रीय औसत से ज्यादा है, इसलिए जनता को जागरूक होना जरूरी है. जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की शुरुआत करते हुए परिवार नियोजन के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले जिलों को सम्मानित किया गया. झालावाड़ जिले को पहला पुरस्कार मिला और पुरस्कार राशि के रूप में 15 लाख रुपए दिए जाएंगे. दूसरा पुरस्कार अजमेर जिले को, तृतीय पुरस्कार भीलवाड़ा जिले को मिला. चौथा स्थान हनुमानगढ़, पांचवा श्रीगंगानगर और छठा स्थान कोटा जिले को मिला. सम्बंधित जिलों के जिला कलक्टर और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी इस दौरान मौजूद रहे. 

कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही:  
कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री ने कहा कि कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही है. अब मरीज ज्यादा बढ़ रहे हैं, पिछले 1 सप्ताह में 500 से 700 नए मरीज मिल रहे हैं.  इसके पीछे ज्यादा टेस्ट किया जाना बड़ा कारण है. हम रोज 41700 टेस्ट कर रहे हैं. लोगों को अब ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. चुनौती के इस दौर में हमने दूसरे राष्ट्रीय कार्यक्रमों को जारी रखा है. कोरोना के अलावा दूसरे मरीजों को परेशानी नहीं हो, इसके लिए 700 मोबाइल ओपीडी वैन चलाई जा रही हैं. हमारे भीलवाड़ा और रामगंज मॉडल की चर्चा है. इस मौके पर निरोगी राजस्थान अभियान के प्रशिक्षण कार्यक्रम की भी शुरुआत की गई. 41645 गांवों में 80 हजार स्वास्थ्य मित्र लगाने की शुरुआत की जा रही है. 15 जुलाई तक प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा किया जाएगा. इससे ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाएं बेहतर होंगी. चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि राज्य में परिवार कल्याण के लिए कर्मचारी-अधिकारी बेहतर कार्य कर रहे हैं. कोरोना के चलते जिस तरह के अनुमान हैं कि 70 लाख अनवांटेड प्रेग्नेंसी के केस सामने आ सकते हैं, इन चुनौतियों से भी निपटना होगा. 

 बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे:
कार्यक्रम में उस समय रोचक स्थिति हो गई जब ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत किया जा रहा था और सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे. चिकित्सा मंत्री इस बात से थोड़े नाराज दिखे. उन्होंने कहा सरपंच कार्यक्रम में क्यों मौजूद नहीं हैं. मंत्री ने परिवार नियोजन के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के लिए चिकित्सा अधिकारियों को बधाई दी. राजकीय संस्थाओं के अलावा इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले निजी अस्पतालों को भी सम्मानित किया गया. 

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर
 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने प्रदेश में चल रहे विधायकों की खरीद-फरोख के प्रकरण पर खुल कर बात की. इसके साथ ही पत्रकारों के सवालों का भी जादुई तरीके से जवाब दिया. एक सवाल के जवाब में सीएम गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री बनना कौन नहीं चाहता. 5-7 लोग होंगे उनमें मुख्यमंत्री बनने की योग्यता होती है. लेकिन मुख्यमंत्री एक ही बन सकता है, और एक मुख्यमंत्री बनने के बाद बाकी सब शांत होते हैं. हमारे यहां घोर शांति है. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच 

गुटबाजी तो भाजपा में है: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुटबाजी तो भाजपा में है. इस कारण इनकी प्रदेश कार्यकारिणी भी नहीं बन पा रही है. वसुंधरा जी का आजकल नाम कम आता है, चेहरा तो वसुंधरा का होना चाहिए था. वसुधरा राजे का उपयोग तो आप नहीं कर पाते, 2 बार सीएम रहने के बाद भी उनका उपयोग नहीं हो रहा है. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

जयपुर: ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आ रही है. तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी जांच होगी. विधायक खुशवीर सिंह, सुरेश टांक, ओम प्रकाश हुड़ला के खिलाफ जांच होगी. इन पर आदिवासी इलाकों में जाकर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप है. मिली जानकारी के अनुसार डूंगरपुर, बांसवाड़ा इन इलाकों में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा था. डीजी आलोक त्रिपाठी ने इस खबर की पुष्टि की है. 
 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि मैं देश-प्रदेश की स्थिति की चर्चा के लिए आया हूं. इस दौरान सीएम ने कोरोना की स्थिति पर बात रखी. साथ ही कहा कि कोरोना महामारी मैं राजस्थान का लोहा पूरे देश ने माना है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. अरुणाचल प्रदेश में विधायकों को खरीद लिया. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे:  
उन्होंने कहा कि सतीश पूनिया और राजेंद्र राठौड़ सरकार गिराने के लिए खेल खेल रहे हैं. मध्य प्रदेश के अंदर जैसी घटना हुई उसी तरह राजस्थान में भी खेल करने की कोशिश है. बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे हैं. लेकिन राजस्थान में हमने इनकी चाल नहीं चलने दी. सबक सिखाने के बाद ये लोग नहीं मान रहे हैं. 70 साल में कांग्रेस ने लोकतंत्र बचाने का काम किया है. लेकिन आज-कल भाजपा के लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं. देश में कभी भी इस तरह के हालात नहीं बने हैं. CBI, ED का मिस यूज किया जा रहा है.  

राजस्थान में 5 साल सरकार चलेगी: 
सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार स्थिर है और 5 साल चलेगी. हम अगला चुनाव जीतने में लग गए हैं. उसी के अनुसार बजट दिया है. आलाकममना के इशारे पर प्रदेश भाजपा खेल कर रही है. राजेन्द्र राठौड़, सतीश पूनिया व गुलाब चंद कटारिया का नाम लेते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि इनके आका दिल्ली में बैठे हुए है. अब उनके टारगेट पूरा करने के लिए इन तीनों में होड़ मची हुई है. 'हकीकत के आधार पर जांच होनी चाहिए. हम कोई मीडिया ट्रायल नहीं कराना चाहते. मैं SOG का डीजी नहीं हूं. नए-नए नेता बने हैं इसलिए मैं कुछ नहीं कहता, मेरे पास सूचना के सोर्स है. 

Open Covid-19