808वां उर्स: दो साल बाद पाकिस्तान के 260 जायरीन आएंगे उर्स में, चढ़ाएंगे ख्वाजा साहब की मजार पर चादर

808वां उर्स: दो साल बाद पाकिस्तान के 260 जायरीन आएंगे उर्स में, चढ़ाएंगे ख्वाजा साहब की मजार पर चादर

अजमेर: विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह में 2 साल बाद एक बार फिर पाक जत्था अजमेर पहुंचेगा. इस तथ्य में 260 के करीब पाकिस्तानी जायरीन मौजूद रहेंगे जो ट्रेन के माध्यम से अजमेर पहुंचेंगे. इस दौरान कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए जाने हैं और प्रशासनिक रूप से भी कई तैयारियां शुरू कर दी गई है. आज जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने कलेक्ट्रेट में बैठक लेकर तमाम अधिकारियों को पाकिस्तानी जायरीन के आने की सूचना दी और उन्हें विस्तृत तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिए गए हैं.

Delhi Violence: भाजपा सांसद गौतम गंभीर का बड़ा बयान, कहा- कपिल मिश्रा पर होनी चाहिए सख्त कार्रवाई 

विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए:
जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि 28 फरवरी को पाक जायरीन अजमेर पहुंचेंगे जहां से उन्हें चूड़ी बाजार स्थित सेंटर गर्ल्स स्कूल में रुकवाया जाएगा. 2 साल बाद आ रहे पाक जायरीन की सुरक्षा को लेकर अजमेर एसपी तमाम व्यवस्थाएं संभालेंगे और इसके लिए मजिस्ट्रेट भी नियुक्त कर दिए गए हैं जिन्हें विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं. इस दौरान किसी तरह की समस्या ना हो इसके लिए बैठक में अधिकारियों को निर्देशित किया गया है.

सुरक्षा को लेकर 200 से ढाई सौ पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे:
2 साल बाद अजमेर ख्वाजा की नगरी पहुंच रहे पाकिस्तानी जायरीन की सुरक्षा को लेकर अजमेर पुलिस की ओर से 200 से ढाई सौ पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे. वही सुरक्षा एजेंसियां भी सतर्क रहेगी जिससे कि किसी तरह की अनैतिक गतिविधियां नहीं की जा सके और चप्पे-चप्पे पर पुलिस मौजूद रहे. पाक जायरीनों के लिए जो स्थान चिन्हित किया गया है वहां से लेकर दरगाह तक पुलिस जाप्ता वह इंटेलिजेंस एजेंसिया सुरक्षा घेरा बनाए रखेगी जहां शांति पूर्ण रूप से जायरीन दरगाह जियारत कर सके.

Nirbhaya Case: दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की केंद्र की याचिका पर 5 मार्च को होगी सुनवाई 

ननकाना साहिब दरबार दर्शन के बाद खुला रास्ता:
पाकिस्तान में स्थित ननकाना साहिब दरबार दर्शन के लिए भारतीयों का रास्ता खुलने के बाद ख्वाजा गरीब नवाज की दर्शन के भी रास्ते पाक जायरीन के लिए खुले हैं. अब वह भी अपनी तमाम मुरादों और मनोकामना को लेकर ख्वाजा गरीब नवाज के दरगाह पहुंच सकेंगे और दोनों देशों के बीच दुआ की जाएगी.

...अजमेर से फर्स्ट इंडिया के लिए शुभम जैन की रिपोर्ट

और पढ़ें