close ads


जीएसटी परिषद की 28 वीं बैठक संपन्न, जानिए क्या हुआ सस्ता 

जीएसटी परिषद की 28 वीं बैठक संपन्न, जानिए क्या हुआ सस्ता 

नई दिल्ली। वस्तु और सेवा कर परिषद की 28 वीं बैठक वित्त मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में आज नई दिल्ली में संपन्न हुई। इस बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए। सबसे अहम फैसला यह था कि सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी के दायरे से बाहर कर दिया है। 

नई दिल्ली में जी.एस.टी. परिषद की 28वीं बैठक को सम्बोधित करते हुए गोयल ने कहा कि जीएसटी कर प्रणाली को बेहतर ढंग से लागू करने से लोगों को फायदा होगा और कई वस्तुएं और सेवाएं सस्ती होंगी। सैनेटरी नैपकिन के अलावा होम एपलायंसेज पर लगने वाले 28 फीसदी टैक्स को घटाया गया है। इलेक्ट्रॉनिक आईटम जैसे फ्रिज, वाशिंग मशीन, टीवी जैसे उत्पादों पर जीएसटी 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी किया गया है। 

झाडू़, स्‍टोन, मार्बल, राखी, लकड़ी की मूर्तियों को जीएसटी से बाहर रखा गया है। वहीं फॉस्‍फेरिक एसिड, हैंडलूम के अलावा 1000 रुपये तक के फुटवियर को 5 फीसदी के स्‍लैब में रखा गया है. बता दें कि  पहले 500 रुपये तक के फुटवियर इस स्‍लैब में आते हैं। इसके अलावा पेंट को भी 28 फीसदी के स्लैब से घटाकर 18 फीसदी किया गया है। आने वाले त्योहारों के सीजन में आपके लिए घरों में पेंट कराना महंगा नहीं पड़ेगा। 

आज लिए गए फैसलों के मुख्य बिंदु 

- छोटे शिल्पकारों, हैंडीक्राफ्ट्स वाले उद्योग जहां अलग अलग GST थे, उन्हें भी शून्य कर दिया गया है। इनमें लकड़ी, पत्थर और संगमरमर की बनी मूर्तियां, राखी, फूल झाड़ू, दोने शामिल हैं। 
- हैंडलूम की बनी दरी, फॉस्फोरिक एसिड, ₹1000 से कम टोपी (Knitted Caps) को 5% GST के अंदर लाया गया है। 
- बंबू की फ्लोरिंग, ब्रास केरोसीन स्टोव, हाथ से चलने वाले रबर रोलर्स को 18% से 12% GST पर लाया गया है। 
- कुछ वस्तुओं में GST को 18% से 5% किया गया है, जिसमे इथेनॉल, सोलिड बॉयो फ्यूल के पेलेट्स आदि।  
-  स्पेशल पर्पज व्हिकल फॉयर फाइटिंग, कंक्रीट मिक्सर लॉरीज, क्रेन लॉरीज, लिथियम ऑयन बैट्रीज, वैक्यूम क्लीनर्स, मिक्सर ग्राइंडर, हेयर ड्रायर्स, पेंट वार्निश, वॉटर कूलर, आइस क्रीम फ्रिजर, महिलाओं के लिये सेंट्स, परफ्यूम, टॉयलेट स्प्रेस, पाउडर पफ्स के रेट 28% से 18% किये गये हैं। 
- टैक्सटाइल उद्योग की मांग थी कि इनपुट टैक्स क्रेडिट को वो पूरे रूप से इस्तेमाल नही कर पाते, उसे भी रिफंड के रूप में टैक्सटाइल बिजनेस में दिया जाये। 27 जुलाई के बाद टैक्सटाइल उद्योग को यह रिफंड दिया जायेगा। 
- हाथ से बने कॉरपेट, फ्लोर कवरिंग्स के लिये भी GST को 12% से 5% किया गया है। 
- अलग अलग स्थानों पर उपयोग होने वाले स्टोन पर पॉलिश होने से पहले तक 5% GST लगेगा। 
- फॉर्टिफाइड मिल्क GST से मुक्त रहेगा, वाशिंग मशीन पर भी 28% से 18% GST कर दिया गया है। 
- रिटर्न की प्रक्रिया में बदलाव लाने का निर्णय लिया गया है, 5 करोड़ तक के टर्न ओवर वालों को टैक्स पेमेंट मासिक और रिटर्न 3 महीने में एक बार देना होगा। 
- रिटर्न्स दो फॉर्मेट में बनाये गये हैं, इसके लिये दो फॉर्म सुगम और सहज के फॉर्मेट को GST काउंसिल ने मंजूरी दी है। 
- कंपोजिट डीलर अपने टर्नओवर के 10% या 5 लाख (जो भी अधिक हो) तक सर्विस दें तो वो भी कंपोजिशन स्कीम में आने का विकल्प चुन सकते हैं। 
- ई-कॉमर्स ऑपरेटर्स को उन वस्तुओं के लिये रजिस्ट्रेशन कराना होगा, जिन पर GST लगता है। 
- ई-बुक्स पर GST को 18% से घटाकर 5% किया जा रहा है। 

और पढ़ें