जयपुर VIDEO: पर्यटन उद्योग के लिए अच्छी खबर, फरवरी में 4 लाख 4 हजार पर्यटकों ने की राजस्थान की सैर

VIDEO: पर्यटन उद्योग के लिए अच्छी खबर, फरवरी में 4 लाख 4 हजार पर्यटकों ने की राजस्थान की सैर

VIDEO: पर्यटन उद्योग के लिए अच्छी खबर, फरवरी में 4 लाख 4 हजार पर्यटकों ने की राजस्थान की सैर

जयपुर: राजस्थान के पर्यटन उद्योग के लिए अच्छी खबर है. कोरोना संक्रमण के ख़ौफ़ पर पर्यटन जीत की ओर आगे बढ़ रहा है. साल के दूसरे महीने फरवरी में प्रदेश में पर्यटकों की संख्या 4 लाख 4 हजार से ज्यादा रही. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि इस महीने में इस संख्या में और इजाफा होगा. इससे न केवल प्रदेश के पर्यटन उद्योग को मजबूती मिलेगी वरन पर्यटन से जुड़े लाखों लोग जो कोरोना की चपेट में आकर बेरोजगार हो गए थे उन्हें भी एक बार फिर अपने पसंदीदा रोजगार से जुड़ने का मौका मिलेगा. कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव हुए प्रदेश के पर्यटन उद्योग के लिए अच्छी खबर है. वैक्सीन आने के साथ ही जनवरी में प्रदेश में पर्यटकों की संख्या 5 लाख के नजदीक पहुंच गई थी जो 28 दिन के फरवरी महीने में भी 4 लाख 5 हजार से ज्यादा रही जिसे अच्छा संकेत माना जा रहा है.

जयपुर के स्मारक कर चुके है देश और दुनिया में प्रसिद्धि हासिल:

राजस्थान को पर्यटन का प्रदेश माना जाता है राजधानी जयपुर के स्मारक देश और दुनिया में इतनी प्रसिद्धि हासिल कर चुके है की गूगल पर भी एक क्लिक करो तो एक-एक स्मारक के लाखों पेज खुल जाते हैं. कोरोना संकट के चलते प्रदेश में पिछले वर्ष 18 मार्च को सभी पर्यटन स्थल जिनमें मॉन्यूमेंट, म्यूजियम, नेशनल पार्क, बायोलॉजिकल पार्क, सफारी सभी को बंद कर दिया गया था. यही नहीं टूरिज्म इंडस्ट्री से जुड़े तमाम स्टेक होल्डर जिनमें होटल, रिसॉर्ट, रेस्टोरेंट्स, हाथी गांव जैसे तमाम पर्यटन से जुड़े स्थलों को भी बंद कर दिया गया था. इससे पर्यटन उद्योग को अरबों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा. आखिर अनलॉक वन में पिछले वर्ष 1 जून को प्रदेश के पर्यटन स्थलों को शुरू कर दिया गया था. इसके बाद 8 जून से तमाम होटल, रेस्टोरेंट और पर्यटन से जुड़े अन्य स्थल भी सैलानियों के लिए खोल दिए गए. अब पिछले 6 महीने से लगातार पर्यटकों की संख्या बढ़ने से होटल रेस्टोरेंट इंडस्ट्री के चेहरे पर थोड़ी रौनक लौटी है.

कोविड-19 बावजूद रिकॉर्ड पर्यटकों का आगमन:

प्रदेश में 1 सितंबर से पर्यटन सत्र शुरू हुआ सितंबर के महीने में कोविड-19 बावजूद रिकॉर्ड पर्यटकों का आगमन हुआ. इसके बाद कोरोना का खौफ कम होता गया और प्रदेश में पर्यटकों की संख्या बढ़ती चली गई. पिछले दिनों राजस्थान पर्यटन को कोलकाता टीटीएफ मैप सेफ टूरिस्ट डेस्टिनेशन का भी अवार्ड मिल चुका है. इस दौरान सबसे खास बात यह थी कि राजधानी जयपुर के स्मारकोंं का पर्यटकों में खासा क्रेज देखने को मिला. प्रदेश में आए फुल पर्यटकों में से 75 फ़ीसदी जयपुर और 25 प्रतिशत विशेष राजस्थान के स्मारकों पर पहुंचे. नए साल के दूसरे महीने फरवरी में प्रदेश के स्मारकों पर कुल 4 लाख 4 हजार 530 सैलानी पहुंचे. राजधानी जयपुर में 3 लाख 48 हजार 766 पर्यटक और प्रदेश के अन्य स्मारकों पर 55 हजार 764 सैलानी आए.

टूरिज्म इंडस्ट्री को मिलेगी मजबूती:

राजधानी में फरवरी में सर्वाधिक पर्यटक नाहरगढ़ और विश्व विरासत में शुमार आमेर में पहुंचे. आमेर में पर्यटकों की संख्या 1 लाख 22 हजार से ज्यादा रही जबकि नाहरगढ़ यह आंकड़ा 68 हजार से ज्यादा के स्तर पर रही. राजधानी के बाहर सर्वाधिक संख्या पर्यटक अलवर,  गागरोन किला,  चित्तौड़ में पर्यटकों रही. प्रदेश में पर्यटन उद्योग से प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़े हुए हैं जिनमें छोटे-छोटे वेंडर, हॉकर से लेकर गाइड, महावत, लोक कलाकार और बड़े स्तर पर होटल, रिसोर्ट संचालक तक शामिल हैं. कोरोना संक्रमण का इन सभी पर बुरा असर हुआ है. अब प्रयास करने चाहिए कि  प्रदेश में इस तरह का माहौल तैयार किया जाए जिससे घरेलू पर्यटक ज्यादा से ज्यादा संख्या में राजस्थान आएं. टूरिज्म इंडस्ट्रीज को भी उम्मीद है फरवरी का ट्रेंड मार्च में जारी रहा तो टूरिज्म इंडस्ट्री को मजबूती मिलेगी. 

और पढ़ें