जयपुर अगस्त में 4 ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन, जानिए क्या होगा ग्रहों के गोचर का प्रभाव

अगस्त में 4 ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन, जानिए क्या होगा ग्रहों के गोचर का प्रभाव

अगस्त में 4 ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन, जानिए क्या होगा ग्रहों के गोचर का प्रभाव

जयपुर: अगस्त माह में 4 ग्रहों का राशि परिवर्तन होगा. इन चार ग्रहों के राशि परिवर्तन से जातक के कुंडली के अनुसार फल की प्राप्ति होगा. ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि अगस्त में बुध, शुक्र, मंगल और सूर्य का राशि परिवर्तन होगा. जब-जब ग्रहों का राशि परिवर्तन होता है तब तब जातकों पर शुभ अशुभ प्रभाव पड़ता है. इस समय मेष राशि में राहु और केतु तुला राशि में गोचर कर रहे हैं. इसके साथ ही शनि वक्री अवस्था में मकर राशि में और गुरु वक्री अवस्था में मीन राशि में गोचर कर रहे हैं. अगस्त में हो रहे ग्रहों के गोचर के कारण प्राकृतिक आपदा दुर्घटना होने की संभावना बन रही है.

बुध का सिंह राशि में गोचर:
बुध ग्रह का सिंह राशि में गोचर 1 अगस्त 2022 को होगा. बुध ग्रह को शिक्षा, व्यवसाय का कारक माना जाता है. यह पारिवारिक जीवन पर भी अपनी दृष्टि बनाए रखता है. कुंडली में यदि बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होती है तो मानसिक शांति, कमाई, बुद्धि, शिक्षा और व्यापार के लिए बहुत लाभ होता है. बुध ग्रह दो राशियों मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है. कन्या इसकी उच्च राशि है तथा मीन इसकी नीच राशि है. इसके बाद बुध ग्रह 21 अगस्त, 2022 की मध्य रात्रि 01:55 बजे स्वराशि कन्या में गोचर करने जा रहा है. बुध का कन्या राशि में गोचर बहुत शुभ माना जाता है.

शुक्र का कर्क राशि में प्रवेश:
शुक्र के कर्क राशि में गोचर 7 अगस्त 2022 को होगा. शुक्र ग्रह को प्रेम व अन्य भौतिक सुखों के कारक के रूप में जाना जाता है. शुक्र ग्रह को एक लाभकारी ग्रह के रूप में देखा जाता है लेकिन कुंडली में जब इसकी कमज़ोर होती है तो इसका असर प्रेम जीवन पर दिखाई देने लगता है तथा कई कठिनाइयां आ सकती है. इसके बाद शुक्र ग्रह का सिंह राशि में प्रवेश 31 अगस्त, 2022  की शाम 04:09 बजे होगा. शुक्र ग्रह कर्क से अग्नि तत्व की राशि सिंह में गोचर करेंगे.

मंगल ग्रह को वृषभ राशि में गोचर:
मंगल का वृषभ राशि में गोचर 10 अगस्त 2022 को रात 09:43 बजे होगा. मंगल ग्रह अपनी स्वराशि मेष से वृषभ राशि में गोचर करने जा रहे हैं. मंगल और सूर्य मानव शरीर के अग्नि तत्वों को नियंत्रित करते हैं. मंगल ग्रह जातक में जीवन शक्ति, शारीरिक शक्ति, सहनशक्ति, इच्छा शक्ति तथा किसी कार्य को लगन के साथ सम्पन्न करने की ऊर्जा प्रदान करते हैं. जिन लोगों पर मंगल का प्रभाव होता है, ऐसे लोग आमतौर पर साहसी, आवेगी तथा मुखर होते हैं. ज्योतिष में वृषभ दूसरे नंबर की राशि है तथा इस राशि का प्रभुत्व शुक्र ग्रह को प्राप्त है. मंगल का वृषभ राशि में गोचर होने से ऊर्जा विलासिता और भौतिक सुखों से जुड़े लाभ प्राप्त करने की ओर लग जाती है. संपत्ति तथा रियल एस्टेट से लाभ हो सकता है.

सूर्य का सिंह राशि में गोचर:
सूर्य को सभी ग्रहों का स्वामी कहा गया है. सूर्य 17 अगस्त, 2022 की सुबह 07:14 बजे अपनी स्वराशि सिंह में गोचर करेंगे. सूर्य का गोचर आधिकारिक एवं प्रशासनिक पदों के लोगों के लिए काफी अच्छा होगा. कला से जुड़े लोगों के लिए भी यह गोचर फलदायी साबित होगा. सिंह राशि रचनात्मकता का भी प्रतिनिधित्व करती है. जातक की कुंडली में सूर्य की स्थिति तथा दशा के अनुसार फल प्राप्त होंगे. मेष राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके पांचवें भाव में गोचर करेगा, जो प्रेम, शिक्षा, संतान तथा पूर्व पुण्य का भाव होता है. छात्र इस गोचर काल का भरपूर लाभ उठा सकेंगे चूंकि पढ़ाई के प्रति उनकी एकाग्रता बढ़ेगी.

ग्रहों के गोचर का प्रभाव:
विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि अगले 70 दिन तक प्राकृतिक आपदा होगी. भूकंप बारिश बादल फटना चट्टान खिसकना बिजली गिरना इत्यादि. राजनीति अपने चरम पर रहेगी और आरोप-प्रत्यारोप का दौर रहेगा. दुर्घटनाएं ज्यादा होगी. सावधानी ही बचाव है. संचार की वस्तुओं में यानी कंप्यूटर लैपटॉप मोबाइल फोन ईमेल इंटरनेट में परेशानी आएगी. वायरस और हैकिंग की संभावना. किसी भी देश में विद्रोह विरोध गृह युद्ध की घटना. बैंक से संबंधित कोई घटना घटित होगी. भारत में कोई विवाद आंदोलन का रूप लेगा. जिसके कारण परेशानी होगी. सोना चांदी में उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहेगा.

क्या करें उपाय:
कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि हं हनुमते नमः, ऊॅ नमः शिवाय, हं पवननंदनाय स्वाहा का जाप करें. ईश्वर की आराधना संपूर्ण दोषों को नष्ट एवं दूर करती है. महामृत्युंजय मंत्र और दुर्गा सप्तशती पाठ करना चाहिए. माता दुर्गा, भगवान शिव विष्णु लक्ष्मीनारायण और हनुमानजी की आराधना करनी चाहिए. 

और पढ़ें