Live News »

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत तक ऋण, चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत तक ऋण, चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी

जयपुर: जिला कलक्टर एवं जिला गौपालन समिति के अध्यक्ष डॉ. जोगाराम ने बताया कि ‘‘कामधेनू डेयरी योजना’’ के अन्तर्गत स्वरोजगार के लिए नवयुवक, महिलाएं, इच्छुक पशुपालक, गौ पालक, कृषक पशुपालन विभाग की प्रजनन नीति अनुसार दूधारू देशी गौवंश का संर्वधन कर देसी उन्नत गौवंशों की डेयरी लगा सकते हैं. डेयरी लगाने के लिए इच्छुक एवं पात्रता रखने वाले अभ्यर्थियों को 30 जून 2020 तक निर्धारित प्रपत्र में आवेदन करना होगा. 

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल 

चयनित अभ्यर्थियों के माध्यम से कामधेनू डेयरियां खोली जाएंगी:
डॉ.जोगाराम ने बताया कि ‘‘कामधेनू डेयरी योजना’’ के अन्तर्गत जिले में पशुपालन विभाग की प्रजनन नीति के अनुरूप वित्तीय वर्ष 2020-21 में सरकार द्वारा चयनित अभ्यर्थियों के माध्यम से कामधेनू डेयरियां खोली जाएंगी. इस डेयरी में उच्च दुग्ध क्षमता वाली एक ही नस्ल के 30 गौवंश होगें.

90 प्रतिशत राशि बैंक लोन के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी: 
उन्होंने बताया कि डेयरी खोलने के लिए लाभार्थी के पास पर्याप्त स्थान एवं हरा चारा उत्पादन करने के लिए कम से कम एक एकड़ भूमि होनी चाहिए. इस प्रोजेक्ट की लागत लगभग 36 लाख रूपये निर्धारित की गई है. इसमें लाभार्थी को 10 प्रतिशत राशि स्वयं द्वारा वहन करनी होगी एवं 90 प्रतिशत राशि बैंक लोन के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी. डेयरी योजना अन्तर्गत लिया गया ऋण चुकाए जाने पर राज्य सरकार द्वारा 30 प्रतिशत सब्सिडी भी दी जाएगी. 

चयनित पशुपालकों को 30 गौवंश के लिए ऋण दिया जाएगा:
जिला कलेक्टर ने बताया कि पशुपालक, गोपालक, कृषकों, नवयुवकों, महिलाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए एवं उन्नत गौवंशों से पशुपालकों की आय बढा़ने के लिए कामधेनू डेयरी योजना में चयनित पशुपालकों को 30 गौवंश के लिए ऋण दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि सफल आवेदक को बैंक के माध्यम से ऋण प्रदान किए जाने के बाद डेयरी प्रबंधन एवं गौ उत्पादों के संबंध में उन्हें प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन भी दिया जायेगा. लाभार्थी को इस क्षेत्र में कम से कम तीन वर्ष का अनुभव होना आवश्यक हैं. साथ ही डेयरी का संचालन स्थानीय निकाय के प्रतिबंधित सीमा क्षेत्र से बाहर किया जायेगा. 

Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र से टकराया चक्रवाती तूफान निसर्ग, 129 साल बाद इतना भयानक तूफान  

प्रथम चरण में एक ही नस्ल की 15 गौवंश क्रय करने होंगे:
संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग जयपुर उम्मेद सिंह ने बताया कि कामधेनू डेयरी योजना के अन्तर्गत इच्छुक पशुपालक, गौपालक, कृषक, नवयुवक, महिलाओं को 30 जून 2020 तक निर्धारित प्रपत्र में कार्यालय संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग को आवेदन करना होगा. प्रथम चरण में देशी नस्ल की गायें जिनकी उम्र 5 वर्ष या दो ब्यांत (जो भी कम हो) होनी चाहिए एवं दुग्ध उत्पादन 10-12 लीटर प्रतिदिन होना चाहिए. प्रथम चरण में एक ही नस्ल की 15 दुधारू गाय एवं इसके 6 महीने बाद द्वितीय चरण में 15 देशी गौवंश क्रय करने होंगे. योजना के बारे में अधिक जानकारी एवं आवेदन पत्र विभाग की वेबसाइट https://gopalan.rajasthan.gov.in/ से डाउनलोड कर प्राप्त किए जा सकते हैं. 

और पढ़ें

Most Related Stories

पाकिस्तान से आने वाली टिड्डी पर होगी एयर स्ट्राइक, सीमा पर तैनात किया हेलीकॉप्टर

पाकिस्तान से आने वाली टिड्डी पर होगी एयर स्ट्राइक, सीमा पर तैनात किया हेलीकॉप्टर

जैसलमेर: पिछले साल राजस्थान ही नहीं बल्कि कई राज्यों में तबाही की स्याह दास्तां लिखने के बाद पिछले करीब दो माह में पाकिस्तान से टिड्डियों के लाखों की तादाद में आए झुंड भारत मे घुस कर एक दर्जन राज्यों में फसलों को बर्बाद करने में लगे हैं. इनके आंतक के खात्मे के लिए सरकार अब जमीन के बजाए आसमान से करने जा रही है. किसानों पर कहर बरपा रहे हवाई आतंक पर अब एयर स्ट्राइक के जरिए ही काबू पाने की तैयारी है. टिड्डियों पर अब हेलिकॉप्टर के जरिए कीटनाशक का छिड़काव किया जाएगा. टिड्डियों के खात्मे के लिए माउटेंड स्प्रेयर ट्रैक्टर, ड्रोन के बाद अब हेलीकॉप्टर की मदद ली जा रही है. इसके केहर आज एक हेलीकॉप्टर जैसलमेर पुलिस लाइन मैदान हेलीपेड पर उतरा जैसलमेर के सीमावर्ती क्षेत्रों में हेलीकाप्टर से छिड़काव किया. 

VIDEO: जयपुर एयरपोर्ट पर सोने की बड़ी तस्करी का खुलासा, 3 फ्लाइट से अब तक 32.5 किलो सोना पकड़ा 

60 दिन में इसकी 100 घंटे की उड़ान अनिवार्य:  
निजी हेलिकॉप्टर एक बार में महज 250 लीटर कीटनाशक का स्प्रे सिर्फ 50 हेक्टेयर क्षेत्र में ही कर सकता है. इसमें पायलट के नीचे दोनों तरफ स्प्रे करने की सुविधा है. कंपनी से हुए करार के तहत 60 दिन में इसकी 100 घंटे की उड़ान अनिवार्य है. इससे पहले एक हेलिकॉप्टर बाड़मेर के उत्तरलाई एयरबेस पर तैनात है. वहीं आज जैसलमेर में हेलीकाप्टर को तैनात किया गया है. जरूरत के आधार पर इसे बाड़मेर के साथ ही जैसलमेर, जोधपुर, बीकानेर और नागौर जिलों में टिड्‌डी नियंत्रण के लिए काम में लिया जाएगा.

Corona Update:  देश में पहली बार एक दिन में आए 22 हजार से ज्यादा नए केस, 442 लोगों की मौत 

40 मिनट में 750 हेक्टेयर क्षेत्र में 800 लीटर कीटनाशक का छिड़काव: 
वहीं दूसरी तरफ टिडि्डयों के सफाया के लिए अब इंडियन एयरफोर्स मदद के लिए आगे आया है. एयरफोर्स ने अपने तीन एमआई-17 हेलिकॉप्टरों को मॉडिफाइड कर टिड्‌डी पर स्प्रे करने को तैयार कर दिया है. ये हेलिकॉप्टार महज 40 मिनट में 750 हेक्टेयर क्षेत्र में 800 लीटर कीटनाशक का छिड़काव कर देगा. इन तीन में से एक हेलिकॉप्टर को जोधपुर एयरबेस पर तैनात किया जाएगा. यहां टिड्‌डी दलों के भारतीय सीमा में प्रवेश करते ही ये हेलिकॉप्टर हमला करने को उड़ान भरेगा. आज शाम तक जैसलमेर पहुंच जायेंगे.  

ऋणी किसानों के लिए फसल बीमा योजना स्वैच्छिक

ऋणी किसानों के लिए फसल बीमा योजना स्वैच्छिक

जयपुर: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ-2020 में ऋणी काश्तकारों के लिए भी स्वैच्छिक रहेगी. फसल बीमा से अलग रहने के इच्छुक ऋणी किसान को आगामी 8 जुलाई तक संबंधित बैंक शाखा में आवेदन करना होगा. कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बताया कि फसल बीमा योजना में खरीफ-2020 से केन्द्र सरकार की ओर से कई बदलाव किए गए हैं. 

मारवाड़ जंक्शन में पकड़े गये 49 जुआरी, 35 लाख से अधिक की राशि के साथ 13 से अधिक लग्जरी गाड़ियां जब्त 

किसानों के लिए फसल बीमा स्वैच्छिक किया गया: 
इसके तहत वित्तीय संस्थान से फसली ऋण लेने वाले किसानों के लिए फसल बीमा स्वैच्छिक किया गया है. फसली ऋण लेने वाले किसानों को 8 जुलाई तक संबंधित बैंक में जाकर फसल बीमा से पृथक रखने के लिए निर्धारित प्रपत्र में लिखित में आवेदन करना होगा. आवेदन पत्र बैंक शाखाओं में उपलब्ध है. कटारिया ने बताया कि केन्द्र सरकार ने किसानों के लिए फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 15 जुलाई निर्धारित की है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 9 मौत, 127 नये पॉजिटिव केस आए सामने 

टिड्डी दलों ने चट की कपास और मूंगफली की पूरी फसल, किसानों ने जमीन पर लेटकर जताया विरोध, मुआवजे की मांग की

टिड्डी दलों ने चट की कपास और मूंगफली की पूरी फसल, किसानों ने जमीन पर लेटकर जताया विरोध, मुआवजे की मांग की

सरदारशहर: सरदारशहर तहसील में पिछले एक हफ्ते में बड़ी संख्या में आये टिड्डी दलों ने नरमा, कपास और मूंगफली की फसलों को पूरी तरह चट कर दिया है. जिसके चलते मानो किसानों की कमर टूट गई हो. टिड्डी दल के आने की पहले से सूचना होने के बावजूद भी प्रशासन की ओर से इनको रोकने की किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं की गई, जिससे किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है. इसी कड़ी में अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में शुक्रवार को बड़ी संख्या में किसान एसडीएम ऑफिस पहुंचे. 

हिंडौन सिटी में व्यापारी पुत्र की हत्या के पांच में से एक आरोपी युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर की आत्महत्या

किसानों ने जताया विरोध:
आक्रोशित किसान उपखंड अधिकारी कार्यालय में जमीन पर लेट गए और अपना विरोध प्रकट किया. किसानों ने उपखंड अधिकारी रीना छिंपा को ज्ञापन सौंपकर टीडी दल से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा दिलवाने और लगातार आ रहे टीडी दल पर नियंत्रण करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा. अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने बताया की बड़ी संख्या में आ रहे टीडी दल को मारने के लिए ट्रैक्टर या यहां पर उपलब्ध उपकरण निष्क्रिय साबित हो रहे हैं अगर इन टिड्डी दलो को मारना है तो हेलीकॉप्टर या हवाई जहाज के जरिए इनको मारा जा सकता है इसलिए सरकार को जल्द से जल्द हवाई मार्ग से इन टिड्डी दलों को नष्ट करना चाहिए.

पहले मौसम की मार से तबाह हुई थी फसलें:
किसानों ने बताया कि किसान पहले से दुखी है पहले बिन मौसम हुई ओलावृष्टि और फिर कोरोना के चलते मजदूर नहीं मिलने से किसानों को भारी नुकसान हुआ और फिर जब किसानों की फसल पक चुकी थी उस समय बिन मौसम हुई बारिश ने भी किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है और अब टिड्डी दलों ने किसानों की नरमे कपास और मूंगफली की फसल को 100 प्रतिशत नष्ट कर दिया है. गौरतलब है कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में किसानों ने अपने अन्य के भंडार खोल दिए थे जिससे राज्य सरकार व केंद्र सरकार को बहुत बड़ा संबल प्राप्त हुआ था लेकिन अब किसानों पर टिड्डी रूपी महा संकट आ खड़ा हुआ है जिस की ओर सरकार को ध्यान देना चाहिए जिससे किसान आगे आने वाली सावनी की फसल को बुवाई कर सके.

दिल्ली में कोरोना के कहर पर सीएम केजरीवाल बोले, 74 हजार में से 45 हजार लोग हुए ठीक, रोजाना 3 गुना बढ़े टेस्ट

करौली जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा चलाया जा रहा अभियान

करौली जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा चलाया जा रहा अभियान

करौली: जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा अभियान चलाया जा रहा है. अभियान के तहत देर रात सपोटरा तहसील के गोविंदपुरा व सलेमपुर क्षेत्र में पेड़, झाड़ीयों व अन्य स्थानों पर दमकल की मदद से दवा का स्प्रे किया गया. जिससे क्षेत्र में 90% से अधिक टिड्डी खत्म हो गई. अभियान के दौरान कृषि उपनिदेशक रामलाल जाट सहित कृषि विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद रहे. 

जयपुर के मुहाना थाना इलाके में एटीएम लूट से मचा हड़कंप, करीब 20 लाख रुपए बताए जा रहे ATM मशीन में 

किसानों को ध्वनि यंत्र बजाकर भगाने की सलाह दी जा रही:
कृषि उपनिदेशक बीडी शर्मा ने बताया कि जिले में टिड्डी के प्रकोप से निपटने के लिए रणनीति बनाकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है. अभियान के तहत दमकल, ट्रैक्टर व अन्य उपकरणों के माध्यम से उनके विश्राम स्थल पर दवाओं का छिड़काव किया जा रहा है. साथ ही दिन में किसानों को ध्वनि यंत्र बजाकर भगाने की सलाह दी जा रही है. जिसके चलते जिले में टिड्डी द्वारा फसल और पेड़ों को नुकसान ना के बराबर हुआ है. देर रात गोविंदपुरा सलेमपुर क्षेत्र में चलाए गए अभियान के दौरान 2 किलोमीटर सर्किल क्षेत्र में दवाओं का छिड़काव कर टिड्डियों को खत्म किया गया. दवाओं के छिड़काव के कारण क्षेत्र में जमीन पर टिड्डियों की चादर सी बिछ गई. 

राजस्थान में आज 67 नए पॉजिटिव केस आए, कोरोना के खिलाफ प्रदेश में 10 दिवसीय जागरुकता अभियान शुरू 

सहकारी समितियों में कोल्ड़ स्टोरेज, गोदाम एवं प्रोसेसिंग यूनिट की होगी स्थापना

सहकारी समितियों में कोल्ड़ स्टोरेज, गोदाम एवं प्रोसेसिंग यूनिट की होगी स्थापना

जयपुर: क्रय-विक्रय सहकारी समितियों एवं ग्राम सेवा सहकारी समितियों में कोल्ड स्टोरेज, गोदाम निर्माण, प्रोसेसिंग यूनिट सहित कृषि से जुड़ी अन्य गतिविधियों के लिए संयत्रों की स्थापना की जाएगी. समिति एवं क्षेत्रवार स्थितियों का आंकलन कर उपयोगिता के आधार पर प्रस्ताव प्राप्त किये जाएंगे. कृषि गतिविधियों की चेन सप्लाई सिस्टम को विकसित करने की दिशा में जो भागने बड़ा कदम उठाया है. 

भारत अपनी अखंडता से समझौता नहीं करेगा, यथोचित जवाब देने में सक्षम- पीएम मोदी  

सभी सहकारी समितियों का 31 जुलाई तक डेटा होगा ऑनलाइन: 
आज पंत कृषि भवन में कृषि प्रसंस्करण, खरीफ फसली ऋण, उपज रहन ऋण योजना, एमएसपी पर सरसों एवं चना खरीद सहित अन्य बिन्दुओं पर जिला स्तर पर पदस्थापित अधिकारियो से वीडियो कान्फ्रेंसिग की गई. सहकारिता एवं कृषि विभाग के प्रमुख सचिव नरेश पाल गंगवार ने वीसी के जरिए कार्य योजना पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि राजस्थान सहकारी अधिनियम 2001, राजस्थान सोसायटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1958 तथा स्पोर्ट्स एक्ट के तहत पंजीकृत संस्थाओं का डेटा 31 जलाई तक ऑनलाइन कर दिया जाये. जिससे पारदर्शिता के साथ सूचनाऐं आमजन को मिल सके एवं बेहतर मॉनिटरिंग भी संभव हो सके. 

20 लाख किसानों को 6 हजार करोड़ का सहकारी फसली ऋण वितरित:
उन्होंने निर्देश दिए कि जिला उप रजिस्ट्रार प्राथमिकता के साथ इस कार्य को पूरा करें. फसली ऋण वितरण में ऑनलाइन प्रणाली अपनाने से अच्छे रिजल्ट आए है. इस प्रणाली के कारण दो माह में ही लगभग 20 लाख किसानों को 6 हजार 18 करोड़ रूपये का खरीफ फसली ऋण का वितरण किसानों को हो चुका है. उन्होंने निर्देश दिए कि नए किसानों को भी फसली ऋण प्रदान किया जाये तथा जो जिले अपने यहां फसली ऋण के लिए और नए किसानों को जोड़ना चाहते है. वे प्रस्ताव भेजें तो उन्हें अनुमति प्रदान की जाएगी. प्रमुख सचिव नरेश पाल गंगवार ने 50 प्रतिशत से कम ऋण वितरण वाले 5 जिलों के प्रबंध निदेशकों को सख्त लहजे में कहा कि 30 जून तक परफोमेंस सुधारे अन्यथा अनुशासत्मक कार्यवाही के लिए तैयार रहे. उन्होंने कहा कि फसली ऋण वितरण के दौरान कोविड़-19 गाइडलाइन का पालन करे. उन्होंने उपज रहन ऋण योजना में पात्र सहकारी समितियों को सक्रिय करें तथा योजना से और किसानों को जोडे.

एमएसपी पर चना खरीद के भारत सरकार द्वारा आवंटित लक्ष्य को पूरा करें: 
उन्होंने निर्देश दिए कि 30 जून तक पात्र समिति कम से कम एक किसान को उपज रहन ऋण प्रदान करे ताकि आने वाली सीजन में किसानों को लाभ मिल सके. उन्होंने कहा कि सहकारी समितियों को गौण मंडी का दर्जा देने से किसानों एवं समितियों को फायदा हुआ है. इसे स्थायित्व दिया जाए. योजनाओं की जिलेवार बेहतर मॉनिटंरिग के लिए विभाग में पदस्थापित अधिकारियों को रिव्यू के लिए जिलों में भेजा जाएगा. उन्होंने खण्डीय अतिरिक्त रजिस्ट्रार को भी निर्देश दिए कि जिला अनुसार रिव्यू करें. गंगवार ने कहा कि एमएसपी पर चना खरीद के भारत सरकार द्वारा आवंटित लक्ष्य को पूरा करें ताकि अधिक से अधिक किसानों को लाभ मिल सके. 

ऑनलाइन बिजनेस करने के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी कर बन गया साधु, पुलिस ने वृंदावन से किया गिरफ्तार 

बाजार में सरसों के भाव एमएसपी से ऊपर होने की वजह से खरीद केन्द्रों पर आवक कम: 
राजफैड की प्रबंध निदेशक सुषमा अरोड़ा ने कहा कि 2 लाख 91 हजार 936 किसानों से सरसों एवं चना की 7 लाख 36 हजार 186 मीट्रिक टन उपज खरीदी गई है. जिसकी राशि 3 हजार 452 करोड़ रूपये है. उन्होंने कहां कि बाजार में सरसों के भाव एमएसपी से ऊपर होने की वजह से खरीद केन्द्रों पर आवक कम है. जबकि चना की आवक ज्यादा है. उन्होंने निर्देश दिए कि उपज का समय पर उठाव करें एवं ईडब्लयूआर समय पर जनरेट करें. एफएक्यू मानक से खरीद नही होने पर संबंधित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी. जो भी सहकारी समितियां अपने कार्य क्षेत्र में किसी प्रकार का नवाचार करना चाहती है या कृषि एवं कृषि उत्पादन से जुडी गतिविधियों के लिए चेन सप्लाई सिस्टम विकसित करना चाहती हैं तो इससे संबंधित प्रस्ताव विभाग को शीघ्र भिजवायें ताकि सरकार द्वारा जुडी योजनाओं का लाभ इन्हे मिल सके.

       

टिड्डी नियंत्रण को लेकर हाईटेक प्रयास, जैसलमेर को मिले 5 ड्रोन

टिड्डी नियंत्रण को लेकर हाईटेक प्रयास, जैसलमेर को मिले 5 ड्रोन

जैसलमेर: सीमावर्ती जिले जैसलमेर में टिड्डी दलों की आवक शुरू हो चुकी है. पाकिस्तान से लगातार टिड्डी दल आ रहे हैं. किसानों के सामने फसलों के बर्बाद होने का खतरा मंडरा रहा है. इस बीच गत बार के भारी नुकसान को देखते हुए प्रशासन, कृषि विभाग व लोकेस्ट विभाग ने कमर कस ली है. इस बार नियंत्रण के युद्धस्तर पर प्रयास शुरू हो चुके हैं. हाल ही में टिड्डी नियंत्रण दल को 5 ड्रोन मिले हैं. इस बार ड्रोन से टिड्डी नियंत्रण का प्रयास किया जाएगा. 

Rajasthan Corona Updates: कोरोना को हराने में राजस्थान टॉप राज्यों में शुमार, अब तक 10,125 मरीज पॉजिटिव से हुए नेगेटिव 

प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद:
गौरतलब है कि गत साल 100 करोड़ से भी ज्यादा की फसलों को टिड्डियां चट कर गई थी. जिले के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा था. इतना ही नहीं इस बार भी टिड्डी दलों के आने से किसानों की चिंता बढ़ गई थी. उनके लिए राहत की खबर यह है कि प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है. अब टिड्‌डी की सूचना मिलते ही टिड्‌डी नियंत्रण विभाग की टीमें मौके पर पहुंचकर ड्रोन से स्प्रे कर टिडि्डयों पर काबू पाएगी. पहले दो ड्रोन आए थे और शाम तक तीन और आ गए. सूचना मिलते ही टीमों के साथ ड्रोन भी देर रात तक मौके पर पहुंच जाएंगे हाल ही में खुहड़ी व जेठवाई में ड्रोन से नियंत्रण में सफलता मिली है. 

Coronavirus in India Updates: दुनिया में पहली बार सबसे ज्यादा मौत भारत में, पिछले 24 घंटे में 10974 नए मामले सामने आए 

नियंत्रण के प्रयासों से किसानों में खुशी:
एक दिन पहले खुहड़ी व जेठवाई में टिड्डी दलों की सूचना मिलने पर ड्रोन से स्प्रे कर काबू पाया गया. नियंत्रण के प्रयासों से किसानों में खुशी. इस बार टिड्डी दलों पर नियंत्रण के लिए बड़े स्तर पर प्रयास शुरू हो चुके हैं. किसानों को भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है. स्प्रे के वाहन भी बढ़ा दिए हैं. इस बीच ड्रोन भी आ चुके हैं. समय रहते नियंत्रण के प्रयास शुरू हो जाने से किसानों में खुशी की लहर है. 

डूंगरपुर जिले में टिड्डी दल आने की सूचना से किसानों में हड़कंप

डूंगरपुर जिले में टिड्डी दल आने की सूचना से किसानों में हड़कंप

डूंगरपुर: पाकिस्तान से निकला टिड्डी दल गुजरात के रास्ते होकर राजस्थान के डूंगरपुर जिले में प्रवेश कर गया है. इधर डूंगरपुर जिले में टिड्डी दल आने की सूचना से किसानों में हड़कंप मच गया. किसानों ने ढोल, थाली और डीजे बजा कर टिड्डियों को अपने खेतों से उड़ाया. इधर कृषि विभाग के अधिकारी भी पूरी तरह से अलर्ट मोड पर है और कल शाम से टिड्डियों के मूवमेंट पर नजर बनाए हुए हैं.

LAC पर भारत-चीन के बीच हिंसक झड़प, एक अफसर और 2 सैनिक शहीद 

कृषि विभाग के उपनिदेशक गौरीशंकर कटारा ने बताया कि टिड्डी दल जिले में सबसे पहले बिछीवाड़ा ब्लाक में आया और रात को बिलपन तथा उसके आसपास के गांवों के खेतों में पड़ाव डाला. इसके बाद कृषि विभाग ने रात भर अभियान चलाकर फायर ब्रिगेड के माध्यम से खेतों में दवा का छिड़काव किया जिससे हजारों की संख्या में टिड्डियां मर गई. आज सुबह टिड्डी दल ने फिर उड़ान भरी और बिछीवाड़ा ब्लाक के गांवों के ऊपर से होते हुए शहर में प्रवेश किया. 

VIDEO: सिरोही के बरलूट में एक युवक को घेरकर पेशाब पिलाने का वीडियो वायरल 

शहर और आसपास के क्षेत्रों में कुछ देर पेड़ों पर बैठने के बाद टिड्डी दल हवा के रुख के साथ उदयपुर जिले और चला गया जिसके बाद कृषि विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली. जिले में टिड्डी दल की दस्तक के बाद कृषि विभाग के अधिकारी सचेत हैं और टिड्डियों के मूवमेंट पर नजर बनाए हुए है.

राजस्थान के 16.36 लाख किसानों को सहकारी फसली ऋण का वितरण, 2.34 लाख नए किसानों को भी जोड़ा

राजस्थान के 16.36 लाख किसानों को सहकारी फसली ऋण का वितरण, 2.34 लाख नए किसानों को भी जोड़ा

जयपुर: राज्य की ग्राम सेवा सहकारी समितियों के 16 लाख 36 हजार 396 सदस्य किसानों को 5287 करोड़ रूपए का सहकारी खरीफ फसली ऋण का वितरण किया जा चुका है. यह ब्याजमुक्त अल्पकालीन फसली ऋण वर्ष 2020-21 में 25 लाख किसानों को वितरण का लक्ष्य है. सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि 16 अप्रैल से प्रारंभ हुए खरीफ सीजन के फसली ऋण में 31 अगस्त तक 10 हजार करोड़ रूपए किसानों को वितरित किए जाने का लक्ष्य है. जबकि रबी सीजन में 1 सितम्बर से 31 मार्च 2021 तक 6 हजार करोड़ रूपए का फसली ऋण वितरित किया जाएगा.

VIDEO: अन्य प्रदेशों के विधायकों के लिए राजस्थान सुरक्षित ! 2005 से अब तक 6 बार हो चुकी है बाड़ाबंदी  

अब तक 86 हजार 558 किसानों को ऋण का वितरण हो चुका:
उन्होंने बताया कि वर्ष 2020-21 में 3 लाख के लक्ष्य के विरूद्ध 2 लाख 34 हजार 189 नए किसानों को भी फसली ऋण से जोड़ा जा चुका है, जिसमें से खरीफ सीजन में अब तक 86 हजार 558 किसानों को ऋण का वितरण हो चुका है. प्रमुख शासन सचिव नरेशपाल गंगवार ने बताया कि 8 जून तक जयपुर जिले में 1 लाख 51 हजार 431 किसानों को 475 करोड़ रूपए, बाड़मेर जिले में 1 लाख 28 हजार 548 किसानों को 415 करोड़ रूपए, भीलवाड़ा जिले में 88 हजार 294 किसानों को 275 करोड़ रूपए, जोधपुर जिले में 69 हजार 632 किसानों को 268 करोड़ रूपए, श्रीगंगानगर जिले में 72 हजार 999 किसानों को 255 करोड़ रूपए तथा चित्तौड़गढ़ जिले में 78 हजार 040 किसानों को 251 करोड़ रूपए का फसली ऋण वितरित किया जा चुका है.

प्रॉपर्टी डीलर पर हमला कर लूट का प्रकरण, इलाज के दौरान नरेश ने तोड़ा दम, पुलिस कर रही बदमाशों की तलाश

ऋण वितरण की धीमी गति पर संबंधित प्रबंध निदेशकों को शीघ्रता लानें के निर्देश:
उन्होंने बताया कि इसी प्रकार अन्य जिलों में भी किसानों को फसली ऋण का वितरण किया गया है. प्रबंध निदेशक, अपेक्स बैंक परशुराम मीणा ने बताया कि जयपुर, टोंक एवं बाड़मेर जिलों में निर्धारित लक्ष्य के विरूद्ध 75 प्रतिशत से अधिक फसली ऋण का वितरण हो चुका है. इसी प्रकार सवाई माधोपुर, बीकानेर एवं बूंदी जिलों में 60 प्रतिशत से अधिक तथा भीलवाड़ा, अजमेर, झुंझुनू व जोधपुर जिलों में 57 प्रतिशत से अधिक फसली ऋण का वितरण हुआ है. उन्होंने बताया कि भरतपुर, जैसलमेर, जालोर एवं बारां जिलों में ऋण वितरण की धीमी गति पर संबंधित प्रबंध निदेशकों को शीघ्रता लानें के निर्देश दिए गए है. 

Open Covid-19