जांको राखे साइयां मार सके न कोई वाली कहावत चरितार्थ...सूखे कुएं में गिरे व्यक्ति को जिंदा बाहर निकाला

जांको राखे साइयां मार सके न कोई वाली कहावत चरितार्थ...सूखे कुएं में गिरे व्यक्ति को जिंदा बाहर निकाला

सुल्ताना(झुंझुनूं): सुल्ताना कस्बे के वार्ड 15 में जांको राखे साईंया मार सके न कोई वाली कहावत चरितार्थ हुई है. वार्ड स्थित बिलंदिया कुएं में गिरे व्यक्ति को देर रात जिंदा बाहर निकाला गया. युवक के सिर और अन्य जगह चोटें आई हैं जिसकी वजह से युवक को इलाज के झुंझुनूं ले जाया गया. सुल्ताना चौकी प्रभारी एएसआई ओम प्रकाश भांबू को सूचना मिली कि वार्ड 15 में स्थित सूखे कुएं में एक युवक गिर गया हैं जिसके बाद सुल्ताना चौकी प्रभारी मय जाप्ता मौके पर पहुंचे और टार्च की मदद से कुएं में देखा तो युवक दिखाई दिया जिसके बाद पुलिस ने लोरिंग मशीन को मौके पर बुलाया. 

कुएं में अंधेरा होने के कारण काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा:
कुएं के सूखा होने और संसाधनों के अभाव में पुलिस प्रशासन को स्थानीय लोगों की मदद से लेते हुए एक युवक को कुएं के अंदर उतारा गया. कुएं में अंधेरा होने के कारण काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा करीब घण्टेभर की मशक्कत के बाद कुएं में गिरे युवक को जिंदा बाहर निकाला गया. स्थानीय लोगों ने बताया कि वार्ड का अख्तर खाना खाने के बाद कुएं की पाल पर बैठा था पैर फिसलने के कारण कुएं में गिर गया जिसे पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से जिंदा बाहर निकलवा कर अस्पताल में भर्ती करवाया हैं.

फिर खली 108 की कमी:
सुल्ताना कस्बे की आबादी करीब 30 हजार के आसपास है मगर यहां पर 108 की सुविधा नहीं होने पर हादसों के समय पीड़ित को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है आज कुएं से बाहर निकाले गए युवक को 108 की सुविधा नहीं होने के कारण निजी अस्पताल की एम्बुलेंस की मदद से झुंझुनूं ले जाया गया. सुल्ताना में 108 कई सुविधा के लिए समय समय पर मांग की गई हैं. 

सूखे कुओं पर आखिर कब लगेंगे जाल: 
कस्बे में सूखे पड़े कुओं पर जाल नही लगे होने से हादसों की संभावना बनी रहती हैं करीब 2 माह पूर्व सारी रास्ते पर स्थित कुएं  में युवक गिर गया था जिसे पुलिस प्रशासन ने जिंदा बाहर निकाला था उसके बाद भी सूखे कुओं पर जाल नही लगाए गए

और पढ़ें