close ads


रियल एस्टेट में हाउसिंग बोर्ड का दबदबा! प्रतापनगर में आयुष मार्केट की होगी ई-ऑक्शन

जयपुर: कोरोना की वजह से हुए लॉक डाउन से जहां हर तरह का बाजार बर्बादी की कगार पर है वही हाउसिंग बोर्ड ने अपनी विशेष रणनीति से रियल एस्टेट बाजार में अभी भी अपना दबदबा कायम रखा हुआ है. आवासीय योजनाओं में रिकॉर्ड आवासों की लगातार बिक्री से सभी को सरप्राइज करने वाले हाउसिंग बोर्ड ने अब व्यावसायिक सम्पत्तियों की भी बड़ी तादाद में नीलामी कर चमत्कार कर दिया है. बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की मार्केटिंग स्ट्रेटजी का ही कमाल है कि बोर्ड ने गुरुवार को भिवाड़ी में 46 व्यावसायिक सम्पत्तियों की नीलामी की है. बोर्ड को इन नीलामियों से 14 करोड़ 46 लाख रुपये का राजस्व मिला है. कोरोना के प्रभाव के कारण बड़े बड़े ग्रुप जहां एक व्यावसायिक प्लॉट्स तक नहीं बेच पा रहे हैं वहीं बोर्ड ने एक साथ 46 सम्पत्तियों की नीलामी कर साबित कर दिया है कि रियल एस्टेट जगत का किंग हाउसिंग बोर्ड ही है. 

अब व्यावसायिक सम्पत्तियों की नीलामी पर भी फ़ोकस:
आवासीय योजनाओं में मिल रहे शानदार रेस्पॉन्स के बाद बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने अब व्यावसायिक सम्पत्तियों की नीलामी पर भी फ़ोकस किया है.अगले महीने बोर्ड की ओर से जयपुर के प्रताप नगर में आयुष मार्केट (दवा मार्केट) और मानसरोवर में RHB आतिश मार्केट योजना में भी ई ऑक्शन किया जाएगा. यह दोनो ही योजनाएं काफी लोकप्रिय हो चुकी है और बड़ी संख्या में लोग यहाँ होने वाले ऑक्शन का इंतजार कर रहे हैं. बोर्ड कमिश्नर अरोड़ा ने बताया कि आयुष मार्केट में 11 व्यावसायिक सम्पत्तियों की ई नीलामी 13 से 15 जुलाई तक कि जाएगी. 

200 और मार्गों पर चलेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, गुजरात के लिए भी शुरू होगी  बस सेवा

12 व्यावसायिक सम्पत्तियों की ई नीलामी:
वहीं RHB आतिश मार्केट में 12 व्यावसायिक सम्पत्तियों की ई नीलामी 22 से 24 जुलाई तक कि जाएगी. इन दोनों योजनाओं में भी खरीदारों के बीच बड़ी संख्या में प्रतिस्पर्धा देखने को मिल सकती है. उसका एक बड़ा कारण यह भी है कि हाल ही में बोर्ड ने नीलामी से सम्पति खरीदने के बाद होने वाले भुगतान के नियमों में अहम बदलाव किए हैं.भुगतान के जिन नियमों में हाउसिंग बोर्ड ने बदलाव किए हैं उन नियमों में बदलाव के लिए काफी समय से लोग मांग कर रहे थे. नए नियमों में बदलाव के बाद  बोर्ड की संपत्ति क्रय करने वाले लोगों के लिए अब सबसे बड़ी राहत की बात यह है कि बिड मूल्य की  50 प्रतिशत राशि को करीब 1 साल में चुकाया जा सकता है.

-अब अमानत राशि बिड मूल्य के  5 प्रतिशत के स्थान पर सिर्फ 2 प्रतिशत ली जाएगी
-सफल बिड  राशि की  15 प्रतिशत राशि  3 दिवस में जमा करा सकेंगे. जिसमें 2 प्रतिशत EMD समायोजित कर ली जाएगी.
-बिड स्वीकृति के बाद  बिड मूल्य की 35 प्रतिशत राशि  240 दिन में और बाकी की 50 फीसदी राशि 360 दिनों में जमा कराई जा सकेगी.
-अगर पूरी नीलामी की राशि मांग पत्र जारी होने  के 15 दिन में जमा कराई जाएगी तो  नीलामी मूल्य में 2 प्रतिशत की छूट भी दी जाएगी.

उदयपुर में ACB की कार्रवाई, हैड कांस्टेबल को साढ़े 3 हजार की रिश्वत लेते किया ट्रेप

हाउसिंग बोर्ड का जलवा रहेगा ऐसे ही बरकरार:
कमिश्नर पवन अरोड़ा की मार्केटिंग स्ट्रेटजी का ही कमाल ही है कि बोर्ड हर मोर्चे पर कामयाबी के झंडे गाढ़ रहा है. किश्तों में आवास योजना की लगातार कामयाबी के बाद व्यावसायिक सम्पत्तियों की नीलामी में मिली सफ़लता से बोर्ड ने बता दिया है कि संकट कितना भी बढ़ा हो हाउसिंग बोर्ड का जलवा रियल एस्टेट जगत में ऐसे ही बरकरार रहेगा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

और पढ़ें