Live News »

VIDEO : चुनाव लड़ने में शैक्षणिक बाध्यता पहले विधायकों पर होगी लागू

VIDEO : चुनाव लड़ने में शैक्षणिक बाध्यता पहले विधायकों पर होगी लागू

जयपुर। राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने आज अपना पदभार ग्रहण कर लिया। पद भार ग्रहण करने के साथ ही पायलट में साफ कर दिया कि उनकी प्राथमिकताएं नकारात्मक नहीं है , सकारात्मक सोच के साथ प्रदेश की सरकार आगे बढ़ेगी और प्रदेश की जनता को अच्छे परिणाम देगी। पंचायती राज चुनाव के लिए शैक्षणिक बाध्यता हटाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि पहले इसे या विधायकों के लिए लागू किया जाएगा फिर अन्य चुनाव के लिए लागू किया जाएगा।

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने सचिवालय में कार्यभार संभालने के साथ पत्रकारों से बातचीत में अपनी प्राथमिकता को स्पष्ट किया । उन्होंने कहा कि जन घोषणा पत्र लागू करना ही हमारी प्राथमिकता है उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव नजदीक है और ऐसे में आम जनता को सरकार के होने का रिजल्ट एहसास कराना चाहते हैं। सचिन पायलट ने कहा कि सरकार बनने से पूर्व में जो कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में घोषणा करी थी उन घोषणाओं को पूरा करना सरकार की प्राथमिकता होगी । प्रदेश में नई सरकार बन गई है , विभागों का बंटवारा हो गया है इसके साथ ही , अब सब को एक साथ लेकर काम करना है जो चुनौतियां मिली है और चुनौतियों का सामना करते हुए स्वच्छ उस साफ सुथरी सरकार प्रदेश की जनता को देनी है। पंचायती राज के लिए शैक्षणिक योग्यता की बाधा हटाने के बाद इसको लेकर उन्होंने कहा कि वे जन घोषणा पत्र की हर बात लागू करेंगे लेकिन शैक्षणिक योग्यता हटाने का मामला पहले विधायकों के लिए लागू करवाने के बारे में विचार किया जाएगा।

पायलट ने इस मौके पर पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा पिछली सरकार घमंड में चूर थी 5 साल तक जनता तराई तराई करती रही , लेकिन उनकी सुध नहीं ली । अहंकार में डूबे सरकार को जनता ने उखाड़ फेंका है , अब हमारी जिम्मेदारी बन जाती है कि हम जनता की अपेक्षाओं को पूरा करें । जनता को एक ही सरकार दे जिसकी कल्पना हमेशा जनता करती आई है। पायलट ने कहा कि लोकसभा चुनाव दूर नहीं है प्रदेश को अच्छी सरकार मिलेगी तो लोकसभा चुनाव में अच्छा परिणाम सामने आएगा।
डिप्टी सीएम ने साफ किया कि कोई भी विभाग उनके लिए छोटा या बड़ा नहीं है सभी विभाग समान है और पंचायती राज विभाग में ग्रामीण विकास से जुड़ी योजनाओं और सड़क परियोजनाओं को लागू करने का प्रयास किया जाएगा इस मौके पर उन्होंने सचिवालय में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: अजमेर में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में सत्ता का रुतबा!...दादागिरी के साथ पहुंचे जिला शिक्षा अधिकारी के कार्यालय

अजमेर: शहर कांग्रेस ओर यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा आज जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बाहर दादागिरी दिखाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया. अजमेर दक्षिण के कांग्रेस नेता हेमंत भाटी के नेतृत्व में कार्यकर्ता जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पहुंचे और अपना मांग पत्र देने की मांग रखी जिस पर पुलिस ने कुछ ही कार्यकर्ताओं को कार्यालय पर जाने की अनुमति दी, लेकिन कांग्रेसी कार्यकर्ता अपनी सत्ता का रुतबा दिखाते हुए शिक्षा अधिकारी के कक्ष में जाकर वहां पर खड़े होकर के नारेबाजी करने लगे. 

मेवाड़ को मुख्यमंत्री गहलोत की सौगातें, सीएम आवास से हुआ लोकार्पण  

मेरी रिकॉर्डिंग कर लो मैं डरता नहीं:  
वहीं उसी समय शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर एलडीसी भर्ती की काउंसलिंग भी चल रही थी लेकिन सत्ता के घमंड में चूर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को वह बच्चे नहीं दिखाई दिए और उनकी नारेबाजी लगातार जारी रही. हद तो तब पार हो गई जब यूथ कांग्रेस शहर अध्यक्ष यासीन चिश्ती ने जिला शिक्षा अधिकारी देवी सिंह कच्छावा को खुले में धमकी दे डाली और कुछ अपशब्द तक कह डाले. उन्होंने यह भी कहा कि मेरी रिकॉर्डिंग कर लो मैं डरता नहीं उन्होंने सत्ता का रोब झाड़ते हुए कहा कि कांग्रेस की सरकार है और हमारे ही आदमियों को नियुक्ति दी जाएगी. 

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

पुलिस ने सभी कार्यकर्ताओं को कक्ष से बाहर निकाला:
मामला बढ़ता देख मौके पर पुलिस पहुंची और पुलिस ने सभी कार्यकर्ताओं को कक्ष से बाहर निकाला. साथ ही शिक्षा अधिकारी से जब बात की तो उन्होंने कहा कि इस तरह से कार्यकर्ताओं का कक्षा में आ कर नारेबाजी करन गलत है और राजकार्य में बाधा का काम किया है. वहीं पुलिस भी मौके पर थी और उनके सामने ही यह सब कृत्य किए गए है. लेकिन एक यूथ कांग्रेस के पदाधिकारी को इस तरह से खुल्ले में एक अधिकारी को धमकी देना कितना शोभा देता है यह वह ही जान सकता है. देखना यह होगा को अब इस मामले पर आगे क्या कार्यवाही की जाती है. 

...अजमेर से फर्स्ट इंडिया के लिए शुभम जैन की रिपोर्ट

मेवाड़ को मुख्यमंत्री गहलोत की सौगातें, सीएम आवास से हुआ लोकार्पण

मेवाड़ को मुख्यमंत्री गहलोत की सौगातें, सीएम आवास से हुआ लोकार्पण

उदयपुर: प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज उदयपुर के बाशिंदों को बड़ी सौगात दी. मुख्यमंत्री गहलोत नें आज जयपुर स्थित सीएम निवास से वीसी के माध्यम से  उदयपुर में दो भवनों का लोकार्पण किया. दी उदयपुर सेंट्रल को ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड के नवनिर्मित प्रधान कार्यालय और शाखा भवन का मुख्यमंत्री नें वीसी के माध्यम से ई लोकार्पण किया. इसके अलावा मुख्यमंत्री गहलोत नें चित्तौड़गढ़ जिले के चंदेरिया में बने  सहकार भवन का भी लोकार्पण किया. 

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या 

3 करोड़ 18 लाख रुपए की लागत से बने भवन: 
उदयपुर में बने 3 करोड़ 18 लाख रुपए की लागत से बनें इन भवनों के लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना और सहकारिता राज्यमंत्री  टीकाराम जूली भी मौजूद रहे. शहर के प्रतापनगर इलाके में बनें दी उदयपुर सेंट्रल को ऑपरेटिव बैंक के प्रधान कार्यालय के लोकार्पण के दौरान संभागीय आयुक्त विकास भालें, पुलिस अधीक्षक कैलाश विश्नोंई, देहात कांग्रेस अध्यक्ष लालसिंह झाला सहित कांग्रेस के कई पदाधिकारी मौजूद रहे. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

किसानों की आर्थिक प्रगति का राह मजबूत करने की बात कही: 
इस मौके पर मुख्यमंत्री गहलोत नें तमाम अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए सहकारिता के माध्यम सें किसानों की आर्थिक प्रगति का राह मजबूत करने की बात कही. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए केन्द्रीय सहकारी बैंक के प्रबंध निदेशक आलोक चौधरी नें साफ किया कि इन भवनों के मिलने से किसानों के सहकारिता से जुडे कार्यो में और तेजी आएगी. 

राजस्थान में पंचायत चुनाव के चौथे चरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम आदेश, राज्य सरकार और चुनाव आयोग को दिया निर्देश

राजस्थान में पंचायत चुनाव के चौथे चरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम आदेश,  राज्य सरकार और चुनाव आयोग को दिया निर्देश

जयपुर: राजस्थान में पंचायत चुनाव के चौथे चरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम आदेश आया है. कोर्ट ने राजस्थान सरकार और चुनाव आयोग 15 अक्टूबर से पहले पंचायत चुनाव पूरा करने का आदेश दिया है. चौथे चरण में 26 जिलों में पंचायत चुनाव होंगे. चौथे चरण में 1954 ग्राम पंचायत व 126 पंचायत समितियां शामिल हैं. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल में चुनाव सम्पन्न कराने के आदेश दिए थे. लेकिन कोरोना के चलते यह संभव नहीं हो पाया. लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद प्रदेश में पंचायत चुनावों का रास्ता साफ हो गया है. हालांकि पूरा आदेश सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर डलने के बाद ही सामने आएगा. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

इन जिलों में होंगे चौथे चरण के चुनाव:
पंचायतों के चौथे चरण के चुनाव जिन जिलों में होने हैं उनमें अजमेर, अलवर, बांसवाड़ा, बारां, बाड़मेर, भरतपुर, बीकानेर, चूरू, दौसा, धौलपुर है. इसके अलावा हनुमानगढ़, जयपुर, जैसलमेर, जालोर, जोधपुर, झुंझुनू, करौली, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, सवाई माधोपुर, सीकर, सिरोही, उदयपुर और श्रीगंगानगर जिलों की पंचायती राज संस्थाओं में चुनाव होने हैं. 

तीन चरणों के चुनाव जनवरी माह में संपन्न हुए: 
इससे पहले प्रदेश में ग्राम पंचायतों के तीन चरणों के चुनाव जनवरी माह में संपन्न हुए थे. इसके बाद चौथे चरण के चुनाव अप्रैल में होने थे लेकिन कोरोना संकट के चलते इसे स्थगित कर दिया गया. लेकिन अब हालात धीरे-धीरे सामान्य होने के बाद चौथे चरण के चुनाव करवाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार और चुनाव आयोग को निर्देश जारी किया है. 

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में 22752 नए मामले सामने आए, देश में अब 7.42 लाख केस 

प्रशासकों को कर रखा नियुक्त:
गौरतलब है कि ग्राम पंचायतों, पंचायत समितियों और जिला परिषदों का कार्यकाल पंचायत समितियों का कार्यकाल जनवरी माह में समाप्त हो गया था, जिसके बाद सरकार ने यहां प्रशासकों को तैनात कर रखा है. 

विकास दुबे पर अब पांच लाख का इनाम, तलाश में छापेमारी जारी

विकास दुबे पर अब पांच लाख का इनाम, तलाश में छापेमारी जारी

कानपुर: कानपुर शूटआउट कांड में फरार मुख्य कुख्यात आरोपी विकास दुबे पर एक बार फिर इनाम की राशि बढ़ाई गई है. अब विकास दुबे के बारे में जानकारी देने वाले को 5 लाख रुपए का इनाम मिलेगा. चौबेपुर में हुई आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में लगातार विकास और उसके साथियों की धर पकड़ जारी है. 

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या 

दोनों को सिर पर 25 हजार का इनाम था: 
इससे पहले बुधवार को हमीर पुर में विकास के करीबी अमर को मुठभेड़ में मारने के बाद विकास के एक और साथी श्यामू बाजपेयी को कानपुर में पुलिस ने दबोचा है. इन दोनों को सिर पर 25 हजार का इनाम था. अमर बदमाशों द्वारा घात लगाकर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में शामिल था. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

विकास की तलाश में पुलिस की अनेक टीमें लगी हुई: 
गौरतलब है कि 2 जुलाई की रात को बिकारू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या के बाद से ही गैंगस्टर विकास दुबे फरार है. उसकी तलाश में छापेमारी जारी है. फरीदाबाद एक होटल में विकास दुबे के छिपे होने की खबर मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने छापेमारी की. यहां विकास दुबे नहीं मिला, लेकिन उसका गुर्गा प्रभात मिला. विकास की तलाश में पुलिस की अनेक टीमें लगी हुई हैं. विकास दुबे के रिश्तेदार प्रभात समेत तीन लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है.


 

मेवाड़ एक्सप्रेस की चपेट में आने से पिता-पुत्री की मौत

मेवाड़ एक्सप्रेस की चपेट में आने से पिता-पुत्री की मौत

केशवरायपाटन(बूंदी): कापरेन थाना क्षेत्र से होकर निकल रही दिल्ली-मुम्बई रेलवे लाइन पर मध्य रात्रि को गरजनी रेलवे फाटक पर पिता-पुत्री की रेल से कटकर मौत हो गई. जानकारी अनुसार देहीखेडा थाना क्षेत्र के जालेडा निवासी 60 वर्षीय पिता घासीलाल मीणा व 17 वर्षीय बेटी सुगना के शव गरजनी रेलवे फाटक पर पड़े मिले. सूचना पर कापरेन थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवाए हैं.

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या 

परिजनों के अनुसार वह मानसिक अवसाद में थे: 
गौरतलब है कि पिता-पुत्री रात नौ बजे घर से निकले थे. पुलिस सूत्रों ने बताया कि पिता-पुत्री फाटक पार करते समय देर रात मेवाड़ एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आ गए, जबकि परिजनों ने पुलिस को सौंपी रिपोर्ट में बताया कि वह मानसिक अवसाद में थे. पुलिस ने दोनों के शवों को राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय कापरेन लेकर आये. जहां दोनो के शवों का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सपुर्द कर दिया. परिजनों के मुताबिक मृतक ने पांच पूर्व गांव के ही शिवराज गुर्जर के खिलाफ दीवार फांदकर घर मे घुसने का मामला भी दर्ज करवाया था. वहीं मामले में पुलिस ने युवक को भी गिरफ्तार कर रखा है. कापरेन पुलिस पूरे मामले की बारीकी से जांच कर रही है. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

जयपुर: राजस्थान के राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय से आज की बड़ी खबर सामने आई है. डेडीकेटेड कोविड हॉस्पिटल की दूसरी मंजिल से नीचे कूदने से मरीज की मौत हो गई. कोरोना पॉजिटिव मरीज ने बाथरूम खिड़की तोड़कर नीचे छलांग लगाई. झोटवाड़ा निवासी 78 वर्षीय मरीज का अस्पताल में ही उपचार चल रहा था. अतिगंभीर हालत में मरीज को SMS अस्पताल शिफ्ट करने की तैयारी चल रही थी. लेकिन इससे पहले ही RUHS की इमरजेंसी में मरीज दम तोड़ दिया. मरीज की आज सुबह ही कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव से नेगेटिव आई थी. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

पिछले 12 घंटे में 173 नए पॉजिटिव केस सामने आए:
वहीं प्रदेश में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. पिछले 12 घंटे में 6 लोगों ने कोरोना के चलते दम तोड़ा है तो वहीं 173 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं. इसमें दौसा में 1, जयपुर में 2, जोधपुर में 1, सवाईमाधोपुर में 1 मरीज की मौत, इसके अलावा अजमेर में 2, अलवर में 81, भीलवाड़ा में 11, बीकानेर में 8, चूरू में 3, डूंगरपुर में 1, जयपुर में 34, झालावाड़ में 1, कोटा में 12, नागौर में 8, राजसमंद में 10 और उदयपुर में 2 मरीज पॉजिटिव आए हैं. ऐसे में प्रदेश में अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 21,577 हो गई है. वहीं मृतकों का आंकड़ा भी बढ़कर 478 हो गया है. 

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में 22752 नए मामले सामने आए, देश में अब 7.42 लाख केस 

मंगलवार को प्रदेश में रिकॉर्ड 716 नए पॉजिटिव मरीज सामने आये:  
इससे पहले मंगलवार को प्रदेश में रिकॉर्ड 716 नए पॉजिटिव मरीज सामने आये जबकि 11 मरीजों की कोरोना की वजह से मौत हो गई. पाली में 3, जयपुर और जोधपुर में 2-2, भरतपुर, धौलपुर, जालोर और नागौर में 1-1 मरीजों की मौत हो गई. जबकि जोधपुर में सर्वाधिक 183 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर 15, अलवर 39 , बांसवाड़ा 1, बाड़मेर 47, भरतपुर 18, भीलवाड़ा 2, बीकानेर 112 , बूंदी 1, चूरू 2, दौसा 2,  धौलपुर 12, डूंगरपुर 9, श्रीगंगानगर 4, हनुमानगढ़ 23, जयपुर 71 ,जैसलमेर 1, जालोर 37, झुंझुनूं 5, कोटा 8, नागौर 45, पाली 9, राजसमंद 2, सवाई माधोपुर 3,सीकर 25, सिरोही 30, टोंक 1, उदयपुर 3 और दूसरे राज्य के 6 मरीज पॉजिटिव मिले.  

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजीव गांधी फाउंडेशन में फंडिंग को लेकर बड़ा फैसला लिया है. गृह मंत्रालय ने एक कमेटी बनाई है जो कि इन फाउंडेशन की फंडिंग और इनके द्वारा किए गए उल्लंघनों की जांच करेगी. इस कमेटी की अगुवाई सिमांचल दास, स्पेशल डायरेक्टर (प्रवर्तन निदेशालय) करेंगे.

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में 22752 नए मामले सामने आए, देश में अब 7.42 लाख केस 

गृह मंत्रालय ने एक अंतर-मंत्रालय कमेटी का गठन किया:
इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक अंतर-मंत्रालय कमेटी का गठन किया है, जो कि राजीव गांधी फाउंडेशन, राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट की जांच करेगी. इस जांच में इनकम टैक्स एक्ट, PMLA एक्ट और FCRA एक्ट के नियमों के उल्लंघन के बारे में जांच की जाएगी. 

B'day Special: सौरव गांगुली के करियर से जुड़े 6 बड़े विवाद 

यह है पूरा विवाद: 
भारत और चीन के बीच जारी विवाद के चलते कांग्रेस पार्टी लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रही है तो बीजेपी ने इसके उलट कांग्रेस को ही घेर लिया. बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा की ओर से आरोल लगाया गया कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से फंडिंग मलिती थी. इसके साथ ही देश के लिए प्रधानमंत्रा राहत कोष बनाया गया था, उससे भी यूपीए सरकार ने पैसा राजीव गांधी फाउंडेशन को दिया था. बीजेपी का आरोप है कि 2005-08 तक PMNRF की ओर से राजीव गांधी फाउंडेशन को यह राशि मिली थी. 

B'day Special: सौरव गांगुली के करियर से जुड़े 6 बड़े विवाद

B'day Special: सौरव गांगुली के करियर से जुड़े 6 बड़े विवाद

नई दिल्ली: BCCI के मौजूदा अध्यक्ष और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं. गांगुली का जन्म 8 जुलाई 1972 को कोलकाता में हुआ था. उन्होंने 1992 में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. गांगुली ने 113 टेस्ट और 311 वनडे इंटरनैशनल मैच खेलकर क्रम से 7212 और 11363 रन बनाए हैं. उनके खाते में 16 टेस्ट और 22 वनडे इंटरनेशनल सेंचुरी दर्ज हैं. 'दादा' के नाम से मशहूर गांगुली आक्रामक कप्तान थे. आज उनके जन्मदिन पर हम उनसे जुड़े कुछ विवादों पर नजर डालते हैं...

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में 22752 नए मामले सामने आए, देश में अब 7.42 लाख केस 

ड्रिंक्स ले जाने से मना किया?
साल 1991-92 में सौरव गांगुली ऑस्ट्रेलिया टूर के दौरान टीम इंडिया का हिस्सा थे. बताया जाता है कि ऑस्ट्रेलिया टूर के दौरान गांगुली ने 12वें खिलाड़ी के तौर पर ड्रिंक्स लेकर आने से मना कर दिया था. इसी वजह से उन्हें चार साल तक भारत के लिए खेलने नहीं दिया गया.

लॉर्ड्स में शर्ट उतारकर जश्न मनाया:
नेटवेस्ट ट्रॉफी ट्राई सीरीज में जब भारत ने इंग्लैंड को हराया तो लॉर्ड्स की बालकनी में खड़े होकर दादा ने भारतीय शर्ट लहराई थी. उस मैच में भारत ने रिकॉर्ड 326 रनों के लक्ष्य का पीछा किया था.

बॉलीवुड एक्ट्रेस के साथ जुड़ा नाम:
शादीशुदा होने के बावजूद गांगुली का नाम एक बॉलीवुड अभिनेत्री के साथ जुड़ा, जिसके बाद क्रिकेट के अलावा इस विवाद के कारण भी वो सुर्खियों में आए. 2001 में गांगुली को अभिनेत्री नगमा के साथ देखा गया था.

ग्रेग चैपल से बिगड़ा रिश्ता:
दादा के करियर का इसे सबसे बड़ा विवाद माना जा सकता है. साल 2005 में ग्रेग चैपल को सौरव गांगुली की ही सिफारिश पर भारत का कोच बनाया गया. गांगुली का बल्ले से प्रदर्शन गिर रहा था और उस वक्त जिम्बाब्वे के दौरे पर ग्रेग चैपल ने उन्हें कहा कि कप्तानी का दबाव उनकी बल्लेबाजी खराब कर रहा है. गांगुली ने मीडिया के सामने कहा था कि उन्हें कप्तान पद से इस्तीफा देने के लिए कहा गया था. विवाद तब और बढ़ गया जब चैपल ने बोर्ड को अपने और गांगुली के बीच के मतभेद को लेकर चिट्ठी लिखी. 

टॉस के लिए आए थे लेट:
साल 2001 में अपनी कप्तानी के दौरान सौरव गांगुली पर फील्ड टॉस के लिए देरी से आने का आरोप लगा था. भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव वॉ ने गांगुली पर ये आरोप लगाया था. 

अब स्कूल खुलने तक कोई फीस नहीं, गहलोत सरकार ने अभिभावकों को दी बड़ी राहत

राहुल द्रविड़ पर बयान:
साल 2011 में भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज से ठीक पहले गांगुली ने हेडलाइनंस टुडे को बयान दिया था कि द्रविड़ के पास तत्कालीन कोच चैपल से बात करने की हिम्मत नहीं थी. 


 

Open Covid-19