पाक सेना और जासूसी एजेंसियों से त्रस्त आम नागरिक, UN से लगाई मदद की गुहार 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/12 08:11

जेनेवा। संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) के 40वें सत्र में पुलवामा आतंकी हमला और पाकिस्‍तान में आतंकवादी कैंपों का मामला छाया रहा। इस सत्र में पाकिस्‍तान की खुब किरकिरी हुई। वहीं पीओके, सिंध, बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा के के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पाक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया। 

दरअसल सामाजिक कार्यकर्ताओं ने संयुक्त राष्ट्र से पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों और जासूसी एजेंसियों द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन से बचाने में मदद करने के लिए कहा है। इन लोगों ने पाकिस्‍तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। बता दें कि पाकिस्‍तान से आए मानवाधिकार के सदस्‍यों ने UNHRC के समक्ष चरमपंथ और आतंकवाद के खतरे पर ध्‍यान केंद्रीत किया। उन्होंने पाकिस्‍तानी सेना पर यह आरोप लगाया है कि वह आतंकवाद का इस्‍तेमाल कर भारत के खिलाफ प्रॉक्सी युद्ध कर रहा है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

जानिए कुछ ऐसे उपाय जिन्हे करने के बाद आपका जीवन बिना परेशानी से चलेगा| Good Luck Tips

कांग्रेस-बीजेपी के भरोसे\'मंद\' - 25 !
सैम पित्रोदा के बयान पर कांग्रेस की किरकिरी
सैम पित्रोदा के एयर स्ट्राइक पर विवादित बयान को लेकर सियासत
लोकसभा चुनाव का सियासी गणित
धन संबधित परेशानी है तो जानिए कुछ असरकारी टोटके| Good Luck Tips
BJP ने 182 लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी
BJP थोड़ी देर में जारी करेगी उम्मीदवारों की पहली सूची