Live News »

अभिनेत्री सेजल शर्मा का उदयपुर में किया गया अंतिम संस्कार

अभिनेत्री सेजल शर्मा का उदयपुर में किया गया अंतिम संस्कार

उदयपुर: टीवी सीरीयल 'दिल तो हेप्पी हैं जी' से चर्चाओं में आई उदयपुर की सेजल शर्मा का आज अंतिम संस्कार हुआ. कल सेजल शर्मा ने मुंबई में आत्महत्या कर ली थी, जिसके बाद आज परिजन सुबह शव लेकर उदयपुर पहुंचे. रानी रोड स्थित श्मसान में सेजल का अंतिम संस्कार किया गया. इस मौके पर भारी संख्या में लोग और सेजल के अन्य रिश्तेदार मौजूद रहे.

सेजल बेहद ही मिलनसार: 
गौरतलब है कि पिछले ढाई साल से मुंबई में रहकर टीवी धारावाहिक मे अपना कैरियर बना रही सेजल नें कल मानसिक तनाव के चलते आत्महत्या कर ली थी. हालांकि अभी तक आत्महत्या करने के कारणों का खुलासा नही हुआ है. यही नहीं सेजल के रिश्तेदार भी आत्महत्या करने की वजह नहीं समझ पा रहे हैं।रिश्तेदारों नें साफ किया कि सेजल बेहद ही मिलनसार और हसमुख स्वभाव की लडकी थी और आत्महत्या जैसा कदम उठाने से उन्हें भी बड़ा आघात लगा है. आपको बता दें कि सेजल ने टीवी धारावाहिकों के अलावा बेव सीरीज और एड फिल्म्स में भी काम किया था. 

और पढ़ें

Most Related Stories

उदयपुर: 2 करोड़ रुपए की लूट मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 7 आरोपियों को किया गिरफ्तार

उदयपुर: 2 करोड़ रुपए की लूट मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 7 आरोपियों को किया गिरफ्तार

उदयपुर: पुलिस को आज पिछले दिनों का कानोड़ में हुई करीब 2 करोड़ रुपए की डकैती के मामले में बड़ी सफलता हाथ लगी. पुलिस टीमों ने इस पूरे मामले का पर्दाफाश करते हुए 7 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. जो कि अलग-अलग अंतर्राष्ट्रीय गैंग के सदस्य हैं. पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर डकैती में गया करीब डेढ़ किलो से ज्यादा सोना और 100 किलो से ज्यादा चांदी भी बरामद की है, साथ ही आरोपियों से ₹200000 की नगदी भी बरामद की है.

{related}

सोहन कोठारी के घर डाली थी डकैती: 
दरअसल, कानोड़ थाना क्षेत्र में पिछले दिनों सोहन कोठारी नाम के व्यक्ति के घर पर इन बदमाशों ने डकैती डाली थी. जिसमें भारी तादाद में सोना, चांदी और नकदी ले गए थे. पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से मुख्य आरोपी सोहन दांगी है, जिसके इशारे पर डकैती की योजना को अंजाम दिया गया. पुलिस अधीक्षक कैलाश विश्नोई ने साफ किया कि इस पूरे घटनाक्रम में कुल 10 बदमाशों के शामिल होने की बात सामने आई है, जिनमें से 7 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. फिलहाल पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ कर रही है.  
 

बनास नदी में मिला किशोरी का शव, राजसमंद के खमनोर थाना इलाके की घटना 

बनास नदी में मिला किशोरी का शव, राजसमंद के खमनोर थाना इलाके की घटना 

राजसमंद: प्रदेश के राजसमंद के खमनोर थाना क्षेत्र के सेमा का गुड़ा गांव से घर से  लापता किशोरी का शव बनास नदी में मिलने से सनसनी फैल गई. ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची खमनोर थाना पुलिस ने पानी में तैर रही किशोरी का शव बाहर निकाला और जांच के दौरान किशोरी की शिनाख्त सेमा का गुड़ा की रहने वाली सीता राजपूत के रूप में हुआ.  

शव का पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंपा:
जिसके बाद पुलिस ने मृतिका के परिजनों को इस घटना की जानकारी दी और पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव को खमनोर चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवाया, लेकिन परिजनों ने कुछ शंका व्यक्त करते हुए खमनोर थाना पुलिस से राजसमंद जिला चिकित्सालय में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम की बात कही, जिस पर पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से जिला चिकित्सालय में  शव का पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंप दिया है. 

{related}

पुलिस ने किया मामला दर्ज, जांच शुरू:
पुलिस जानकारी के मुताबिक 13 अक्टूबर को घर से लापता किशोरी को लेकर परिजनों ने खमनोर थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दी थी, लेकिन आज उसका शव गांव के ही पास बनास नदी में तैरता मिला जिस पर मृतिका के परिजनों की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दिया गया है.

VIDEO: कुशलगढ़ विधायक रमिला खड़िया पर हुआ हमला, गाड़ी पर फेंके गए पत्थर

VIDEO: कुशलगढ़ विधायक रमिला खड़िया पर हुआ हमला, गाड़ी पर फेंके गए पत्थर

उदयपुर: कुशलगढ़ विधानसभा क्षेत्र की विधायक रमिला खड़िया की गाड़ी पर हमला किया गया है. यह घटना अलसुबह उदयपुर के सुखेर थाना इलाके की बताई जा रही है. प्राथमिक तौर पर गाड़ी ओवरटेक करने के चलते हमले की बात सामने आ रही है. मिली जानकारी के अनुसार गाड़ी में सवार विधायक बाल-बाल बची है. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. 


 

अज्ञात लूटेरों ने किया एटीएम तोड़ने का प्रयास, पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद

अज्ञात लूटेरों ने किया एटीएम तोड़ने का प्रयास, पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद

उदयपुर: जिले के डबोक थाना क्षेत्र के एसबीआई बैंक की शखा में सोमवार रात को अज्ञात लूटेरों ने धावा बोला और एटीएम तोड़ने का प्रयास किया. एटीएम में तोड़-फोड़ की पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है. बदमाशों ने  बैंक का मेन गेट तोड़ कर अंदर प्रवेश किया. हालांकि बदमाश कैश लूटने में असफल रहे. अनुमान लगाया जा रहा है कि करीब 10 से 15 लाख रुपये एटीएम मशीन में थे. डबोक थाना पुलिस मामले की छानबीन कर रही है. 

{related}

बैंक में रात को निगरानी के लिए कोई चौकीदार नही था: 
दरअसल,  बैंक में रात को निगरानी के लिए कोई चौकीदार नही था. लुटेरों ने सीसीटीवी कैमरों को भी नुकसान पहुंचाया. घटना का खुलासा सुबह गार्ड के ड्यूटी पर आने के बाद हुआ. आपको बता दें कि जिले के खेरवाड़ा कस्बे में कल देर रात एटीएम में इसी तरीके से लूट की वारदात हुई थी और माना जा रहा है कि यह काम एक ही गैंग के सदस्यों का हो सकता है.

बुजुर्ग को बंधक बनाकर लूटे 16 लाख की नकदी और एक करोड़ के आभूषण

बुजुर्ग को बंधक बनाकर लूटे 16 लाख की नकदी और एक करोड़ के आभूषण

जयपुर:  प्रदेश में एक बार फिर चोरी की घटना को अंजाम दिया गया है. राजस्थान के उदयपुर जिले के कानोड थाना क्षेत्र में सोमवार देर रात घर में सो रहे एक बुजुर्ग को बंधक बनाकर चार अज्ञात लोग नकदी और करीब एक करोड़ रुपये के आभूषण लूट कर फरार हो गये. थानाधिकारी तेजसिंह ने मंगलवार को बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सामने रहने वाले सोहन लाल कोठारी (65) के घर में रात दो बजे चार अज्ञात लोग घुसे और उन्हें बंधक बनाकर घर में रखे 16 लाख रुपये नकद और करीब एक करोड़ रुपये के सोने-चांदी के आभूषण लूट कर फरार हो गये.

उन्होंने बताया कि बुजुर्ग घर में अकेले रहते है और सोने चांदी के आभूषण रखकर ब्याज पर रकम देने का काम करते है. बुजुर्ग की पत्नी का निधन हो चुका जबकि उनका पुत्र उदयपुर में नौकरी करता है. उन्होंने बताया कि चार अज्ञात लुटेरों के खिलाफ मामला दर्ज किया जा चुका है फिलहाल चोरो की तलाश की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

उदयपुर में ACB की बड़ी कार्रवाई, वनपाल को 5600 रुपए की रिश्वत लेते किया ट्रैप 

 उदयपुर में ACB की बड़ी कार्रवाई, वनपाल को 5600 रुपए की रिश्वत लेते किया ट्रैप 

उदयपुर: उदयपुर एसीबी की इंटेलीजेंस यूनिट ने आज एक बड़ी  कार्रवाई  को अंजाम देते हुए कोटडा अंचल में तैनात सहायक वनपाल को 5600 रुपए की रिश्वत राशि लेते रंगे हाथों ट्रेप कर लिया. दरअसल मामेर रेंज के महाडी वन नाका पर तैनात आरोपी वनपाल वरदीचंद ने इलाके के आदिवासी किसान से वन अधिकार पट्टा जारी किए जाने के लिए आवश्यक रिर्पोट बनाने की एवज में रिश्वत की मांग की थी. 

ASP सुधीर जोशी के नेतृत्व में कार्रवाई:
आरोपी ने परिवादी से 5800 रुपए की रिश्वत मांगी और इसके बाद 5600 रुपये में सौदा तय हुआ. इसके बाद परिवादी नें एसीबी उदयपुर को इस बारे में शिकायत पेश की. परिवादी की शिकायत पर ब्यूरो के एएसपी सुधीर जोशी के निर्देशन में इस कार्यवाही को अंजाम दिया गया.

{related}

आरोपी से पूछताछ जारी:
परिवादी ने बताया कि वन अधिकार पट्टे के लिए आवश्यक जीपीएस रिर्पोट के लिए आरोपी वनपाल रसीद काटने के नाम पर रिश्वत वसूल रहा था. फिलहाल एसीबी की टीम आरोपी वनपाल से पूछताछ कर रही है.

VIDEO- Dungarpur Violence: BTP विधायक राजकुमार रोत की भूमिका पर उठे सवाल !

उदयपुर: रीट-2018 शिक्षक भर्ती के रिक्त पदों को एसटी कोटे से भरने की मांग को लेकर उदयपुर-डूंगरपुर जिलों में हुई हिंसा और उपद्रव अब शांत हो गया हैं. इस उपद्रव और आगजनी के दौरान हमेशा एक बात प्रमुखता से सामने आई कि आखिर इस भीड़ का नेतृत्व कौन कर रहा हैं. भाजपा और कांग्रेस के कई नेताओं नें इस पूरे घटनाक्रम के पीछे बीटीपी का हाथ बताया लेकिन बीटीपी इस बात से लगातार पल्ला झाड़ती रही. ऐसे में फर्स्ट इंडिया न्यूज के पास इस बात के पुख्ता सबूत हाथ लगे हैं जो साबित करते हैं इस पूरे घटनाक्रम के पीछे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर बीटीपी ही खड़ी थी.

राजकुमार रोत अभ्यर्थियों के साथ नाचते-गाते नजर आ रहे: 
फर्स्ट इंडिया न्यूज के हाथ लगे एक वीडियो में बीटीपी के विधायक राजकुमार रोत, डूंगरपुर जिले में महापड़ाव स्थल कांकरी डूंगरी में अभ्यर्थियों के साथ नाचते-गाते नजर आ रहे हैं. यही नहीं वागडी भाषा के एक गीत पर नाचते गाते बीटीपी विधायक राजकुमार रोत कह रहे हैं कि यदि उनकी मांग नहीं मानी जाती हैं तो, अबकि बार गहलोत सरकार को यही बुलाकर दम लेंगे. 

{related}

फौरी तौर पर उपद्रवियों से शांति बनाए रखने की भी कई बार अपील की: 
मजे की बात तो यह है कि अपने विभिन्न साक्षात्कारों में बीटीपी के यही विधायक महोदय लगातार इस बात की भी दुहाई देते दिखें कि हिंसा और उपद्रव के इस माहौल को शांत करना राज्य सरकार के साथ साथ जनजाति समाज के सभी प्रतिनिधियों की प्राथमिकता हैं. इन महाशय नें फौरी तौर पर उपद्रवियों से शांति बनाए रखने की भी कई बार अपील की लेकिन वीडियो में इन्ही अभ्यर्थियों के साथ नाचते गाते दिखना बीटीपी विधायक की असली कार्यशैली को सामने लाता हैं. 


 

डूंगरपुर उपद्रव प्रकरण में बाहरी तत्वों और नक्सली विचारों का भी हाथ - मदन दिलावर

डूंगरपुर उपद्रव प्रकरण में बाहरी तत्वों और नक्सली विचारों का भी हाथ - मदन दिलावर

उदयपुर: डूंगरपुर उपद्रव प्रकरण को लेकर राजनीतिक बयानबाजी अब और तेज हो गई हैं. प्रदेश भाजपा की ओर से इस पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार करने और जायजा लेने के लिए विधायक मदन दिलावर को भेजा गया, जिन्होंने खेरवाड़ा डूंगरपुर सहित उपद्रव प्रभावित इलाकों का जायजा लिया और आज उदयपुर सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत की.

इस पूरे मामले में नक्सली ताकतों का हाथ रहा:  
दिलावर ने इस दौरान साफ किया कि इस पूरे मामले में नक्सली ताकतों का हाथ रहा है. दिलावर ने इस मामले में पुलिस और प्रशासन को उपद्रवियों के सामने नतमस्तक हो जाने और सरकार की संवेदनहीनता को जिम्मेदार ठहराया. दिलावर बयानबाजी में यही नहीं रुके बल्कि उन्होंने इस अंचल के आदिवासी समाज के दो पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को भी उपद्रवियों की मदद करने का दोषी ठहराया.

{related}

उच्चस्तरीय जांच एजेंसी से पूरे मामले की जांच कराए जाने की मांग की:
दिलावर ने साफ किया कि इस तरह की हरकतें प्रदेश की शांति और सौहार्द की संस्कृति को बिगाड़ने वाली हैं. उन्होंने उच्चस्तरीय जांच एजेंसी से पूरे मामले की जांच कराए जाने की मांग की. दिलावर के साथ उदयपुर सांसद अर्जुन लाल मीणा सहित जनजाति समाज के कई भाजपा नेता भी मौजूद रहे.