Live News »

बिजली विभाग की लापरवाही! सराड़ा में एक पीड़ित के मीटर में वास्तविक रीडिंग 76 यूनिट, बिल थमाया 15 लाख का  

 बिजली विभाग की लापरवाही! सराड़ा में एक पीड़ित के मीटर में वास्तविक रीडिंग 76 यूनिट, बिल थमाया 15 लाख का  

सराड़ा (उदयपुर): राजस्थान के बिजली महकमे में बिलों को लेकर सामने आ रही विसंगतियां थमने का नाम नहीं ले रही हैं. हर रोज कोई न कोई भारी लापरवाही उजागर हो रही है. पहली बार ऐसा हो रहा है कि लोग इन समस्याओं को लेकर मीडिया के सामने आने की भी हिम्मत जुटा रहे हैं. वर्ना अब तक यह सोचकर कि आगे परेशानी न हो, इसके चलते लोग शिकायतों को अपने स्तर पर ही सुलझाने के लिए संबंधित अधिकारियों के हाथ-पैर जोड़ते रहे हैं.

थाणा गांव के नाहर सिंह को थमाया 15 लाख का बिल:
उदयपुर जिले में बुधवार को बिना कनेक्शन के ही बिल थमा दिए जाने का मामला उजागर हुआ था, गुरुवार को एक मामला ऐसा सामने आया है, जिसके घर में सिर्फ बिजली विभाग ने मीटर लगाया है और उससे सिर्फ एक बल्ब जुड़ा है जो नियमानुसार मीटर लगाने के साथ विभागीय ठेकेदार मीटर चैक करने के लिए लगाता है. इस एक बल्ब ने 15 लाख रुपए की बिजली का उपभोग कर लिया है. यह मामला है थाणा गांव के रणजीत सिंह पुत्र नाहर सिंह का. छह माह पहले इसके घर के बाहर लगे खम्भे पर मीटर टंगा और घर तक लाइन खींचकर प्रावधान के मुताबिक एक बोर्ड और बल्ब लगा दिया गया.

अकेले रहने वाले पीड़ित के मीटर में वास्तविक रीडिंग 76 यूनिट ही:
कच्चे मकान में अकेले रहने वाले रणजीत के इस मीटर में अभी 76 यूनिट नजर आ रहे हैं. बस बिल में यूनिट लाखों में हैं और बिल भी लाखों का थमा दिया गया है. सवाल यह है कि यदि बिजली महकमे के कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर में कोई समस्या आई है तो महकमा सार्वजनिक रूप से यह स्वीकारोक्ति क्यों नहीं कर रहा है. जहां गड़बड़ी लाखों और करोड़ों में हुई है, वहां तो मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन जहां उपभोक्ताओं के हजार-दस हजार रुपए बढ़ कर आए हैं, उनकी तो सुनवाई ही नहीं हो रही है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए अनिल वैष्णव की रिपोर्ट

और पढ़ें

Most Related Stories

जोधपुर: नाबालिक बच्ची के साथ छेड़छाड़ के मामले में 11 महीने से न्याय नहीं मिलने से आहत पूरा परिवार 10 दिन से बैठा धरने पर

जोधपुर: नाबालिक बच्ची के साथ छेड़छाड़ के मामले में 11 महीने से न्याय नहीं मिलने से आहत पूरा परिवार 10 दिन से बैठा धरने पर

फलोदी(जोधपुर): एक तरफ तो सरकार बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ को लिए नारा दे रही है वहीं दूसरी ओर फलोदी के चाखु थाना क्षेत्र के हनुमान सागर गांव में स्थित राजकीय विद्यालय में पढ़ाई करने वाली छात्रा से उसी विद्यालय के शिक्षक द्वारा छेड़खानी करने का मामला दर्ज होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से पीड़ित परिवार का धरना मंगलवार को दसवें दिन भी जारी रहा. घटना आज से 11 महीने पहले की बताई जा रही है. आपको बता दें की पीड़ित परिवार ने कई बार उच्च अधिकारियों के चक्कर भी काटे लेकिन अभी तक न्याय नहीं मिल पाया है. 

पीड़ित परिवार उच्चाधिकारियों के पास चक्कर काटता रहा:  
वही पीड़ित परिवार ने जिला कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक फलोदी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक व उप पुलिस अधीक्षक फलोदी उच्चाधिकारियों के पास चक्कर काटता रहा लेकिन न्याय नही मिला. वहीं पीड़ित के पिता बुधाराम ने बताया कि एक तरफ सरकार बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का नारा लगा रही वही दूसरी ओर बेटी पर शिक्षक द्वारा अत्याचार करने बावजूद कार्रवाई नहीं हो रही है.

{related}

11 माह बीतने के बावजूद न्याय नही मिल रहा:
बताया जा रहा है कि आरोपी शिक्षक का भाई थानाधिकारी पद पर कार्यरत होने की वजह से इस मामले में बेटी को 11 माह बीतने के बावजूद न्याय नही मिल रहा है. वहीं पीड़ित का पूरा परिवार आज दसवें दिन भी अनशन व भूख हड़ताल पर है. जिसमे उसके छोटे बच्चे भी शामिल है. पीड़ित के पिता ने कहा कि चाहे मेरे पूरे परिवार की जान भी चली जाए जब तक आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार नही किया जाएगा तब तक अनशन व भूख हड़ताल जारी रहेगी. 

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर: एसीबी जोधपुर की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक पटवारी को 3500 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. फलौदी में हुई इस कार्रवाई में म्यूटेशन करने की एवज में यह रिश्वत मांगी गई थी. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्ग सिंह राजपुरोहित ने बताया कि परिवादी पप्पू राम विश्नोई ने एसीबी चौकी में आकर शिकायत दर्ज कराई कि पटवारी पवन कुमार जोशी म्यूटेशन करने की एवज में 3500 रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा है.

{related}

शिकायत का सत्यापन करने के बाद एसीबी टीम में पटवारी को ट्रैप करने के लिए जाल बिछाया और 3500 रुपए देकर परिवादी को पटवारी के घर भेजा. पटवारी पवन कुमार जोशी ने रिश्वत की यह राशि लेकर अपने टेबल की दराज में रख ली. इशारा पाते ही एसीबी की टीम ने दबिश दी और दराज से 3500 रुपए बरामद कर लिए. एसीबी टीम को इसी दराज में करीब 35000 रुपए अतिरिक्त मिले हैं.

जालोर में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामला, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने मामले को लिया गंभीरता से

जालोर में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामला, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने मामले को लिया गंभीरता से

जोधपुर: जिले में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामले में बाल सरंक्षण आयोग अध्यक्ष संगीतन बेनिवाल ने गंभीरता से से लेते हुए पूरे मामले में प्रसंज्ञान लिया है. प्रसंज्ञान लेने के साथ ही संगीता बेनिवाल ने पुलिस अधिकारियों से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है. फरार आरोपियों को लेकर पुलिस को तुरंत गिरफ्तारी के भी आदेश दिए गए है. मामले की गंभीरता को देखते हुए आयोग अध्यक्ष संगीता बेनिवाल जालोर रवाना हुई जहां दोनो नाबालिग किशोरियों से मिलने के अलावा परिवार जनों से मिलकर हालात जानेंगी. 

आरोपी लड़कियों को पहाड़ियों पर बेहोशी की हालत में छोड़कर फरार हो गए थे: 
गौरतलब है कि जालोर जिले के भीनमाल थाना क्षेत्र के खाण्डादेवल गांव से कुछ युवकों द्वारा दो नाबालिग लड़कियों का अपहरण कर उनके साथ गैंगरेप करने की घटना सामने आई थी. गैंगरेप के बाद आरोपी लड़कियों को जसवंतपुरा थाना क्षेत्र के राजपुरा में सुंधामाता की पहाड़ियों पर बेहोशी की हालत में छोड़कर फरार हो गए थे. पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था. सूचना पर पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच लड़कियों को अचेत व घायल अवस्था में भीनमाल शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था. जहां उनका इलाज चल रहा है. 

{related}

पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था:
पड़िता के पिता ने रिर्पोट दर्ज करवाई कि खाण्डादेवल निवासी चेतनराम, अशोक, तेजाराम, पीराराम भील व दो अन्य ने उसके घर में प्रवेश कर उसकी नाबालिग बेटी व उसकी नाबालिग चचेरी बहन का अपहरण कर लिया था. अपहरण करने के बाद आरोपियो ने दोनों को जसवंतपुरा के राजपुरा गांव ले गए. जहां पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था. गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए. सूचना पर पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच लड़कियों को अचेत व घायल अवस्था में भीनमाल शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया. जहां उनका इलाज चल रहा है. 

गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार:
पुलिस ने बताया कि पड़िता के पिता ने रिर्पोट दर्ज करवाई कि खाण्डादेवल निवासी चेतनराम पुत्र विरकाराम, अशोक पुत्र लसाराम, तेजाराम पुत्र लसाराम, पीराराम पुत्र करताराम भील व दो अन्य ने उसके घर में प्रवेश कर उसकी नाबालिग बेटी व उसकी नाबालिग चचेरी बहन का अपहरण कर लिया. अपहरण करने के बाद आरोपियो ने दोनों को जसवंतपुरा के राजपुरा गांव ले गए. जहां पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया. गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए.  

Nagar Nigam Election 2020: भाजपा ने नगर निगम के प्रत्याशी किए घोषित, जोधपुर उत्तर-दक्षिण में 80-80 उम्मीदवारों की घोषणा

Nagar Nigam Election 2020: भाजपा ने नगर निगम के प्रत्याशी किए घोषित, जोधपुर उत्तर-दक्षिण में 80-80 उम्मीदवारों की घोषणा

जयपुर: प्रदेश के 6 नगर निगमों में चुनाव आयोजित किए जा रहे हैं. भाजपा ने जोधपुर नगर निगम के प्रत्याशी घोषित किए हैं. जोधपुर उत्तर नगर निगम में 80 और जोधपुर नगर निगम दक्षिण में 80 उम्मीदवारों की सूची जारी की हैं. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनियां  के निर्देशानुसार जोधपुर (उत्तर) व जोधपुर (दक्षिण) के नगर निगम चुनाव हेतु निम्नांकित प्रत्याशियों की सूची जारी की. देखिए पूरे नामों की सूची....

{related}

 

जोधपुर: युवक की हत्या के मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

जोधपुर: युवक की हत्या के मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

जोधपुर: शहर के शास्त्री नगर थाना क्षेत्र में एक युवक की हत्या के मामले में शास्त्री नगर थाना पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. शास्त्री नगर थाना अधिकारी शेष करण ने बताया कि 2 दिन पूर्व शास्त्री नगर थाना क्षेत्र के मिल्कमैन कॉलोनी में झोपड़पट्टी में रहने वाले दो गुटों के बीच झगड़ा हो गया था, जिसमें मनोज और राजू ने गिरिराज के साथ मारपीट की और पत्थर से वार किया. इलाज के दौरान गिरिराज की मौत हो गई. 

{related}

इस मामले में गिरिराज के भाई ने शास्त्री नगर थाने में मनोज और राजू के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराया. मामले की गंभीरता को देखते हुए शास्त्रीनगर थाना पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू किए. पुलिस ने वारदात के 24 घंटे के भीतर हत्या के आरोपी को जैसलमेर जिले के पोकरण से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. दोनों पक्षों के बीच शराब के पैसे देने को लेकर विवाद हुआ था और आपसी मारपीट के दौरान मनोज और राजू ने गिरीराज पर पत्थर से वार कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई. फिलहाल पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है.

लक्ष्मी विलास होटल मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी कोर्ट में हुए पेश, कल होगी मामले में फिर से सुनवाई

लक्ष्मी विलास होटल मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी कोर्ट में हुए पेश, कल होगी मामले में फिर से सुनवाई

जोधपुर: उदयपुर के होटल लक्ष्मी विलास की बिक्री संबंधित रोजकोष को 244 करोड़ रुपए के कथित घाटे से जुड़े मामले में जुड़े आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हाई कोर्ट के निर्देश पर विशेष न्यायालय सीबीआई मामलात में पेश हुए और अपने जमानत मुचलके प्रस्तुत किए. 

अधिवक्ताओं ने कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगाने की थी मांग:
23 सितम्बर को हाइकोर्ट में हुईं सुनवाई के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी अधिवक्ताओं ने कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगाने प्रॉपर्टी अटैचमेंट पर रोक लगाने की मांग की थी. कोर्ट ने सभी आरोपियों को आंशिक राहत देते हुए गिरफ्तारी वारंट को जमानती वारंट में बदलने के निर्देश दिए साथ ही प्रॉपर्टी अटैचमेंट के आदेश पर भी रोक लगाई थी, लेकिन साथ ही 15 अक्टूबर तक विशेष न्यायालय सीबीआई मामलात के समस्त व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर जमानत मुचलके और गवाहों के जमानत मुचलके प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे. 

{related}

अपने व गवाहों के जमानत मुचलके पेश किए: 
हाई कोर्ट के निर्देश पर बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी कोर्ट में उपस्थित हुए और अपने व गवाहों के जमानत मुचलके पेश किए. अरुण शौरी की ओर से पूर्व सांसद मानवेंद्र सिंह और उनकी पत्नी चित्रा सिंह ने जमानती के रूप है अपने जमानती मुचलके प्रस्तुत किए. अब 15 अक्टूबर को हाईकोर्ट में इस मामले पर पुनः सुनवाई होगी. 

नगर निगम चुनाव-2020: जोधपुर शहर की सरकार चुनने के लिए राजनीतिक बिसात बिछनी हुई शुरू

नगर निगम चुनाव-2020: जोधपुर शहर की सरकार चुनने के लिए राजनीतिक बिसात बिछनी हुई शुरू

जोधपुर: राजस्थान के दूसरे बड़े जिले जोधपुर में नगर निगम चुनाव को लेकर एक ओर जहां बीजेपी और कांग्रेस के नेता अपना अपना बोर्ड बनाने के लिए रणनीति बनाने में जुटे हैं, वहीं पहली बार दो नगर निगम होने की वजह से वार्ड की संख्या भी 180 है, लिहाजा नए प्रयोग को लेकर जनता में इस बात की खुशी है कि कम से कम ज्यादा वार्ड होंगे तो ज्यादा विकास कार्य होंगे. नगर निगम चुनाव के दौरान कोरोनाकाल में संक्रमण रोकने के लिए निर्वाचन विभाग ने जोधपुर शहर में ज्यादा बूथ बनाए हैं. अभी शहर में 647 मुख्य बूथ हैं. एक बूथ पर करीब 1200 से 1400 वोटर्स हैं. इसकाे कम कर एक बूथ पर सिर्फ 800 से 850 तक वोटर्स होंगे. इसके हिसाब से दोनों ही निगम क्षेत्रों में करीब 500 सहायक मतदान केंद्र बनाए गए है.

पहली बार दो नगर निगम बोर्ड के लिए चुनाव:
दोनों मिलाकर शहर में कुल 1147 बूथ हो जाएंगे. सहायक मतदान केंद्रों का प्रस्ताव बनाकर राज्य निर्वाचन आयोग को भेजा गया है. वहां से प्रस्ताव पारित होते ही सरकारी  और सार्वजनिक भवनों में इसका निर्धारण होगा. अगर बात करें 1994 से अब तक की तो जोधपुर में नगर निगम के 5 बोर्ड बने हैं, जिनमें 3 बोर्ड कांग्रेस के और 2 बोर्ड भारतीय जनता पार्टी के बने हैं. सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी के ओबीसी कोटे से डॉ. खेतलखानी महापौर बने जिन्होंने 1994 से 1999 मेयर के रूप में दायित्व निभाया. उसके बाद सामान्य ओबीसी कोटे से 1999 से 2004 तक कांग्रेस के शिवलाल टाक मेयर चुने गए. उसके बाद 2004 से 2009 महिला ओबीसी के रूप में ओमकुमारी गहलोत महापौर बनी. उसके बाद सामान्य कोटे से 2009 से 2014 तक रामेश्वर दाधीच ने महापौर के रूप में दायित्व निभाया. वर्ष 2014 से 2019 तक घनश्याम ओझा सामान्य सीट महापौर चुने गए. जोधपुर में पहली बार दो निगम बोर्ड के लिए चुनाव हो रहे हैं,जिनमे
कुल मतदाता 7,27,300 है.

-कुल वार्ड 160 है.
-उत्तर निगम में वार्ड 80 है जबकि
-पुरुष मतदाता 1,98,996 व
-महिला मतदाता 1,88,905 व 
-ट्रांसजेंडर 03 मतदाता है. इस प्रकार उत्तर में कुल मतदाता 3,87,791 है.
-अगर बात करें दक्षिण की तो,दक्षिण निगम में भी 80 वार्ड है. जिनमें
-पुरुष मतदाता 1,75,701,
-महिला मतदाता 1,63,832 व 
-ट्रांसजेंडर 04 है. 
-यहां कुल मतदाता 3,39,537 है.

{related}

दोनों बोर्ड कांग्रेस के खाते में डालना बड़ी चुनौती:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में पिछला बोर्ड भाजपा का था, लिहाजा कांग्रेस के लिए राजस्थान में कांग्रेस की सरकार होते हुए दोनों के दोनों बोर्ड कांग्रेस के खाते में डालने की बड़ी चुनौती है, तो वहीं जोधपुर से केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और राज्यसभा सदस्य राजेंद्र गहलोत की साख दांव पर लगी हुई है, कि आखिर भाजपा दोनों बोर्ड पर किस तरह से काबिज होती है. जनता की सड़कों संबंधित समस्या से लेकर सीवरेज और ड्रेनेज के अलावा मकान बनाने के नक्शों लिए हाथों-हाथ अनुमति नहीं मिलने और विभिन्न मामलों में नगर निगम के चक्कर काटने जैसी समस्याएं जहां सामने आ रही है. वहीं हमारे संवाददाता राजीव गौड़ ने चुनाव को लेकर जाना जनता का मूड.
 

...फर्स्ट इंडिया के लिए राजीव गौड़ की रिपोर्ट 

पति को रास्ते से हटाने के लिए पत्नी ने रच दी साजिश, जानकर रह जाएंगे हैरान

पति को रास्ते से हटाने के लिए पत्नी ने रच दी साजिश, जानकर रह जाएंगे हैरान

लोहावट(जोधपुर): लोहावट के राजाला गांव में रिश्तों को कलंकित करने का मामला सामने आया है, जहां एक कलयुगी पत्नी पर अपने ही पति को रास्ते से हटाने के लिए परिचित युवकों को बुला उस पर हमला करवाने के आरोप का मामला दर्ज हुआ है. हमले में गंभीर घायल राजाला निवासी मुलताना राम विश्नोई की इलाज के दौरान जोधपुर में मौत हो गई. घटना 7 अक्टूबर रात्री की बतायी जा रही है. 

अवैध संबंधों के चलते पति-पत्नी में झगड़े होते रहते थे: 
लोहावट थानाधिकारी इमरान खान ने बताया की मृतक मुलताना राम विश्नोई के भाई कंवरलाल ने लोहावट पुलिस को रिपोर्ट देकर बताया की मुलताना राम की पत्नी के अवैध संबंधों के चलते पति-पत्नी में झगड़े होते रहते थे. 7 अक्टूबर की रात्री को उसका भाई मुलताना राम अपने घर पर था. अपने पति को रास्ते से हटाने की नियत से उसकी पत्नी ने अपने परिचित युवकों  प्रदीप, राकेश, अचलाराम, व प्रकाश सहित अन्य युवकों को फोन कर अपने घर पर बुलाया. जिसके बाद आरोपियों ने मुलताना राम का रात्री में घर से अपहरण कर कुछ ही दूरी पर ले जाकर उसके साथ लाठियों व सरियों से मारपीट उसे गंभीर चोटे पहुंचायी. 

{related}

अपहरण तथा हत्या का मामला दर्ज कर लिया: 
मारपीट की आवाज सुनकर कंवरलाल जब वहां पंहुचा तो आरोपी युवक उसे गंभीर अवस्था में छोड़ वहां से भाग गए. जिसके बाद गंभीर घायल को इलाज के लिए अस्पताल लेकर गए. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. वहीं मुलताना राम की मौत की सूचना पर लोहावट थाना पुलिस जोधपुर पहुंची तथा मृतक का पोस्टमॉडर्म करवा शव परिजनों को सौंप दिया और अपहरण तथा जानलेवा हमले के दर्ज मामले को अब हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. थानाधिकारी ने बताया पुलिस की विशेष टीम का गठित कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है.