72 सालों बाद भी जोहड़ का पानी पीने को मजबूर ग्रामीण 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/08/19 12:59

सादुलशहर (श्रीगंगानगर)। स्वच्छ भारत अभियान नाम सुनने में तो भले ही अच्छा लगता हो जिसमें बहुत से सरकारी अफसर एक झुण्ड में हाथ में झाड़ू लिए सफाई करते हुए नजर आते है, लेकिन जमीनी हकीकत से यह कोसों दूर है। सादुलशहर के ग्रामीण इलाकों में जलदाय विभाग की हालत बहुत ही खतरनाक है। सादुलशहर का पीएचईडी महकमा कुभंकरण की नींद सोया है शायद इसीलिए उसे टूटी पेयजल डिग्गिया, डिग्गियों में फैली गंदगी, हरे रंग की काई नजर नहीं आ रही है। 

गौरतलब है कि सादुलशहर के गांव अमरगढ़ के लोगों को जोहड़ से आने वाला पानी सप्लाई किया जाता है और यह आज से नहीं कई वर्षों से जारी है। ग्रामीणों का कहना है कि, "जलदाय विभाग की डिग्गियों में जिस लिंक चैनल से पानी स्टोर किया जाता है वो कई समय से मिट्टी भरने के कारण बंद पड़ा है। जिसके कारण पास ही बने जोहड़ का पानी इन डिग्गियों में पानी भरा जाता है और यह पानी भी पंद्रह दिनों में एक बार आता है।"  

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in