जयपुर CBSE के बाद अब Rajasthan Board की परीक्षा भी हुई रद्द, गहलोत Cabinet Meeting में हुआ मंथन 

CBSE के बाद अब Rajasthan Board की परीक्षा भी हुई रद्द, गहलोत Cabinet Meeting में हुआ मंथन 

CBSE के बाद अब Rajasthan Board की परीक्षा भी हुई रद्द, गहलोत Cabinet Meeting में हुआ मंथन 

जयपुर: CBSE की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाएं निरस्त होने के बाद अब राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने भी राजस्थान बोर्ड (RBSE) की परिक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कैबिनेट की बैठक में मंत्रियों से इस पर गहन चर्चा के ​बाद परिक्षाएं नहीं करवाने और मुल्यांकन के द्वारा छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने के आदेश दिए है.

बैठक में मं​त्रियों की परिक्षाएं नहीं करवाने की थी राय:
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan Board of Secondary Education) की परीक्षाओं पर फैसला करने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद (Cabinet Meeting ) की बैठक हुई है. बैठक में बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त करने या दूसरा विकल्प तलाशने की संभावनाओं पर चर्चा की गई. बैठक में मौजूद सभी मंत्रियों ने परिक्षाएं नहीं करवाने और मुल्यांकन के आधार पर छात्रों को प्रमोट करने की राय दी. इस पर गहन विचार करते हुए CM गहलोत ने परिक्षाएं रद्द करने के आदेश दिए. बैठक में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा सहित अन्य कई मंत्री मौजूद रहे.

प्रियंका गांधी ने भी राज्य सरकारों से की थी परिक्षाएं रद्द करने की अपील: 
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Congress General Secretary Priyanka Gandhi) ने राज्य सरकारों को बोर्ड परीक्षाएं टालने की अपील की थी. प्रियंका गांधी ने आज ​ट्वीट करते हुए कहा था कि CBSE की तरह राज्यों के बोर्डों को भी छात्रों, अभिवावकों, शिक्षकों की बात सुनकर 12वीं की परीक्षा के संदर्भ में छात्र-हितैषी निर्णय लेने चाहिए. प्रियंका गांधी के सुझाव के बाद माना जा रहा था कि गहलोत सरकार उसी के अनुसार फैसला करेगी. ऐसे में गहलोत सरकार ने प्रियंका गांधी की बात मानी है और परिक्षाओं को रद्द करने के आदेश दिए है. आपकों बता दे कि इस बार दोनों बोर्ड की परीक्षाओं के लिए 21.58 लाख से ज्यादा विद्यार्थियों ने आवेदन किया था. इसमें 10वीं में करीब 12 लाख व 12वीं में करीब साढे़ नौ लाख स्टूडेंट हैं.

CBSE की तरह राज्यों के बोर्डों को भी छात्रों, अभिवावकों, शिक्षकों की बात सुनकर 12वीं की परीक्षा के संदर्भ में छात्र-हितैषी निर्णय लेने चाहिए।

मेरी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, शिक्षा मंत्रियों से अपील है कि अपने निर्णयों में छात्रों की आवाज, उनके स्वास्थ्य की रक्षा को महत्व दें।

— Priyanka Gandhi Vadra (@priyankagandhi) June 2, 2021

6 मई से होनी थी परीक्षा, 14 अप्रैल को स्थगित की गई:
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE) ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के टाइम टेबल (Time table) के मुताबिक परीक्षाएं 6 मई से शुरू होनी थी, लेकिन कोरोना के कारण 14 अप्रैल को ही परीक्षाएं स्थगित करने का फैसला किया था. 10वीं की परीक्षाएं 22 दिन यानी 27 मई तक चलती. वहीं, 12वीं की परीक्षाएं 24 दिन यानी 29 मई तक होनी थी. सभी परीक्षाओं के लिए समय सुबह 8.30 से 11.45 बजे रखा गया था.

पिछले साल देरी से हुए थे बोर्ड एग्जाम, 3 लाख विद्यार्थी फेल हुए थे:
2020 में बोर्ड एग्जाम कोरोना के कारण देरी से करवाए गए थे. 10वीं और 12वीं में शामिल होने वाले करीब तीन लाख विद्यार्थी पास नहीं हो पाए थे. 10वीं में 2 लाख 23 हजार 156 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल होने के बावजूद फेल हुए. वहीं 12वीं आर्टस में 53 हजार 99, काॅमर्स में 1989 तथा विज्ञान में 19 हजार 73 विद्यार्थी फेल हुए. यानि 12 वीं कक्षा में कुल 74 हजार 221 विद्यार्थी पास नहीं हो सके. 

खास बात यह है कि परीक्षा में बैठने वालों के मुकाबले आवेदन करने वाले ज्यादा थे. इसके बावजूद परीक्षा में बैठने के बावजूद फेल होने वालों की कुल संख्या 2 लाख 95 हजार 577 रही. करीब 50 हजार विद्यार्थी ऐसे थे जो आवेदन कर परीक्षा में ही शामिल नहीं हुए थे.

और पढ़ें