मुंबई Maharashtra Weather: धीमी शुरुआत के बाद जून-जुलाई में महाराष्ट्र में 27 प्रतिशत अधिक बारिश

Maharashtra Weather: धीमी शुरुआत के बाद जून-जुलाई में महाराष्ट्र में 27 प्रतिशत अधिक बारिश

Maharashtra Weather: धीमी शुरुआत के बाद जून-जुलाई में महाराष्ट्र में 27 प्रतिशत अधिक बारिश

मुंबई: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि इस साल मॉनसून की सुस्त शुरुआत के बावजूद महाराष्ट्र में जून और जुलाई के महीनों में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है.

आईएमडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि संकलित आंकड़ों के अनुसार, राज्य में 31 जुलाई तक 677.5 मिमी बारिश हुई जो सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक है. दक्षिण-पश्चिम मॉनसून आमतौर पर सात जून के आसपास राज्य में आता है लेकिन इस बार यह 11 जून तक आया और इसकी शुरुआत धीमी रही. अधिकारी ने कहा कि जून के अंत तक, राज्य में वर्षा के कुल आंकड़ों से संकेत मिला है कि यहां सामान्य से 30 प्रतिशत कम बारिश हुई थी. हालांकि, तीव्रता में भारी वृद्धि हुई और जुलाई के अंत तक, राज्य में अधिक बारिश दर्ज की गई. आईएमडी के आंकड़ों से पता चला है कि महाराष्ट्र में जून में 147.5 मिमी बारिश हुई थी, जो सामान्य बारिश का 70 प्रतिशत थी.

कोंकण में छह प्रतिशत अधिक बारिश हुई:
अधिकारी ने कहा कि मराठवाड़ा क्षेत्र में सामान्य से 61 प्रतिशत अधिक बारिश हुई, वहीं विदर्भ और मध्य महाराष्ट्र में क्रमशः 25 और 39 प्रतिशत ज्यादा बारिश दर्ज की गई. कोंकण में छह प्रतिशत अधिक बारिश हुई. आपदा प्रबंधन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, राज्य में कम वर्षा वाले क्षेत्रों के लिए अतिरिक्त वर्षा का यह ‘पैटर्न’ असामान्य है. उन्होंने कहा कि यह पैटर्न आश्चर्यजनक है क्योंकि मराठवाड़ा, मध्य महाराष्ट्र और विदर्भ की पहचान ऐसे क्षेत्रों के रूप में की जाती है, जहां परंपरागत रूप से बहुत कम बारिश होती है. ये राज्य के शुष्क क्षेत्र हैं, जबकि कोंकण के तटीय क्षेत्र में भारी बारिश होती है.

महाराष्ट्र का एक बड़ा क्षेत्र भी शामिल:
इस मौसमी स्थिति के बारे में पूछे जाने पर आईएमडी के एक अधिकारी ने कहा कि जुलाई में कम दबाव की चार प्रणाली से अतिरिक्त बारिश हुई. कम दबाव की एक और प्रणाली बाद में गहरे दबाव की प्रणाली में बदल गई, जिससे बारिश की तीव्रता बढ़ गई.  आईएमडी द्वारा लंबी अवधि के औसत के अनुसार, मौसम के दूसरे हिस्से (अगस्त और सितंबर) के दौरान पूरे देश में बारिश सामान्य या 94 प्रतिशत से 106 प्रतिशत होने की संभावना है. आईएमडी के पूर्वानुमान में कहा गया है कि पश्चिमी तट और पश्चिम मध्य भारत में अगले कुछ महीनों में सामान्य से कम बारिश होने की उम्मीद है. इनमें महाराष्ट्र का एक बड़ा क्षेत्र भी शामिल है. सोर्स-भाषा

और पढ़ें