स्कूल से निकलने के बाद दोस्तों के साथ नदी में नहाने गया था राजेश, 18 घंटे बाद मिली लाश

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/17 11:33

रामगढ़(अलवर): जिले के मालाखेड़ा पुलिस थाना अंतर्गत जातपुर गांव के समीप रूपारेल नदी में शुक्रवार शाम को डूबे छात्र को आज ग्रामीण गोताखोरों ने 18 घंटे बाद सुबह 8 बजे निकाल लिया. इस मौके पर एसडीआरएफ टीम भी मौके पर थी लेकिन आखिर में प्रयास ग्रामीण गोताखोरों के ही काम आए. रामगढ़ के उपखंड अधिकारी महेश चंद मान, डीएसपी दीपक शर्मा सहित रामगढ़ और मालाखेड़ा पुलिस मौके पर मौजूद थी. 

अंधेरा होने के कारण रात को रोका रेस्क्यू: 
जानकारी के अनुसार मीणापुरा निवासी राजेश मीणा पुत्र छोटे लाल मीणा बारहवीं कक्षा का छात्र है. शुक्रवार को वह छुट्टी के बाद अपने पांच दोस्तों के साथ जातपुर गांव से गुजर रही रूपारेल नदी में नहाने चला गया. नहाने के लिए राजेश पानी मे उतरा तभी बहाव के साथ राजेश पानी में डूब गया. इसकी जानकारी राजेश के साथियों ने शाम को दी तब राजेश घर नहीं पहुंचा. राजेश के दोस्तों से जब मालूम किया तो पता चला कि वह पानी में डूब गया है. उसके बाद तुरंत ही प्रशासन को सूचना दी और मौके पर एसडीआरएफ की टीम बुलाई गई. उसके बाद छात्र को तलाशने के प्रयास जारी हुए लेकिन अंधेरा होने के कारण रात को रेस्क्यू रोक दिया गया. 

20 फुट गहरी बजरी की खान में मिला शव: 
आज सुबह एसडीआरएफ की टीम भी उसे तलाश करने में जुटी हुई थी लेकिन ग्रामीण गोताखोरो ने करीब 20 फुट गहरी बजरी की खान में भरे पानी से राजेश मीणा के शव को बाहर निकाला. घटनास्थल पर रामगढ़ के उपखंड अधिकारी महेश चंद मान पुलिस उपाधीक्षक दीपक शर्मा सहित पुलिस जाब्ता मौजूद था. इधर रामगढ़ के उपखंड अधिकारी महेश चंद्र ने बताया कि यह छात्र अपने साथियों के साथ नहाने के लिए आया था लेकिन पैर फिसलने के कारण इसमें डूब गया काफी देर बाद इसका पता चला. देर रात तक रेस्क्यू चलने के बाद छात्र नहीं मिला तो पुलिस प्रशासन वापस लौट आया. आज सुबह उसके शव को निकाल लिया गया है और मालाखेड़ा पुलिस उसके शव को अपने साथ ले गई. 

जातपुर व मीणापुरा के इलाके में होता है भारी बजरी खनन:  
जहां इस युवक का शव मिला है वह 20 फुट गहरे गड्ढे में झाड़ियों के पास फंसा हुआ था. इस नदी में बजरी प्रचुर मात्रा में निकलती है और अवैध खननकर्ता बजरी निकालते हैं जिसके कारण इस नदी में गहरे गहरे गड्ढे हुए पड़े हुए हैं. बजरी पर रोक के बावजूद भी प्रशासन इस अवैध खनन को नहीं रोक पा रहा है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in