माता-पिता के बाद अब तेजस्वी संभालेंगे कबड्डी की कमान !

Naresh Sharma Published Date 2019/08/25 10:41

जयपुर: राजनीति की तरह अब खेलों में भी वंशवाद चलेगा और कांग्रेसी नेता जनार्दन सिंह गहलोत व उनकी पत्नी डॉ मृदुल गहलोत के बाद अब उनके बेटे तेजस्वी सिंह भारतीय कबड्डी फैडरेशन की कमान संभालेंगे. राजस्थान कबड्डी संघ के अध्यक्ष तेजस्वी सिंह ने एक सितंबर को होने वाले भारतीय कबड्डी फैडरेशन चुनाव में अध्यक्ष पद पर दाव ठोंक दिया है. जनार्दन व उनकी पत्नी डॉ मृदुल भी फैडरेशन की अध्यक्ष रह चुके हैं. 

तेजस्वी सिंह की जीत तय:
दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार एक सितंबर को कबड्डी फैडरेशन के दूसरे चरण के चुनाव होंगे. अध्यक्ष पद पर तेजस्वी सिंह की जीत तय है. हालांकि औपचारिकता के लिए गणेश्वर व जगदीश्वर के नामांकन भी भरे गए हैं. उपाध्यक्ष के 5 पदों के लिए 10 नामांकन दाखिल किए गए हैं. महासचिव व कोषाध्यक्ष के एक-एक पद के लिए क्रमश : तीन-तीन दावेदार आए हैं. पांच संयुक्त सचिव चुने जाएंगे इसके लिए 10 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किए. कार्यकारिणी सदस्य के 8 पदों के लिए 17 नामांकन भरे गए हैं. राजस्थान के नरेंद ने कार्यकारिणी सदस्य का नामांकन भरा है. चुनाव एक सितंबर को होगा, लेकिन भारतीय कबड्डी फैडरेशन पर पूरी तरह गहलोत फैमिली की पकड़ हैं. पहले जनार्दन गहलोत फैडरेशन के अध्यक्ष थे, लेकिन बाद में उन्होंने अपनी पत्नी मृदुल को अध्यक्ष बना दिया. मृदुल को लेकर विवाद हुआ, तो कोर्ट ने उनको बर्खास्त कर दिया. इसके बाद अब नए सिरे से चुनाव हो रहे हैं. जनार्दन व मृदुल तो हट गए, लेकिन अब उनके बेटे कबड्डी में वंशवाद की जड़ों को मजबूत करेंगे. 

गोविंद नारायण की आपत्ति खारिज:
चुनाव से पहले राजस्थान की तरफ से गोविंद नारायण से राज्य कबड्डी संघ के सचिव होने का दावा करते हुए आपत्ति दाखिल की थी, लेकिन अध्यक्ष तेजस्वी सिंह ने प्रशासक जस्टिस (रिटायर्ड) एसपी गर्ग को बताया कि 23 जून 2019 की विशेष साधारण सभा (Extra Ordinary General Body Meeting) में गोविंद नारायण को अविश्वास प्रस्ताव के माध्यम से सचिव पद से हटा दिया गया. गर्ग ने भी गोविंद नारायण को हटा हुआ मान लिया. ऐसे में अब कबड्डी से गोविंद नारायण की पारी खत्म हो गई है. 

26 अगस्त को तस्वीर साफ होगी:
26 अगस्त नामांकन वापसी की आखिरी तारीख है. ऐसे में 26 अगस्त को ही चुनाव की तस्वीर साफ होगी. 27 अगस्त को प्रत्याशियों की फाइनल सूची प्रकाशित की जाएगी. एक सितंबर को सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक चुनाव होंगे और मतदान के बाद चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे. 56 वोटर अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. चुनाव की औपचारिकता के लिए विभिन्न राज्य संघों के पदाधिकारियों ने फॉर्म भरे हैं, लेकिन हकीकत यही है कि कबड्डी का भाग्य जनार्दन गहलोत ही तय करेंगे. 

... संवाददाता नरेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in