सूचियां आने के बाद कांग्रेस दिग्गजों के तीखे तेवर, बीजेपी में भी बगावत की आवाज बुलंद

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/11/17 08:15

जयपुर (योगेश शर्मा)। कांग्रेस और बीजेपी की सूचियों के सामने आने के बाद दोनों ही प्रमुख दलों में बागियों ने घमासान मचा दिया है। कांग्रेस और बीजेपी के दिग्गज नेता बागी होकर चुनावी समर में उतरने पर उतारु है। दूसरी ओर टिकट कटने के बाद पैराशूटर्स नेताओं ने विचारधारा का परित्याग कर विरोधी दलों की ओर रुख करना शुरु कर दिया है। खास रिपोर्ट

कांग्रेस की जम्बो सूची सामने आने के बाद बगावत सिर चढ़ कर बोल रही है। सबसे बडा नाम है डॉ बीडी कल्ला का। कल्ला ने बीकानेर पश्चिम में बगावत की चिंगारी फूंक दी है। .पॉलिसी में टिकट कटने के बाद से ही पूरे बीकानेर में विरोध प्रदर्शनों का दौर शुरु हो गया। इतना ही नहीं दिल्ली कांग्रेस आलाकमान तक विरोध की बात सामने आने लगी। 

डॉ बीडी कल्ला
—बीकानेर से कटा टिकट
—पूर्व प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष
—पूर्व शिक्षा मंत्री
—बीकाणा के कद्दावर कांग्रेस नेता
—प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ ब्राह्मण नेता

संयम लोढ़ा
—सिरोही से कटा टिकट
—गोड़वाड़ की कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता
—पत्रकारिता छोड़ कर राजनीति में आये थे
—कांग्रेस पार्टी के प्रखर राजनेता कहे जाते है
—जैन समाज से ताल्लुक
—बीते दो चुनाव ओटाराम देवासी के सामने हारे

रिछपाल मिर्धा
—मारवाड़ के बड़े जाट नेता
—प्रतिष्ठित राजनीतिक परिवार से ताल्लुक
—खांटी राजनीति और बेबाक बयानबाजी के लिये जाने जाते है
—इनके टिकट कटने से जुड़ी खबरों को लेकर मचा हड़कम्प

हरेन्द्र मिर्धा
—मारवाड़ के बड़े जाट नेता
—प्रतिष्ठित राजनीतिक परिवार से ताल्लुक
—लोकसभा-विधानसभा अध्यक्ष रह चुके रामनिवास मिर्धा के पुत्र
—नागौर से कटा हरेन्द्र मिर्धा का टिकट

लक्ष्मण मीना
—बस्सी से कटा लक्ष्मण मीना का टिकट
—पुलिस प्रशासनिक अधिकारी रहने के बाद आये सियासत में
—लक्ष्मण मीना दौसा से लोकसभा का लड़ चुके है चुनाव

रामकिशोर सैनी
—बांदीकुई के पूर्व विधायक,पूर्व मंत्री
—पिछला चुनाव कांग्रेस के टिकट पर हार गये थे
—बीजेपी,राजपा,कांग्रेस के बाद अब फिर भाजपा में

ललित भाटी
—अजमेर से पूर्व विधायक, पूर्व मंत्री 
—मेरवाड़ा में कांग्रेस के कद्दावर दलित चेहरे
—भाई हेमन्त भाटी को टिकट मिला इनका कटा

ब्रह्मदेव कुमावत
—मसूदा से रह चुके विधायक
—गहलोत सरकार में संसदीय सचिव रहे थे
—कांग्रेस टिकट के प्रबल दावेदार थे

ज्योति खंडेलवाल
—जयपुर की पूर्व मेयर और प्रदेश कांग्रेस की रह चुकी महासचिव
—जयपुर में कद्दावर वैश्य चेहरा
—किशनपोल से चाह रही थी टिकट

विक्रम सिंह शेखावत
—दो चुनाव हारने की पॉलिसी का हुये शिकार
—विद्याधरनगर के राजपूत क्षत्रप
—स्व.भैंरो सिंह शेखावत परिवार से भी इनकी रिश्तेदारी

चंद्रशेखर बैद
—तारानगर से रह चुके विधायक
—कद्दावर कांग्रेस नेता और वित्त मंत्री रहे चंदन मल बैद के पुत्र
—चूरु की राजनीति से इनका ताल्लुक
—जैन वर्ग से रखते है ताल्लुक

पंकज मेहता
—प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता
—कोटा से पिछला चुनाव कांग्रेस टिकट पर लड़े थे
—हाड़ौती की कांग्रेस का वैश्य चेहरा

बीजेपी में बगावत के सुर लगातार बुलंद हो रहे है। रतनगढ से राजकुमार रिणवां ने बगावत बुलंद कर दी है। राजकुमार रिणवां लगातार तीन बार रतनगढ़ से विधायक है। उन्होंने अपना पहला चुनाव निर्दलीय के रुप में ही रतनगढ़ से जीता था। रिणवां शेखावाटी की सियासत में कद्दावर ब्राह्मण फेस के तौर पर जाने जाते है। राजे सरकार में खनिज,वन ,पर्यावरण और देवस्थान मंत्री रहे। उनके रतनगढ़ से चुनाव लड़ने से त्रिकोणीय मुकाबला होना तय माना जा रहा है। 

फुलेरा से दीनदयाल कुमावत ने ताल ठोक दी है। दीनदयाल कुमावत जयपुुर देहात की बीजेपी के जिला अध्यक्ष है। उन्होंने फुलेरा से टिकट मांगा था मिला निर्मल कुमावत को। मालवीय नगर की राजनीति से भी बगावत की खबर सामने आ रही है बीजेपी नेता विवेक गुप्ता ने बगावत कर दी है। विवेक गुप्ता को बीजेपी संगठन में कई काम दे रखे थे फ्रंटल संगठनों के प्रभारी का जिम्मा भी उन्होंने संभाला था। बीजेपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी सतीश के बेहद करीबी माने जाते है विवेक गुप्ता, एबीवीपी से रह चुका है ताल्लुक। हिंडोन से बीजेपी की शीला चंदन ने बगावत कर दी है। शीला चंदन बीजेपी की वर्तमान में विस्तारक है। सूचियों के सामने आने का सिलसिला जारी है और बगावत का भी। सुरेन्द्र गोयल की बगावत से शुरु हुई कहानी अभी जारी रहेगी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in