Live News »

VIDEO: संगठन की ट्रेनिंग के बाद वैभव गहलोत की 'अग्निपरीक्षा'

VIDEO: संगठन की ट्रेनिंग के बाद वैभव गहलोत की 'अग्निपरीक्षा'

जयपुर। वैभव गहलोत के चुनावी समर में उतरने के साथ ही जोधपुर की सियासत में उफान आ गया है। भले ही वैभव का यह पहला चुनाव है, लेकिन गहलोत परिवार के राजनीतिक मुख्यालय के तौर पर जोधपुर को जाना जाता रहा है। वैभव के पिता अशोक गहलोत जोधपुर की सरदापुरा सीट से चुनकर ही विधायक बने और मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे, जोधपुर में विकास के कई सोपान उन्हीं की देन कहे जाते है। कांग्रेस के युवा चेहरे वैभव गहलोत के लिये यह नई पारी का आगाज है, लेकिन संसद में वे तभी पहुंचेंगे जब चुनाव जीतेंगे, क्योंकि मुकाबला है बीजेपी के कद्दावर चेहरे और केन्द्रीय मंत्री  गजेन्द्र सिंह शेखावत से।  खास रिपोर्ट:

युवा कांग्रेस से राजनीतिक पारी की शुरुआत:

युवा कांग्रेस की सियासत से वैभव गहलोत ने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी। इसके बाद वो पीसीसी में आये और सबसे पहले नाथद्वारा से पीसीसी के सदस्य बने थे। उस समय डॉ सीपी जोशी पीसीसी के अध्यक्ष थे और उन्होंने ही वैभव को अपने गृह क्षेत्र नाथद्वारा से पीसीसी का सदस्य बनाया। यूं कह सकते है कि वे नाथद्वारा से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य के तौर पर निर्वाचित हुये। इसके बाद वे सचिन पायलट की टीम में प्रदेश कांग्रेस के महासचिव बनाये  गए। सबसे पहली कठिन चुनावी चुनौती मिली उन्हें धौलपुर में जब उन्होंने उपचुनाव में चुनावी मैनेजमेंट संभाला। सरकार भाजपा की थी और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, धौलपुर उनका गृहक्षेत्र है। वैभव ने कांग्रेस पार्टी के धौलपुर प्रभारी के नाते उन्होंने मोर्चा संभाला, यह वैभव का पहला टेस्ट था। हालांकि पार्टी चुनाव नहीं जीती, लेकिन वैभव गहलोत की संगठनात्मक दक्षता को सराहना मिली। 

सियासत को समझने के लिये चुना डॉ सीपी जोशी को:

आगे चलकर वैभव गहलोत ने दो लोकसभा उपचुनावों अजमेर और अलवर में भी काम किया। बाद में रामगढ़ चुनावों में मोर्चे पर तैनात रहे और कांग्रेस पार्टी को जीताने में योगदान दिया। रामगढ़ से चुनावी जीत में वैभव गहलोत की दक्षता से तारीफ हुई। खास बात यह है वैभव गहलोत ने बतौर कार्यकर्ता ही कांग्रेस में अपनी शुरुआत की, नेता बनकर नहीं। कभी झलकने नहीं दिया कि वे कद्दावर नेता अशोक गहलोत के पुत्र है। एन एस यू आई और युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच वे उनके सखा के तौर पर नजर आये तो वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के सामने एक राजनीतिक विधार्थी की तरह। गहलोत पाठशाला से बढकर राजस्थान की कांग्रेस में दूसरी कोई पाठशाला नहीं कही जाती। इसके बावजूद वैभव ने सियासत को समझने के लिये डॉ सीपी जोशी की अंगुली को थामा। डॉ सीपी जोशी ने ही जिद करके उन्होंने पहली बार पीसीसी डेलिगेटस की सूची में शामिल किया था। 

सचिन पायलट ने भी की वैभव की टिकट में पैरवी:

बाद में डॉ चंद्रभान और फिर सचिन पायलट के साथ काम करने का अवसर मिला। सचिन पायलट ने वैभव के लिये साफ कहा था कि उन्हें चुनावी अवसर मिलना चाहिये वो चुनाव लड़ने के काबिल है। कारण साफ है कि संगठन में रहते वक्त सचिन पायलट ने वैभव की संगठनात्मक कार्यशैली को समझा और जाना। साथ ही जिस टास्क पर भेजा उसे पूरा करने की शिद्दत दिखाई। यहीं कारण है कि सचिन पायलट ने वैभव की टिकट में पैरवी की। वैभव गहलोत को जोधपुर के चुनावी समर में उतार दिया है। पिता के चुनाव लड़ते वक्त उन्होंने जोधपुर के चुनावों को करीब से देखा। बाल्यकाल से ही वैभव ने पिता को चुनाव लड़ते देखा और जोधपुर की गलियों की सियासत को भी समझा है। वैभव गहलोत एक नये और युवा चेहरे के तौर पर जोधपुर के चुनावी समर में है और उनका मुकाबला है मौजूदा सांसद और केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से। 

गजेन्द्र शेखावत-वैभव गहलोत आमने-सामने:

गजेन्द्र सिंह शेखावत:
--भाजपा के जोधपुर से उम्मीदवार
--मोदी सरकार में केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री

मजबूत पक्ष: मौजूदा सांसद, कुशल संगठनकर्ता, सोशल मीडिया में दक्ष
आर एस एस का साथ
जातीय समीकरण: राजपूत, ब्राह्मण और वैश्य भाजपा के परम्परागत वोट बैंक माने जाते रहे है

वैभव गहलोत:
--कांग्रेस के जोधपुर से उम्मीदवार
--मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र
--पहली बार लड़ रहे है चुनाव
मजबूत पक्ष: युवा चेहरा,मिलनसार व्यक्तित्व,जोधपुर में पहले कई चुनावों में चुनावी कार्य संभाला,पिता अशोक गहलोत रह चुके है जोधपुर से सांसद
जातीय समीकरण: माली वोट, ओबीसी वोटों खासतौर पर जाट और विश्नोई परम्परागत तौर पर कांग्रेस के प्रति झुकाव के कारण जाने जाते है
मुस्लिम और दलित यहां ट्रम्प कार्ड बन सकते है वैभव के लिये 

बेहद कम समय में  गजेन्द्र सिंह शेखावत ने राष्ट्रीय राजनीति में पहचान बना ली और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की नजरों में चढ़ गये। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पद के लिये उनका नाम चला और उन्हीं के कारण 72 दिनों तक बीजेपी को प्रदेश अध्यक्ष नहीं मिल पाया था। यहीं कारण है बीजेपी की जोधपुर की आंतरिक राजनीति और गुटबाजी के बावजूद गजेन्द्र सिंह शेखावत को पार्टी ने फिर से जोधपुर के समर में ही उतारा। जबकि जसवंत विश्नोई भी यहां बीजेपी टिकट के बड़े दावेदार है। राजपूत कार्ड उनकी सियासी ताकत है और कांग्रेस वोट बैंक में सेंध लगाना उनके समक्ष चुनौती। दूसरी ओर वैभव गहलोत बिलकुल नये चेहरे और किसी से कोई पुराना सियासी गिला शिकवा नहीं है। चुनौती वैभव के सामने यही है कि उनके पिता के राज्य की राजनीति मे आने और विधायक बनने के बाद से जोधपुर की लोकसभा सीट पर बीजेपी का निरंतर ग्राफ बढ़ा है। चंद्रेश कुमारी ने प्रभाव जरुर कम किया था। इतना ही नहीं उन्हें नरेन्द्र मोदी के प्रभाव का भी सामना करना पड़ेगा, जिसके कारण पिछले चुनावों में गजेन्द्र सिंह शेखावत को आसानी से जोधपुर में विजय प्राप्त हो गई थी। यह जरुर है कि जोधपुर की विजय प्राप्त करने के लिये उम्मेद भवन का रुख भी काफी अहम है। महाराजा गजसिंह का क्या सियासी संदेश होगा, इस पर भी यहां का चुनावी समीकरण टिका है। 

... राजीव गौड़ के साथ योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: पीसीसी प्रवक्ता प्रदीप चतुर्वेदी को फोन पर धमकी, मोदी सरकार के खिलाफ लिखने पर कहे अपशब्द

जयपुर: मोदी सरकार की नीतियों का विरोध करने पर पीसीसी प्रवक्ता डॉ प्रदीप चतुर्वेदी को फोन पर धमकी मिली है. धमकी देने वाले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ चतुर्वेदी ने मानसरोवर के शिप्रा थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. हालांकि धमकी देने वाले का खुलासा अभी नहीं हो पाया है. इस बारे में चतुर्वेदी ने टॉप लीडरशीप को लिखा है.

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक 

लिखने पर अप्रत्याशित परिणाम भोगने के लिए तैयार रहने को भी कहा: 
चतुर्वेदी ने कहा कि एक अज्ञात व्यक्ति ने मोबाइल फोन पर मेरे लेखों के बारे में अप्रसन्नता जाहिर की और मुझसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरुद्ध लिखने का कारण पूछा. मैंने अपनी विचारधारा के बारे में उसे अवगत कराया. उस अनजान व्यक्ति ने मुझे धमकी देते हुए कहा कि मैं भविष्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी के विरुद्ध कुछ ना लिखूं. लिखने पर अप्रत्याशित परिणाम भोगने के लिए तैयार रहने को भी कहा. इसके बाद मुझे अपशब्द बोले जिसकी रिकार्डिंग पुलिस को दे दी है. 

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा 

वाराणसी के रामनगर में TikTok वीडियो बनाते समय गंगा में डूबने से पांच दोस्तों की मौत

वाराणसी के रामनगर में TikTok वीडियो बनाते समय गंगा में डूबने से पांच दोस्तों की मौत

वाराणसी(यूपी): वाराणसी के रामनगर के कोदोपुर क्षेत्र के सिपहिया घाट पर पांच युवकों को टिकटॉक वीडियो बनाना मंहगा पड़ गया. शुक्रवार की सुबह गंगा में टिकटॉक वीडियो बनाने के दौरान पांच किशोर डूब गए. पांचों को 11 एनडीआरएफ और पुलिस टीम गंगा से निकालकर अस्पताल लेकर गई जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. 

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक 

एक को बचाने के चक्कर में सब डूबे: 
स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक पांचों ने पहले तो रेत पर टिकटॉक वीडियो बनाया और उसके बाद गंगा में उतर गए. इस दौरान एक किशोर का पैर फिसल गया और वह गहराई में डूबने लगा. ऐसे में अन्य चार किशोर उसे बचाने दौड़े और एक-एक कर पांचों गंगा में डूब गए.

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा 

घटना के बाद मचा कोहराम:
घटनास्थल पर मौजूद एक अन्य युवक ने भागकर गया तो परिजन मौके पर आए और पुलिस को सूचना दी गई. पांचों को गंगा से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. मृतकों में रामनगर थाना के वारीगढ़ही के तौसीफ (17), फरदीन (14), शैफ (15), रिजवान (15) और सकी (14) शामिल है. घटना से रामनगर कस्बे के वारीगढ़ही, कोदोपुर और सीवान में कोहराम मचा हुआ है. 

मौसम विभाग ने अलर्ट किया जारी, राजस्थान के कई जिलों में चल सकती है तेज धूलभरी आंधी

मौसम विभाग ने अलर्ट किया जारी, राजस्थान के कई जिलों में चल सकती है तेज धूलभरी आंधी

जयपुर: नौतपा का शुक्रवार को पांचवां दिन है, जिससे सूर्य देव उगल रहे है. तेज गर्मी के बीच मौसम विभाग ने शुक्रवार को कई जिलों में अलर्ट जारी किया है. तेज़ धूलभरी आंधी चलने की संभावना जताई गई है. प्रदेश के अलवर, भरतपुर, जयपुर, सीकर, दौसा, झुंझुनूं, बीकानेर,जोधपुर, चूरू,हनुमानगढ़,नागौर,श्रीगंगानगर जिले में अलर्ट जारी किया है. वहीं तापमान में गिरावट से गर्मी से राहत मिली है. शुक्रवार दोपहर 12 बजे तक का प्रमुख जिलों में तापमान में गिरावट दर्ज की गई है. किसी भी जिले का तापमान आज 45 डिग्री तक नहीं पहुंचा है. चूरू में 39.6 डिग्री, बीकानेर 36 डिग्री, गंगानगर 34 डिग्री और जयपुर में 35 डिग्री तापमान दर्ज किया गया है. 

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक

गुरुवार को बदला मौसम का मिजाज:
नौतपा के बीच पिछले 4 दिन से पूरा प्रदेश तप रहा था. इसमें गुरुवार को कुछ राहत मिली. प्रदेश के कुछ इलाकों में गुरुवार को मौसम ने पलटा खाया और बारिश हुई. वहीं भरतपुर में बारिश हुई तो धौलपुर के कुछ इलाकों में तेज आंधी आई. भीलवाड़ा के ग्रामीण इलाकों में बारिश के साथ ओले गिरे. 

कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने पर क्लीनिक संचालक सहित 4 के विरुद्ध प्रकरण दर्ज

1 जून तक आंधी बारिश का अलर्ट जारी:
सवाई माधोपुर में गुरुवार शाम 4 बजे अंधड़ के साथ कुछ देर बारिश व ओले गिरे. आसमान में घने काले बादल छा गए और देखते ही देखते बरसात होनी शुरू हो गई. कई दिनों की गर्मी के बाद ठंडी हवा चलने से मौसम खुशनुमा हो गया और लोगों ने राहत की सांस ली. मौसम विभाग ने 1 जून तक 21 जिलों में आंधी बारिश का अलर्ट जारी किया है.

सहकारिता विभाग में 132 कनिष्ठ सहायक के पद पर चयनित अभ्यर्थियों की 1 से 3 जून तक होगी पात्रता जांच

सहकारिता विभाग में 132 कनिष्ठ सहायक के पद पर चयनित अभ्यर्थियों की 1 से 3 जून तक होगी पात्रता जांच

जयपुर: रजिस्ट्रार नरेशपाल गंगवार ने बताया कि प्रशासनिक सुधार विभाग द्वारा सहकारिता विभाग को आवंटित 132 कनिष्ठ सहायक के पद पर चयनित अभ्यर्थियों की पात्रता, शैक्षणिक योग्यता एवं अन्य दस्तावेजों का सत्यापन 1 जून से 3 जून तक सहकार भवन में किया जायेगा. 

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक 

गंगवार ने बताया कि सूची की क्रम संख्या 1 से 45 तक चयनित अभ्यर्थी 1 जून को, क्रम संख्या 46 से 90 तक के अभ्यर्थी 2 जून को तथा क्रम संख्या 91 से 127 (1 से 5 टीएसपी अभ्यर्थी) तक के अभ्यर्थी 3 जून को नेहरू सहकार भवन में प्रातः 11.00 बजे काउंसलिंग के लिये अपनी उपस्थिति देंगे. उन्होंने बताया कि प्रशासनिक सुधार विभाग द्वारा विभाग को आवंटित कनिष्ठ सहायकों की सूची विभागीय वेबसाइट http://www.rajsahakar.rajasthan.gov.in/ पर अपलोड की गई है.

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर आज होगा फैसला, 15 जून के बाद कभी भी हो सकती परीक्षाएं 

रजिस्ट्रार ने बताया कि आवंटित दिनांक के अनुसार चयनित अभ्यर्थी अपने साथ सभी दस्तावेजों/प्रमाण पत्रों शैक्षणिक योग्यता, प्रशैक्षणिक योग्यता (कम्प्यूटर संबधी), आयु व अन्य किसी छूट (एससी/एसटी/ओबीसी/एमबीसी/दिव्यांग आदि) के सबंध में आवश्यक मूल प्रमाण पत्र एवं सभी दस्तावेजो/प्रमाण पत्रों (उच्च माध्यमिक परीक्षा प्रमाण पत्र सहित) कि सत्य प्रतियां एवं 2 चरित्र प्रमाण पत्रों (सक्षम अधिकारी द्वाराप्रमाणित) तथा जिला आवंटन हेतु सहमति पत्र संयुक्त रजिस्ट्रार (प्रशासन) को उपलब्ध करायेंगे. 

कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने पर क्लीनिक संचालक सहित 4 के विरुद्ध प्रकरण दर्ज

कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने पर क्लीनिक संचालक सहित 4 के विरुद्ध प्रकरण दर्ज

झालावाड़: जिले के झालरापाटन थाना अधिकारी जगदीश मीणा ने बताया कि कस्बा झालरापाटन में सब्जी कुईया के पास स्थित क्लीनिक संचालक द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने पर क्लीनिक संचालक के विरुद्ध थाना झालरापाटन पर राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 तथा रोग संक्रमण फैलाने की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया गया है.

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक 

घटना का विवरण:  
पुलिस उप अधीक्षक व्रत झालावाड़ ने बताया कि विगत दिनों कस्बा झालरापाटन में कोरोना के पॉजिटिव आए मरीजों की हिस्ट्री मालूमात की तो ज्यादातर मरीजों ने सब्जी कुईया के पास स्थित एक क्लीनिक पर प्राइवेट कंपाउंडर से इलाज करवाना बताया था. इस पर क्लीनिक संचालक इब्राहिम पुत्र शेख जाति बोहरा मुसलमान निवासी सब्जी कुईया के पास झालरापाटन का कोरोना वायरस जांच हेतु चिकित्सा टीम द्वारा सैंपल लेना चाहा तो क्लीनिक संचालक द्वारा चिकित्सा टीम को सैंपल देने से मना कर दिया. परंतु जब ज्यादातर पॉजिटिव मरीजों का क्लीनिक संचालक के संपर्क में होने की हिस्ट्री पूछताछ पर सामने आई तो पुलिस द्वारा जबरन क्लीनिक संचालक का चिकित्सा टीम को सैंपल दिलवाया गया जो जांच में पॉजिटिव पाया गया. क्लीनिक संचालक ने अपनी हिस्ट्री छुपाकर कोरोना वायरस संक्रमण फैलाकर आम जनता का जीवन संकट में डाला है और असाध्य रोग फैलाने में सहायक रहा है. 

आम जनता का जीवन संकट में डालने की धाराओं में प्रकरण दर्ज: 
इस पर झालरापाटन के हरिप्रसाद लकवाल मुख्य चिकित्सा अधिकारी सेटेलाइट अस्पताल झालरापाटन द्वारा दिए जाने पर क्लीनिक संचालक इब्राहिम के विरुद्ध राजस्थान महामारी अध्यादेश 2020 तथा असाध्य रोग का संक्रमण फैला कर आम जनता का जीवन संकट में डालने की धाराओं में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया है.  

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा 

मौत के बाद लॉक डाउन का उल्लंघन होने पर लोगों पर मुकदमा दर्ज:
साथ ही इमली गेट पर 1 महिला की मौत होने पर 1 परिवार के 3 लोगों पर भी मुकदमा दर्ज हुवा जिन्होंने मौत के बाद लॉक डाउन का उल्लंघन कर बड़ा प्रोग्राम आयोजित किया, जिसमे बड़ी संख्या में लोगों ने शिरकत की जिसके कारण mp से लोगों का यहा बड़ी संख्या में पहुंचे और कोरोना फैलाने में कारण बने. इस पर पुलिस ने 4 लोगों पर मुकदमा दर्ज कर अनुसन्धान शुरू कर दिया है.  

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा

जयपुर: भारतीय रेलवे देशभर में श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें संचालित कर रहा है. पिछले दिनों इन ट्रेनों में कई यात्रियों की मृत्यु के मामले भी सामने आए हैं. इसे देखते हुए रेलवे प्रशासन ने आमजन से अपील की है कि पूर्व ग्रसित बीमारियों से पीड़ित लोग यात्रा करने से बचें. कोविड-19 महामारी के दौरान उनके स्वास्थ्य को खतरा बढ़ जाता है.

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर आज होगा फैसला, 15 जून के बाद कभी भी हो सकती परीक्षाएं 

गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों को भी यात्रा से बचने की सलाह: 
रेलवे प्रशासन ने अपील की है कि उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, कैंसर, कम प्रतिरक्षा वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे और 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्ग अपने स्वास्थ्य की देखभाल के लिहाज से रेल यात्रा करने से बचें. उत्तर-पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ अभय शर्मा ने बताया कि यदि ट्रेन यात्रा के दौरान किसी तरह की परेशानी लगे, तो रेलवे के हेल्पलाइन नंबर 139 और 138 पर संपर्क करें. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 91 नए पॉजिटिव आए सामने, झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप 

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर आज होगा फैसला, 15 जून के बाद कभी भी हो सकती परीक्षाएं

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर आज होगा फैसला, 15 जून के बाद कभी भी हो सकती परीक्षाएं

जयपुर: कोरोना महामारी के संक्रमण के चलते स्थगित हुई परीक्षाओं पर आज फैसला किया जाएगा. 1st इंडिया को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 15 जून के बाद कभी भी परीक्षाएं हो सकती है. मुख्यमंत्री गहलोत इस संबंध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अहम मीटिंग करेंगे. इस वीसी में उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा और तकनीकी शिक्षा मंत्री सुभाष गर्ग भी भाग लेंगे. इसके साथ ही विभागों से जुड़े अधिकारी भी वीसी में भाग लेंगे. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 91 नए पॉजिटिव आए सामने, झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप 

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर होगा फैसला: 
सुबह 11:30 बजे होने वाली VC का समय बदला गया है. शिक्षा विभाग की मीटिंग अब दोपहर बाद होगी. इस दौरान 10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर फैसला किया जाएगा. इससे पहले विश्वविद्यालय की परीक्षा 19 मार्च और माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाएं 20 मार्च से स्थगित कर दी गई थीं. पहले ये परीक्षाएं 31 मार्च तक स्थगित की गई थी, लेकिन लॉकडाउन बढ़ने के बाद इन पर अभी तक कोई निर्णय नहीं हो पाया.

देश में आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से बैंड बज रहीं- सीएम गहलोत 

मुख्य विषयों की परीक्षाओं पर ही हो सकता है निर्णय:
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य विषयों की परीक्षाओं पर ही कोई निर्णय हो सकता है. अन्य वोकेशनल विषयों की परीक्षाओं पर सीबीएसई की तरह निर्णय भी किया जा सकता है. 


 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 91 नए पॉजिटिव आए सामने, झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 91 नए पॉजिटिव आए सामने, झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप

जयपुर: राजस्थान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता ही जा रहा है. पिछले 12 घंटे में प्रदेश में 91 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप देखने को मिला है. अकेले झालावाड़ में सर्वाधिक 42 केस सामने आए हैं. इसके अलावा अजमेर में दो, अलवर में दो, भरतपुर में दो, बीकानेर में दो, चूरू में छह, धौलपुर में पांच, जयपुर में 12, कोटा में एक, नागौर में 12 और उदयपुर में पांच मरीज पॉजिटिव चिन्हित किए गए हैं. ऐसे में राजस्थान में अब कोरोना संक्रमित मरीजों का ग्राफ बढ़कर 8158 पहुंच गया है.

देश में आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से बैंड बज रहीं- सीएम गहलोत 

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए कुल मरीज 4855:
वहीं पिछले 12 घंटे में कोरोना की चपेट में आने से 2 लोगों ने दम भी तोड़ दिया है. इसमें जयपुर और झुंझुनूं में एक-एक मरीज की मौत हुई है. ऐसे में अब मृतकों की संख्या भी बढ़कर 182 हो गई है. दूसरी ओर राहत वाली खबर यह है कि अब तक कुल 4855 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हो गए हैं. इनमें से 4289 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज भी किया जा चुका है. इस समय अस्पताल में उपचाररत कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 3121 हैं. वहीं कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 2221 है. 

राज्य के आईटी विभाग में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर दी नौकरी, हाईकोर्ट ने दिए ये आदेश  

गुरुवार को 251 नए पॉजिटिव केस सामने आये: 
इससे पहले गुरुवार को पिछले 24 घंटे में 7 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 251 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अलवर, बांसवाड़ा, दौसा, जयपुर, करौली, नागौर और दूसरे राज्य के 1-1 मरीज की मौत हो गई. सर्वाधिक 69 पॉजिटिव केस अकेले झालावाड़ में सामने आये है. अजमेर में 6, भरतपुर 12, भीलवाड़ा 1, बीकानेर 7, बूंदी 1, चूरू 5, दौसा 4, डूंगरपुर 1, हनुमानगढ़ 3, जयपुर 7, जालोर-1, झुंझुनूं-7, जोधपुर 64, कोटा 9, नागौर 9, पाली 32, सवाई माधोपुर-1, सीकर 10, सिरोही 1 और दूसरी राज्य का एक पॉजिटिव मरीज सामने आया है.

Open Covid-19