Live News »

रैपिड टेस्ट के बाद अब सवालों के घेरे में एंटीजन टेस्ट! चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने फिर उठाए केन्द्र पर सवाल

रैपिड टेस्ट के बाद अब सवालों के घेरे में एंटीजन टेस्ट! चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने फिर उठाए केन्द्र पर सवाल

जयपुर: देशभर में कोरोना स्क्रीनिंग के विवादित रैपिड टेस्ट के बाद अब एंटीजन टेस्ट सवालों के घेरे में है.राजस्थान के चिकित्सा विभाग ने केंद्र सरकार से अधिकृत एंटीजन किट के सैंपल टेस्ट कराया, जिसमें 50 फ़ीसदी से अधिक मरीजों के रिजल्ट डिफरेंट मिले है.सूबे के चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने खुद सैंपल टेस्ट का खुलासा करते हुए एंटीजन टेस्ट पर सवाल उठाए हैं. राजस्थान के चिकित्सा विभाग ने रेपिड किट के बाद अब केंद्र सरकार के अधिकृत एंटीजन टेस्ट को भी सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है.चिकित्सा विभाग ने कुछ समय पहले कोरोना से जुड़ी रेपिड टेस्टिंग किट पर सवाल उठाए थे और कहा था कि रैपिड टेस्टिंग किट पॉजिटिव मरीजों को भी नेगेटिव बता रहा है.इसके बाद हरकत में आए आईसीएमआर ने किट के उपयोग पर देशभर में पाबंदी लगाई. यह मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि अब आईसीएमआर की ओर से एक कोरियन कंपनी द्वारा उपलब्ध कराई जा रही एंटीजन टेस्टिंग किट पर भी चिकित्सा विभाग ने सवाल उठाए हैं.

आईसीएमआर से इस एंटीजन किट की मांग की:
चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि हमने आईसीएमआर से इस एंटीजन किट की मांग की लेकिन अभी तक राजस्थान को यह किट उपलब्ध नहीं हुए हैं.ऐसे में विभाग ने फोर्टिस अस्पताल से यह एंटीजन किट बतौर सैंपल टेस्ट के लिए ली.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा की माने तो 100 पॉजिटिव मरीजों की जांच एंटीजन टेस्टिंग किट द्वारा की गई तो करीब 50% पॉजिटिव मरीजों को भी इस किट ने नेगेटिव बताया है.ऐसे में चिकित्सा विभाग ने कोरियन कंपनी द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे एंटीजन टेस्टिंग किट पर सवाल उठाए हैं हालांकि मंत्री ने कहा है कि करीब 100 मरीजों पर एक बार फिर से इस किट द्वारा टेस्टिंग की जाएगी और अगर इसके बाद भी नतीजे पहले जैसे रहते हैं तो आईसीएमआर को इसके बारे में अवगत कराया जाएगा. 

स्वास्थ्य भवन में कोरोना का बड़ा विस्फोट! करीब 24 अधिकारी-कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव

एंटीजन टेस्ट के सैंपल रिजल्ट पर निराशा:
चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने एंटीजन टेस्ट के सैंपल रिजल्ट पर निराशा जाहिर करते हुए कहा कि कोरोना के माहौल में आईसीएमआर द्वारा किए जा रहे यह प्रयोग काफी खतरनाक साबित हो सकते हैं.चिकित्सा मंत्री ने कहा कि जब देश में प्रतिदिन 55 हजार से ज्यादा पॉजीटिव केसेज आ रहे हो, ऐसे में मरीजों पर प्रायोगिक परीक्षण करना उनका जीवन खतरे में डालने जैसा है. उन्होंने कहा कि विदेशी कंपनियों के कम विश्वसनीय टेस्ट को मंजूरी देकर केंद्र सरकार लोगों के जीवन को खतरे में डाल रही है. उन्होंने कहा कि इससे पूर्व भी आईसीएमआर द्वारा मान्यता प्राप्त रैपिड टेस्टिंग किट के नतीजों को लेकर राजस्थान सरकार ने सवाल उठाए थे और आईसीएमआर ने उन्हें सही मानकर देश भर में रैपिड टेस्टिंग किट के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी.

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कोरोना के बढ़ते मामलों पर भी चिंता जताई
-चिकित्सा मंत्री ने कहा, अधिकांश केस वर्क प्लेसेज, इण्डस्ट्री, दुकानें, घरेलु नौकर,
-सामाजिक समारोह, पिंकनिक स्पॉट पर लापरवाही के चलते आ रहे है
-रोजाना 30 हजार टेस्ट होने से भी एकाएक बढ़े है कोरोना के केस
-ऐसे में लोगों की सावधानी काफी जरूरी हो गई है कोरोना रोकथाम के लिए 

अब तक 115 लोगों को प्लाज्मा थेरेपी:
डॉ.शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अब तक 115 लोगों को प्लाज्मा थेरेपी दी जा चुकी है। इसका शत-प्रतिशत परिणाम रहा है. जयपुर, जोधपुर, कोटा के बाद उदयपुर और बीकानेर में भी प्लाज्मा थेरेपी के जरिए लोगों को जीवनदान दिया जा रहा है. अजमेर में  भी शीघ्र ही प्लाज्मा थेरेपी से इलाज मिलने लगेगा. उन्होंने बताया कि जयपुर के बाद हाल ही कोटा में भी प्लाज्मा बैंक की शुरुआत कर दी गई है. जल्द ही सभी पुरानी मेडिकल कॉलेजों में भी प्लाज्मा बैक खोले जाएंगे, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को राहत मिल सके. उन्होंने कोरोना को हरा चुके लोगों से प्लाज्मा दान देकर लोगों को नया जीवन देने की भी अपील की. 

रिकवरी रेशो को बढ़ाया जाए और मृत्युदर को कम किया जाए:
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश में 40 हजार की लागत के जीवनरक्षक इंजेक्शन (टोसिलीजूमेब व रेमडीसीविर) भी आमजन को मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल के जरिए निशुल्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब तक 176 लोगों को ये इंजेक्शन दिए जा चुके हैं, जिनका परिणाम भी सुखद रहा है. उन्होंने कहा कि मरीजों के इलाज के लिए बजट की कोई कमी नहीं है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मंशा है कि प्रदेश के रिकवरी रेशो को बढ़ाया जाए और मृत्युदर को कम किया जाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1.57 फीसद मृत्युदर है. प्लाज्मा थेरेपी एवं जीवनरक्षक इंजेक्शन सहित समुचित उपचार के जरिए राज्य में मृत्यु दर को कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

मरीजों को होम क्वारंटीन करवाने के निर्देश:
डॉ. शर्मा ने कहा कि राज्य के सभी जिला कलेक्टर्स को ज्यादा कोरोना पॉजीटिव्स आने की स्थिति में स्थानीय लॉकडाउन और रात्रि कर्फ्यू लगाने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं. ज्यादा केसेज आने पर मरीजों को होम क्वारंटीन करवाने के निर्देश भी दिए हैं. उन्होंने कहा कि यदि लोग होम क्वारंटीन का उल्लंघन करते पाए जाएं तो उन्हें संस्थागत क्वारंटीन में रखा जा सकता है.ऐसे में उम्मीद यही है कि लोग भी कोरोना की गंभीरता को समझेंगे और गाइडलाइन की पालना करेंगे. 

दीया कुमारी बोलीं, मैं वसुंधरा राजे का बहुत सम्मान करती हूं, पहली बार संगठन में मंत्री उन्होंने ही बनाया

और पढ़ें

Most Related Stories

किसान अध्यादेश के खिलाफ कांग्रेस का चौतरफा विरोध, तैयार की खास रणनीति

जयपुर: केंद्र सरकार के कृषि अध्यादेश के खिलाफ कांग्रेस का चौतरफा विरोध जारी है. अब 24 सितंबर को प्रदेश कांग्रेस मुख्याल में प्रेसवार्ता रखी गई है. इस दौरान प्रदेश प्रभारी अजय माकन के साथ PCC चीफ गोविंद डोटासरा मौजूद रहेंगे. 

28 सितंबर को PCC से राजभवन तक पैदल मार्च:  
इसके साथ ही कांग्रेस 28 सितंबर को PCC से राजभवन तक पैदल मार्च भी करेगी. हालांकि धारा-144 के मद्देनजर कार्यक्रम में बदलाव भी हो सकता है. पैदल मार्च के बाद राज्यपाल को ज्ञापन दिया जाएगा. 

2 अक्टूबर को प्रदेश कांग्रेस मनाएगी 'किसान मजदूर दिवस':
वहीं, 2 अक्टूबर को प्रदेश कांग्रेस किसान मजदूर दिवस मनाएगी. 2 अक्टूबर को विधानसभा क्षेत्रों और जिला मुख्यालयों पर कृषि विधेयकों के खिलाफ धरने प्रदर्शन भी होंगे. 10 अक्टूबर को जयपुर सहित अन्य जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस किसान सम्मेलन आयोजित करेगी. 

सोमवार को भी जिला कलेक्टर्स को ज्ञापन सौंपे थे:
गौरतलब है कि सोमवार को भी कृषि विधेयकों के खिलाफ कांग्रेस ने प्रदर्शन कर जिला कलेक्टर्स को ज्ञापन सौंपे थे. कृषि से जुड़े वर्गों की सहानुभूति बंटोरने के लिए कांग्रेस एक पखवाड़े के कार्यक्रम तय करते हुए सभी राज्य ईकाइयों को विभिन्न टास्क दिए गए हैं.
 

Rajasthan Panchayat Election: पहले चरण में 13 सरपंच और 4468 पंच चुने गये प्रत्याशी निर्विरोध

Rajasthan Panchayat Election: पहले चरण में 13 सरपंच और 4468 पंच चुने गये प्रत्याशी निर्विरोध

जयपुर: पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव के पहले चरण में नाम वापसी की अवधि पूरी होने के बाद 1002 ग्राम पंचायतों में सरपंच पद के लिए 5388 और पंच पदों के लिए 11890 उम्मीदवार चुनाव मैदान में बच गए हैं. पहले चरण में 13 सरपंच और 4468 पंच प्रत्याशी निर्विरोध चुन लिए गए हैं. पहले चरण के पंच सरपंच चुनाव में नाम वापसी के बाद अब तस्वीर साफ हो गई है. इसके तहत...

- पहले चरण के पंच सरपंच चुनाव में राज्य की 1002 ग्राम पंचायतों में 9042 प्रत्याशियों ने कुल 9066 नामांकन पत्र दाखिल किए. जांच के बाद 8875 नामांकन पत्र वैध पाए गए हैं.   

- इनमें से नाम वापसी के आखिरी दिन 3474 उम्मीदवारों ने अपना नाम वापस ले लिया.  

- अब राज्य में पंचायत चुनाव-2020 में सरपंच पद के लिए अंतिम रूप से चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की संख्या 5388 रह गई है.  

- इसी तरह 1002 ग्राम पंचायतों के 9688 वार्डों के लिए 21542 उम्मीदवारों ने 21557 नामांकन पत्र दाखिल किए गए. इनमें से 20961 नामांकन पत्र वैध पाए गए.  

- 4571 उम्मीदवारों ने अपने नाम वापस लिए, जबकि 4468 पंचों को निर्विरोध चुन लिया गया. उन्होंने बताया कि नाम वापसी के बाद अब 11890 उम्मीदवार वार्ड पंच के लिए चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आजमाएंगे. 

आगे का कार्यक्रम रहेगा इस तरह: 

- इन ग्राम पंचायतों पर चुनाव कराने के लिए 27 सितंबर तक मतदान दल निर्वाचन स्थल पर पहुंच जाएंगे.  

- इन पंचायतों पर 28 सितंबर सोमवार सुबह 7.30 से सायं 5.30 बजे तक मतदान होगा.  

- मतदान समाप्ति के बाद इन पंचायत मुख्यालयों पर मतगणना करवाई जाएगी.  

- 29 सितंबर को उपसरपंच का चुनाव होगा.  

- गौरतलब है कि पहले चरण में 50 पंचायत समितियों की 1002 ग्राम पंचायतों के 4679 मतदान केंद्रों पर मतदान कराया जाएगा.  
इन पंचायतों में कुल 33 लाख 40 हजार 35 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे, जिनमें से 17 लाख 48 हजार 670 पुरुष, 15 लाख 91 हजार 347 महिलाएं और 18 अन्य मतदाता शामिल हैं.  

राज्य निर्वाचन आयुक्त पी एस मेहरा ने प्रदेश के समस्त मतदाताओं से केंद्र और राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव संबंधी सभी प्रोटोकॉल की पालना के साथ अधिक से अधिक संख्या में मतदान करने की अपील की है.  
 

राजस्थान हाईकोर्ट ने पंचायत चुनाव में हस्तक्षेप करने से किया इंकार, लक्ष्मणगढ पंचायत समिति के चुनाव पर रोक लगाने की याचिका खारिज

राजस्थान हाईकोर्ट ने पंचायत चुनाव में हस्तक्षेप करने से किया इंकार, लक्ष्मणगढ पंचायत समिति के चुनाव पर रोक लगाने की याचिका खारिज

जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट ने अधिसूचना जारी होने और एक बार चुनाव प्रक्रिया शुरू होने के बाद चुनाव में किसी प्रकार से हस्तक्षेप से इंकार करते हुए अलवर की लक्ष्मणगढ़ पंचायत समिति के चुनाव पर रोक लगाने को लेकर दायर याचिका को खारिज कर दिया है. जस्टिस सतीश कुमार शर्मा की एकलपीठ ने ये आदेश भरतसिंह की ओर से दायर चुनाव याचिका पर सुनवाई करते हुए दिये है.

दोबारा आरक्षण सूची जारी किये बिना ही चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया:
भरतसिंह की ओर से एडवोकेट प्रकाश ठकुरिया ने याचिका दायर कर अदालत को बताया कि 3 फरवरी 2020 को लक्ष्मणगढ पंचायत समिति के लिए जारी कि गयी कुछ पंचायतों को नगरपालिका लक्ष्मणगढ़ में शामिल कर लिया गया. ऐसे में लक्ष्मणगढ़ में आने वाली पंचायतों की दोबारा आरक्षण सूची जारी किये बिना ही चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है. 

{related} 

अधिसूचना जारी होने के बाद उसमें हस्तक्षेप किया जाना विधिविरूद्ध: 
याचिका में लक्ष्मणगढ़ पंचायत समिति के चुनाव पर रोक लगाने और नए सिरे से दोबारा आरक्षण सूची तैयार करने के बाद ही चुनाव कराने की गुहार लगायी गयी. लेकिन हाईकोर्ट ने कहा कि एक बार चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होने के बाद उसमें हस्तक्षेप किया जाना विधिविरूद्ध है. इस मामले में भी अधिसूचना जारी होने और 28 सितंबर को चुनाव तय होने के चलते अदालत ने याचिका को खारिज करने के आदेश दिये है. 

अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के लिए 192 फ्लैट बनाएगा हाउसिंग बोर्ड, स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए भी बड़ी पहल

जयपुर: सोमवार को हुई राजस्थान हाउसिंग बोर्ड की संचालक मंडल की बैठक में कई बड़े फ़ैसले लिए गए हैं. अध्यक्ष भास्कर सावंत की अध्यक्षता में हुई बैठक में क़रीब 50 प्रकरणों का निस्तारण भी किया गया.  

अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों को बड़ी सौगात: 
हाउसिंग बोर्ड की 234 वी संचालक मंडल की बैठक में कई अहम फ़ैसले लिए गए हैं. बोर्ड ने अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों को बड़ी सौगात देते हुए अलग से आवासीय योजना लांच करने का फैसला लिया है. हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि बोर्ड जल्द ही एआईएस रेजीडेन्सी नाम से आवासीय योजना लांच करेगा. पहली बार है जब प्रदेश में अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के लिए अलग से आवासीय योजना लांच होगी. बोर्ड ने जैसी प्लानिंग इस योजना के लिए की है उससे उम्मीद है कि इस योजना में बड़ी संख्या में अधिकारी आवेदन करेंगे.  

- आईएएस, आईपीएस, आईएफएस अधिकारियों को हाउसिंग बोर्ड की बड़ी सौगात

- अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के लिए लांच होगी आवासीय योजना

- राजधानी में पहली बार लांच होगी अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के लिए आवासीय योजना

- योजना में बनाये जाएंगे 192 बहुमंजिला फ्लैट

- एक फ्लैट का निर्मित क्षेत्रफल होगा 3211 वर्ग फ़ीट

- 3 बीएचके साइज के होंगे सभी 192 फ्लैट

- फ्लैट में होगी ड्राइंग रूम और सर्वेंट रूम की सुविधा

- 91 लाख 58 हजार होगी एक फ्लैट की अनुमानित कीमत

- योजना में मिलेगी सभी आधुनिक सुविधाएं

क्लब हाउस, बेडमिंटन कोर्ट, स्क्वैश कोर्ट, स्विमिंग पूल, स्पा, रेस्टोरेंट, बैंक्वेट हॉल, जिम्नेजियम, कॉन्फ्रेंस रूम, गेस्ट हाउस, टेनिस कोर्ट, सेंट्रल लॉन एरिया, चिल्ड्रन प्ले एरिया, ओपन जिम, इंटरनल वॉक वेस और सिक्योरिटी की सुविधा होगी. 

स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल: 
बोर्ड की संचालक मंडल की बैठक में एक और महत्वपूर्ण फ़ैसला लिया गया है. कोविड काल के दौरान निजी क्षेत्र में जहां एक ओर नौकरियों में काफी कटौती हुई है वहीं दूसरी ओर निजी संस्थानों द्वारा अपने कर्मचारियों के वेतन में भी काफी कटौती की गई है ऐसे में हाउसिंग बोर्ड ने स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल की है. बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए हाउसिंग बोर्ड 2 अक्टूबर, 2020 को ‘अपनी दुकान-अपना व्यवसाय‘ योजना लांच करेगा. इस योजना के तहत 1544 व्यावसायिक भूखंड या निर्मित दुकानें, जो 27 वर्गमीटर तक के आकार की हैं, उन्हें ई-बिड सबमिशन के माध्यम से बेचा जाएगा और जिन 137 दुकानों या भूखंडों का आकार 27 वर्गमीटर से अधिक है, उनका निस्तारण ई- ऑक्शन के माध्यम से किया जाएगा. इस तरह 1681 व्यावसायिक भूखंडों या निर्मित दुकानों का निस्तारण इस योजना के तहत किया जाएगा. इन योजनाओं की समस्त जानकारी और व्यावसायिक भूखंडों/निर्मित दुकानों की गूगल लोकेशन जल्द ही बोर्ड की वेबसाइट उपलब्ध होगी. बोर्ड कमिश्नर अरोड़ा ने बताया कि जयपुर के प्रतापनगर में बनने वाले कोचिंग हब के  मुख्य एजुकेशनल ब्लॉक के निर्माण के लिए इस माह के अंत तक वर्क ऑर्डर दे दिया जाएगा यहां पहले से ही चारदीवारी और आंतरिक विकास कार्यों का निर्माण कार्य चल रहा है यहां पौधारोपण भी बड़े स्तर पर हो चुका है.  

बैठक में बोर्ड ने आवंटियों को भी बड़ी राहत दी:
बैठक में बोर्ड ने आवंटियों को भी बड़ी राहत देते हुए 2001 से पूर्व के समस्त आवासों के आवंटियों को भी ब्याज और शास्ति में छूट देने का फ़ैसला लिया है. कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि मौज़ूदा समय  में वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण उत्पन्न संकट की स्थिति को देखते हुए दिनांक 1 जनवरी, 2001 से पूर्व के आवंटित समस्त आवासों के आवंटियों द्वारा बकाया मासिक किश्तों की राशि एकमुश्त जमा करवाए जाने पर ईडब्लूएस, एलआईजी, एमआईजी-ए श्रेणी के आवेदकों को ब्याज एवं शास्ति में शत प्रतिशत छूट तथा एमआईजी बी व एचआईजी श्रेणी के आवेदकों को ब्याज एवं शास्ति में 50 प्रतिशत की छूट प्रदान की जाएगी.  

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

मुख्यमंत्री गहलोत का बेरोजगार युवाओं के लिए बड़ा फैसला, कनिष्ठ सहायक भर्ती में चयन से वंचित अभ्यर्थियों को तोहफा

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कनिष्ठ सहायक भर्ती परीक्षा-2018 में चयन से वंचित अभ्यर्थियों के हित में एक बड़ा निर्णय लेते हुए 603 अतिरिक्त पदों के सृजन को मंजूरी दी है. इनमें सामान्य वर्ग के 345, अन्य पिछड़ा वर्ग के 223 तथा अनुसूचित जनजाति के 35 पद हैं. संशोधित अर्थना के कारण नियुक्ति से वंचित हो रहे अभ्यर्थियों को मुख्यमंत्री के इस निर्णय से बड़ी राहत मिलेगी और उन्हें विज्ञापित पदों के अनुरूप नियुक्ति के अवसर मिल पाएंगे. 

अब जल्द ही इन अतिरिक्त पदों पर अभ्यर्थियों को नियुक्ति मिल सकेगी: 
उल्लेखनीय है कि इस भर्ती की संशोधित अर्थना में विज्ञापित पदों में से सामान्य, ओबीसी एवं अनुसूचित जनजाति वर्गों के पदों की कमी कर दी गई थी. जबकि राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने विज्ञापित पदों के अनुसार परिणाम जारी कर अभ्यर्थियों के आवेदन पत्रों का सत्यापन भी करा लिया था. मुख्यमंत्री की नई स्वीकृति के बाद अब जल्द ही इन अतिरिक्त पदों पर अभ्यर्थियों को नियुक्ति मिल सकेगी. अब तक इस परीक्षा के गैर अनुसूचित क्षेत्र के 10 हजार 763 रिक्त पदों के विरूद्ध 10 हजार 688 तथा अनुसूचित क्षेत्र के 1278 रिक्त पदों के विरूद्ध 722, अर्थात कुल 11 हजार 410 अभ्यर्थियों को विभागों को आवंटन किया जा चुका है. 

{related} 

उचित मूल्य दुकान आवंटन के लिए कंप्यूटर योग्यता में भी छूट:
वहीं मुख्यमंत्री ने उचित मूल्य दुकान आवंटन के लिए अनिवार्य शैक्षणिक योग्यता में आरकेसीएल अथवा समकक्ष सरकारी संस्थान का 3 माह का आधारभूत कम्प्यूटर प्रशिक्षण होने की शर्त में शिथिलन देने को मंजूरी दे दी है. अब ऐसे चयनित व्यक्तियों को 31 मार्च, 2021 अथवा आरकेसीएल की परीक्षा आयोजित होने तक परिणाम जारी होने के 15 दिन की अवधि का शिथिलन दिया जा सकेगा. उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण वर्तमान में आरकेसीएल द्वारा कम्प्यूटर की परीक्षा आयोजित नहीं की जा सकी है. 

Horoscope Today, 22 September 2020: आज इन राशि वालों का बदलेगा भाग्य, करे ये उपाय

Horoscope Today, 22 September 2020: आज इन राशि वालों का बदलेगा भाग्य, करे ये उपाय

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं.  

{related} 

मेष (Aries): आज बिजनेस और नौकरी में  कुछ नया करने की कोशिश कर सकते हैं. उम्मीद और भरोसे से आगे बढ़ें. आज के दिन की सफलता के लिए भोजन में काले नमक का सेवन करे.  

वृष ( Taurus): आज भविष्य को लेकर आपकी जो भी उम्मीदें और जो भी सपने हैं, उनके बारे में सही से विचार करें. आज के दिन की सफलता के लिए किसी जरूरतमंद को दवाईओ का दान करें. 

मिथुन ( Gemini): आज बिना प्लानिंग के कोई काम न करें. निवेश संबंधित कोई बड़ा फैसला लेने से पहले अनुभवी से सलाह लें. आज के दिन की सफलता के लिए बंदरों को केले खिलायें. 

कर्क ( Cancer): आज  घर का माहौल अच्छा करने की कोशिश करें. काम पर फोकस बनाये रखें. आज के दिन की सफलता के लिए दही खा कर घर से निकले. 

सिंह ( Leo): आज दूसरों के मामलों में फालतू दखल देने से बचें. दूसरों से विचार-विमर्श करें किन्तु अपने विचारों को भी महत्त्व दें. आज के दिन की सफलता के लिए सफ़ेद पुष्प पितरो की तस्वीर पर अर्पण करें. 

कन्या ( Virgo): आज आप जो भी काम करें, खुद के ही दम पर निपटाने की कोशिश करें. आप दूसरों से सिर्फ उतनी ही उम्मीदें रखें, जितनी व्यावहारिक हों. आज के  दिन की सफलता के लिए किसी अनाथाश्रम मे बिस्कुट के पैकेटो का दान करें. 

तुला ( Libra): आज आपके साथ कुछ अनचाही स्थितियां भी बन सकती हैं. परिवार, निजी जीवन  मामले में आपको नया फैसला भी लेने से बचना चाहिए. आज के दिन की सफलता के लिए लाल मसूर दाल का दान करे. 

वृश्चिक ( Scorpio): आज बिजनेस में उधार लेन-देन के कुछ फैसलों के कारण आपको नुकसान हो सकता है. ध्यान से हर काम करें. आज के दिन की सफलता के लिए पितरों की तस्वीर के सामने घी का दीपक जलाये. 

धनु ( Sagittarius): आज किसी ऐसी घटना से दो-चार होना पड़ सकता है जो आपको हिला कर रख देगी. तनाव न लें, अपने प्रयास निरंतर करते रहें. आज के दिन की सफलता के लिए केसर का तिलक लगा घर से निकले. 

मकर ( Capricorn): आज बदलती परिस्थिति के साथ अपने आप को ढालें. आज के दिन की सफलता के लिए तुलसी सेवन करके घर से निकले. 

कुंभ ( Aquarius): आज नम्रता भरा व्यवहार बनाए रखें, अहंकार की भावना से रखने से आपका नुकसान हो सकता है. आज के दिन की सफलता के लिए श्री हनुमान जी का ध्यान करके गुड चने का प्रसाद बच्चो मे बांटे. 

मीन ( Pisces): आज परिस्थिति से लड़ने की बजाए उसमे ढलने का प्रयास करें. जितना लड़ेंगे, संघर्ष करेंगे, उतनी ही परिस्थिति बिगड़ती जाएगी. आज के दिन की सफलता के लिए हनुमान जी थोड़ा सिंदूर अर्पण करे. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

22 सितंबर 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

22 सितंबर 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

शुभ मास - प्रथम आश्विनी (अधिक) शुक्ल पक्ष  
शुभ तिथि षष्ठी नन्दा संज्ञक तिथि रात्रि 9 बजकर 31 मिनट तक रहेगी. षष्ठी तिथि को यथा आवश्यक विवाहादि मांगलिक कार्य, गृहारम्भ, संस्कार सम्बंधित कार्य शुभ माने जाते हैं. पर पितृ कर्म वर्जित माना जाता है. षष्ठी तिथि मे जन्मे जातक धनवान, बुद्धिवान, व्यापार कुशल, आज्ञाकारी, धर्मपरायण होते हैं. 

अनुराधा "मृदु " संज्ञक नक्षत्र  सांय 7 बजकर 18 मिनट तक रहेगा. अनुराधा नक्षत्र मे विवाह, जनेऊ, यात्रा, अलंकार, तथा अन्य शुभ कार्य व मांगलिक कार्य शुभ माने जाते हैं. अनुराधा नक्षत्र मे जन्मा जातक सुन्दर, साहसी, व्यापार निपुण, धनवान, बुद्धिमान होता है.  

{related} 

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन ‎वृश्चिक राशि में संचार करेगा. 

व्रतोत्सव - गुरु नानक पुण्य दिवस  

राहुकाल - दोपहर 3 बजे से 4.30 बजे तक

दिशाशूल - मंगलवार को उत्त्तर दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से गुड़ खा कर निकले.  

आज के शुभ चौघड़िये - प्रातः 9.19 मिनट से दोपहर 01.50 मिनट तक चर, लाभ, अमृत का और दोपहर 3.20  मिनट से सायं 4.50 तक शुभ का चौघड़िया. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

कोरोना संक्रमितों को हेल्पलाइन नंबर 181 पर आधे घंटे में मिलेगी चिकित्सकीय सुविधा - डॉ रघु शर्मा

कोरोना संक्रमितों को हेल्पलाइन नंबर 181 पर आधे घंटे में मिलेगी चिकित्सकीय सुविधा - डॉ रघु शर्मा

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पहल पर शुरू की गई हेल्पलाइन सेवा 181 कोरोना मरीजों के लिए बड़ी राहत साबित होगी. हेल्पलाइन सेवा के जरिए शासन सचिवालय में 24 घंटे संचालित होने वाला राज्य स्तरीय वॉर रुम महज 30 मिनट में कोरोना संक्रमितों को चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने में मदद करेगा. यह कहना है चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का. 

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने हेल्पलाइन सेवा 181 के कामकाज की समीक्षा की: 
चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने हेल्पलाइन सेवा 181 के कामकाज की समीक्षा की. इस मौके पर शर्मा ने बताया कि इस वॉर और इससे संबंधित जिला स्तरीय वॉर रुम के जरिए अधिकतम 30 मिनट में कोरोना मरीज या उनके परिजनों की समस्त समस्याओं का समाधान किया जाएगा. उन्होंने बताया कि राज्य स्तरीय वॉर रुम में राज्य के सभी जिला वॉर रुम में तैनात कर्मचारियों व अधिकारियों के नामों की सूची और मोबाइल नंबर उपलब्ध रहेंगे. वहीं कोविड—19 से संबंधित सभी जांच केन्द्रों की सूचना, निजी व राजकीय कोविड डेडीकेटेड अस्पतालों की लिस्ट भी दूरभाष नंबर के साथ उपलब्ध रहेगी.

जिले के प्रमुख डेडिकेटेड अस्पताल में 24 घंटे संचालित किए जाएंगे:
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि जिला स्तरीय वॉर रुम जिला कलक्टर की अध्यक्षता में जिले के प्रमुख डेडिकेटेड अस्पताल में 24 घंटे संचालित किए जाएंगे. उक्त जिला स्तरीय वॉर रुम एक प्रशासनिक अधिकारी, दो चिकित्सक और अन्य कार्मिकों के साथ तीन पारियों में संचालित किए जाएंगे. इन वॉर रुम में कोविड डेडिकेटेड सभी अस्पतालों में उपलब्ध बैड्स की रियल टाइम सूचना व एम्बूलेंस संबंधी जानकारी उपलब्ध रहेगी. उन्होंने बताया कि वॉर रूम की निगरानी के लिए एक दूरभाष नंबर व नेट कनेक्टिविटी के साथ कंम्प्यूटर और सीसीटीवी कैमरे भी स्थापित किए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि सभी वॉर रुम में कोविड डैडिकैटेड अस्पतालों में सभी प्रकार के बैड की सूचना उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं.  

{related}

यूं काम करेगा वॉर रूम: 

- आइसोलेशन वाले मरीज या उनके परिजन राज्य स्तरीय वॉर रूम में 181 पर संपर्क अपनी परेशानी बता सकते हैं.

- इसके बाद यहां तैनात कार्मिक उक्त जानकारी को संबंधित जिला स्तरीय वॉर रुम को उपलब्ध कराने के साथ राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर भी उपलब्ध कराएगा और जल्द से जल्द समस्या के निदान के लिए प्रतिबद्ध होगा. 

- सभी जिला स्तरीय वॉर रूम को निर्देशित किया गया है कि अधिकतम 30 मिनट के भीतर मरीज या परिजन की समस्या को हल किया जाए. 

- बिना लक्षण वाले मरीज यदि किसी चिकित्सकीय सलाह की मांग करते हैं तो हैल्प डेस्क पर मौजूद चिकित्सक उसकी मदद करेगा. 

- दवा की मांग होने पर मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना के तहत दवा उपलब्ध कराई जाएगी. 

- जबकि लक्षण वाले मरीजों को आग्रह करने पर कोविड डैडिकेटेड अस्पतालों में भर्ती कराने के लिए एम्बूलेंस की व्यवस्था कराई जाएगी. 

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि जिला स्तरीय वॉर रुम को जिम्मेदारी सौंपी गई है कि वे गंभीर मरीजों के लिए आईसीयू, वेंटिलेटर व अन्य चिकित्सकीय सुविधाओं को जल्द से जल्द उपलब्ध कराएं और सरकारी रैफरल परिवहन सुविधा द्वारा कोविड अस्पताल में पहुंचा कर भर्ती कराए. मरीज या उनके परिजन की समस्या का निवारण करने के बाद जिला स्तरीय वॉर रुम में तैनात कार्मिक उक्त जानकारी राज्य स्तरीय वॉर रूम में देगा और राजस्थान संपर्क पोर्टल पर भी दर्ज करेगा और आधे घंटे में जिला स्तरीय वॉर रूम के कार्यवाही नहीं करने पर राज्य स्तरीय वॉर रूम आवश्यक कार्यवाही के लिए उसके निर्देशित कर इसकी सूचना अतिरिक्त जिला कलक्टर को देकर तत्काल समस्या समाधान के लिए कहेगा. 

आरयूएचएस जयपुर में बैड्स की संख्या 500 से बढ़ाकर 900 करने के लिए निर्देश: 
डॉ शर्मा ने अब राज्य के प्रमुख कोविड डेडिकैटेड हॉस्पिटल आरयूएचएस जयपुर में बैड्स की संख्या 500 से बढ़ाकर 900 करने के लिए निर्देश दिए है. जयपुर के मेट्रो मास अस्पताल को भी कोविड सेंटर के रुप में विकसित करने की योजना है. वहीं ईएसआई अस्पताल, रेलवे अस्पताल में भी बैड्स लिए गए है और मरीजों को भर्ती किया जा रहा है.  

कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट 83 फीसदी पार:
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य में कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट 83 फीसदी को पार कर गई है जबकि मृत्यु दर 1.16 फीसदी है. यह दर्शाता है कि राजस्थान सरकार कोरोना महामारी से आमजन को बचाने के लिए लगातार अपनी सेवाओं को मजबूत कर रही है. उन्होंने कहा कि सभी कोविड सेंटर में आक्सीजन सिलेंडरों की पर्याप्त व्यवस्था है. इसके लिए लगातार आक्सीजन सिलेंडरों को प्रोक्योर किया जा रहा है जिससे कि किसी भी मरीज को आक्सीजन की कमी का सामना नहीं करना पड़े. कोविड डेडिकैटेड अस्पतालों में आक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था के लिए जनरेशन प्लांट स्थापित करने का काम भी किया जा रहा है.  

Open Covid-19