जयपुर VIDEO: गर्मियों की छुट्टियों में हवाई सफर पड़ रहा महंगा, बड़ी संख्या में लोग कर रहे पहाड़ी क्षेत्रों का रुख, देखिए खास रिपोर्ट

VIDEO: गर्मियों की छुट्टियों में हवाई सफर पड़ रहा महंगा, बड़ी संख्या में लोग कर रहे पहाड़ी क्षेत्रों का रुख, देखिए खास रिपोर्ट

जयपुर: हिमालय के तलहटी वाले इलाकों की यात्रा के लिए इन दिनों यात्रियों को ज्यादा किराया चुकाना पड़ रहा है. यूं तो पेट्रोल के साथ-साथ एविएशन टरबाइन फ्यूल की दरें भी बढ़ी हुई हैं, लेकिन बढ़े हुए किराए का ज्यादा असर हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू-कश्मीर राज्यों के एयरपोर्ट्स की फ्लाइट्स पर दिख रहा है. 

ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान यूं तो हर साल ही लोग पहाड़ी क्षेत्रों का रुख करते हैं. लेकिन पिछले 2 वर्ष से कोरोना के खतरे के चलते लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे थे. अब जबकि कोरोना का असर कम हो चुका है तो लोग बड़ी संख्या में ठंडे इलाकों का रुख कर रहे हैं. इसका असर जयपुर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भी दिख रहा है. जयपुर से हिमालच प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर राज्यों के एयरपोर्ट्स के लिए हवाई किराया बढ़ा हुआ है. हालांकि पहाड़ी क्षेत्रों वाले एयरपोर्ट्स के लिए जयपुर से सीमित संख्या में फ्लाइट उपलब्ध हैं, लेकिन जिन शहरों के लिए फ्लाइट चल रही हैं, वे भी लगभग फुल चल रही हैं. जयपुर से चंडीगढ़ और देहरादून के लिए रोजाना 2-2 फ्लाइट उपलब्ध हैं. हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला के लिए रोज 1 फ्लाइट उपलब्ध है. जम्मू-कश्मीर के जम्मू, श्रीनगर और लेह एयरपोर्ट के लिए जयपुर से कोई भी सीधी हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है, ऐसे में इन शहरों के लिए किराया और ज्यादा चुकाना पड़ रहा है. 

जयपुर से 1 सप्ताह बाद 21 अप्रैल का किराया

- जयपुर से चंडीगढ़ के लिए इंडिगो की 2 फ्लाइट, किराया 7106 से लेकर 7421 रुपए

- जयपुर से धर्मशाला के लिए स्पाइसजेट की 1 फ्लाइट में किराया 6712 रुपए

- जयपुर से देहरादून के लिए 2 फ्लाइट, इंडिगो में 5426 रुपए, स्पाइसजेट में 12251 रुपए
--------------

- श्रीनगर के लिए सीधी फ्लाइट नहीं, दिल्ली में स्टॉप के बाद किराया 8909 से लेकर 11674 रुपए

- जम्मू के लिए सीधी फ्लाइट नहीं, दिल्ली में स्टॉप के बाद किराया 8625 से 10015 रुपए

- लेह के लिए सीधी फ्लाइट नहीं, दिल्ली में स्टॉप के बाद किराया 9967 से 10855 रुपए

बड़ी बात यह है कि जितना किराया इन दिनों चंडीगढ़ या देहरादून जैसे शहरों के लिए लग रहा है, वह किराया मुम्बई, गोवा आदि शहरों के किराए से भी ज्यादा है. मुम्बई के लिए हवाई किराया 6581 रुपए लग रहा है. इसी तरह गोवा के लिए 6980 रुपए और पुणे के लिए किराया 6581 रुपए लग रहा है. जबकि धर्मशाला, चंडीगढ़ और देहरादून के लिए इन शहरों से काफी अधिक किराया लग रहा है. वीकएंड के समय तो यह किराया डेढ़ गुना तक बढ़ जाता है.

समय कम, लेकिन फिर भी किराया ज्यादा

- मुम्बई की फ्लाइट का समय 1 घंटे 45 मिनट, किराया कम

- पुणे की फ्लाइट का समय 1 घंटे 35 मिनट, किराया कम

- गोवा की फ्लाइट का समय 2 घंटे 10 मिनट, किराया कम

- धर्मशाला फ्लाइट का समय मात्र 1 घंटे 5 मिनट, फिर भी किराया ज्यादा

- चंडीगढ़ के लिए समय 1 घंटे 25 मिनट, फिर भी किराया ज्यादा

- देहरादून के लिए समय 1 घंटे 15 मिनट, फिर भी किराया ज्यादा

जयपुर से देहरादून और चंडीगढ़ के लिए रोजाना दो-दो फ्लाइट उपलब्ध होने के बावजूद ये फ्लाइट्स फुल चल रही हैं. दरअसल चंडीगढ़ से लोग आगे शिमला, कुल्लू और मनाली जैसे पर्यटन स्थलों के लिए बाई रोड जाना पसंद करते हैं, ऐसे में चंडीगढ़ की फ्लाइट्स की डिमांड ज्यादा है. धर्मशाला के लिए एकमात्र फ्लाइट में भी किराया ज्यादा यात्रीभार के चलते ही बढ़ा हुआ है. यदि श्रीनगर, जम्मू या लेह आदि शहरों के लिए सीधी फ्लाइट मिलें तो लोगों को न केवल समय की बचत होगी, साथ ही हवाई किराए में भी अपेक्षाकृत रूप से राहत मिल सकेगी.

और पढ़ें