नई दिल्ली Airtel पांच साल की अवधि में सहायक कंपनियों के साथ विभिन्न व्यवसायों पर 1.17 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी

Airtel पांच साल की अवधि में सहायक कंपनियों के साथ विभिन्न व्यवसायों पर 1.17 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी

Airtel पांच साल की अवधि में सहायक कंपनियों के साथ विभिन्न व्यवसायों पर 1.17 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी

नई दिल्ली: दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल की अपनी अनुषंगियों के साथ कारोबार पर अगले पांच साल में 1.17 लाख करोड़ रुपये का खर्च करने की योजना है. शेयर बाजारों को दी सूचना में एयरटेल ने कहा कि वह अपनी अनुषंगियो इंडस टावर्स, नेक्सट्रा और भारती हेक्साकॉम के साथ कारोबारी लेनदेन में यह राशि खर्च करेगी.

कंपनी 26 फरवरी को अपने सदस्यों के साथ असाधारण आम बैठक (ईजीएम) करने जा रही है. इस बैठक में गूगल द्वारा करीब 7,500 करोड़ रुपये में कंपनी की 1.28 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के लिए शेयर जारी करने के प्रस्ताव पर मंजूरी ली जाएगी.

भारती एयरटेल की ओर से जारी ईजीएम नोटिस के अनुसार, वह मोबाइल टावर कंपनी इंडस टावर्स के साथ कारोबार पर 88,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी. इसके अलावा वह नेक्सट्रा की डाटासेंटर सेवाएं लेने के लिए 15,000 करोड़ रुपये और भारती हेक्साकॉम के साथ लेनदेन पर 14,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

भारती एयरटेल अगले चार वित्त वर्षों के दौरान इंडस टावर्स के साथ प्रत्येक साल लेनदेन पर 17,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी: 

सूचना में कहा गया है कि भारती एयरटेल अगले चार वित्त वर्षों के दौरान इंडस टावर्स के साथ प्रत्येक साल लेनदेन पर 17,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी. इसके अलावा 20,000 करोड़ रुपये वह 2025-26 में खर्च करेगी. कंपनी ने कहा है कि 5जी सेवाओं के लिए उसे ढांचागत सुविधाओं का विस्तार करने की जरूरत होगी. इसलिए उसने 2025-26 में 20,000 करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य रखा है. सोर्स-भाषा

और पढ़ें