VIDEO: पहलू खान मामले को लेकर सीएम गहलोत से मिले BSP के सभी विधायक

Naresh Sharma Published Date 2019/08/16 09:21

जयपुर: राजस्थान के बसपा विधायकों ने अपनी सुप्रीमो मायावती के आरोपों को दरकिनार करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रति आस्था व्यक्त की है. पहलू खान मामले पर मायावती ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया था, लेकिन बसपा विधायक राजेंद्र गुढा ने कहा है कि मायावती को अधूरी जानकारी है. गुढा सहित बसपा के सभी छह विधायकों ने कहा कि हमें मुख्यमंत्री गहलोत पर पूरा भरोसा है और वे किसी दलित पर अन्याय नहीं होने देंगे. 

मायावती ने बताया अतिदुर्भाग्यपूर्ण:
पहलू खान मामले पर प्रदेश की राजनीति गरमाई हुई है. एडीजी कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया था. इसके बाद मुख्यमंत्री ने घोषणा कर दी थी कि सरकार इस फैसले के खिलाफ अपील करेगी. इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री ने आज दिन में दो बार डीजीपी भूपेंद्र सिंह, एसीएस होम राजीव स्वरूप, एडीजी इंटेलीजेंस अरुण मिश्रा व एडीजी क्राइम बीएल सोनी के साथ मीटिंग की, लेकिन दूसरी तरफ बसपा सुप्रीमो मायावती ने आरोप लगा दिया कि राजस्थान कांग्रेस सरकार की घोर लापरवाही व निष्क्रियता के कारण पहलू खान माब लिंचिंग मामले में सभी 6 आरोपी वहां की निचली अदालत से बरी हो गए. मायावती ने कहा कि यह अतिदुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया कि पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के मामले में प्रदेश की सरकार को सतर्क रहना चाहिए था. इसके बाद राजस्थान में बसपा के सभी छह विधायकों ने शुक्रवार शाम को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने करीब एक घंटे तक बैठक की. 

विधायक बोले मायावती को मामले की जानकारी ही नहीं:
बैठक के बाद विधायक राजेंद्र गुढा ने कहा कि पूरे देश में अशोक गहलोत जैसा मुख्यमंत्री नहीं है और गहलोत के राज में कभी दलितों से साथ अन्याय नहीं हो सकता. मायावती के आरोपों को लेकर गुढा ने कहा कि मायावती को मामले की जानकारी ही नहीं है. उनको किसी ने गलत जानकारी दी है. शायद मायावती पिछले भाजपा सरकार की बात कर रही है. बसपा के अन्य पांच विधायकों ने भी कहा कि उनको मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से पूरी उम्मीद है. गुढा पहले भी मायावती पर पैसे लेकर टिकट देने का आरोप लगा चुके हैं. बसपा विधायकों ने अलवर जिले में मारपीट की घटना में जान गंवाने वाले दलित युवक के पिता द्वारा कथित तौर पर जहर खाकर आत्महत्या करने का मामला भी मुख्यमंत्री के सामने उठाया और निष्पक्ष जांच की मांग की. 

प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर अहम मीटिंग:
इससे पहले मुख्यमंत्री ने आज सुबह और फिर देर शाम को प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर अहम मीटिंग की. उन्होंने डीजीपी भूपेंद्र सिंह, एसीएस होम राजीव स्वरूप, एडीजी इंटेलीजेंस अरुण मिश्रा व एडीजी क्राइम बीएल सोनी को साफ निर्देश दिए कि पहलू खान मामले पर पूरे तथ्यों के साथ अपील की जाए. गहलोत ने हालांकि प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के समक्ष अपनी नाराजगी भी जताई. खासकर जयपुर में उपद्रव के मामलों को लेकर. इंटेलीजेंस फेल होने के कारण राजधानी में उपद्रव की स्थिति रही. वहीं माना जा रहा है कि पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव को लेकर भी सीएम बड़ा फैसला कर सकते हैं. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in