CM पुष्कर सिंह धामी बोले- उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच लंबित सभी मामलों का निकाल लिया गया है हल

CM पुष्कर सिंह धामी बोले- उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच लंबित सभी मामलों का निकाल लिया गया है हल

CM पुष्कर सिंह धामी बोले- उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच लंबित सभी मामलों का निकाल लिया गया है हल

लखनऊ: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को दावा किया कि उत्तर प्रदेश तथा उनके राज्य के बीच संपत्ति साझा करने संबंधी सभी लंबित मसले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बैठक के बाद सुलझा लिए गए हैं. लखनऊ स्थित प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे धामी का प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह और मीडिया प्रभारी मनीष दीक्षित की अगुवाई में पार्टी कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया. धामी ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच पिछले 21 सालों से चले आ रहे संपत्ति के साझाकरण संबंधी सभी मामलों का हल निकाल लिया गया है. गौरतलब है कि 2000 में उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों को अलग करके पृथक उत्तरांचल राज्य बनाया गया था जिसका बाद में नाम बदलकर उत्तराखंड कर दिया गया.

धामी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बैठक के दौरान हुए समझौतों के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि सिंचाई विभाग की 5700 हेक्टेयर जमीन के बारे में यह तय हुआ है कि 15 दिन के अंदर दोनों राज्यों के अधिकारी संयुक्त रुप से सर्वेक्षण करेंगे जिसके आधार पर उत्तर प्रदेश को उसकी जरूरत के हिसाब से जमीन दे दी जाएगी और बाकी जमीन उत्तराखंड के खाते में जाएगी. उन्होंने बताया कि आवास विभाग से जुड़े मुद्दों पर दोनों राज्यों के बीच 50-50फीसद के आधार पर संपत्तियों तथा दायित्वों का बंटवारा किया जाएगा तथा उत्तराखंड को उत्तर प्रदेश के परिवहन विभाग से 205 करोड रुपए प्राप्त होंगे. धामी ने बताया कि हरिद्वार स्थित होटल अलकनंदा उत्तराखंड को हस्तांतरित किया जाएगा एवं उत्तराखंड को किच्छा में बस अड्डे के लिए जमीन भी प्राप्त होगी. उनके अनुसार वन विभाग के 90 करोड़ रुपए का भुगतान उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया जाएगा. दोनों राज्यों के बीच अदालतों में लंबित मामलों के बारे में धामी ने कहा कि दोनों राज्य इन मुकदमों को वापस लेंगे.

एक सवाल पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने भी अनेक बैठकें आयोजित करके अन्य लंबित मुद्दों का हल निकालने पर काम किया था एवं उन्हें इस बात की खुशी है कि बीच का रास्ता अपनाकर दोनों राज्य एक परस्पर सहमति पर पहुंचे हैं. धामी ने कहा कि चुनाव से ज्यादा बड़ी चुनौती विभिन्न परियोजनाओं को जमीन पर उतारने की है. राज्य के आगामी विधानसभा चुनाव के बारे में पूछे जाने पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न पार्टियां राज्य में विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए आ रही हैं लेकिन सिर्फ भाजपा ही एक ऐसी सरकार दे सकी है जिसने पिछले साढे चार वर्षों के दौरान बिना थके जनता के लिए काम किया है. उत्तराखंड भाजपा में अंदरूनी खींचतान के बारे में पूछे जाने पर धामी ने कहा कि जब से उन्होंने मुख्यमंत्री का पद संभाला है तब से ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें