Live News »

अलवर: मॉब लिंचिंग के शिकार युवक के पिता ने की आत्महत्या, मांगों को लेकर अड़े ग्रामीण  

अलवर: मॉब लिंचिंग के शिकार युवक के पिता ने की आत्महत्या, मांगों को लेकर अड़े ग्रामीण  

टपूकड़ा: झिवाणा निवासी हरीश जाटव के पिता द्वारा जहर खाकर आत्महत्या मामले में अलवर जिला कलेक्टर व एसपी ने टपूकड़ा सीएचसी में ग्रामीणों द्वारा गठित एक प्रतिनिधि मंडल से वार्ता की. जिसमें ग्रामीणों ने मृतक हरीश जाटव की पत्नी को नौकरी, मुआवजा, आरोपियों की गिरफ्तारी सहित भिवाड़ी एडिशनल एसपी व डीएसपी को जांच में लापरवाही बरतने पर हटाने की मांग की. जिस पर जिला कलेक्टर ने ग्रामीणों की मांग सुनते हुए राजस्थान सरकार व उच्च अधिकारियों को स्थिति से अवगत कराने की बात कही.

मांगों को लेकर अड़े ग्रामीण:
फिलहाल ग्रामीण टपूकड़ा सीएचसी टीके हुए हैं और जल्दी मांग पुरी करने का दबाव बना रहे हैं. मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल व प्रशासन मौजूद हैं. झिवाणा गांव में हरीश जाटव के पिता द्वारा कल जहर खाकर की गई आत्महत्या के बाद शव को टपूकड़ा सीएससी मोर्चरी में रखवाया, जहां पर झिवाणा  सहित आसपास के सैकड़ों ग्रामीण एकत्रित हो गए और अपना आक्रोश जता रहे हैं. इस दौरान मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद है. ग्रामीण अस्पताल में नारेबाजी कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. परिजनों का कहना है कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होगी, शव नहीं उठाया जाएगा. जिला कलेक्टर व एसपी ने वार्ता कर जल्दी समाधान का आश्वासन दिया. 

... टपूकड़ा से राकेश गोयल की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: रतिराम आत्महत्या मामले में परिजनों और प्रशासन के बीच बनी सहमति, धरना समाप्त

VIDEO: रतिराम आत्महत्या मामले में परिजनों और प्रशासन के बीच बनी सहमति, धरना समाप्त

टपूकड़ा: झिवाणा निवासी हरीश जाटव के पिता रतिराम द्वारा जहर खाकर आत्महत्या मामले में चार दिनों बाद आज गतिरोध समाप्त हो गया. कई दौर की वार्ता के बाद प्रशासन व परिजनों में सहमति बन गई और धरना समाप्त हो गया. जिसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया. वहीं शव का अंतिम संस्कार भी आज किया जाएगा. 

मामले में जांच का आश्वासन:
दरअसल पिछले चार दिनों से प्रशासन व परिजनों में सहमति नहीं बनने के कारण शव चार दिनों से टपूकड़ा सीएचसी मोर्चरी में रखा हुआ था. वहीं परिजन व ग्रामीण 3 दिनों से धरने पर ही बैठे हुए थे. ग्रामीण मांग मानने के बाद ही शव उठाने पर अड़े हुए थे. जिसके चलते सीएससी के बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया. आज बंद कमरे के अंदर प्रशासन के साथ वार्ता हुई. वार्ता के बाद बीजेपी नेता भी सहमत नजर आए. प्रशासन ने परिजनों को आर्थिक सहायता और हरीश जाटव मामले में जांच का आश्वासन दिया. वहीं रेखा जाटव को आंगनबाड़ी में कार्यकर्ता बनाया जाएगा. इसके अलावा दोषी अधिकारी हुए तो कार्रवाई भी होगी. 

भारी संख्या में पुलिस बल तैनात:
आज क्षेत्र में ग्रामीणों द्वारा बाजार बंद किया गया. जिससे तनाव के हालात बन गए. हालात नियंत्रण में रहे, इसके लिए टपूकड़ा CHC के बाहर भी भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया.

रतीराम आत्महत्या मामले में टपूकड़ा बाजार बंद, शव उठाने को लेकर चल रहा गतिरोध 

रतीराम आत्महत्या मामले में टपूकड़ा बाजार बंद, शव उठाने को लेकर चल रहा गतिरोध 

टपूकड़ा: झिवाणा निवासी हरीश जाटव के पिता रतिराम द्वारा जहर खाकर आत्महत्या मामले में चार दिनों बाद भी अभी गतिरोध बना हुआ है. वहीं कई दौर की वार्ता के बावजूद प्रशासन व परिजनों में सहमति नहीं बनने के कारण शव चार दिनों से टपूकड़ा सीएचसी मोर्चरी में रखा हुआ है. परिजन व ग्रामीण 3 दिनों से धरने पर ही बैठे हुए हैं. 

ग्रामीण-परिजन सभी शर्तों के लिए बना रहे दबाव:
दरअसल ग्रामीण मांग मानने के बाद ही शव उठाने पर अड़े हुए हैं. सीएससी के बाहर इस समय भारी पुलिस बल व ग्रामीण एकत्रित है. बंद कमरे के अंदर  प्रशासन के साथ वार्ता जारी है. प्रशासन कई शर्तों पर तैयार भी हो गया, लेकिन कुछ ऐसी शर्ते हैं, जिसे प्रशासन की तरफ से मानने से इनकार किया जा रहा है. वहीं दूसरी और रतिराम की मौत मामले ने अब राजनीतिक रूप ले लिया है और सभी पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौके पर नारेबाजी कर पब्लिक को उकसा रहे हैं. 

भारी संख्या में पुलिस बल तैनात:
फिलहाल क्षेत्र में बाजार बंद है और तनाव के हालात बने हुए हैं. पुलिस व प्रशासन हालातों पर निगाह बनाए हुए हैं. टपूकड़ा CHC के बाहर भी भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. 

... टपूकड़ा से राकेश गोयल की रिपोर्ट  

Open Covid-19