कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने नई पार्टी बनाने का किया ऐलान, पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के लिए किया आवेदन

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने नई पार्टी बनाने का किया ऐलान, पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के लिए किया आवेदन

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने नई पार्टी बनाने का किया ऐलान, पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के लिए किया आवेदन

चंडीगढ़: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बुधवार को कहा कि उन्होंने पार्टी के नाम और प्रतीक के लिए आवेदन किया है और निर्वाचन आयोग से मंजूरी मिलने के बाद वह इसकी घोषणा करेंगे. सिंह ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह जल्द ही अपनी नई पार्टी बनाएंगे और अगर तीन कृषि कानूनों को लेकर किसानों के हित में कुछ समाधान निकलता है तो वह भाजपा के साथ 2022 के चुनाव में सीटों के समझौते को लेकर आशान्वित हैं. 

उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मैं एक पार्टी का गठन कर रहा हूं. लेकिन मैं आपको अभी नाम नहीं बता सकता हूं. निर्वाचन आयोग से नाम और चुनाव चिह्न को मंजूरी मिलने के बाद ही मैं आपको इस बारे में बता पाऊंगा. निर्वाचन आयोग से मंजूरी मिलने की प्रतीक्षा करें. उन्होंने कहा कि हमने चुनाव चिह्न और पार्टी के नाम के लिए आवेदन किया है. पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. इसी बीच पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने पूर्व मुख्यमंत्री पर एक बार फिर निशाना साधा है. उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि हम, कांग्रेस के 78 विधायक कभी इस बारे में सोच भी नहीं सकते कि हमें प्रवर्तन निदेशालय नियंत्रित, भाजपा का वफादार मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह था. जिसने खुद को बचाने के लिए पंजाब के हितों का सौदा कर लिया! आप पंजाब के न्याय और विकास को रोकने वाली नकारात्मक ताकत थे.यह घटनाक्रम पंजाब विधानसभा चुनाव के कुछ महीने पहले सामने आया है. पिछले महीने राज्य सरकार से बाहर निकलने वाले सिंह ने कहा कि वह समान विचारधारा वाले दलों जैसे अकाली से अलग हुए समूहों के साथ गठबंधन पर भी विचार कर रहे हैं. 

दो बार मुख्यमंत्री रहे सिंह ने कहा था कि जब तक वह अपने लोगों और अपने राज्य का भविष्य सुरक्षित नहीं कर लेते, तब तक वह चैन से नहीं बैठेंगे. सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू से सियासी संघर्ष के बाद पिछले महीने पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. पूर्व मुख्यमंत्री ने इस्तीफे के बाद कहा कि वह ‘अपमानित’ महसूस करते हैं. कांग्रेस ने उनकी जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया. सिंह ने पिछले महीने गृह मंत्री अमित शाह से दिल्ली में मुलाकात की और किसान आंदोलन पर चर्चा करते हुए उनसे तीन कृषि कानूनों को वापस लेकर इस संकट को सुलझाने की अपील की. सोर्स- भाषा
 

और पढ़ें