Live News »

भारत समेत दुनिया के कई देशों में दिखा सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा, दिन में नजर आए तारे

भारत समेत दुनिया के कई देशों में दिखा सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा, दिन में नजर आए तारे

नई दिल्ली: भारत समेत दुनिया के कई देशों में सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा देखा जा रहा है. धरती पर हल्का हल्का सा अंधेरा नजर आने लगा है. जिसकी वजह से कई जगहों पर दिन में तारे भी देखे गए है. आबूधाबी, ओमान और दुबई सूर्यग्रहण का नजारा देखा जा रहा है. देश में अलग-अलग समय पर सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा देखा जा रहा है. दिल्ली, नोएडा, मुंबई, देहरादून में सूर्यग्रहण का नजारा देखा गया. दिल्ली में दोपहर 1 बजकर 49 मिनट तक सूर्यग्रहण का नजारा देखा जा सकता है. ज्योतिष शास्त्र में सूर्यग्रहण का विशेष वर्णन किया गया है. ग्रहण के वक्त खाद्य पदार्थों का सेवन न करने की सलाह दी गई है. ग्रहण के वक्त वाहन नहीं चलाने चाहिए. जरूरी हो तो हैडलाइट जलाकर वाहन चलाएं.

सूर्य बाएं तरफ से थोड़ा कटा हुआ आया नजर:
दिल्ली से भी सूर्य ग्रहण की फोटो सामने आई है. दिल्ली में बादलों की वजह से ग्रहण पूरी तरह दिखाई नहीं दे रहा है पर चंद्रमा की हल्की छाया सूर्य पर देखी जा सकती है.सूर्य बाएं तरफ से थोड़ा कटा हुआ नजर आ रहा है.

जयपुर में भी नजर आया सूर्यग्रहण का नजारा:
राजस्थान की राजधानी जयपुर के आसमान में सूर्यग्रहण नजर आया. यहां पर सूर्य ग्रहण दोपहर 1:44 बजे तक नजर आएगा. ग्रहण को पूरी तरह से 11:55 पर देखा जा सकेगा. यह एशिया, अफ्रीका, प्रशांत, हिंद महासागर, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों से दिखाई देगा. आज के बाद अगला सूर्यग्रहण इसी साल 14 या 15 दिसंबर को होगा. हालांकि, माना जा रहा है कि अगला सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. वैज्ञानिकों के अनुसार, एक साल में कुल पांच सूर्यग्रहण तक लग सकते हैं.

ऑटोमोबाइल सेक्टर ने फिर गति पकड़ना किया शुरू, जून के पहले पखवाड़े में वाहनों की बिक्री रही अच्छी

सूर्य वलयाकार नजर आया:
अहमदाबाद के बाद नोएडा से भी सूर्य ग्रहण की फोटो सामने आई है. इसमें सूर्य वलयाकार दिखाई दे रहा है. 21 जून के बाद अगला सूर्यग्रहण इसी वर्ष 14 या 15 दिसंबर को होगा. हालांकि, माना जा रहा है कि अगला सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. वैज्ञानिकों के मुताबिक एक वर्ष में कुल पांच सूर्यग्रहण तक लग सकते हैं.

सूर्य बिल्कुल नजर आया पीला:
पंजाब के अमृतसर के आसमान में रविवार को सूर्यग्रहण का नजारा नजर आया. सूर्य ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर शुरु हुआ और यह 3 बजकर 4 मिनट तक रहेगा. महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से सूर्य ग्रहण कुछ तरह का दिखाई दिया. सूर्य बिल्कुल पीला नजर आ रहा है.

छठा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: पीएम मोदी का देश के नाम संबोधन, कहा-इस बार की थीम योग एट होम, योग एट फैमिली

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

जयपुर: राजस्थान में सियासी घमासान थमने के बाद 15वीं विधानसभा का 5वां सत्र आज 11 बजे से शुरू होने जा रहा है. इसमें गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव तो वहीं भाजपा अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में है. इस बीच बसपा ने बसपा ने भी अपने 6 विधायकों को व्हिप जारी कर अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति में कांग्रेस के खिलाफ वोट करने को कहा है. 

विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया:
इससे पहले गुरुवार को भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ हुई विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया गया था. बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता वसुंधरा राजे भी शामिल हुई थीं. पार्टी सूत्रों की माने तो अविश्वास प्रस्ताव लाने के फैसले का संख्याबल से कोई लेना देना नहीं है. बीजेपी जानती है कि सीएम गहलोत के पास बहुमत है और उनकी योजना विश्वास मत कायम करने की है जिससे उन्हें छह महीने के लिए राहत मिल जाएगी. ऐसे में बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव की बात कहकर गहलोत की योजना को विफल करने का प्रयास किया है. 

सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी:
वहीं सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी. डिप्टी सीएम के पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट अब अशोक गहलोत के बगल वाली सीट पर नहीं बैठेंगे. बताया जा रहा है कि पायलट को निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा के बगल वाली सीट अलॉट की गई है. सचिन पायलट के साथ ही दो मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किया गया था. इस वजह से विश्वेंद्र सिंह सबसे आखिरी पंक्ति में 14वें नंबर सीट पर बैठेंगे, जबकि रमेश मीणा को दूसरे रूम में पांचवी पंक्ति के 54 नंबर सीट दी गई है.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

 कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

जयपुर: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया है. सीएम गहलोत ने कहा कि सदन में हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे. हम 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते, लेकिन अभी जो खुशी है वो नहीं होती. क्योंकि अपने तो अपने होते हैं, जो हुआ उसे भूल जाएं. किसी भी विधायक की शिकायत को दूर करेंगे. अभी चाहो तो अभी बाद में चाहो तो बाद में मिल लें. बैठक में सभी ने एक साथ हाथ खड़े कर एकजुटता दिखाई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तमाम विधायक मौजूद रहे. यह बैठक सीएमआर में हुई. जहां पर सभी कांग्रेस के विधायक एक जुट दिखाई दिए. इससे पहले पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने सीएमआर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की. विवाद खत्म होने के बाद सीएम गहलोत और पायलट ने एक दूसरे से हाथ मिलाया. 

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

आखिर सामने आ गयी एक सुखद तस्वीर:
राजस्थान सियासी संकट के बाद आखिर एक सुखद तस्वीर सामने आ गई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत और पायलट दोनों बैठक में मौजूद रहे. बैठक में केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, सुरजेवाला, अजय माकन भी मौजूद रहे. बैठक में गहलोत-पायलट समेत सभी ने विक्ट्री का साइन दिखाया. बैठक में गोविंद सिंह डोटासरा ने अपने संबो​धन में कहा कि अंग्रेजों की फूट डालो राज करो की तर्ज पर भाजपा ने षड़यंत्र किया, लेकिन भाजपा अपने षड़यंत्र में कामयाब नहीं हुई. बैठक में विवेक बंसल, काजी निजामुद्दीन ,देवेन्द्र यादव और तरुण कुमार समेत तमाम मं​त्री और विधायक गण मौजूद रहे.

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म:
आपको बता दें कि राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

गहलोत सरकार को गिराने का लगा था आरोप:
बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. 

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

जयपुर: प्रदेश में कोरोना महामारी में आमजन की दिक्कतों को देखते हुए गहलोत सरकार ने एकओर बड़ा फैसला किया है.इसके तहत प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैनों के जरिए आमजन को न मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत दी जाने वाली दवाओं का वितरण किया जाएगा बल्कि जरूरी जांचों की सुविधा भी इन वैनों में उपलब्ध कराई जाएगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत न सिर्फ कोरोना की रोकथाम को लेकर गंभीर है, बल्कि इस दरमियान आमजन को हो रही दिक्कतों का भी हर संभव समाधान कर रहे है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि वर्तमान में ज्यादातर अस्पतालों को कोविड फ्री कर दिया गया है.फिर भी सरकार ने प्रदेश भर में चलाई जा रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए आमजन को और अधिक राहत देने के लिए निशुल्क दवा और जांच योजना की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं.

वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4:
उन्होंने बताया कि कोरोना के अलावा बीमारियों के उपचार के लिए प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए हजारों लोग प्रतिदिन चिकित्सा सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं.कोरोना रोकथाम को लेकर डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में जीवनरक्षक इंजेक्शन की खरीद आरएमएससीएल के द्वारा कर ली गई है.सभी जिला अस्पतालों में ये इंजेक्शन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं.उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 रह गई है.इस दर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना में प्लाज्मा थेरेपी अहम पद्धति साबित हुई है.जिन लोगों को थेरेपी दी गई थी, वे अब पूरी तरह स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं.

विवाद खत्म होने के बाद सचिन पायलट ने की मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात, आज होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक

लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता:
उन्होंने बताया कि लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता आने लगी है.जो लोग कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं, वे आगे आकर अपना प्लाज्मा दान कर रहे हैं.पिछले दिनों झुंझनूं में 48 लोगों ने प्लाज्मा दान किया है.जोधपुर के कलेक्टर ने पॉजिटिव से नेगेटिव होने के बाद प्लाज्मा दान कर लोगों की प्रेरणा बने हैं.जोधपुर में प्लाज्मा कैंप लग रहा है, पाली व अन्य जिलों में व्यापक स्तर पर कैंप आयोजित कर लोगों को प्लाज्मा दान के लिए प्रेरित किया जा रहा है.उन्होंने कोरोना डिफिटर्स से अपील करते हुए कहा कि प्लाज्मा दान देने से कोई परेशानी, कोई कमजोरी नहीं आती लेकिन इस कोशिश से किसी की जिंदगी जरूर बच सकती है.

पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी:
डॉ. शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी हुई लेकिन बढ़ती संख्या के पीछे ज्यादा जांचें होना भी है.प्रदेश में 32 हजार से ज्यादा जांचें प्रतिदिन की जा रही हैं.उन्होंने कहा कि ज्यादा लोग असिंप्टोमेटिक हैं, ऐसे में जितनी ज्यादा जांचें होंगी उतनी ही जल्द हम कोरोना के प्रसार को थाम सकेंगे.उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य बेहतर रिकवरी और कोरोना से होने वाली मृत्युदर को कम करना है.इसके लिए विभाग और सरकार द्वारा कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जा रही है.राज्य में 73-74 फीसद मरीज बेहतर उपचार के बाद ठीक हो रहे हैं, वहीं कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 फीसद हो गई है. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि क्वारंटीन सुविधाओं के क्रियान्वयन को बेहतर करने के लिए कमेटियों का गठन किया गया था. अब इन कमेटियों को फिर से प्रभावी बनाकर गांव-गांव तक क्वारंटीन व्यवस्था को मजबूती दी जाएगी.उन्होंने बताया कि सभी चिकित्सा अधिकारी, सरपंच, जन प्रतिनिधि व अन्य अधिकारियों को होम क्वारंटीन सुविधाओं को मजबूत बनाने के लिए निर्देश दिए जाएंगे.

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

जयपुर: राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. ह

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

बीकानेर: जिले के जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना क्षेत्र में हुए महिला के ब्लाइंड मर्डर का पुलिस ने आज खुलासा कर दिया. जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना पुलिस ने ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे मामले का खुलासा किया. सीओ सदर पवन कुमार भदौरिया, JNVC थानाधिकारी गोविंद सिंह चारण भी दौरान मौजूद रहे. 

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार 

नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या:  
ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने बताया कि महिला द्वारा तीन लाख रुपये और मकान की नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या कर दी गई और उसके बाद शव को जलाकर जोधपुर बाईपास पर गणेश विहार में एक जर्जर मकान में फेंक दिया गया. उन्होंने बताया कि मृतक महिला परमेश्वरी ने अपनी जाति छुपाकर बीकानेर के गंगाशहर निवासी लालचंद उपाध्याय के साथ प्रेम विवाह किया था. कुछ दिनों बाद महिला की जाति का पता चलने पर लालचंद व उसके मध्य विवाद होने लगे. उसके बाद महिला के प्रेमी लालचंद के दोस्त पूनमचंद के साथ भी नाजायज संबंध बन गए. मृतक महिला शराब पीने की भी आदि थी. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी: 
उन्होंने बताया कि महिला परमेश्वरी ने लालचंद और पूनमचंद से तीन लाख रुपये और मकान देने की मांग की ओर नही देने पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी. जिस पर लालचंद और पूनम चंद ने अपने दोस्त पंकज के साथ मिलकर परमेश्वरी को मारने की योजना बनाई और उसे शराब पिलाकर रस्सी से गला घोट दिया. उसके बाद उसका शव जला कर खंडहर नुमा मकान में फेंक दिया. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से हत्या के अन्य तथ्यों के बारे में भी पूछताछ कर रहे हैं. गैरतलब है कि दो दिन पूर्व महिला का अधजला शव मिला था. 

...संजय पारीक फ़र्स्ट इंडिया न्यूज बीकानेर

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार

जयपुर: बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर बसपा विधायकों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से इनकार किया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाईकोर्ट इस मामले पर सुनवाई कर रहा है ऐसे में इस मामले पर हम दखल नहीं देंगे. अब प्रकरण पर सोमवार को अगली सुनवाई होगी. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

इससे पहले सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि जब हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है तो हमारा केस सुनना सही है. इस दौरान वकील सतपाल जैन ने कहा कि कल से विधानसभा का सत्र है, ऐसे में बसपा विधायकों पर फैसला होना जरूरी है. स्पीकर का फैसला पूरी तरह से गलत है. 

अगर कोई एजेंडा नहीं है तो तुरंत आदेश जरूरी नहीं:  
वहीं इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि क्या राजस्थान सरकार कल विश्वास मत पेश करेगी? ऐसे में अगर कोई एजेंडा नहीं है तो तुरंत आदेश जरूरी नहीं है. जिस पर जवाब दिया गया कि कोई प्रस्ताव नहीं है. इसपर अभी एजेंडा तय होना है. अभी अदालत की ओर से इसपर कोई अंतरिम आदेश नहीं सुनाया गया है, अब सोमवार को अगली सुनवाई होगी. 

कल ही विश्वास मत हासिल करेगी सरकार! कांग्रेस के रणनीतिकारों ने बनाई रणनीति 

हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई अधूरी रही:
इससे पहले बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण मामले की हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई अधूरी रही. हाईकोर्ट में कल सुबह 10:30 बजे तक सुनवाई टल गई है. ऐसे में अब जस्टिस महेंद्र गोयल की एकलपीठ में कल फिर सुनवाई होगी. हाईकोर्ट के अलावा सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले पर सुनवाई जारी है. 

सुप्रीम कोर्ट में राज्य सरकार की ओर से पैरवी हेतु अधिवक्तागण का पैनल लॉयर नियुक्त

सुप्रीम कोर्ट में राज्य सरकार की ओर से पैरवी हेतु अधिवक्तागण का पैनल लॉयर नियुक्त

जयपुर: राज्य सरकार ने एक आदेश जारी कर सुप्रीम कोर्ट के समक्ष राजस्थान राज्य की ओर से प्रकरणों को प्रस्तुत एवं पैरवी करने हेतु चार अधिवक्तागण को शर्तो के अधीन अस्थाई तौर पर पैनल लॉयर नियुक्त किया है. 

बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई रही अधूरी, कल सुबह 10:30 बजे तक टली  

राज्य सरकार की ओर से पैनल लॉयर नियुक्त किया गया: 
प्रमुख शासन सचिव विधि विनोद कुमार भारवानी की ओर से इस सम्बंध में जारी आदेशानुसार अधिवक्तगण अभिजीत शाह, निलोफर खान, आशुतोष शेखर पारचा एवं  प्रीति थानवी को उच्चतम न्यायालय में राज्य सरकार की ओर से पैनल लॉयर नियुक्त किया गया है.  

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

विधि विभाग द्वारा प्रकरणों का आवंटन किया जावेगा: 
इन अधिवक्तागण को शर्तों के अधीन अस्थाई तौर पर पैनल लॉयर नियुक्त किया गया है. निर्धारित शर्तों के अनुसार सभी अधिवक्तागण को प्रारूपण फीस विभागीय आदेश दिनांक 5 जून 2015 के अनुसार देय होगी. इसके अतिरिक्त यह नियुक्ति विधि विभाग द्वारा समय-समय पर जारी किये गये परिपत्रों एवं आदेशों के अधीन होगी तथा इनकी सेवायें किसी भी समय बिना नोटिस दिये व बिना कारण बताये इस विभाग द्वारा समाप्त की जा सकेगी. अधिवक्तागण को विधि विभाग द्वारा प्रकरणों का आवंटन किया जावेगा.  


 

बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई रही अधूरी, कल सुबह 10:30 बजे तक टली

बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई रही अधूरी, कल सुबह 10:30 बजे तक टली

जयपुर: बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण मामले की हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई अधूरी रही. हाईकोर्ट में कल सुबह 10:30 बजे तक सुनवाई टल गई है. ऐसे में अब जस्टिस महेंद्र गोयल की एकलपीठ में कल फिर सुनवाई होगी. हाईकोर्ट के अलावा सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले पर सुनवाई जारी है. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

अंतरिम आदेश का रिव्यू नहीं किया जा सकता: 
इससे पहले आज सुनवाई को दौरान हाईकोर्ट में कपिल सिब्बल ने कहा कि संविधान ने स्पीकर को ही इसका अधिकार दिया है, ऐसे में स्पीकर के अंतरिम आदेश का रिव्यू नहीं किया जा सकता है. सिब्बल ने कोर्ट को बताया कि विलय का मतलब ये नहीं है कि हमने कांग्रेस की सदस्यता दी है, ये सिर्फ विधानसभा में बैठने की व्यवस्था है. उन्होंने कहा कि अगर सौ सदस्य आकर विलय की बात करें तो स्पीकर 10वीं शेड्यूल के तहत काम नहीं करेगा. हाईकोर्ट की सुनवाई अब शुक्रवार सुबह तक टल गई है.

जयपुर में भाजपा विधायक दल की बैठक शुरू, वसुंधरा राजे और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी पहुंचे 

मायावती की ओर से इस पर आपत्ति जताई गई:
गौरतलब है कि बसपा के 6 विधायकों ने कांग्रेस में अपना विलय राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव के कुछ समय बाद ही कर लिया था. हाल ही में बसपा प्रमुख मायावती की ओर से इस पर आपत्ति जताई गई और हाईकोर्ट का रुख किया गया. इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई थी. बसपा की ओर से जारी व्हिप से इतर सभी 6 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का साथ देने को कहा था और उन्हें ही अपना नेता बताया था.


 

Open Covid-19