राजस्थान के कई जिलों में दिखे सूर्यग्रहण के अद्भुत नजारे, कहीं दिन में छाया अंधेरा, तो कहीं दिखा रिंग ऑफ फायर

राजस्थान के कई जिलों में दिखे सूर्यग्रहण के अद्भुत नजारे, कहीं दिन में छाया अंधेरा, तो कहीं दिखा रिंग ऑफ फायर

जयपुर: साल का पहला सूर्यग्रहण का नजारा राजस्थान के कई जिलों में भी देखा जा रहा है. बीकानेर में सूर्य ग्रहण के अद्भुत नजारे देखे गए है, कई जगहों पर दिन में तारे भी नजर आये.  यह एक वलयाकार सूर्य ग्रहण है. इसमें सूर्य किसी चमकीले छल्ले की तरह नजर आता है. जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक कक्षा में इस तरह आ जाते हैं कि पृथ्वी तक सूर्य की किरणें नहीं पहुंच पाती तब सूर्य ग्रहण पड़ता है. बात करे प्रदेश की राजधानी जयपुर में भी सूर्यग्रहण का नजारा देखा गया. चलिए जानते है प्रदेश के अन्य जिलों में कैसा नजर आया सूर्य ग्रहण का नजारा. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 4 मौत, 154 नए पॉजिटिव केस, सर्वाधिक 59 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले धौलपुर में

बीकानेर में सूर्यग्रहण देखने की व्यवस्था:
इस साल का पहला सूर्य ग्रहण आज हो रहा है. बीकानेर में भी आमजन के लिए सूर्यग्रहण देखने की व्यवस्था की गई. बीकानेर के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्यालय में पहुंच कर आमजन ने सूर्य ग्रहण का नजारा देखा. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग कार्यालय में टेलीस्कोप, फोल्ड स्कोप व दूरबीन आदि के माध्यम से सूर्य ग्रहण का नजारा दिखाया गया. कार्यालय के अनुसंधान अधिकारी सुनील बोड़ा सहित वैज्ञानिक और आमजन इस दौरान मौजूद रहे. अनुसंधान अधिकारी सुनील बोड़ा ने बताया कि आज साल का पहला और बड़ा सूर्य ग्रहण है. वैज्ञानिक रूप से इसके कई मायने हैं. इसलिए यहां पर वैज्ञानिकों और आमजन के लिए सूर्यग्रहण देखने की व्यवस्था की गई है. 

सूर्यनगरी जोधपुर में देखा गया ग्रहण:
इस साल के पहले सूर्य ग्रहण के चलते सूर्य नगरी जोधपुर में इसका असर देखा गया,वर्ष के सबसे बड़े दिन पर 3 घंटे 28 मिनट अवधि के ग्रहणकाल में छह ग्रह वक्री रहे, जोधपुर के मेहरानगढ़ किले पर ऊंचाई होने के कारण हर कोई सूर्य ग्रहण देखने के लिए मेहरानगढ़ किले के बाहर पहाड़ी पर पहुंचा और यहां से सूर्य ग्रहण को देखा. लेकिन अपने आप में यह एक चौंकाने वाली बात भी रही कि इतने महत्वपूर्ण खगोलीय घटनाक्रम को आम जनता से रूबरू कराने के लिए कोई व्यवस्था किसी स्थान पर नहीं की गई. जोधपुर के शनिधाम महेंद्र पंडित हेमंत बोहरा ने बताया कि कंकणाकृति सूर्यग्रहण के लिए जोधपुर में ग्रहण के सूतक नियम कल रात्रि 10.08 से शुरू हो गया था. जोधपुर में रविवार सुबह 10.08 बजे सूर्य ग्रहण का स्पर्श हुआ और 11.47 पर ग्रहण का मध्य तथा दोपहर 1.36 बजे ग्रहण का मोक्ष हुआ. जोधपुर में ग्रहण काल की अवधि 3 घंटे 28 मिनट की रही। सूर्य ग्रहण के अवधिकाल में एक साथ 6 ग्रह बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु, केतु वक्री रहे. 

भारत समेत दुनिया के कई देशों में दिखा सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा, दिन में नजर आए तारे

और पढ़ें