कांग्रेस का सीएम फेस को लेकर संशय अमित शाह के लिए बना सबसे बड़ा हथियार

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/03 09:18

जयपुर। राजस्थान के रण का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। प्रचार थमने के ठीक दो दिन पहले बीजेपी 'चाणक्य' अमित शाह ने एक बार फिर चित्तौड़गढ़ से हुंकार भरी और कांग्रेस को ललकारा। शाह ने सांवलिया सेठ मंदिर के दर्शन कर अपने चुनावी अभियान की शुरुआत की।

राजस्थान के रण में कांग्रेस की ओर से सीएम फेस घोषित नहीं करने की रणनीति को अमित शाह ने हथियार बना लिया है। इसी मुद्दे पर एक बार फिर से शाह ने कांग्रेस को घेरा। चित्तौड़गढ़ की सभा में सम्बोधित करते हुए अमित शाह ने राहुल गांधी और प्रदेश कांग्रेस के नेताओं को अपने सेनापति का नाम उजागर करने के लिए ललकारा। शाह ने पूछा कि आखिर क्या कारण है कि कांग्रेस अपने सेनापति का नाम नहीं बता सकती। शाह ने कहा कि राजस्थान में चुनाव दो खेमे बंट चुके हैं। एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी है, जिसमें देशभक्तों की फौज है तो दूसरी तरफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी है, जिनकी पार्टी में ना नेता हैं ना नीयत है। 

शाह ने दावा किया 7 दिसंबर को राजस्थान की जनता एक बार फिर बीजेपी की सरकार बना रही है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को अभी से सपने आ रहे हैं, राहुल बाबा को दिन में सपने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक ओर सर्जिकल स्ट्राइक में कांग्रेस के लोगों को राजनीति दिखाई पड़ती है और वहीं दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी देश में घुसे घुसपैठियों के समर्थन में खड़ी हो जाती है।

यही नहीं अमित शाह ने अपनी सभाओं में राहुल गांधी पर भी हमले किये। शाह ने कहा कि राहुल गांधी को 2014 के बाद का चुनावी इतिहास नहीं पता है। उसके बाद जितने भी चुनाव हुए हैं उनमें से अधिकतर चुनाव भारतीय जनता पार्टी ने जीते हैं। नेहरु-गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड फर्म बनी कांग्रेस पार्टी राजस्थान और देश का विकास नहीं कर सकती है। आज कांग्रेस की स्थिति ऐसी हो गई है कि उसे दूरबीन लेकर ढूंढना पड़ता है। राजस्थान में बीजेपी की सरकार अंगद का पैर है, इसे कोई नहीं हटा सकता है। शाह ने कहा कि जब मनमोहन सिंह की सरकार थी तब राजस्थान को 1,09,242 करोड़ रुपये मिले लेकिन जब बीजेपी की सरकार आई तो राज्य को 2,63,580 करोड़ रुपये मिले और वो पूछते हैं कि हमने क्या किया?।

अपनी सभाओं में उमड़ी भीड़ को देखकर भी अमित शाह गदगद दिखे। स्वतंत्र विश्लेषकों के मुताबिक बूंदी में करीब 40 हजार लोगों की भीड़ उमड़ी तो वहीं प्रतापगढ़ की सभा में 80 हजार की भारी भीड़ उमड़ने का आकलन लगाया जा रहा है। बहरहाल, चुनाव प्रचार थमने में महज दो दिन बचे हैं। ऐसे में कांग्रेस को घेरने का कोई मौका शाह नहीं छोड़ना चाहते। खासकर कांग्रेस के सीएम फेस घोषित नहीं करने को उन्होनें अपना सबसे बड़ा हथियार बना लिया है। क्योंकि वे जानते हैं कि इस मुद्दे पर कांग्रेस के पास कोई जवाब नहीं है। इसके अलावा शाह रैलियों की व्यस्तता से समय निकालकर फीडबैक और मॉनिटरिंग भी कर रहे हैं। मोदी, शाह और राजे की रैलियों में उमड़ रही भारी भीड़ से बीजेपी कार्यकर्ताओं में भी उत्साह देखने को मिल रहा है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

छ बार वर्ल्ड चैम्पियन रही मेरीकॉम की नजर अब अगले ओलंपिक पर

छ बार वर्ल्ड चैम्पियन रही मेरीकॉम की नजर अब अगले ओलंपिक पर
में एग्जिट पोल्स पर भरोसा नहीं करता-दिग्विजय सिंह
कार चालकों के लिए यूनिक डस्टबिन , बीकानेर मेँ स्वच्छ भारत की अनूठी पहल
आम आदमी पार्टी ने उठाए EVM पर सवाल
लाडपुरा कांग्रेस प्रत्याशी गुलनाज बानो से फर्स्ट इंडिया की ख़ास बात
सोनिया गांधी का जन्मदिन आज, राहुल देने वाले हैं \'खास गिफ्ट\'
जानिए अंक ज्योतिष के अनुसार राजस्थान विधानसभा चुनाव की कुछ हॉट सीट के बारे में
loading...
">
loading...