देहरादून अमित शाह बोले, उत्तराखंड में भाजपा की सरकार में सभी मोर्चो पर विकास हुआ 

अमित शाह बोले, उत्तराखंड में भाजपा की सरकार में सभी मोर्चो पर विकास हुआ 

अमित शाह बोले, उत्तराखंड में भाजपा की सरकार में सभी मोर्चो पर विकास हुआ 

देहरादून: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार में उत्तराखंड में सभी मोर्चों पर विकास हुआ है. उन्होंने राज्य की जनता से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में पार्टी को हर घर में समृद्धि लाने के लिए एक और जनादेश देने की अपील की. शाह ने यहां बन्नू स्कूल मैदान में एक जनसभा में उत्तराखंड में अपनी पार्टी के चुनाव अभियान की शुरुआत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अपने कार्यकाल के दौरान 85,000 करोड़ रुपये की सड़क और रेल बुनियादी ढांचा विकास परियोजनाएं लाए. उन्होंने विपक्षी कांग्रेस को चुनौती दी कि वह यह दिखाए कि उसने अपने समय में राज्य के लिए क्या किया है. उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस 10 साल तक केंद्र में सत्ता में रही. इस दौरान उसने उत्तराखंड के लिए क्या किया? उसे राज्य के लोगों को यह बताना चाहिए.

उन्होंने कहा कि केदारनाथ के पुनर्निर्माण के लिए मोदी के विजन के अनुरूप मंदिर और उसके आसपास ऐसे विकास कार्य किए गए, जो पहले कभी नहीं देखे गए.प्रधानमंत्री पांच नवंबर को मंदिर के दर्शन के दौरान केदारनाथ में आदि गुरु शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण करेंगे.अगले साल की शुरुआत में उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनावों में लोगों को अपने चयन में कोई गलती न करने की सलाह देते हुए शाह ने उनसे हर घर में समृद्धि लाने के लिए मोदी-धामी टीम को एक और मौका देने को कहा.

उन्होंने कहा कि मैंने एक बार कहा था कि उत्तराखंड का गठन अटल (बिहारी वाजपेयी) जी द्वारा की गई थी और मोदी जी इसे संवारेंगे. मेरी बात सच हो गई है. पिछले साढ़े चार साल में उत्तराखंड ने सभी मोर्चों पर विकास किया है. इन चुनावों में चयन करने में कोई गलती न करें. भाजपा को आपकी सेवा करने का एक और मौका दें. मोदी-धामी टीम हर घर में समृद्धि लाएगी. उन्होंने कहा कि अगर इस बार लोगों ने अपने फैसले में गलती की, तो राज्य में एक भ्रष्ट सरकार फिर से सत्ता में आ जाएगी.

अपने भाषण की शुरुआत में, शाह ने अलग उत्तराखंड राज्य के निर्माण के लिए आंदोलन के दौरान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में रामपुर तिराहा गोलीकांड का भी उल्लेख किया और पूछा,किसने अलग राज्य के लिए आंदोलन कर रहे लोगों पर गोलीबारी का आदेश दिया था? उस समय हुई गोलीबारी में छह लोग मारे गए थे और जब मुलायम सिंह अविभाजित उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे. शाह ने कांग्रेस नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर भी निशाना साधा और उन्हें 2017 के विधानसभा चुनावों से पहले सामने आए उनके स्टिंग वीडियो की याद दिलाई, जिसमें उन्हें बागी विधायकों के समर्थन को वापस हासिल करने के लिए एक सौदे पर बातचीत करते हुए कथित तौर पर दिखाया गया था. उन्होंने कहा कि  लोगों के पास जाने से पहले, जाइए अपना स्टिंग वीडियो देख लीजिए.

उन्होंने कांग्रेस नेता को डेनिस शराब घोटाले की भी याद दिलाई, जो रावत के मुख्यमंत्री कार्यकाल में उजागर हुआ था. उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्य के लोगों के लिए कुछ नहीं कर सकती. उन्होंने इसे एक ऐसी पार्टी बताया, जो "केवल चुनाव के समय धरने, प्रदर्शन और संवाददाता सम्मेलन करते हुए दिखाई देती है. शाह ने आरोप लगाया, जब बाढ़ आई तो आप कहां थे? जब उत्तराखंड कोरोना से जूझ रहा था, तब आप कहां थे. कांग्रेस एक रैंक, एक पेंशन (पूर्व सैनिकों के लिए) लागू नहीं कर सकी और एक परिवार के चार पीढ़ियों तक सत्ता में होने के बावजूद गरीबों के बैंक खाते नहीं खोल सकी.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस तुष्टीकरण में विश्वास करती है और याद दिलाया कि कैसे उत्तराखंड में कांग्रेस के शासन के दौरान मुसलमानों को शुक्रवार को राजमार्गों के बीच में नमाज अदा करने की अनुमति दी गई थी.शाह ने कहा कि मोदी गरीबों की समस्याओं को समझ सकते हैं, उनके लिए उनका दिल दुखता है. उन्होंने कहा कि यही वजह है कि देश के हर घर में बिजली और रसोई गैस पहुंच गई है. उन्होंने कहा कि दिसंबर 2022 के अंत से पहले देश के हर घर को नल का पानी मिलेगा.

उन्होंने उत्तराखंड में हाल में आई प्राकृतिक आपदा से तुरंत निपटने के लिए धामी की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने केंद्र के लिए करने के वास्ते शायद ही कुछ छोड़ा है. उन्होंने कहा कि संकट पर तुरंत प्रतिक्रिया करते हुए, धामी अयोध्या से अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द करते हुए लौटे और प्रभावित क्षेत्रों का दौरा शुरू किया. राहत और बचाव अभियान तुरंत शुरू किया गया और एक भी तीर्थयात्री को मरने नहीं दिया. जब मैं स्थिति का जायजा लेने पहुंचा, तो मुझे एहसास हुआ कि मेरे लिए भी करने के लिए शायद ही कुछ बचा था. गृह मंत्री ने मुख्य सचिव एस एस संधू और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अशोक कुमार की भी प्रशंसा की, जो बारिश प्रभावित क्षेत्रों के हवाई सर्वेक्षण में उनके साथ थे.

शाह ने ग्रामीण महिलाओं के लाभ के लिए तीन प्रमुख योजनाओं की शुरुआत की, जिसमें मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना भी शामिल है, जो पहाड़ी क्षेत्रों में महिलाओं को अपने पशुओं के लिए चारा लाने के लिए लंबी दूरी तय करने की मजबूरी से छुटकारा दिलाएगी. उन्होंने कहा कि यह उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में महिलाओं के घरों तक स्वस्थ चारा उपलब्ध कराएगा और इससे अपने पशुओं के लिए चारा लाने के लिए 8 से 10 किलोमीटर पैदल चलने में लगने वाले उनके समय की बचत होगी. अब वे अपने बच्चों को वह समय दे सकती हैं.

उत्तराखंड में प्राथमिक कृषि समितियों का कम्प्यूटरीकरण और एक सहकारी प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना शाह द्वारा शुरू की गई अन्य परियोजनाएं थीं. बाद में शाह ने हरिद्वार में देव संस्कृति विश्वविद्यालय में शांतिकुंज स्वर्ण जयंती वर्ष व्याख्यानमाला को संबोधित किया और लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए गायत्री मंत्र की शक्तियों पर विस्तार से बात की. शांतिकुंज अखिल विश्व गायत्री परिवार का मुख्यालय है, जो एक आध्यात्मिक संगठन है, जिसने गायत्री मंत्र को पूरी दुनिया में लोकप्रिय बनाया है. उन्होंने कहा कि यदि वेदों द्वारा निर्धारित तरीके से गायत्री मंत्र का सही ढंग से पाठ किया जाए तो यह आध्यात्मिक जागृति का मार्ग प्रशस्त कर सकता है और जीवन को बदल सकता है.

संस्था के स्वर्ण जयंती वर्ष में शांतिकुंज के संस्थापक पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य को याद करते हुए उन्होंने कहा कि अहंकार और भौतिक सफलता की खोज दिव्य ज्ञान के मार्ग में बाधा डालती है. शाह ने पंडित शर्मा की उस बात को भी याद किया कि आत्म-सुधार ही दुनिया को बदलने का एकमात्र तरीका है. उन्होंने कहा कि अगर आप दुनिया को बदलना चाहते हैं तो खुद को बदलिए, अगर आप दुनिया को सुधारना चाहते हैं तो खुद को सुधारिए. उन्होंने कहा कि पंडित शर्मा के ये शब्द आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं.(भाषा) 

और पढ़ें