द्वारका नई प्रौद्योगिकियों का प्रयोग कर तटीय सुरक्षा को अभेद्य बनाने की दिशा में काम कर रही सरकार: अमित शाह

नई प्रौद्योगिकियों का प्रयोग कर तटीय सुरक्षा को अभेद्य बनाने की दिशा में काम कर रही सरकार: अमित शाह

नई प्रौद्योगिकियों का प्रयोग कर तटीय सुरक्षा को अभेद्य बनाने की दिशा में काम कर रही सरकार: अमित शाह

द्वारका (गुजरात): केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि केंद्र सरकार नई प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल कर तटीय सुरक्षा को मजबूत एवं अभेद्य बनाने की दिशा में काम कर रही है.गुजरात के देवभूमि द्वारका जिले में राष्ट्रीय तटीय पुलिस अकादमी (एनएसीपी) के दौरे के दौरान शाह ने यह बात कही. तटीय शहर ओखा के पास स्थित और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) द्वारा संचालित अकादमी की संकल्पना 2018 में तटीय सुरक्षा के विभिन्न पहलुओं में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के कर्मियों को प्रशिक्षित करने के लिए देश के पहले स्कूल के रूप में की गई थी. बीएसएफ ने एक विज्ञप्ति में कहा कि गृह मंत्री ने प्रतिकूल मौसम और भौगोलिक चुनौतियों वाले क्षेत्र में संस्थान स्थापित करने के लिए बीएसएफ गुजरात फ्रंटियर और एनएसीपी द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की.

शाह ने अधिकारियों के साथ बातचीत के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में, हम नई प्रौद्योगिकियों का उपयोग कर तटीय सुरक्षा को मजबूत और अभेद्य बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं. हम समुद्री खतरों से निपटने के लिए तटीय सुरक्षा की चुनौतियों का गंभीरता से आकलन कर रहे हैं.उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भविष्य में अकादमी देश के विभिन्न तटीय राज्यों की समुद्री पुलिस को गहन और उच्चस्तरीय प्रशिक्षण प्रदान करेगी तथा तटीय क्षेत्रों की सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान देगी.

बीएसएफ गुजरात फ्रंटियर के महानिरीक्षक जी एस मलिक ने गृह मंत्री को बताया कि पिछले छह महीनों में गुजरात और महाराष्ट्र सहित नौ तटीय राज्यों तथा चार केंद्रशासित प्रदेशों के 427 कर्मियों के साथ सीमा शुल्क, बीएसएफ और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के अधिकारियों को अकादमी में प्रशिक्षण दिया गया है.पत्रकारों से बातचीत में बीएसएफ के महानिदेशक पंकज कुमार सिंह ने कहा कि सरकार ने एक साल में 3,000 कर्मियों को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा है.उन्होंने कहा कि बीएसएफ की जल शाखा देश में करीब 450 पोतों का संचालन करती है और उसे तटीय सुरक्षा में 40 साल का अनुभव है. राज्य के दो दिवसीय दौरे पर आए शाह ने दिन में द्वारका शहर स्थित प्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर में पूजा-अर्चना की. वह शाम को गांधीनगर में सहकारी क्षेत्र के एक सम्मेलन 'सहकार सम्मेलन' में प्रधानमंत्री के साथ जाएंगे .(भाषा) 

और पढ़ें