Amit Shah In Rajasthan: BSF के 57वें स्थापना दिवस पर बोले अमित शाह - केंद्र ने सीमाओं पर घुसपैठ पर त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित की, एंटी ड्रोन तकनीक पर काम जारी

Amit Shah In Rajasthan: BSF के 57वें स्थापना दिवस पर बोले अमित शाह - केंद्र ने सीमाओं पर घुसपैठ पर त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित की, एंटी ड्रोन तकनीक पर काम जारी

जैसलमेर: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि केंद्र ने देश की सीमाओं पर किसी भी घुसपैठ पर त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित की है. सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 57वें स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर शाह ने यहां यह भी कहा कि बल को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ प्रौद्योगिकी मुहैया कराना सरकार की प्रतिबद्धता है. शाह ने कहा कि भारत ड्रोन रोधी प्रौद्योगिकी विकसित कर रहा है और इसे जल्द ही सुरक्षाबलों को मुहैया कराया जाएगा. 

केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार, 2019 में जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद से पाकिस्तान से लगने वाली संवेदनशील सीमा पर ड्रोन और अज्ञात उड़न-वस्तुएं देखी गई हैं. सीमा को सुरक्षित करने वाले बीएसएफ जवान सुरक्षा का प्लेटफार्म बना रहे हैं. बीएसएफ को विश्व की आधुनिक तकनीकी से और मजबूत किया जाएगा. स्वदेशी ड्रोन तकनीकी की ओर काम चल रहा है. इसके साथ ही 50 हजार जवानों की भर्ती का काम पूरा हो गया है. भारतमाला प्रोजेक्ट से पूरे देश में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है. 

प्रधानमंत्री सीमाओं के प्रहरियों के प्रति हमेशा संवेदनशील रहे:

उन्होंने इससे आगे बोलते हुए कहा कि प्रधानमंत्री सीमाओं के प्रहरियों के प्रति हमेशा संवेदनशील रहे हैं. मोदी सरकार ने सशस्त्र बलों के परिवारजनों को पूर्ण स्वास्थ्य कवर प्रदान किया है. जिसके तहत एक कार्ड के द्वारा परिजन आसानी से इसका लाभ ले सकते हैं. कल ही मैं भारतमाला प्रोजेक्ट में बनी सड़क से सीमा सुरक्षा बल के अंतिम चौकी जाकर आया हूं. उससे लगता है कि देश के प्रधानमंत्री मोदी का यह कितना बड़ा निर्णय है. 

शांति हो या युद्ध बीएसएफ हमेशा समर्पित रहा:

अमित शाह ने कहा कि शांति हो या युद्ध बीएसएफ हमेशा समर्पित रहा है. बीएसएफ ने कोरोना काल में भी योगदान दिया. इसके साथ ही पर्यावरण संरक्षण का भी बड़ा काम किया है. मैं सुरक्षा बल के डीजी के माध्यम से सभी सुरक्षा बल के जवानों को बहुत-बहुत बधाई और साधुवाद देता हूं. हमारे सीमाएं और भारत के जवानों को कोई भी हल्के में नहीं ले सकता. उरी पर जब हमला हुआ तो भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक कर के जवाब दिया. सीमाओं पर अतिक्रमण का जहां प्रयास हुआ, वहां-वहां जवाबी कार्रवाई की गई. इससे आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि कोई भी देश तभी आगे बढ़ सकता है जब आप सुरक्षित हो. पुलवामा का जवाब हमने एयर स्ट्राइक से दिया, जिसकी दुनिया भर में तारीफ हुई. 

बीएसएफ दुनिया का सबसे बड़ा सीमाओं की रक्षा करने वाला सीमा सुरक्षा बल: 

जैसलमेर के पूनम सिंह स्टेडियम में हुए समारोह में शाह ने कहा कि बलिदान देने में बीएसएफ सिरमौर है. बलिदान देने वालों को मेरी व पीएम की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि. बीएसएफ दुनिया का सबसे बड़ा सीमाओं की रक्षा करने वाला सीमा सुरक्षा बल है. हर परिस्थितियों में बीएसएफ के जवानों ने अदम्य साहस व पराक्रम का परिचय दिया है. हर भौगालिक परिस्थिति में BSF मोर्चा संभाल रहे हैं. लोंगेवाला युद्ध को कोई नहीं भूल सकता. कम संख्या के बाद भी हमारे जवानों ने दुश्मन को खदेड़ दिया था. 

और पढ़ें