डीडवाना, नागौर आनंदपाल के छोटे भाई मंजीत के जेल से बाहर आने का रास्ता हुआ साफ, गनोड़ा कांड में हाईकोर्ट ने किया बरी

आनंदपाल के छोटे भाई मंजीत के जेल से बाहर आने का रास्ता हुआ साफ, गनोड़ा कांड में हाईकोर्ट ने किया बरी

आनंदपाल के छोटे भाई मंजीत के जेल से बाहर आने का रास्ता हुआ साफ, गनोड़ा कांड में हाईकोर्ट ने किया बरी

डीडवाना(नागौर): चूरू जिले के सुजानगढ़ इलाके के बहुचर्चित गनोड़ा हत्याकांड में शुक्रवार को राजस्थान हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कुख्यात गैंगस्टर आंनदपालसिंह के भाई मंजीत सिंह सहित 6 आरोपियों को इस मामले में बरी कर दिया है. मंजीतसिंह फिलहाल अजमेर के हाई सिक्योरिटी जेल में बंद है. 3 साल पहले चूरू जिले की सुजानगढ़ के एडीजे कोर्ट ने सभी आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी.  हालांकि इस केस के अलावा दूसरे केस में वांटेड होने के चलते आरोपियों को अभी जेल में ही रहना पड़ेगा.

राजस्थान हाईकोर्ट ने मंजीत सिंह सहित रामसिंह, मोंटी सिंह, कैलाशदान, महावीर सिंह और छोटू सिंह को रिहा किए जाने का फैसला सुनाया है. फिलहाल रामसिंह और मंजीत जेल में बंद हैं. मोंटी सिंह, कैलाशदान, महावीर सिंह और छोटू सिंह मामले में जमानत पर चल रहे हैं. रामसिंह और मंजीत अगर किसी दूसरे मामले में जेल वांटेड है तो उन्हें जेल में रहना पड़ेगा. मंजीत के जेल से बाहर आने का रास्ता साफ हो गया है.

 

बहुचर्चित जीवन गोदारा हत्याकांड में मंजीत करीब 3 साल पहले ही बरी हो चुका है. वहीं, लाडनूं के खेराज ह्त्याकाण्ड में बेल आउट है. इसके अलावा भी आनंदपाल फरारी सहित कुछ अन्य मामलों में भी बेल आउट बताया जा रहा है. ऐसे में हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद अब वो जल्दी ही जेल से बाहर निकल सकता है. 

और पढ़ें