Live News »

VIDEO: गहलोत सरकार के विज़न से अन्नदाता का कंधा मज़बूत, ऑनलाइन फसली ऋण से जुड़े किसान

जयपुर: राजस्थान देश का प्रथम राज्य बनने जा रहा है, जिसने सहकारी फसली ऋण ऑनलाइन वितरण प्रक्रिया से एक वर्ष के भीतर 8 लाख से अधिक नये किसानों को पहली बार फसली ऋण प्रणाली से जोड़कर 7 लाख किसानों को लगभग 1800 करोड़ रूपये का सहकारी फसली ऋण वितरण कर किसानों में हो रहे भेदभाव को पूरी तरह समाप्त किया है. एक रिपोर्ट: 

गहलोत सरकार का विज़न:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के स्पष्ट निर्देश थे कि सहकारी फसली ऋण वितरण में भेदभाव को समाप्त कर एक रूपी एवं पारदर्शी व्यवस्था को अपनाते हुये नये किसानों को सहकारी फसली ऋण प्रक्रिया से जोड़ा जाये, जिससे किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर फसली ऋण मिल सके एवं साहूकारों के चंगुल से भी मुक्त हो सकें. मुख्यमंत्री गहलोत की इसी सोच को लागू करते हुये शीर्ष सहकारी बैंक द्वारा ऑनलाइन फसली ऋण वितरण एवं पंजीयन योजना-2019 की शुरूआत की गई, जिसमें बायोमैट्रिक सत्यापन के आधार पर पात्र किसान को फसली ऋण वितरण होने लगा. इससे राज्य में 8 लाख नये किसानों को जोड़कर अब तक 21 लाख से अधिक किसान सहकारी फसली ऋण से जोड़े गये हैं और 8244 करोड़ रूपये से अधिक का फसली ऋण किसानों को मिल चुका है. हालांकि किसानों को कुल 16000 करोड रुपए के ऋण वितरित होने थे, लेकिन विषम आर्थिक हालात के चलते यह लक्ष्य पूरा नहीं किया जा सका. 

फसली ऋण के लिये आज तक 25 लाख से अधिक आवेदन:
नई फसली ऋण व्यवस्था में फसली ऋण से जुड़े 13 लाख पुराने किसान भी हैं, जो सहकारी बैंकों के साथ अन्य बैंकों से फसली ऋण प्राप्त कर रहे हैं. राज्य में फसली ऋण के लिये आज तक 25 लाख से अधिक किसानों ने फसली ऋण के लिये आवेदन किया है. जिनमें से 21.20 लाख किसानों को खरीफ सीजन में 4583 करोड़ रूपये तथा रबी सीजन में 3661 करोड़ रूपये का फसली ऋण वितरित किया गया है. अब तक लगभग 7 लाख नये किसानों को फसली ऋण वितरित हो चुका है शेष किसानों को 31 मार्च 2020 तक ऋण वितरित कर दिये जायेंगे।फसली ऋण वितरण में बायोमैट्रिक सत्यापन ने अपात्र किसानों को दूर कर पात्र किसानों को फसली ऋण से जोड़ा है राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना में भी बायोमैट्रिक सत्यापन से पात्र किसानों की ऋण माफी की गई है. वर्ष 2018 एवं वर्ष 2019 की ऋण माफी में वर्तमान सरकार द्वारा लगभग 15000 करोड़ रूपये वहन किये गये हैं. वर्ष 2019 की ऋण माफी में लगभग 20 लाख किसानों के लगभग 8000 करोड़ रूपये के ऋण माफ हो चुके हैं. ऋण माफी में जिन किसानों के फसली ऋण माफ हुये थे वह राशि किसानों को फसली ऋण के रूप में दी गयी थी. ऋण माफी के पश्चात् नये फसली ऋण वितरण में ऑनलाइन आवेदन के द्वारा अधिकतम साख सीमा स्वीकृत होकर पारदर्शी रूप से किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर फसली ऋण मिल रहा है. 

... संवाददाता निर्मल तिवारी की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

जयपुर एयरपोर्ट से आज रहीं 7 फ्लाइट रद्द, स्पाइसजेट की 4, इंडिगो की 2 फ्लाइट रहीं रद्द

जयपुर एयरपोर्ट से आज रहीं 7 फ्लाइट रद्द, स्पाइसजेट की 4, इंडिगो की 2 फ्लाइट रहीं रद्द

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट्स का संचालन शुरू हुए 10 दिन बीत चुके हैं और अब हवाई यात्रियों की संख्या में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है. हालांकि इसके बावजूद रोजाना कई फ्लाइट्स रद्द हो रही हैं. गुरुवार को भी जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से 7 फ्लाइट रद्द रहीं. सबसे ज्यादा स्पाइसजेट एयरलाइन की 4 फ्लाइट रद्द रहीं. वहीं इंडिगो एयरलाइन की 2 फ्लाइट और एयर एशिया की 1 फ्लाइट रद्द रही. एयर इंडिया की सभी फ्लाइट्स निर्धारित रूट पर संचालित हुईं. आपको बता दें कि अब कई फ्लाइट्स में यात्रीभार 80 फीसदी से भी अधिक रहने लगा है, ऐसे में आगामी दिनों में फ्लाइट्स की संख्या में और बढ़ोतरी होने की उम्मीद है.

चूरू जिले के पुलिसकर्मियों से एसपी कर रही मन की बात, तनावमुक्त करने के लिए किया जा रहा मोटिवेट

ये 7 फ्लाइट रहीं रद्द:
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:10 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट 6E-839 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट 6E-218 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 11:15 बजे अमृतसर जाने वाली फ्लाइट SG-3522 हुई रद्द

डिप्टी सीएम सचिन पायलट का बयान, प्रदेश के 46,543 गांवों की आबादी का होगा ड्रोन सर्वे

डिप्टी सीएम सचिन पायलट का बयान, प्रदेश के 46,543 गांवों की आबादी का होगा ड्रोन सर्वे

डिप्टी सीएम सचिन पायलट का बयान, प्रदेश के 46,543 गांवों की आबादी का होगा ड्रोन सर्वे

जयपुर: राजस्थान के समस्त गांवों की आबादी क्षेत्र का ड्रोन तकनीकी के माध्यम से सर्वे किया जाएगा. भारतीय सर्वेक्षण विभाग और राजस्थान सरकार की सहभागिता रहेगी. डिप्टी सीएम सचिन पायलट के महकमे ने इस बारे में कार्य योजना तैयार की है. इस सर्वे में गांव के समस्त मकान मालिकों के स्वामित्व रिकॉर्ड तैयार किए जायेंगे. इस सर्वे के माध्यम से गांवों की आबादी क्षेत्र में सम्पत्ति और परिसम्पतियों का वैध रिकार्ड तैयार होगा. 

सम्पत्ति मालिकों को किए जाएंगे कार्ड जारी:
पायलट ने कहा कि सम्पत्ति मालिकों को कार्ड जारी किए जाएंगे. इससे आबादी क्षेत्र में सम्पत्ति सम्बंधी विवादों में कमी आयेगी और ग्राम पंचायत विकास योजना बेहतर तरीके से तैयार करने में मदद मिलेगी. पायलट ने बताया कि इस सर्वे में व्यक्तिगत सम्पत्तियों का सर्वे एवं रिकॉर्ड तैयार करने के साथ-साथ सामुदायिक परिसम्पत्तियों जैसे कि ग्रामीण सड़के, तालाब, नहर, खुली जगह यथा पार्क, स्कूल, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र आदि का भी सर्वे किया जाकर नक्शे तैयार किए जाएंगे. 

सैंड आर्ट के जरिए गर्भवती हथिनी के लिए मांगा न्याय, बालू मिट्टी से आकृति उकेरकर व्यक्त की अपनी संवेदनाएं

सर्वे से तैयार किया जाएगा रिकॉर्ड और मानचित्र:
उन्होंने बताया कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए भारतीय सर्वेक्षण विभाग तथा राज्य सरकार के बीच समझौता ज्ञापन (एम.ओ.यू.) किया जाएगा. पायलट ने बताया कि प्रदेश में ग्राम सभाओं के माध्यम से इस योजना और इससे होने वाले लाभ के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा और योजना के क्रियान्वयन में सहयोग के लिए ग्रामीणों को संवेदनशील बनाया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस योजना से तैयार होने वाले रिकार्ड एवं मानचित्र ग्राम पंचायत, तहसील, जिला एवं राज्य स्तर पर उपलब्ध होंगे और इसके लिए तैयार किए गए सॉफ्टवेयर के माध्यम से ऑनलाइन भी उपलब्ध रहेंगे और नियमित रूप से अपडेट किए जायेंगे.

चूरू जिले के पुलिसकर्मियों से एसपी कर रही मन की बात, तनावमुक्त करने के लिए किया जा रहा मोटिवेट

किसी कार्मिक का वेतन रोकना, मूलभूत अधिकारों का उल्लंघन: राजस्थान हाईकोर्ट

किसी कार्मिक का वेतन रोकना, मूलभूत अधिकारों का उल्लंघन: राजस्थान हाईकोर्ट

जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट ने टोंक जिले में नर्स ग्रेड-द्वितीय पर कार्यरत नर्सिंगकर्मियोंं को 17 महीने का वेतन नहीं देने पर राज्य के चिकित्सा विभाग को फटकार लगाई है.हाईकोर्ट ने राज्य के प्रमुख चिकित्सा सचिव, चिकित्सा निदेशक व अतिरिक्त चिकित्सा निदेशक-प्रशासन को नोटिस जारी करते हुए 12 जून तक जवाब पेश करने के आदेश दिये है.

सैंड आर्ट के जरिए गर्भवती हथिनी के लिए मांगा न्याय, बालू मिट्टी से आकृति उकेरकर व्यक्त की अपनी संवेदनाएं

मुलभूत अधिकारों का उल्लघन:
हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि किसी कार्मिक का वेतन रोकना उसके मुलभूत अधिकारों का उल्लघन है.यह आदेश जस्टिस गोवर्धन बारधार ने रामचरण शर्मा व अन्य की ओर से दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए दिए है.

सभी नर्सिंगकमी 2015 की भर्ती के तहत हुए नियुक्त:
याचिका में अदालत को बताया गया कि चिकित्सा विभाग ने बजट नही होने का हवाला देते हुए एक मार्च 2017 से 30 जून 2018 तक उनका बकाया वेतन नही दिया. जबकि सभी नर्सिंगकमी 2015 की भर्ती के तहत नियुक्त हुए है और अपने अपने जिले में अपना कार्य सही तरीके से कर रहे हैं. बार बार प्रतिवेदन देने के बावजूद विभाग की ओर से दो साल बाद भी अब बकाया वेतन नही दिया गया है. 

चूरू जिले के पुलिसकर्मियों से एसपी कर रही मन की बात, तनावमुक्त करने के लिए किया जा रहा मोटिवेट

एसएचओ विष्णु दत्त आत्महत्या मामले की होगी CBI जांच, सीएम गहलोत ने फाइल पर लगाई मुहर

एसएचओ विष्णु दत्त आत्महत्या मामले की होगी CBI जांच, सीएम गहलोत ने फाइल पर लगाई मुहर

जयपुर: एसएचओ विष्णु दत्त आत्महत्या मामले की CBI जांच होगी. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फाइल पर मुहर लगा दी है. सीएम गहलोत ने CBI जांच के अनुशंसा पत्र पर मुहर लगाई. विष्णु दत्त के परिजनों के मुताबिक CBI जांच का फैसला लिया. 

आपको बता दें कि चूरू के राजगढ़ पुलिस थाने के थानाधिकारी विष्णु दत्त विश्नोई द्वारा 23 मई को की गई आत्महत्या के प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाए जाने पर सीएम अशोक गहलोत ने सैद्धान्तिक सहमति दे दी है. 

अब पीड़ित परिजनों को यह विकल्प दिया गया है कि वे चाहें तो केस की जांच सीबी सीआईडी कर सकती है, वे चाहें तो न्यायिक जांच भी हो सकती है और यदि वे चाहते हैं कि मामले की जांच सीबीआई करे तो इस पर भी सरकार को कोई आपत्ति नहीं है. 

गर्भवती हथिनी की मौत पर सोशल मीडिया पर उबाल, दोषियों को कड़ी सजा देेने की मांग

अब कल से सभी RTO और DTO में तय संख्या में बन सकेंगे ड्राइविंग लाइसेंस

 अब कल से सभी RTO और DTO में तय संख्या में बन सकेंगे ड्राइविंग लाइसेंस

जयपुर: प्रदेशभर में बढ़ रही ड्राइविंग लाइसेंसों की पेंडेंसी को देखते हुए परिवहन विभाग ने बड़ा फ़ैसला किया है. परिवहन आयुक्त ने अब प्रदेशभर में पहले की तरह ही पूर्ण क्षमता के साथ ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के आदेश जारी किए हैं. कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी तक प्रदेश में पूर्व में बनने वाले लाइसेंसों के मुक़ाबले एक थर्ड लाइसेंस ही बन रहे थे.

फिल्म निर्माता बासु चटर्जी का निधन, 93 साल की उम्र में ली अंतिम सांस  

करीब 9 हजार ड्राइविंग लाइसेंस अभी पेंडिंग:
हाल में हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में सभी आरटीओ और डीटीओ ने लंबित लाइसेंसों को लेकर परिवहन आयुक्त को फ़ीडबैक दिया था. अकेले जयपुर में ही क़रीब 9 हजार ड्राइविंग लाइसेंस अभी पेंडिंग चल रहे हैं. परिवहन आयुक्त ने जारी आदेशों में रविवार को भी आरटीओ डीटीओ कार्यालयों को खोलने के निर्देश दिए हैं. 

अतिरिक्त स्टाफ़ लगाकर किया जाएगा पेंडेंसी को खत्म:
परिवहन आयुक्त के आदेशों के बाद जयपुर में शुक्रवार से पूरी क्षमता के साथ ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की तैयारी शुरू हो गई है. आरटीओ राजेन्द्र वर्मा ने बताया कि रविवार के दिन अतिरिक्त स्टाफ़ लगाकर पेंडेंसी को खत्म किया जाएगा. 

गर्भवती हथिनी की मौत पर सोशल मीडिया पर उबाल, दोषियों को कड़ी सजा देेने की मांग

राजस्थान विश्वविद्यालय की UG, PG फाइनल की परीक्षाएं 13 जुलाई से, करीब 180 परीक्षा केंद्रों पर होंगी आयोजित

 राजस्थान विश्वविद्यालय की UG, PG फाइनल की परीक्षाएं 13 जुलाई से, करीब 180 परीक्षा केंद्रों पर होंगी आयोजित

जयपुर: उच्च शिक्षा में परीक्षा आयोजन को लेकर सरकार के निर्देश के बाद राजस्थान विश्व विद्यालय ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है. 2 जून को सरकार ने जुलाई के दूसरे सप्ताह में परीक्षा आयोजन के निर्देश दिए हैं तो वहीं राविवि कुलपति आरके कोठारी ने परीक्षा नियंत्रक सहित कमेटी के साथ बैठक कर परीक्षाओं को आयोजन को लेकर कवायद शुरू कर दी है. 

रिश्वत लेते रंगे हाथों एसीबी के हाथ लगा जीपीएफ विभाग का कर्मचारी

20 नये परीक्षा केंद्रों को भी चिन्हित कर लिया गया:
राजस्थान विश्व विद्यालय में यूजी फाइनल, पीजी फाइनल और सेमेस्टर फाइनल की परीक्षा 13 जुलाई से शुरू हो जाएंगी. राविवि ने करीब 160 परीक्षा केन्द्रों को सुरक्षा की दृष्टि से सही पाया है. साथ ही 20 नये परीक्षा केन्द्रों को भी चिन्हित कर लिया गया. जल्द ही राविवि टीम इन सेंटरों का दौरा करेगी और टीम की हरी झंडी के बाद सेंटर्स को फाइनल किया जाएगा. परीक्षा से पहले सभी विद्यार्थियों की थर्मल स्क्रिनिंग की जाएगी तो वहीं फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाएगा. इसके साथ ही हर परीक्षा के बाद सेंटर को सेनेटाइज किया जाएगा. 

किसानों को किया जा चुका 2 हजार 261 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण- कटारिया  

सिर्फ नियमित विद्यार्थियों को ही प्रमोट किया जाएगा: 
कुलपति आरके कोठारी ने कहा की सरकार के निर्देशानुसार परीक्षा आयोजित करवाई जाएगी. साथ ही यूजी, पीजी और सेमेस्टर में फाइनल के अलावा सभी विद्यार्थियों को प्रमोट किया जाएगा और परिस्थितियां अनुकुल होने पर अगस्त में इनकी परीक्षा आयोजित हो सकती है. साथ ही कुलपति आरके कोठारी ने बताया कि सिर्फ नियमित विद्यार्थियों को ही प्रमोट किया जाएगा. स्वयंपाठी विद्यार्थियों का औसत परिणाम बहुत कम रहता है. ऐसे में उनको प्रमोट करना संभव नहीं है. ऐसे में जब भी परिस्थितियां अनुकुल होगी तब इनकी परीक्षा का आयोजन करवाया जाएगा. 

रिश्वत लेते रंगे हाथों एसीबी के हाथ लगा जीपीएफ विभाग का कर्मचारी

रिश्वत लेते रंगे हाथों एसीबी के हाथ लगा जीपीएफ विभाग का कर्मचारी

जयपुर: राजधानी जयपुर शहर में एसीबी ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया. इस दौरान एसीबी की टीम ने जीपीएफ विभाग के एक कर्मचारी को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोचा है. GPF विभाग के कनिष्ठ लिपिक रघुवीर सिंह ने परिवादी से उसके GPF का बिल बनाने की एवज़ में 2500 रुपया की रिश्वत मांगी थी. परिवादी का क़रीब 10 लाख रुपये से ज़्यादा क़ा बिल बन रहा था. इसके लिए आरोपी रघुबीर ने परिवादी से पहले 500 रुपये ले लिए. बावजूद इसके आरोपी रघुवीर ने परिवादी का बिल नहीं बनाया.

किसानों को किया जा चुका 2 हजार 261 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण- कटारिया  

एसीबी की टीम आरोपी से पूछताछ कर रही: 
परिवादी काफी समय से विभाग के चक्कर काट रहा था. जब कोई बात नहीं बनी तो परिवादी ने एसीबी में आरोपी बाबू की शिकायत कर दी. एसीबी ने पूरे मामले का सत्यापन कराया जो कि सही पाया गया. योजना के तहत एसीबी की टीम ने आज आरोपी बाबू को सांगानेर स्थित नगर निगम के ज़ोन कार्यालय के पास ढाई हज़ार रुपया की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ़्तार कर लिया. बहरहाल एसीबी की टीम आरोपी से पूछताछ कर रही है. 

हरियाणा, यूपी और दिल्ली के लिए एक पास हो, हफ्ते भर में बनाई जाए व्यवस्था- सुप्रीम कोर्ट 

किसानों को किया जा चुका 2 हजार 261 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण- कटारिया

किसानों को किया जा चुका 2 हजार 261 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण- कटारिया

जयपुर: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ-2019 अन्तर्गत प्रदेश में 13 लाख पात्र बीमित किसानों को 2 हजार 261 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण किया जा चुका है. यह कुल क्लेम का 91 प्रतिशत है. कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया ने बताया कि फसल बीमा योजना अन्तर्गत खरीफ-2019 में कुल 2 हजार 496 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का आंकलन किया गया था, जिसमें से 2 हजार 261 करोड़ रुपए के क्लेम का वितरण किया जा चुका है. यह कुल क्लेम का लगभग 91 प्रतिशत है, जिससे 13 लाख बीमित काश्तकार लाभान्वित हुए हैं.

हरियाणा, यूपी और दिल्ली के लिए एक पास हो, हफ्ते भर में बनाई जाए व्यवस्था- सुप्रीम कोर्ट 

राज्य के 14 जिलों में खरीफ-2019 का पूरा क्लेम वितरित कर दिया गया:
कटारिया ने बताया कि राज्य के 14 जिलों में खरीफ-2019 का पूरा क्लेम वितरित कर दिया गया है. अन्य 14 जिलों में भी कुल देय बीमा क्लेम में से अधिकांश का भुगतान किया जा चुका है. शेष पांच जिलों के बकाया बीमा क्लेम के भुगतान की कार्यवाही की जा रही है, जिससे जल्द पात्र बीमित काश्तकारों को उनका बीमा क्लेम मिल जाएगा. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 68 नये पॉजिटिव केस आया सामने, अब भरतपुर जिला बना कोरोना का नया हॉटस्पॉट  

बीमा कम्पनियों से 2 हजार 386 करोड़ रुपए का भुगतान करवाया: 
कृषि मंत्री ने बताया कि कोविड-19 महामारी के दौरान विपरीत परिस्थितियों में भी राज्य सरकार के विशेष प्रयासों से 13 लाख बीमित किसानों को बीमा कम्पनियों से 2 हजार 386 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का भुगतान करवाया गया है. कृषि मंत्री कटारिया ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अन्तर्गत 1 जनवरी 2019 से अब तक 6 हजार 41 करोड़ रुपए के बीमा क्लेम का वितरण किया जा चुका है, जिससे 42 लाख 31 हजार पात्र बीमित किसानों को राहत मिली है. 


 

Open Covid-19