जयपुर RHB चेयरमैन शांति धारीवाल का ऐलान, हाउसिंग बोर्ड प्रदेश के छोटे शहरों में भी करेगा नई आवासीय योजनाएं लांच 

RHB चेयरमैन शांति धारीवाल का ऐलान, हाउसिंग बोर्ड प्रदेश के छोटे शहरों में भी करेगा नई आवासीय योजनाएं लांच 

जयपुर: हाउसिंग बोर्ड के नवनियुक्त चेयरमैन UDH मंत्री शांति धारीवाल ने आज अपना पदभार संभाल लिया. हाउसिंग बोर्ड मुख्यालय में धारीवाल ने चेयरमैन का पदभार सम्भाला.  इस मौके पर प्रमुख सचिव UDH कुंजी लाल मीणा और हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा मौज़ूद रहे. UDH मंत्री शांति धारीवाल ने हाउसिंग बोर्ड मुख्यालय में हाउसिंग बोर्ड चेयरमैन का पदभार ग्रहण किया. नई जिम्मेदारी संभालने के बाद धारीवाल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि बीते 18 महीने में हाउसिंग बोर्ड में जो काम हुआ है. वह कीर्तिमान है,,इससे पहले कभी हाउसिंग बोर्ड ने इतना शानदार प्रदर्शन नहीं किया.धारीवाल ने कहा कि अगर पिछली भाजपा सरकार के 5 वर्षों से मौज़ूदा समय की तुलना की जाए तो पिछले 5 वर्ष में हाउसिंग बोर्ड में कोई काम नहीं हुआ. कोई योजना नहीं बनी यहां तक कि हाउसिंग बोर्ड को बंद करने की तैयारी भी पिछली सरकार ने कर ली थी,लेकिन अशोक गहलोत की सरकार बनने के बाद सीएम का पहला फोकस हाउसिंग बोर्ड की हालत सुधारने पर रहा.

पवन अरोड़ा को इसीलिए हाउसिंग बोर्ड की जिम्मेदारी दी गयी जिससे कि हाउसिंग बोर्ड फिर से अपने पैरों पर खड़ा हो सके. मुझे खुशी है कि पवन अरोड़ा और उनकी टीम ने बोर्ड को एक नई पहचान दिलाई है. मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार में बोर्ड के मकान बिक ही नहीं रहे थे कई हजार मकान बिना बिक्री के पड़े हुए थे लेकिन महज 18 महीने में ही बोर्ड ने 8164 आवासों को बेचा है बल्कि कई विश्व रिकॉर्ड भी बनाये हैं,  अपने शानदार प्रदर्शन से अल्प अवधि में ही हाउसिंग बोर्ड ने अभी तक का सर्वाधिक 2 हजार 621 करोड़ का राजस्व भी अर्जित किया है,जो बहुत बड़ी बात है,UDH मंत्री ने हाउसिंग बोर्ड के कामकाज की तारीफ करते हुए कहा कि पहली बार है जब बोर्ड ने लीक से हटकर इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए कई प्रोजेक्ट शुरू किए हैं. कोचिंग हब प्रोजेक्ट की तारीफ़ करते हुए धारीवाल ने कहा कि इस प्रोजेक्ट को जिस तरह से रेस्पॉन्स मिल रहा है आने वाले दिनों में जोधपुर,उदयपुर,अजमेर और सीकर में भी कोचिंग हब बनाये जाएंगे. 

मानसरोवर में तैयार हो रहे सिटी पार्क के बारे में बोलते हुए धारीवाल ने कहा कि पहली बार है जब हाउसिंग बोर्ड इस तरह का बड़ा पार्क तैयार कर रहा है, पहली बार बोर्ड ने उद्यानिकी शाखा का गठन किया है जिससे अब बोर्ड के पार्कों का सही तरह से संधारण हो सकेगा. जयपुर, समेत कई शहरों में बन रही चौपाटियों कि भी मंत्री ने तारीफ की.  मंत्री ने कहा कि बतौर चेयरमैन उनकी कोशिश रहेगी कि हाउसिंग बोर्ड मकान बनाने के साथ ही जयपुर समेत बाकी शहरों में इंफ्रास्ट्रक्चर का काम भी हाथ मे ले. जिन शहरों में बोर्ड ने बड़ी बड़ी कॉलोनियां बसाई हैं उन लोगों को सभी तरह की सुविधा देने का काम बोर्ड करे.

हाउसिंग बोर्ड के नवनियुक्त चेयरमैन शांति धारीवाल ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड ने पिछले 18 महीने से काम की जो रफ्तार पकड़ी है उनकी कोशिश रहेगी कि बोर्ड की यह रफ्तार और तेजी से जारी रहे. मंत्री ने कहा कि उनका प्रयास रहेगा कि बड़े शहरों के बाद अब छोटे शहरों में भी हाउसिंग बोर्ड विकास के काम हाँथ में ले.जिस रुट पर हाउसिंग बोर्ड चलता था उस रुट के अलावा भी हाउसिंग बोर्ड काम करे यह उनकी कोशिश रहेगी. UDH मंत्री  शांति धारीवाल ने बतौर चेयरमैन पहली फाइल पर साइन कर नीलामी के सभी प्रकरणों में  जिनमे राशि जमा कराने की अंतिम तिथि 15 मार्च 2020 के पश्चात की थी उनकी जमा कराने की अवधि को 30 जून 2021 तक बढ़ा दिया. इस बढ़ी हुई अवधि में नीलामी में सफल लोगों से कोई ब्याज शास्ति या प्रसाशनिक शुल्क नहीं लिया जाएगा. हाउसिंग बोर्ड के इस फैसले से काफी लोगों को राहत मिलेगी.

चेयरमैन की जिम्मेदारी संभालने के बाद शांति धारीवाल ने 3 प्रमुख एलान भी किए

1- हाउसिंग बोर्ड प्रदेश के छोटे शहरों में भी नई आवासीय योजनाएं लांच करेगा.इसके लिए सर्वे का काम जारी है.

2-जयपुर में कोचिंग हब की सफलता को देखते हुए अब जोधपुर,अजमेर,उदयपुर और सीकर में भी कोचिंग हब बनवाए जाएंगे.

3- हाउसिंग बोर्ड में विभिन्न संवर्गों के रिक्त 573 पदों पर शीघ्र भर्ती की जाएगी.

बीते 18 महीनों में हाउसिंग बोर्ड की यात्रा स्वर्णिम रही है.महज 18 महीने में बोर्ड ने जो काम किये हैं वह बोर्ड को स्थापना से लेकर अभी तक नहीं पाए थे. ऐसे तो बतौर UDH मंत्री भी शांति धारीवाल का हाउसिंग बोर्ड की इस 18 महीने की स्वर्णिम यात्रा में काफी योगदान रहा है,लेकिन अब धारीवाल के बोर्ड चेयरमैन बनने बाद उम्मीद है कि हाउसिंग बोर्ड विकास की यह स्वर्णिम यात्रा और यादगार होगी.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट 

और पढ़ें