VIDEO: दो उपचुनावों का ऐलान, कांग्रेस का मिशन-वल्लभनगर और धरियावद, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: दो उपचुनावों का ऐलान, कांग्रेस का मिशन-वल्लभनगर और धरियावद, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: वल्लभनगर और धरियावद उप चुनावों का ऐलान हो गया है . इसके साथ ही राज्य की कांग्रेस ने रणनीति बनाने का काम तेज कर दिया है. पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि दोनों सीटों पर कांग्रेस परचम फहराएगी. डोटासरा ने आज आवास पर मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और धर्मेंद्र सिंह राठौड़ ने बैठक की. मेवाड़ की सीटों को जीतने के लिए प्रदेश की कांग्रेस ने उस टीम पर ही भरोसा किया है जिन्हें बीते तीन उप चुनावों में टास्क सौंपा गया था. हालांकि जातीय और क्षेत्रीय समीकरणों के मद्देनजर कुछ नाम बदले गए. 

पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने उप चुनाव के मद्देनजर समन्वय समितियों की रणनीतिक बैठकें शुरु कर दी. आज पहली बैठक में मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और कांग्रेस नेता धर्मेंद्र सिंह राठौड़ मौजूद रहे. डोटासरा और खाचरियावास ने दोनों सीटों पर जीत की बात की. बीते तीन विधानसभा उपचुनाव नतीजों से कांग्रेस जोश से लबरेज है. नेताओ को उनकी उपयोगिता के मुताबिक टास्क सौंपे है.

वल्लभनगर विधानसभा उप चुनाव:
-वल्लभनगर का जिम्मा प्रताप सिंह खाचरियावास को सौंपा
-राजपूत कार्ड के तौर पर खाचरियावास को दिया टास्क
-खाचरियावास बीते तीन उप चुनावों में स्टार प्रचारक थे 
-वल्लभनगर में खनिज मंत्री प्रमोद जैन भाया को जिम्मा
-प्रमोद जैन भाया को सफल रणनीतिकार माना जाता है
-भाया के जरिए जैन वैश्य वर्ग को साधने का काम होगा
-सहकारिता मंत्री उदय लाल अंजना को भी जिम्मा
-ओबीसी वर्ग के परिपेक्ष्य में रणनीति बनाएंगे मंत्री अंजना
-दोनों ने राजसमंद उपचुनाव में भी टास्क देखा था
-टीम CP के तहत उन्होंने मोर्चा संभाला था 
-डांगी मतदाता को साधने के लिए पुष्कर डांगी को जिम्मा
-डांगी के समाज के वोट वल्लभनगर में बहुतायत में है
-आदिवासी वर्ग को साधने का जिम्मा तीन नेताओ को दिया
-विधायक दयाराम परमार ,गणेश घोघरा और लाखन सिंह मीणा को जिम्मा सौंपा गया
-परमार और घोघरा का ताल्लुक तो पहले से ही दक्षिणी राजस्थान से

धरियावद विधानसभा उपचुनाव:
-जनजाति विकास मंत्री अर्जुन लाल बामनिया को बनाया प्रभारी 
-गहलोत कैबिनेट में एकमात्र आदिवासी वर्ग से मंत्री है बामनिया
-धरियावद st रिजर्व सीट है यहीं कारण है आदिवासी मंत्री को जिम्मा सौंपा
-सहाड़ा में अच्छा प्रदर्शन कर चुके खेल और युवा मंत्री 
-अशोक चांदना को टास्क सौंपा गया
-स्वजातीय वोटों को साधने की रणनीति उनके जिम्मे होगी
-दो वरिष्ठ आदिवासी नेताओ को जिम्मा मिला
-सीडब्ल्यूसी सदस्य और पूर्व एमपी रघुवीर सिंह मीणा को जिम्मा
-आदिवासी क्षेत्र में कांग्रेस का बड़ा चेहरा है रघुवीर सिंह मीणा
-कद्दावर आदिवासी नेता और विधायक महेंद्रजीत सिंह मालवीय को भी धरीयावद की रणनीति से जोड़ा है
-तेजतर्रार आदिवासी प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा की जिम्मेदारी बड़ी है
-रामलाल की विधानसभा से सटा है धरीयावद 
-वो अपनी पत्नी के लिए धरियावद का टिकट चाह रहे है
-आदिवासी युवाओं को साधने का जिम्मा संभालेंगे

अब बात उन दिग्गजो की जो रणनीतिक मोर्चा संभालेंगे:
-धर्मेंद्र राठौड़ को यहां कूटनीतिक मोर्चे पर लगाया है
-सामान्य वर्ग को साधने और विरोधी दल में सेंध लगाने पर उनका फोकस रहेगा
-सीएम गहलोत के रणनीतिकारो में शुमार है राठौड़
-वैश्य नेता दिनेश खोड़निया को जिम्मा
-आदिवासी इलाके के सबसे बड़े वैश्य नेताओ में शुमार खोड़निया 
-सीएम गहलोत के नजदीकी खोड़निया मेवाड़ और वागड़ की सियासी धरती को साधने में एक्सपर्ट कहे जाते है.

वल्लभ नगर की सीट खाली हुई कांग्रेस के विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत के निधन के कारण. उनके पिता गुलाब सिंह शक्तावत का बड़ा नाम रहा है .गुलाब सिंह शक्तावत  कांग्रेस के राजपूत क्षत्रप कहे जाते थे, वे राज्य के गृह मंत्री रहे थे.संभव है. उन्हीं परिवार से टिकट देकर कांग्रेस emotional कार्ड चले. स्वर्गीय गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति कंवर का नाम चर्चाओं में है. कांग्रेस को यहां त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना पड़ेगा, जनता सेना के लीडर रणधीर सिंह भिंडर सबसे बड़ी चुनौती है.धरियावद में बीजेपी विधायक गौतम लाल मीणा के निधन के कारण चुनाव हो रहे है. कांग्रेस के पास यह अवसर होगा कि बीजेपी से इस सीट को छीन कर कांग्रेस की झोली में डाला जाए और विधानसभा में स्कोर बढ़ाया जाए, यह जरूर है कि दोनों ही सीटों पर मुकाबला होगा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें