शिमला: नरसिंह देवता की याद में मनाते हैं अनोखी डाली"

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/10 06:43

शिमला। दीवाली से पूरा एक महीने बाद मनाया जाने वाला शिमला का प्रसिद्ध "अनोखी डाली मेला" शनिवार से शुरू हो गया है। दो दिन तक चलने वाले इस मेले का मुख्य आकर्षण ठोड़ों का खेल,कबड्डी व अन्य रंगारंग कार्यक्रम होंगे।अनोखी डाली’ मेला राजधानी शिमला से करीब 25 किलोमीटर दूर जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट में कई सालों से मनाया जा रहा है। 

115 साल पुराने इस मेले के इतिहास के बारे कहा जाता है कि इस स्थान पर नरसिंह का मंदिर हुआ करता था और मंदिर के पास पीपल के पेड़ में नरसिंह का वास था जिसकी पुजारी पूजा करते थे एक दिन दोपहर 12 बजे पीपल का पेड़ टूट कर गांव में घरों पर जा गिरा और उसी रात पुजारी को नरसिंह देवता ने स्वपन में कहा कि वह वंहा से विस्थापित होकर जंगल में एक अलग किस्म के पेड़ (डाली) में वास कर चुके है।

इसलिए उन्होंने पुजारी को जंगल में उस अनोखे पेड़ को ढूंढ कर उसकी पूजा करने को कहा। जिसके बाद गाँव के बुजर्गों ने उस अलग किस्म के पौधे को ढूंढा और नरसिंह देवता का उस स्थान पर चौतरा बनाकर पूजा अर्चना करनी शुरू कर दी। गांव के बुजुर्ग निवासी सालिग राम शर्मा ने बताया कि नरसिंह भगवान ने पुजारी को स्वपन में ये भी कहा था कि उनका दीवाली के एक महीने बाद पड़ने वाली प्रतिपदा व दूज के दिन एक मेला मनाया जाए और तीर कमान का खेल खेला जाए जिसके बाद से ये परम्परा आज तक गांव के लोग निभा रहे है। 
क्यूंकि जिस पेड़ (डाली) में नरसिंह देवता ने वास किया वह पेड़ जंगल में मौजूद सभी पेड़ो से अलग था इसलिए इसका नाम अनोखी डाली पड़ा। हर साल गांव के लोग दिवाली के एक महीने बाद "अनोखी डाली"  नाम से मेले को नाच गा कर और तीर कमान खेल, खेल कर इस परम्परा को  मनाते है। 

वर्तमान में जहां शिमला जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट है उस स्थान पर नरसिंह देवता का वास था, जिस स्थान पर सदियों पहले एक अनोखा पौधा उगा, इलाकें में जिस किस्म का पौधा कभी किसी ने नहीं देखा था। 1982 में जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट का निर्माण होने के बाद मेले का स्थान बदलना पड़ा,कुछ साल जुब्बड़हट्टी से चार किलो मीटर पीछे शिमला की ओर हल्टी जगह में यह मेला लगा, इसके आसपास की जगह एयरपोर्ट में तैनात सीआइएसएफ के जवानों के रेजिडेंस होने से यहां भी स्थान बदलना पड़ा और अब जुब्बड़हटृटी मुख्य बाजार में एक निजी स्कूल के ग्राउंड में यह ‘अनोखी डाली’ का मेला लगता है। 

लोग इस मेले को देव परंपरा से जोड़ते हैं और इस मेले को देखने के लिए दूर-दूर से आते है।थोड़ो खेल जो तीर कमान से खेला जाता है इस मेले का आकर्षण और परंपरा है। खेल के अतिरिक्त ठोडा नृत्य भी होता है जो पुरानी विलुप्त होती परंपरा है। सालिग राम शर्मा का कहना है कि कौरव पांडवों से लेकर यह खेल चला आया है और नई पीढ़ी भी इस खेल को कायम रखे ऐसी उम्मीद जताई है। 

लुप्त होते जा रहे प्रदेश के ठोडो नृत्य को बचाने के लिए गांव के लोगों का प्रयास सराहनीय है। मेले और पुरानी परम्पराये हिमाचल प्रदेश की अलग पहचान है लेकिन आधुनिकता की दौड़ में लोग अपनी संस्कृति को भूलते जा रहे है जिसे बचाने की जरुरत है तभी प्रदेश की अद्भुत संस्कृति की पहचान कायम रहेगी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

जानिए गुस्से को कम करने के दिव्य मंत्र और आज के चमत्कारी टोटके|Good Luck Tips

AICC महासचिव और राजस्थान प्रभारी Avinash Pande से बेबाक बातचीत | Exclusive Interview
Big Fight Live | \'\'कमल\' के कुनबे में कलह !\' | 22 JAN, 2018
बीजेपी से बागी होकर नए मेयर बने विष्णु लाटा
ममता के गढ़ में शाह की हुंकार
EVM हैकिंग को लेकर विवाद, राहुल गांधी पर भाजपा का बड़ा हमला
15वें प्रवासी भारतीय दिवस पर PM Modi का नमो मंत्र
जानिए सर्वार्थसिद्धि योग में किये जाने वाले महा टोटकों के बारे में
loading...
">
loading...