Live News »

VIDEO: ACB की एक और बड़ी कार्रवाई, घूसखोर CBI इंस्पेक्टर पर कसी नकेल

VIDEO: ACB की एक और बड़ी कार्रवाई, घूसखोर CBI इंस्पेक्टर पर कसी नकेल

जयपुर। प्रदेश में एसीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पहली बार देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के अफसर के खिलाफ ट्रेप की कार्रवाई की। एसीबी की ओर से सीबीआई अफसर के लिए रिश्वत लेने वाले दलाल को गिरफ्तार करने से जांच एजेंसी पर सवाल खड़े हो गए हैं। सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश ने दलाल के मार्फत परिवादी से 1.50 करोड़ की डिमांड की थी।

दरअसल रिश्वत का खेल धोखाधड़ी के एक मामले में परिवादी को मदद करने से शुरू हुआ। दलाल खुद परिवादी के घर पहुंचा। लेनदेन पर बात चलते-चलते डेढ़ करोड़ तक पहुंच गई। 14 फरवरी को सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश चंद और दलाल शांतिलाल की करतूतों से परेशान होकर परिवादी एसीबी के आईजी दिनेश एमएन के पास पहुंचा। शिकायत के बाद एसीबी ने शांतिलाल के मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लिया। करीब 22 दिन तक एसीबी ने मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लेने के बाद 850 से ज्याद कॉल सूने और इंस्पेक्टर प्रकाश चंद की ओर से दलाल शांतिलाल के मार्फत रिश्वत मांगने की पुष्टि की। दलाल और इंस्पेक्टर को पकड़ने के लिए 6 मार्च को पूरी तैयारी कर ली गई। गुरुवार शाम 7 बजे एसीबी की टीम ने दलाल शांतिलाल के घर पर दबिश देकर रिश्वत कांड का भंडाफोड़ किया। 

एसीबी की जांच में सामने आया कि:

परिवादी के पास रिश्वत के लिए डिमांड के अनुसार नगद 60 लाख रुपए की व्यवस्था नहीं हुई तो दलाल ने इंस्पेक्टर के कहने पर 15 लाख रुपए की राशि बढ़ा दी थी। ऐसे में परिवादी से दलाल शांतिलाल ने खुद 11 सेल्फ चेक 45 लाख रुपए के भराकर लिए थे। एसीबी की जांच में सामने आया कि आरोपी इंस्पेक्टर प्रकाश चंद को जब दलाल के मार्फत परिवादी ने रिश्वत की राशि देने में देरी कर दी तो आरोपियों ने परिवादी पर पेनल्टी लगा दी। ऐसे में परिवादी को पेनल्टी के 10 लाख रुपए और 5 लाख रुपए सिक्योरिटी के रूप में दलाल को अतिरिक्त राशि देनी पड़ी। पेनल्टी और सिक्योरिटी की राशि नहीं देने पर आरोपी दलाल बार-बार परिवादी पर दबाव बना रहा था। दलाल हर रोज परिवादी को 8 से 10 बार फोन करके डराता था। अभी मामले में और खुलासे होने बाकी हैं। 

सीबीआई ने आरोपी इंस्पेक्टर प्रकाश चंद को किया सस्पेंड:

आरोपी इंस्पेक्टर के घर की तलाशी में प्लॉट और जमीन के दस्तावेज भी मिले हैं। एसीबी की कार्रवाई के बाद सीबीआई ने आरोपी इंस्पेक्टर प्रकाश चंद को सस्पेंड कर दिया है। अब सीबीआई भी आरोपी प्रकाश की तलाश कर रही है। एसीबी ने सीबीआई से आरोपी के सर्विस संबंधित रिकॉर्ड मांगा है। धोखाधड़ी केसों की जांच कर रहे इंस्पेक्टर प्रकाश चंद ने परिवादी को फोन करके एसीबी ऑफिस बुलाया था। परिवादी किसी भी मुकदमे में आरोपी नहीं था, फिर भी इंस्पेक्टर उसको धमका रहा था। परिवादी की दुकान पर एक दिन इंस्पेक्टर प्रकाश चंद का दलाल शांतिलाल खुद ही पहुंच गया और कहा- मैं मदद करा दूंगा, मेरे घर पर आकर मिलना। दलाल परिवादी को उसके घर का पता देकर गया था। तब परिवादी शांतिलाल के घर पर गया तो उसने इंस्पेक्टर प्रकाश से बात करके 90 लाख रुपए की डिमांड कर डाली। 

परिवादी ने कहा कि मैं आरोपी ही नहीं हूं तो रिश्वत क्यों दूं, तो इंस्पेक्टर ने एक नोटिस जारी कर दिया। तब परिवादी घबरा गया और वापस दलाल के पास पहुंचा। परिवादी ने शर्त मान ली और छह महीने में अलग-अलग दफा दलाल के मार्फत इंस्पेक्टर को 90 लाख रुपए दे दिए। इंस्पेक्टर प्रकाश चंद ने दबाव बनाने के लिए परिवादी को नोटिस जारी कर दिया था। दलाल शांतिलाल ने परिवादी को एक आवासीय योजना में एक प्लाट देने की डिमांड की। 

तब परिवादी शांतिलाल औऱ इंस्पेक्टर प्रकाश को एक आवासीय योजना में प्लाट भी दिखाकर लेकर आया, लेकिन वहां पर दोनों को करीब एक करोड़ रुपए का प्लाट पसंद आया। इससे परिवादी ने प्रकाश को वह प्लाट देने से इंकार कर दिया। तब प्रकाश ने उससे नगद 60 लाख रुपए की डिमांड कर डाली। 

और पढ़ें

Most Related Stories

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने दी जन्माष्टमी की शुभकामनाएं, कहा-जन्माष्टमी मनाएं लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के साथ

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने दी जन्माष्टमी की शुभकामनाएं, कहा-जन्माष्टमी मनाएं लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के साथ

जयपुर: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने प्रदेशवासियों से कन्हैया के जन्म का पर्व जन्माष्टमी धूमधाम से, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना के प्रोटोकॉल की पालना करते हुए मनाने की अपील की है. डॉ. शर्मा ने कहा कि जिस तरह कन्हैया ने मर्यादा में रहते हुए कंस का वध कर लोगों को अत्याचार से मुक्ति दिलाई, उसी तरह कोरोना रूपी कंस को हम सोशल डिस्टेंसिंग और सावधानियों के साथ ही हरा सकते हैं.

घरों में उत्साह से मनाएं जन्माष्टमी पर्व:
उन्होंने कहा कि सभी प्रदेश वासी भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में ना जाकर अपने घरों में रहते हुए जन्माष्टमी पर्व उत्साह से मनाएं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना का संक्रमण इसीलिए फैल नहीं पाया क्योंकि प्रदेश के आमजन सजग और सतर्क हैं. 

मनचलों की वजह से गई होनहार छात्रा की जान, मायावती ने किया ट्वीट, कहा-दोषियों के विरूद्ध हो सख्त कानूनी कार्रवाई

पूर्ण रूप से बरतनी होगी सावधानी: 
उन्होंने कहा कि यदि हम अपने परिवार, समाज, राज्य और राष्ट्र को कोरोना से बचाना चाहते हैं तो आम दिनों व त्योहारों के दौरान हम सभी को पूर्ण रूप से सावधानी बरतनी होगी. डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश की सरकार और चिकित्सा विभाग बेहतर तरीके से कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लगा हुआ है. इसमें आमजन की सहभागिता बढ़-चढ़कर होगी तो कोरोना का प्रसार नहीं हो पाएगा.

नहीं रहे मशहूर शायर राहत इंदौरी, दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुआ निधन

एक माह बाद सचिन पायलट दिल्ली से पहुंचे जयपुर, ​ सिविल लाइंस आवास पर लगा समर्थकों का जमावड़ा

एक माह बाद सचिन पायलट दिल्ली से पहुंचे जयपुर, ​ सिविल लाइंस आवास पर लगा समर्थकों का जमावड़ा

जयपुर: पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट करीब एक माह बाद दिल्ली से जयपुर के सिविल लाइंस आवास पर पहुंचे. जैसे ही सचिन पायलट का काफिला जयपुर सिविल लाइंस आवास पहुंचा तो उनके समर्थकों ने पायलट जिंदाबाद के नारे लगाये. पायलट के आवास पर कई समर्थक पहुंचे. महेश शर्मा,राजेश चौधरी और प्रशांत शर्मा ने कमान संभाल रखी. पायलट के समर्थन में इस्तीफा देने वाले भी सिविल लाइन्स पहुंचे. वहीं पायलट के निवास पर समर्थकों ने समर्थन में नारेबाजी की. राजस्थान का CM कैसा हो पायलट जैसा हो के नारे लगाए. डेढ़ साल बाद फिर लव यू सचिन पायलट के नारे सुनाई दिए.

पायलट काफी लंबे वक्त बाद मीडिया से रूबरू हुए:
आखिर एक महीने की सियासी जंग के बाद पायलट की फिर घर वापसी हो गई. इसके बाद आज सचिन पायलट काफी लंबे वक्त बाद मीडिया से रूबरू हुए. इस दौरान उन्होंने कहा कि राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए. हमने जनता से जुड़े मुद्दों को उठाया है हर नेता और हर समाज को साथ लेकर काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैंने आलाकमान के सामने कोई मांग नहीं रखी. मैंने आलाकमान के ऊपर सारा फैसला छोड़ दिया है. हाईकमान ने हमारी बातों को गंभीरता से सुना है. समस्याओं के निराकरण के लिए 3 सदस्यीय कमेटी बनाई है.

मनचलों की वजह से गई होनहार छात्रा की जान, मायावती ने किया ट्वीट, कहा-दोषियों के विरूद्ध हो सख्त कानूनी कार्रवाई

कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था:  
पायलट ने कहा कि जिसका सरकार बनाने में योगदान हो उसे सम्मान मिलना चाहिए. मैंने गहलोत जी के साथ मिलकर संघर्ष किया है. इसके साथ ही उन्होंने ने कहा कि झूठ फैलाने वालों को सच्चाई का सामना करना पड़ेगा. सचिन पायलट ने कहा कि कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था. मुझे सौभाग्य मिला कि 6 साल तक कांग्रेस का प्रदेशाध्यक्ष रहा. जब हमारी सरकार नहीं थी तब हमने 5 साल तक लगातार मेहनत की. धरने, भूख हड़ताल कर हमने जनहित से जुड़े मुद्दे उठाए. 2018 में कड़ी मेहनत के कारण 21 से बढ़कर 100 तक सीटें पहुंची है. लेकिन डेढ़ साल में उस गति से काम नहीं कर पाए. 

जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया:
उन्होंने कहा कि हमने सबको साथ लेकर काम किया है. कठिन परिस्थितियों में किसानों और युवाओं को साथ में लेकर मेहनत की. समयबद्ध तरीके से सभी इश्यू का निराकरण किया जाएगा. मैंने कभी भी किसी के लिए अमार्यादित भाषा का इस्तेमाल नहीं किया. अशोक गहलोत जी मेरे से उम्र में बड़े है लेकिन जिस तरह टीका टिपण्णी हुई उससे मुझे भी दुख हुआ है. जिस तरह के आरोप लगाए है वो सच आपके सामने है. पायलट ने कहा कि सत्ता और संगठन को मिलकर काम करना चाहिए. मुझे दुख है कि देशद्रोह का नोटिस भेजा गया, ACB, SOG की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए थी. लेकिन पार्टी आलाकमान ने हमारी बातों को सुना है. जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया है. दूसरे दल क्या करते है क्या नहीं वो जाने. मैंने पार्टी विचारधारा और पार्टी के खिलाफ कोई बात नहीं बोली. 

नहीं रहे मशहूर शायर राहत इंदौरी, दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुआ निधन

खाद्य सुरक्षा के तहत नवम्बर तक मुफ्त अनाज देने का निर्णय- मुख्यमंत्री गहलोत

खाद्य सुरक्षा के तहत नवम्बर तक मुफ्त अनाज देने का निर्णय- मुख्यमंत्री गहलोत

जयपुर: प्रदेश में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (एनएफएसए) के लाभार्थी परिवारों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नवम्बर 2020 तक निःशुल्क अनाज देने का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि राजस्थान में एनएफएसए से जुड़े सभी परिवारों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मिल रहे 5 किलो गेहूं प्रतिव्यक्ति तथा 1 किलो चना प्रति परिवार के साथ-साथ एनएफएसए के तहत देय अनाज का निःशुल्क वितरण किया जाएगा.  

VIDEO: हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही - राजेंद्र राठौड़  

राशन वितरण की व्यवस्था की समुचित निगरानी के निर्देश:  
सीएम गहलोत ने कोविड-19 महामारी के संक्रमण की स्थिति की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री निवास पर यह घोषणा की. उन्होंने वर्तमान परिस्थितियों में राशन वितरण की व्यवस्था की समुचित निगरानी के निर्देश देते हुए कहा कि गरीब आदमी के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि उसे समय पर राशन मिले. 

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, बेटियां भी पैतृक संपत्ति में बराबर की हिस्सेदार 

VIDEO: हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही - राजेंद्र राठौड़

जयपुर: राजस्थान में तेजी से बदल रहे सियासी राजनैतिक घटनाक्रम पर उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कुनबा बिखर गया आखिर आलाकमान को बीच में दखल देनी पड़ी. यह नाकामयाबी ही मानी जाएगी. वहीं राठौड़ ने वसुंधरा राजे पर बोलते हुए कहा कि गठबंधन धर्म की पालना करनी चाहिए. अनर्गल आरोप लगाना कदापि उचित नहीं है. जिन किसी ने भी उन पर आरोप लगाए हमने उनको समझाया. वसुंधरा राजे हमारी पूर्व मुख्यमंत्री है प्रदेश की नेता हैं और नेता रहेंगी.  

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

तरकस में एक भी तीर नहीं रखेंगे सभी तीर छोड़े जाएंगे: 
अविश्वास प्रस्ताव और विश्वास प्रस्ताव जैसी बात पर बोलते हुए राठौड़ ने कहा कि सरकार को बेनकाब करने के लिए कोशिश करेंगे. तरकस में एक भी तीर नहीं रखेंगे सभी तीर छोड़े जाएंगे. भारतीय जनता पार्टी मजबूत प्रतिपक्ष है इसलिए हमारे सामने कोई चुनौती नहीं है. 13 तारीख की विधायक दल की बैठक के बाद हमारी रणनीति फाइनल होगी. 

हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही: 
वहीं गहलोत सरकार पर तंज कसते हुए राठौड़ ने कहा कि हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही है. लेकिन भूचाल आया है वह अपने निशान छोड़ कर चला गया. उन्होंने कहा कि सत्र निश्चित तौर पर हंगामेदार और शानदार रहेगा. सरकार के नाकामी, टिड्डी का आक्रमण, कोरोना का कहर, सूखे की संभावना व जर्जर कानून व्यवस्था के मुद्दों पर विपक्ष का आक्रमण होगा. हम सदन से सड़क दक कुशासन से लड़ेंगे. 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट  

बाहर से बुर्ज की मरम्मत हो जाए तो यह नहीं माने की किला सुरक्षित: 
राठौड़ ने कहा कि टेलीफोन टेप हुए पुलिस की एजेंसी विधायकों को ढूंढती रही लेकिन पपला गुर्जर को पुलिस ढूंढती तो अच्छा होता. वहीं पांच साल सरकार चलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि किला अगर ढह जाता है और बाहर से बुर्ज की मरम्मत हो जाए तो यह नहीं माने की किला सुरक्षित है. ऐसे में यह तो समय की रफ्तार और समय की धार बताएगी. 

VIDEO- मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात के बाद बोले विधायक ओम प्रकाश हुड़ला, कहा...

जयपुर: राजस्थान में तेजी से सियासी घटनाक्रम में बदलाव हो रहे हैं. इसी बीच तीन निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुड़ला, सुरेश टांक व खुशबीर सिंह ने मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे कर सीएम गहलोत से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद फर्स्ट इंडिया से बात करते हुए निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुड़ला ने कहा कि कुछ समय पहले हमारे खिलाफ SOG में एक मुकदमा दर्ज हुआ था सरकार ने वो वापस ले लिया. 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट  

उन्होंने कहा कि उस मुकदमे को लेकर सरकार और हमारे बीच एक आपसी तनाव पैदा हुआ था. हमे खुशी है इस बात की कि सरकार ने वह मुकदमा वापस ले लिया. आज हमने जो भी गिले-शिकवे थे वो सौहार्दपूर्ण वातावरण में मुख्यमंत्री से मुलाकात कर दूर किए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य एक ही है कि हमारे क्षेत्र की जनता का विकास कैसे हो. सुनिए और क्या कुछ कहा...

 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट

जयपुर: आखिर एक महीने की सियासी जंग के बाद पायलट की फिर घर वापसी हो गई. इसके बाद आज सचिन पायलट काफी लंबे वक्त बाद मीडिया से रूबरू हुए. इस दौरान उन्होंने कहा कि राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए. हमने जनता से जुड़े मुद्दों को उठाया है हर नेता और हर समाज को साथ लेकर काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैंने आलाकमान के सामने कोई मांग नहीं रखी. मैंने आलाकमान के ऊपर सारा फैसला छोड़ दिया है. हाईकमान ने हमारी बातों को गंभीरता से सुना है. समस्याओं के निराकरण के लिए 3 सदस्यीय कमेटी बनाई है.

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था:  
पायलट ने कहा कि जिसका सरकार बनाने में योगदान हो उसे सम्मान मिलना चाहिए. मैंने गहलोत जी के साथ मिलकर संघर्ष किया है. इसके साथ ही उन्होंने ने कहा कि झूठ फैलाने वालों को सच्चाई का सामना करना पड़ेगा. सचिन पायलट ने कहा कि कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था. मुझे सौभाग्य मिला कि 6 साल तक कांग्रेस का प्रदेशाध्यक्ष रहा. जब हमारी सरकार नहीं थी तब हमने 5 साल तक लगातार मेहनत की. धरने, भूख हड़ताल कर हमने जनहित से जुड़े मुद्दे उठाए. 2018 में कड़ी मेहनत के कारण 21 से बढ़कर 100 तक सीटें पहुंची है. लेकिन डेढ़ साल में उस गति से काम नहीं कर पाए. 

VIDEO: बीजेपी ने विधायक दल की बैठक टाली, अब 13 अगस्त को सुबह 11बजे होगी बैठक 

जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया:
उन्होंने कहा कि हमने सबको साथ लेकर काम किया है. कठिन परिस्थितियों में किसानों और युवाओं को साथ में लेकर मेहनत की. समयबद्ध तरीके से सभी इश्यू का निराकरण किया जाएगा. मैंने कभी भी किसी के लिए अमार्यादित भाषा का इस्तेमाल नहीं किया. अशोक गहलोत जी मेरे से उम्र में बड़े है लेकिन जिस तरह टीका टिपण्णी हुई उससे मुझे भी दुख हुआ है. जिस तरह के आरोप लगाए है वो सच आपके सामने है. पायलट ने कहा कि सत्ता और संगठन को मिलकर काम करना चाहिए. मुझे दुख है कि देशद्रोह का नोटिस भेजा गया, ACB, SOG की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए थी. लेकिन पार्टी आलाकमान ने हमारी बातों को सुना है. जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया है. दूसरे दल क्या करते है क्या नहीं वो जाने. मैंने पार्टी विचारधारा और पार्टी के खिलाफ कोई बात नहीं बोली. 


 

VIDEO: बीजेपी ने विधायक दल की बैठक टाली, अब 13 अगस्त को सुबह 11बजे होगी बैठक

जयपुर: राजस्थान में आज भाजपा विधायक दल की बैठक होनी थी लेकिन अब वह बैठक टाल दी गई है. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से बातचीत में बताया कि हमने विधायक दल की बैठक बुलाई थी लेकिन हमारे कुछ विधायक गुजरात में होने के चलते आज नहीं आ पाएंगे. इसके बाद कल जन्माष्टमी है. इसलिए सभी ने सुझाव दिया की मीटिंग जन्माष्टमी के बाद की जाए. 

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

विधायक दल की बैठक के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा:
उन्होंने कहा कि विधायक दल की बैठक के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा. बैठक वी. सतीश की मौजूदगी में होगी, वहीं अन्य केंद्रीय नेताओं के भी आने का कार्यक्रम है. हमारी पार्टी में फूट नहीं है लोगों ने ऐसा करने का प्रयास किया. हनुमान बेनीवाल से भी कल हमारी बात हुई, पूर्व मुख्यमंत्री से मेरी बात हुई है वो भी भाजपा की बैठक में मौजूद रहेगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र की वजह से बिना मन गहलोत को पायलट से मिलना पड़ेगा. 
 

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत

जयपुर: राजस्थान में एक महीने से चल रहा सियासी घमासान अब शांत होने के कगार पर पहुंच चुका है. इसी बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज मीडिया से रूबरू हुए. इस दौरान उन्होंन कहा कि बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया. हमारी सरकार मजबूत है और मजबूत रहेगी. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने कहा कि आलाकमान जो फैसला करेगा वो हमें मान्य है. 3 लोगों की कमेटी बनाई गई है. 

VIDEO: सीएम गहलोत से मुलाकात के बाद बोले पायलट खेमे के विधायक भंवरलाल शर्मा, मेरा पार्टी से कोई गिला-शिकवा नहीं 

जब तक मैं हूं आपका अभिभावक रहूंगा:
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी को कहा है जब तक मैं हूं आपका अभिभावक रहूंगा. कल जो फैसले हुए हैं उन पर आगे की रणनीति बनाएंगे. हमारे विधायकों ने एकजुटता दिखाई है, विधायकों की नाराजगी दूर की जाएगी. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बीजेपी का असली चेहरा सामने आ गया है. राजस्थान की जनता ने भी सहयोग दिया है. ऐसे में बीजेपी नेताओं की धज्जियां उड़ गई है. सरकार बहुमत में पहले भी थी और अब भी रहेगी और आगे भी रहेगी. 

गहलोत-पायलट संघर्ष प्रकरण समाप्त! दो माह पुराने आंतरिक संघर्ष का हुआ पटाक्षेप

फॉर्मूले पर हाईकमान फैसला करेगा:
वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि फॉर्मूले पर हाईकमान फैसला करेगा. कल जो फैसले हुए है उसके बाद आगे की रणनीति बनाएंगे. बीजेपी नेताओं ने सरका को गिराने का पूरा षड्यंत्र किया. वहीं पायलट गुट के विधायकों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि जो नाराजगी है उसे दूर करने का प्रयास किया जाएगा. मैं जब तक हूं आपका अभिभावक बना रहूंगा. हमारी सरकार 5 साल तक चलेगी और अगला चुनाव भी जीतकर आएंगे. उन्होंने कहा कि पायलट कैंप को हाईकमान पर विश्वास है. उस विश्वास को हम हर कीमत पर बनाए रखेंगे. जो लोग आए वो किन परिस्थितियों में गए थे मेरे से क्या नाराजगी है उससे जानने के प्रयास किए जांगे. अगर कोई मुझजे नाराज है तो उसको दूर करना मेरी जिम्मेदारी है. 


 

Open Covid-19