योग का अजूबा बनने की कोशिश कर रहे हैं टोंक जिले के योगाचार्य

Naresh Sharma Published Date 2018/06/15 05:53

जयपुर (नरेश शर्मा)। योग का अभ्यास रोजाना लाखों करोड़ों लोग करते हैं, लेकिन आज आपको मिलाते हैं एक ऐसे युवा से जो योग में कुछ अलग कर जाने का जूनून पाले हैं। यह है टोंक जिले के बड़ागांव के योगाचार्य रामरस रामस्नेही । उम्र 23 साल और दो साल पहले शुरू हुए विश्व योग दिवस से ही योग करना शुरू किया था। लेकिन दो साल में इस तरह के योगाभ्यास कर चुके हैं कि देखकर दांतों तले उंगली दबा लेते हैं। सूर्य नमस्कार करके तो विश्व रिकॉर्ड भी बना चुका है रामरस। 

रामरस के नाम सबसे तेज गति से सर्वाधिक सूर्य नमस्कार करने का कारनामा गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। उन्होंने सात मिनट 55 सेकंड में 100 सूर्य नमस्कार किए हैं। एक साधारण व्यक्ति सूर्य नमस्कार के स्टेप लगभग एक मिनट में 4 से 5 बार कर पाता है। लेकिन योगाचार्य रामरस 1 मिनट में 15 बार तक कर चुका है। बीए पास रामरस योगा में पीजी डिप्लोमा के बाद जैन विश्व भारती विद्यालय लाडनू नागौर से एमए कर रहा है।

अब रामरस की नजर 21 जून को विश्व योग दिवस पर कोटा में होने वाले कार्यक्रम पर है। वे यहां दो रिकॉर्ड बनाना चाहते हैं और इसके लिए कड़ा अभ्यास भी कर रहे हैं। वे सबसे तेज वस्त्र धोती क्रिया करने का रिकॉर्ड बनाना चाहते हैं। वस्त्र धोती क्रिया तो कई योगगुरू करते हैं, लेकिन रामरस का लक्ष्य छह से सात मिनट के भीतर वस्त्र धोती क्रिया पूरा करने का है। इसमें करीब सात मीटर लंबी और तीन इंच चौड़ी सूती धोती पूरी तरह से निगल ली जाती है। श्वांस क्रिया के माध्यम से धोती निगली जाती है और फिर उसे बाहर निकाला जाता है। धोती को 20 मिनट से ज्यादा पेट के अंदर नहीं रख सकते। रामरस का दावा है कि उनसे तेज क्रिया कोई नहीं कर सकता।

अब तक दुनिया ने योगगुरू रामदेव की नौली क्रिया देखी है, लेकिन अब रामरस बाबा रामदेव के सामने ही अपनी नौली क्रिया दिखाएंगे। रामरस का लक्ष्य एक मिनट में नौली क्रिया के 100 राउंड पूरे करने का है। रामरस ने बताया कि नौली क्रिया उन्होंने बाबा रामदेव को देखकर ही सीखी है और अब सबसे तेज नौली क्रिया करने के अभ्यास में जुटे हैं।

इस युवा योगाचार्य ने 21 जून को लक्ष्य निर्धारित करते हुए अपनी दिनचर्या ही बदल ली है। रामरस का दावा है कि वे पिछले बीस पच्चीस दिन से अन्न नहीं खा रहे हैं। बस जूस, पानी व फल ही भोजन का हिस्सा हैं। सुबह 4 बजे से आठ बजे तक नियमित अभ्यास में जुटे हैं। 21 जून को पूरे विश्व में योग दिवस में मनाया जाएगा। योग के प्रति लोगों में जागृति बढ़ी हैं और देश-विदेश में करोड़ों लोग इसे अपनी जिंदगी का अहम हिस्सा बना रहे हैं। योग से शरीर व मन मस्तिष्क स्वस्थ रहता है और रामरस जैसे युवा अगर आगे आते हैं, तो इससे योग का प्रचार प्रसार ही होगा।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

2

1
1 PRIYANKA GANDHI
7
6
3
ACB Team ने Rescue Inspector महेंद्र कुमार को रिस्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया
जानिए गुस्से को कम करने के दिव्य मंत्र और आज के चमत्कारी टोटके|Good Luck Tips
loading...
">
loading...