Live News »

राजस्थान में हथियार तस्करी बन रही पुलिस के लिए परेशानी
राजस्थान में हथियार तस्करी बन रही पुलिस के लिए परेशानी

जयपुर: राजस्थान में हथियार तस्करी अब पुलिस के लिए भी परेशानी बनती जा रही है. प्रदेश की राजधानी जयपुर में आये दिन फायरिंग की घटनाएं हो रही है. पुलिस अधिकारी खुद अब इस बात को मान रहे है कि भारी संख्या में हथियार राजस्थान में तस्करी करके लाये जा रहे है जो कि प्रदेश के लिए चिंता का विषय है. हालांकि पुलिस ने इन्हे रोकने के लिए अब तैयारियां शुरु कर दी है. अवैध रूप से तस्करी कर लाए जा रहे हथियार और बदमाशों पर लगाम लगाने के लिए जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के चारों जिलों में स्पेशल टीम का गठन किया गया है. स्पेशल टीम लगातार हथियार तस्करों को और वारदात की फिराक में हथियार के साथ घूमते बदमाशों को गिरफ्तार करने में लगी हुई है. 

प्रदेश में हथियारों की सप्लाई रुकने का नाम नही ले रही: 
तू डाल डाल, तो मैं पात पात. जी हां. यह कहावत राजस्थान पुलिस और आदतन बदमाशों पर बिल्कुल सटीक बैठ रही है. राजस्थान की पुलिस हथियार तस्करों के खिलाफ लगातार कार्रवाईयां कर रही है, लेकिन इसके बावजूद प्रदेश में हथियारों की सप्लाई रुकने का नाम नही ले रही है. राजधानी में आये दिन ऐसे बदमाश पकड़े जाते हैं जिनके कब्जे से देशी कट्टे, पिस्टल और कारतूस जब्त किए जाते हैं. लेकिन फिर भी लगातार हो रही फायरिंग की घटनाएं साफ कर रही है कि प्रदेश में हथियार तस्करी का सिलसिला बदस्तूर जारी है. पिछले कुछ दिनों में तो राजस्थान में ऐसे वीडियों भी वायरल हुए है जिसमे कुछ गिरोह हथियारों के साथ डांस करते हुए नजर आ रहे है. एक वीडियों ने तो ये भी साफ कर दिया कि अब तो बच्चों के हाथों में भी खिलोंनों की जगह इन हथियारों ने ले ली है. यानि कि हथियारों की तस्करी इस हद तक हो रही है कि अब ये हथियार लोगों को आसानी से मिलने लगे है. पुलिस अधिकारी इस बात को स्वीकार कर रहे है कि हथियार तस्करी राजस्थान में अब चिंता का विषय बन गया है.

पिछले कुछ महिनों में पुलिस की स्पेशल टीम ने हथियार तस्करी के कई मामलों का खुलासा किया है जो कि साफ करते है प्रदेश में हथियार तस्करी जारी है.
18 मई- प्रताप नगर पुलिस ने 4 बदमाशों से 1 देशी कट्टा और 4 कारतूस जब्त किए 
23 मई- मुहाना पुलिस ने 4 बदमाशों से 2 देशी कट्टे और 7 कारतूस जब्त किए
30 मई- कालवाड़ पुलिस ने 6 बदमाशों के कब्जे से 2 देशी कट्टे जब्त किए
30 मई- करणी विहार पुलिस ने एक हथियार तस्कर से 5 देशी कट्टे और 6 कारतूस जब्त किए
25 जून- बगरू पुलिस ने 6 बदमाशों से दो देशी कट्टे जब्त किए
9 जुलाई- करधनी पुलिस ने एक बदमाश से 1 देशी कट्टा जब्त किया
19 जुलाई- सांगानेर पुलिस ने 4 बदमाशों से 1 देशी कट्टा और 4 कारतूस जब्त
28 जुलाई कानोता पुलिस ने 2 बदमाशों से 2 देशी कट्टे जब्त किए 

ये आंकड़े सिर्फ एक बानगी भर है. जयपुर पुलिस के अन्य थानों ने भी बदमाशों के कब्जे से अवैध हथियार बरामद किए हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि राजस्थान में हथियार तस्कर और बदमाश दूसरे राज्यों से हथियारों की खेप लेकर पहुंच रहे हैं.  पुलिस पड़ताल में इस बात का खुलासा हुआ है कि बदमाश यूपी और एमपी से हथियार खरीद कर राजस्थान में ला रहे हैं. इसके साथ ही इस बात का भी खुलासा हुआ है कि तस्कर अपने विश्वसनीय लोगों को हथियार डिलीवर करने का काम भी कर रहे हैं. ऐसे लोगों पर भी पुलिस अपनी पैनी निगाहें बनाए हुए हैं और हथियारों के साथ बदमाशों की धरपकड़ का अभियान लगातार जारी है.

हथियारों की तस्करी में तीन चरणों में अपराधी शामिल: 
इन अवैध हथियारों के साथ पुलिस ने कई हथियार तस्कर और खुंखार बदमाशों को गिरफ्तार किया है जिनमें आदतन बदमाश विशाल पंडित, ऐलेक्स जोसफ, रूपा मीणा, कमलेश मीणा और राजू पंडित शामिल है. पुलिस का मानना है कि हथियारों की तस्करी में तीन चरणों में अपराधी शामिल है. पहले चरण में बदमाश अवैध हथियारों का निर्माण कर रहे है. दूसरे चरण में शातिर बदमाश हथियारों की तस्करी कर रहे है. यानि कि दूसरे राज्यों में हथियारों का निर्माण कर उन्हे राजस्थान में लाकर बेचा जा रहा है. तीसरे चरण में वो लोग शामिल है जो कि हथियारों को खरीद रहे है. यानि कि राजस्थान में सक्रिय बदमाश जो कि तस्करी के जरिये आये हथियारों को खरीद कर प्रदेश में अपराध कर रहे है. पुलिस का मानना है कि राजस्थान में हथियारों का निर्माण फिलहाल नही किया जा रहा है. अन्य राज्यों से हथियार मंगवाकर ही हथियार यहां बेचे जा रहे है.

आए दिन हो रही हत्या, हत्या के प्रयास और लूट जैसी संगीन वारदातें: 
अवैध हथियारों की तस्करी की वजह से जयपुर में आए दिन हत्या, हत्या के प्रयास और लूट जैसी संगीन वारदातें हो रही है. अगर हथियार तस्करी के खिलाफ ठोस कदम उठाकर इस पर लगाम लगाई जाए तो जयपुर में होने वाली आपराधिक घटनाओं को कम किया जा सकता है.

...सत्यनारायण शर्मा,फर्स्ट इंडिया न्यूज,जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in