आर्मी स्काउट मास्टर प्रतियोगिता, तीन स्टेज में सबको पछाड़ भारतीय सेना रही पहले स्थान पर

Suryaveer Singh Tanwar Published Date 2019/08/13 10:48

जैसलमेर: कश्मीर में धारा 370 हटाये जाने के बाद से पाकिस्तान द्वारा दुनिया भर में भारत पर अलग अलग तरीके से दबाव बनाने के प्रयासों के बीच एक अच्छी खबर देश के सरहदी जिले जैसलमेर से आई है. जहां पर आर्मी स्काउट मास्टर प्रतियोगिता का आयोजन आर्मी केंट में किया जा रहा है जिसमें चीन व रूस सहित दुनिया की 8 सेनाएं जॉईट वॉर गेम एक्सरसाईज कर रही है और इस प्रतियोगिता के पांच चरणों में से अबतक हुए तीन चरणों में भारतीय सेना ने अपनी काबलियत का लोहा मनवाते हुए पहला स्थान प्राप्त किया है. जी हां सरहदी जिले जैसलमेर में आयोजित हो रही इस प्रतियोगिता के माध्यम से यह संदेश भी है कि दुनियाभर में भारत की ओर टेढी आंख से देखने वाले मुल्कों को इस प्रतियोगिता के परिणाम जरूर देखने चाहिये. प्रतियोगिता के पांच कडे चरणों में अब तक हुए तीनों चरण सेना के कडे मापदण्डों के साथ आयोजित हुए थे जिसमें सभी 8 देशों की सेनाओं ने अपना पूरा दमखम लगाया था लेकिन सभी 7 देशों को पछाड़ते हुए भारतीय सेना के सैनिकों ने बता दिया कि हम किसी से कम नहीं है. भारत में पहली बार आयोजित हो रही आर्मी स्काउट मास्टर प्रतियोगिता का यह पांचवा सीजन है जो भारत में आयोजित हो रहा है. इससे पहले इसके सभी चार सीजन रूस में अयोजित हुए थे साथ ही भारतीय सेना इस प्रतियोगिता में भी पहली बार हिस्सा ले रही है. 

रेतीले धोरों के बीच बख्तरबंद गाड़ियों की आवाजाही और टैंकों के मुह से निकलते गोलों के धमाकों के साथ फिजां में उड़ता रेत व धुएं का गुबारण्ण्ण् इसके साथ ही कृत्रिम रूप से बनी पानी झील और दुर्गम रेतीले धोरों के बीच से बख्तरबंद गाडियों में सैनिकों का दुश्मन के इलाके में प्रवेश कर दुश्मन की गतिविधियों की जानाकारी एकत्र कर अपनी सेना को देनाण्ण्ण  जी हां ये नजारा है भारत पाक सीमा से सटे जैसलमेर जिले के आर्मी कैंट का जहां पर इन दिनों स्काउट मास्टर प्रतियोगिता के तहत 8 देशों की सेनाएं जॉईंट वॉर गेम का अभ्यास कर रही है. 5 अगस्त से शुरू हुई इस प्रतियोगिता में पांच स्टेज में से अब तक 3 स्टेज के कॉम्पीटीशन का आयोजन हो चुका है. जिसमें तीनों ही स्टेज में भारतीय सेना प्रथम स्थान पर रही है. वहीं शेष दो स्टेट की प्रतियोगिता का आयोजन होना बाकी है जिसमें भी भारतीय सेना का हौंसला बुलंद ही दिख रहा है औश्र इस प्रतियोगिता को भारतीय सेना अपने नाम करने के लिये पूरा दमखम दिखा रही है. इस प्रतियोंगिता में रूस और चीन जैसी बड़ी सैन्य शक्तियां सहित 8 देशों की सेनाएं पश्चिमी राजस्थान के रेत के धोरों में हमारी सेना से लड़ाई का पराक्रम सीख रही है.

ये टीमें ले रही है हिस्सा: 
भारत
रूस
चीन
कजाकिस्तान
उजबेकिस्तान
जिम्बावे
आर्मेनिया
बेलारूस
मायनस 30 डिग्री के बजाय 45 डिग्री तापमान में साझा करेंगे तकनीकें 

इससे पहलें इस प्रतियोगिता का आयोजन रूस में होने के कारण विभिन्न देशों की सेनाओं को मायनस 30 डिग्री के तापमान में एक्सरसाइज करनी पड़ती थी, लेकिन इस बार इस प्रतियोगिता में नवाचार के रूप में भारत के जैसलमेर को इस प्रतियोगिता के आयोजन के लिए चुना गया ताकि 45 डिग्री से भी ऊपर के तापमान में किस तरह से युद्ध कौशल का प्रदर्शन किया जाता है इसका भी अभ्यास किया जा सके.    

दुश्मन के इलाके में घुसकर सटीक जानकारी लेने का अभ्यास: 
स्काउट की मुख्य भूमिका युद्ध क्षेत्र में लीड करने की होती है. पेट्रोलिंग के दौरान स्काउट दुश्मन की गतिविधियों पर पैनी निगाह रखते हुए इसकी जानकारी एकत्र कर अपनी सेना के टुकड़ी को देता है. यह दुश्मन की मुख्य लाइन के पीछे होने वाली सैन्य हलचल व हथियारों की जानकारी भी एकत्र करता है. युद्ध के दौरान स्काउट की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाती है. यह अपनी सेना के लिए आंख और कान का काम करता है. दुश्मन के क्षेत्र में घुसकर वहां अपने संपर्क बनाकर या फिर गुपचुप तरीके से उसकी रक्षा पंक्ति की पूरी जानकारी भेजता रहता है. इसके आधार पर ही उसकी सेना अपने हमले की रणनीति बनाती है.   

5 स्टेज में  हो रही है स्पर्धा:  
Stage-I- Infiltration and Ambush Exercise 
Stage-II- Scout Specialist Course 
Stage-III- Scout Tail Obstacle Course 
Stage-IV- Small Arms Firing 
Stage-V- Exfiltration and Flotation 

रेतीले धोरों में चीनी सेना सीख रही युद्ध के गुर: 
भारत की अपने परंपरागत प्रतिद्वंद्वी चीन के साथ पहली बार थार के रेगिस्तान में जमीनी लड़ाई में जोर आजमाइश होगी. पहाड़ों व बर्फीले स्थानों पर युद्ध करने में दक्ष मानी जाने वाली चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ;च्स् द्ध तपते थार के धोरों में भारतीय सेना से लड़ाई के दौरान दुश्मन के इलाकों में घुसकर निर्णायक बढ़त लेना सीखेगी. इसे रक्षा कूटनीतिक तौर पर भारत की बड़ी जीत माना जा रहा है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in