अहमदाबाद/बोटाद Gujarat: अरविंद केजरीवाल जहरीली शराब के पीड़ितों से अस्पताल में करेंगे मुलाकात, अब तक 21 लोगों की मौत

Gujarat: अरविंद केजरीवाल जहरीली शराब के पीड़ितों से अस्पताल में करेंगे मुलाकात, अब तक 21 लोगों की मौत

Gujarat: अरविंद केजरीवाल जहरीली शराब के पीड़ितों से अस्पताल में करेंगे मुलाकात, अब तक 21 लोगों की मौत

अहमदाबाद/बोटाद: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि वह भावनगर में उस अस्पताल का दौरा करेंगे जहां जहरीली शराब के सेवन के बाद बीमार हुए लोगों को भर्ती कराया गया है. राज्य के बोटाद जिले में कथित तौर पर जहरीली शराब के सेवन से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक केजरीवाल सोमवार की शाम को गुजरात पहुंचे और गिर सोमनाथ जिले के सोमनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना करने के बाद वह मंगलवार को राजकोट में व्यापारियों को संबोधित करेंगे. केजरीवाल ने ट्वीट किया कि यह जानकर बहुत दुख हुआ कि जहरीली शराब पीने के बाद 23 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 40 से अधिक लोग अस्पताल में भर्ती हैं. मैं मरने वालों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और आज भावनगर अस्पताल जाऊंगा. गुजरात में अधिकारियों ने हालांकि, बोटाद जिले में जहरीली शराब के सेवन से सोमवार से अब तक 21 लोगों की मौत की पुष्टि की है. बोटाद में पुलिस नियंत्रण कक्ष ने पुष्टि की कि जिले के अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है. पड़ोसी अहमदाबाद जिले के धंधुका तालुका के पांच लोगों का सोमवार से इलाज हो रहा था लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. अधिकारियों ने बताया कि भावनगर, बोटाद, बरवाला और धंधुका के विभिन्न सरकारी अस्पतालों में अब भी करीब 30 लोगों का इलाज हो रहा है. 

गुजरात के पुलिस महानिदेशक आशीष भाटिया ने पहले कहा था कि पुलिस ने बोटाद जिले से तीन लोगों को हिरासत में लिया है जो कथित तौर पर नकली देशी शराब बनाने और बेचने में शामिल थे. मामला सोमवार की सुबह तब सामने आया जब बरवाला तालुका के रोजिड गांव और आसपास के अन्य गांवों में रहने वाले कुछ लोगों की हालत बिगड़ने पर बरवाला और बोटाद कस्बों के सरकारी अस्पतालों में उन्हें भर्ती किया गया. पुलिस महानिरीक्षक (भावनगर रेंज) अशोक कुमार यादव ने कहा था कि घटना की जांच के लिए और नकली शराब बेचने वाले अवैध कारोबारियों को पकड़ने के लिए पुलिस उपाधीक्षक रैंक के अधिकारी के तहत एक विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया जाएगा. गुजरात आतंकवाद निरोधी दस्ता (ATS) और अहमदाबाद अपराध शाखा भी जांच में शामिल है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें