close ads


LIVE : जितना कीचड़ उछालोगे, उतना ही कमल ज्यादा खिलेगा : पीएम मोदी

LIVE : जितना कीचड़ उछालोगे, उतना ही कमल ज्यादा खिलेगा : पीएम मोदी

जोधपुर। राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव प्रचार का सिलसिला परवान पर पहुंच चुका है और सभी दलों ने प्रचार में पूरी ताकत झौंक दी है। चुनाव में जीत के जतन कर रही पार्टियों के दिग्गज नेताओं का इन दिनों राजस्थान में जमावड़ा नजर आ रहा है। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज एक फिर से राजस्थान के दौर पर है, जिसके तहत जोधपुर में जनसभा को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि विपक्षी जितना ही कीचड़ उछालेंगे, उतना ही कमल ज्यादा खिलेगा।

जोधपुर में वायु सेना स्टेशन पहुंचने के बाद पीएम मोदी रावण का चबूतरा पहुंचे हैं, जहां आयोजित हो रही जनसभा को सम्बोधित करते हुए वे कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाने साध रहे हैं। पीएम मोदी ने जोधपुरी भाषा में अपना सम्बोधन शुरू किया और कहा कि मनुहार करने का असली तरीका कोई जोधपुर से सीखे। जोधपुर से मेरा पुराना नाता रहा है, यहां की फिजां में शोर्य बसता है, यहां के खाने में एक अलग ही जायका है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के लोग कभी भी प्रदेश को गिरवी नहीं रखते हैं।

नरेंद्र मोदी ने मारवाड़ की अपनायत की तारीफ की और संत सुखरामदास, राव जोधा, दुर्गादास राठौड़ को याद किया। वहीं पीएम मोदी ने परमवीर चक्र विजेता शैतान सिंह को भी याद किया। उन्होंने कहा कि चुनाव में जनहित के मुद्दों पर बात होनी चाहिए, लेकिन कांग्रेस जीत के भ्रम में जी रही है और हम पर कीचड़ उछालती रहती है। लेकिन उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि जितना कीचड़ उछालोगे, उतना ही कमल ज्यादा खिलेगा। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व में जाति नहीं पूछी जाती, लेकिन ये लोग हमारी जाति पूछते हैं। नामदार पूछते हैं कि मोदी की जात क्या है। हिंदुत्व तो हिमालय से ऊंचा और समुद्र से गहरा है। कांग्रेस ने तो भगवान राम तक को काल्पनिक पात्र बता दिया है।

पीएम मोदी ने कहा कि देश के नाम का आज पूरे विश्व में डंका बजता है और यूएन ने देश का बहुत बड़ा सम्मान किया है। जबकि इनके समय में दिल्ली से रिमोट से सरकार चला करती थी। गांधी परिवार की पीढ़ियों को हजार सालों तक देश के सामने जवाब देना होगा। पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में बिश्नोई समाज का भी जिक्र किया और कहा कि बिश्नोई समाज के लोग पर्यावरण की रक्षा के लिए बलिदान दे रहे हैं, इसके लिए मैं बिश्नोई समाज के हर व्यक्ति को प्रणाम करता हूं।

और पढ़ें