Live News »

यौन उत्पीड़न मामले में फिर बढ़ी आसाराम की मुश्किलें, अब 3 तीन साल बाद मामले में सुनवाई के आसार

यौन उत्पीड़न मामले में फिर बढ़ी आसाराम की मुश्किलें, अब 3 तीन साल बाद मामले में सुनवाई के आसार

जोधपुर: अपनी ही आश्रम की शिष्या से यौन उत्पीड़न मामले में जोधपुर जेल में बंद आसाराम की मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं. आसाराम की ओर से सजा के खिलाफ अपील की सुनवाई सोमवार को हाईकोर्ट जस्टिस संदीप मेहता की खंडपीठ में हुई. जिसमें कोर्ट ने सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया कि यह मामला कस्टडी पीरियड प्रायोरिटी बेसेस के आधार पर ही सुना जाएगा. हाइकोर्ट में वर्तमान में 7,8,9,साल से जेल में बंद सजायाफ्ता बंदियों की सुनवाई चल रही है जबकि आसाराम को अभी तक जेल में 5 साल, 11 महीने 20 दिन का ही समय हुआ है.

आसाराम मामले में 3 साल बाद सुनवाई के आसार: 
कोर्ट ने उक्त मामले में रजिस्ट्रार हाईकोर्ट को आदेश जारी करते हुए निर्देश दिए हैं कि उक्त मामले को अभी लिस्टिंग नहीं किया जाए. इन आदेशों के बाद अब आसाराम मामले में 3 साल बाद सुनवाई के आसार नजर आ रहे हैं. गौरतलब है कि पूर्व में एससी एसटी कोर्ट के पीठासीन अधिकारी मधुसूदन शर्मा ने आसाराम को पोक्सो के मामले में दोषी मानते हुए अंतिम सांस तक जेल में रहने की सजा सुनाई थी. जिसके बाद आसाराम ने सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी. आसाराम के अधिवक्ता जगमाल चौधरी और प्रदीप चौधरी ने हाइकोर्ट से इस मामले को जल्दी सुनने की अर्जी लगाई थी जिसे स्वीकार किया गया था और 3 बार यह मामला सुनवाई के लिए सूचीबद्ध भी किया गया. 

और पढ़ें

Most Related Stories

Nagar Nigam Polls: प्रदेश की 3 नगर निगमों में कुल 60.42 फीसदी मतदान, कोटा उत्तर में हुई सर्वाधिक वोटिंग

जयपुर: राजस्थान में जयपुर हेरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर नगर निगमों में गुरुवार को प्रथम चरण के चुनाव छुटपुट घटनाओं को छोड़कर शांतिपूर्ण संपन्न हुए. प्रदेश की 3 नगर निगमों में कुल 60.42% मतदान हुआ है. इसमें सबसे ज्यादा मतदान कोटा उत्तर नगर निगम में  65.12 प्रतिशत हुआ. इसके बाद जोधपुर उत्तर में 62.64% वोटिंग और जयपुर हेरिटेज में 57.82%  मतदान हुआ. अब दूसरे चरण में जयपुर ग्रेटर, जोधपुर दक्षिण और कोटा दक्षिण में 1 नवंबर को मतदान होगा.जबकि मतगणना 3 नवंबर को होगी.

{related}

16 लाख 54 हजार 592 थे कुल मतदाताः 
16 लाख 54 हजार 592 मतदाताओं में से 9 लाख 99 हजार 691 मतदाताओं ने की अपने मताधिकार का उपयोग किया.बता दें कि पहले चरण में 250 वार्डों के 2761 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 54 हजार 547 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. इसमें जयपुर हैरिटेज के 100 वार्डों के 9 लाख 32 हजार 908 मतदाताओं में 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य, जोधपुर उत्तर के 80 वार्डों के 3 लाख 88 हजार 847 मतदाताओं में से 1 लाख 99 हजार 505 पुरुष, 1 लाख 89 हजार 339 महिला व 3 अन्य और कोटा उत्तर के 70 वार्डों के 3 लाख 32 हजार 792 मतदाताओं में से 1 लाख 70 हजार 959 पुरुष, 1 लाख 61 हजार 831 महिला व 2 अन्य मतदाता शामिल हैं.

कोरोना संक्रमितों ने की गई मतदान की व्यवस्थाः
उधर कोटा उत्तर नगर निगम के लिए गुरुवार को हुए प्रथम चरण के मतदान के आखिरी चरण में कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने अपने मत का प्रयोग किया. जानकारी के अनुसार कोटा उत्तर नगर निगम में 5 कोरोना संक्रमितों के लिए सकतपुरा, भदाना, डीसीएम डिस्पेन्सरियों पर मतदान की व्यवस्था की गई थी. कुन्हाड़ी के संत तुकाराम सामुदायिक भवन बूथ पर कोरोना संक्रमितों ने पीपीई किट पहनकर मतदान किया. 

Nagar Nigam Polls : जोधपुर उत्तर में पहले चरण के लिए शांतिपूर्ण चल रहा मतदान, वैभव गहलोत ने पत्नी हिमांशी के साथ डाला वोट

जोधपुर: जोधपुर नगर निगम उत्तर क्षेत्र के चुनाव के चलते जोधपुर में शांतिपूर्ण मतदान की प्रक्रिया चल रही है जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह से लेकर पुलिस कमिश्नर जोस मोहन और नगर निगम आयुक्त रोहिताश्व तोमर से लेकर डीसीपी धर्मेंद्र सिंह और आलोक श्रीवास्तव लगातार अपनी अपनी टीमों के साथ मुस्तैद है, छुटपुट शिकायतें जरूर सामने आ रही है जिनका मौके पर ही निस्तारण किया जा रहा है. 

वैभव गहलोत ने अपनी पत्नी हिमांशी गहलोत के साथ वोट डाला:
उधर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य वैभव गहलोत ने अपनी पत्नी हिमांशी गहलोत के साथ वार्ड नंबर 57 से मतदाता के रूप में अपना वोट डाला. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पैतृक निवास के पास स्थित वर्द्धमान जैन स्कूल में सिक्योरिटी के काफिले के साथ पहुंचे वैभव गहलोत ने अपनी पत्नी हिमांशी गहलोत के साथ वोट डालने के बाद बकायदा वोट डालने की स्याही हमेशा की तरह दिखाई. 

{related}

मतदाता सूची में मेहराज अंसारी के नाम पर लाल स्याही फेरने की बात सामने आई: 
वहीं शहर कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सईद अंसारी की पुत्री मेहराज अंसारी जब वार्ड नम्बर 15 में आने वाले प्रतापनगर स्थित मॉर्निंग ग्लोरी स्कूल में बने मतदान केन्द्र पर अपना मतदान करने पहुंची तो वहां पर मतदाता सूची में से नाम पर लाल स्याही फेरने की बात सामने आई जिस पर कुछ देर तक मतदान केंद्र पर कहासुनी का बहुत चलता रहा. प्रातः 7:30 बजे मतदान केंद्र पर पहुंची मेहराज अंसारी उस वक्त तो वोट नहीं डाल पाई मगर बाद में सारे डाक्यूमेंट्स मंगाए गए तो उसमें नाम होने की बात सामने आई मेहराज अंसारी के पिता और शहर कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सईद अंसारी ने बताया कि किसी असामाजिक तत्व द्वारा नाम पर लाल स्याही फेर दी थी यदि मतदाता सूची में नाम नहीं होता तो नॉमिनेशन फॉर्म ही स्वीकार नहीं होता. 

सूचियों के मिलान के बाद डाला वोट:
इसके बाद में जब सूचियों का मिलान किया गया तब मतदान सूची में मेहाराज अंसारी का नाम था जिसके बाद मेहराज अंसारी ने नियमानुसार अपना वोट डाला. यह यहां विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि सईद अंसारी की पुत्री मेहराज अंसारी पार्षद का चुनाव लड़ने के अलावा महापौर पद की दावेदार बताई जा रही है.


 

जोधपुर नगर निगम उत्तर के लिए मतदान कल, 624 मतदान बूथों पर होगी वोटिंग

जोधपुर नगर निगम उत्तर के लिए मतदान कल, 624 मतदान बूथों पर होगी वोटिंग

जोधपुर: प्रदेश के जोधपुर नगर निगम उत्तर के लिए गुरुवार को मतदान होना है. मतदान से पूर्व आज पॉलिटेक्निक कॉलेज मैदान में मतदान दलों को अंतिम प्रशिक्षण देकर मतदान केंद्रों के लिए रवाना किया गया. पोलिंग पार्टियों को अंतिम प्रशिक्षण के दौरान चुनाव आचार संहिता के साथ ही कोरोना गाइड लाइन की पालना के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई.

{related}

अतिरिक्त जिला कलेक्टर मदनलाल नेहरा ने बताया कि कोरोना को देखते हुए इस बार जिला प्रशासन ने 300 अतिरिक्त बूथ बनाए हैं. इस बार नगर निगम उत्तर के लिए 624 मतदान बूथ बनाए गए है, जहां लगभग 3, 18000 से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.वहीं 2500 कर्मचारियों को ड्यूटी पर लगाए गया हैं. 

विजयादशमी पर कोरोना का कहर, रावण के ससुराल जोधपुर में इस बार नहीं होगा रावण दहन

विजयादशमी पर कोरोना का कहर, रावण के ससुराल जोधपुर में इस बार नहीं होगा रावण दहन

जोधपुर: कोरोना ने इस बार सदियों से चली आ रही रावण दहन की परम्परा पर विराम लगा दिया है. रावण के ससुराल जोधपुर में इस बार विजयादशमी के अवसर पर रावण का दहन नहीं किया जाएगा. आज विजयादशमी का पर्व है और ऐसे में आज के दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक रावण दहन का कार्यक्रम कोरोना के चलते आयोजित नही होगा. ऐसे में जोधपुर वासियों ने जहां कोरोना को कोसा तो वही सरकार के इस निर्णय का भी स्वागत किया. विजयादशमी पर रावण का चबूतरा मैदान में हर वर्ष रावण दहन का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है.

जोधपुर में 102 वर्षों बाद टूटेगी यह परपंरा: 
रावण दहन की परपंरा सदियों से चली आ रही है और यह पहला मौका होगा जब जोधपुर में 102 वर्षो बाद यह परपंरा टूटेगी और आज रावण दहन नही किया जाएगा. महोत्सव को लेकर नगर निगम ने कलेक्टर के जरिए राज्य सरकार को पत्र लिख मार्गदर्शन मांगा था. राज्य सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि कोरोना की रोकथाम के लिए पहले से जोधपुर में धारा 144 लागू है. ऐसे में रावण दहन के दौरान उमड़ने वाली भारी भीड़ को ध्यान में रखते हुए इसका आयोजन इस साल नहीं किया जाए. वही इस बार करे रावण के पुतले बनाने वाले उन मजदूरों की तो उनके लिए भी इस बार रोजगार का संकट रहा है. मजदूर परिवारों के लिए रावण दहन कार्यक्रम नही होने से रोजी रोजी का संकट सामने आ रहा है. जब जोधपुर के राजघराने से जुडे हुए राज व्यास परिवार के सदस्यों से जब रावण दहन की परपंरा कब से चली आ रही है इस संबंध मे पूछा गया तो उन्होने बताया कि परपंरागत दशहरा जोधपुर महाराजा द्वारा विधिपूर्वक सदियों से मनाया जा रहा है. लेकिन यह पहली मर्तबा है कि इस बार रावण का दहन नही हो पा रहा है.

{related}

सन 1918 से चली आ रही है ये परंपरा:
पूर्व महाराजा उम्मेद सिंह के समय 1918 से यह परंपरा चली आ रही है,तब से लेकर आज यह पहला मौका है जब रावण का दहन नही होगा. वहीं राहन दहन नही किए जाने के निर्णय की जहां जोधपुर के लोगो ने सराहना करते हुए कहा कि रावण दहन जब होता है तो रावण चबूतरा मैदान में काफी भीड लगती है ऐसे में वहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही हो पाएगा. जोधपुर में कोरोना के कहर को देखते हुए सरकार का यह सही निर्णय है कि इस बार रावण दहन नही होगा क्योकि त्यौहार तो हम अगले वर्ष भी मना लेंगे मगर अभी कोरोना को भगाना हमारे लिए जरूरी.

इस बार नहीं निकलेगी भगवान रामचन्द्र जी की सवारी:
बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व विजयदशमी के दिन मेहरानगढ़ में सदियों पुरानी परम्परा दशहरा दरबार नहीं सजेगा. कोविड-19 और जिला प्रशासन की गाइडलाइन के कारण दशहरे के दिन किए जाने वाला अश्व, पारम्परिक शस्त्रों एवं शमीपूजन भी प्रतिकात्मक ही होगा. किले के ही मुरली मनोहरजी मन्दिर से दशानन दहन स्थल रावण चबूतरा मैदान तक भगवान रामचन्द्र की सवारी भी इस बार नहीं निकलेंगी. शस्त्र व शमी पूजन की परम्परा इस बार कोविड के कारण उम्मेद भवन में प्रतिकात्मक रूप से की जाएगी. मान्यता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी मारवाड़ की प्राचीन राजधानी मंडोर की रहने वाली थी. उसका विवाह मंडोर में ही रावण के साथ हुआ था. मंडोर में दोनों के विवाह के दौरान फेरे लिए जाने का स्थान भी है. वहीं, जोधपुर में रावण व मंदोदरी का एक मंदिर भी बना हुआ है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए राजीव गौड़ की रिपोर्ट

जोधपुर: कोरोना संक्रमण के प्रति जागरूकता का संदेश देता नजर आएगा रावण, बनेगा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक

जोधपुर: कोरोना संक्रमण के प्रति जागरूकता का संदेश देता नजर आएगा रावण, बनेगा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक

जोधपुर: कोरोना ने इस बार सदियों से चली आ रही रावण दहन की परम्परा पर विराम लगा दिया है. रावण के ससुराल जोधपुर में इस बार विजयादशमी के अवसर पर रावण का दहन नहीं किया जाएगा. मगर जोधपुर के गली और मोहल्लों की बात करे तो वहां पर रावण दहण को लेकर बच्चों से लेकर बड़ों में उत्साह देखा जा रहा है. जोधपुर के कमला नेहरू नगर हुडको क्वार्टर की बात करे तो वहां पर बच्चों ने मिलकर रावण दहन पर बेस्ट फ्रॉम वेस्ट आईटम्स से ना केवल रावण का पुतला बनाया है बल्कि कोरोना के चलते रावण को मास्क भी पहनाया गया है और कोरोना के प्रति जागरूकता का संदेश भी दिया है.

गली और मोहल्लों में जोर-शोर से चल रही रावण दहन की तैयारियां:  
कल विजयादशमी का पर्व है और ऐसे में रावण दहन को लेकर राजस्थान सरकार द्वारा किसी प्रकार की कोई गाइड लाइन फिलहाल जारी नहीं की गई है ऐसे में रावण दहन इस बार जोधपुर में नही मनाया जाएगा मगर गली और मोहल्लों की बात करे तो वहां पर रावण दहन की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है. जोधपुर के कमला नेहरू नगर हुडको क्वार्टर स्थित मोहल्ले में बच्चों की टीम  ने तो बेस्ट फॉर्म वेस्ट आइटम्स से एक अनूठा 6 फिट का रावण तैयार किया है जो ना केवल बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है बल्कि इसके साथ ही कोरोना संक्रमण के प्रति जागरूकता का भी संदेश देता नजर आएगा. यह रावण का पुतला बनकर तैयार हो गया है जिसमें बच्चों ने काफी मेहनत से बनाया है जिसपर छोटे छोटे कोरोना के सिम्बल लगाने के साथ ही कोरोना को हराना है देश को बचाना है का संदेश भी लिखा गया है. 

{related}

कोरोना के प्रति जागरूकता का संदेश देता नजर आएगा:
अब कल विजय दशमी के पर्व पर जब यह रावण जलेगा तो लोगों को कोरोना के प्रति जागरूकता का संदेश देता नजर आएगा. पुतला बनाने वाले बच्चों ने बताया कि जोधपुर में कोरोना के चलते इस बार रावण दहन नहीं होगा इसलिए हमारी पूरी बच्चों की टीम ने सोचा कि मोहल्ले में ही रावण का दहन करेंगे इसमें हमने बेस्ट फॉर वेस्ट से इस रावण को बनाया है. बेसट फॉर वेस्ट के तहत हमने इसमें कारबोट, मटकी, लकडी के अलावा ऐसे कई वेस्ट आइटम्स का इस्तेमाल करते हुए हमने यह 6 फिट का रावण बनाया है. कोरोना हमारे देश और विश्व से पूरी तरह खत्म हो जाए इसलिए हमने कोरोना की ड्राइंग करके इस रावण पर चिपकाया है जिससे रावण के साथ-साथ कोरोना भी खत्म होगा.

जोधपुर: नाबालिक बच्ची के साथ छेड़छाड़ के मामले में 11 महीने से न्याय नहीं मिलने से आहत पूरा परिवार 10 दिन से बैठा धरने पर

जोधपुर: नाबालिक बच्ची के साथ छेड़छाड़ के मामले में 11 महीने से न्याय नहीं मिलने से आहत पूरा परिवार 10 दिन से बैठा धरने पर

फलोदी(जोधपुर): एक तरफ तो सरकार बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ को लिए नारा दे रही है वहीं दूसरी ओर फलोदी के चाखु थाना क्षेत्र के हनुमान सागर गांव में स्थित राजकीय विद्यालय में पढ़ाई करने वाली छात्रा से उसी विद्यालय के शिक्षक द्वारा छेड़खानी करने का मामला दर्ज होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से पीड़ित परिवार का धरना मंगलवार को दसवें दिन भी जारी रहा. घटना आज से 11 महीने पहले की बताई जा रही है. आपको बता दें की पीड़ित परिवार ने कई बार उच्च अधिकारियों के चक्कर भी काटे लेकिन अभी तक न्याय नहीं मिल पाया है. 

पीड़ित परिवार उच्चाधिकारियों के पास चक्कर काटता रहा:  
वही पीड़ित परिवार ने जिला कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक फलोदी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक व उप पुलिस अधीक्षक फलोदी उच्चाधिकारियों के पास चक्कर काटता रहा लेकिन न्याय नही मिला. वहीं पीड़ित के पिता बुधाराम ने बताया कि एक तरफ सरकार बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का नारा लगा रही वही दूसरी ओर बेटी पर शिक्षक द्वारा अत्याचार करने बावजूद कार्रवाई नहीं हो रही है.

{related}

11 माह बीतने के बावजूद न्याय नही मिल रहा:
बताया जा रहा है कि आरोपी शिक्षक का भाई थानाधिकारी पद पर कार्यरत होने की वजह से इस मामले में बेटी को 11 माह बीतने के बावजूद न्याय नही मिल रहा है. वहीं पीड़ित का पूरा परिवार आज दसवें दिन भी अनशन व भूख हड़ताल पर है. जिसमे उसके छोटे बच्चे भी शामिल है. पीड़ित के पिता ने कहा कि चाहे मेरे पूरे परिवार की जान भी चली जाए जब तक आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार नही किया जाएगा तब तक अनशन व भूख हड़ताल जारी रहेगी. 

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर: एसीबी जोधपुर की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक पटवारी को 3500 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. फलौदी में हुई इस कार्रवाई में म्यूटेशन करने की एवज में यह रिश्वत मांगी गई थी. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्ग सिंह राजपुरोहित ने बताया कि परिवादी पप्पू राम विश्नोई ने एसीबी चौकी में आकर शिकायत दर्ज कराई कि पटवारी पवन कुमार जोशी म्यूटेशन करने की एवज में 3500 रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा है.

{related}

शिकायत का सत्यापन करने के बाद एसीबी टीम में पटवारी को ट्रैप करने के लिए जाल बिछाया और 3500 रुपए देकर परिवादी को पटवारी के घर भेजा. पटवारी पवन कुमार जोशी ने रिश्वत की यह राशि लेकर अपने टेबल की दराज में रख ली. इशारा पाते ही एसीबी की टीम ने दबिश दी और दराज से 3500 रुपए बरामद कर लिए. एसीबी टीम को इसी दराज में करीब 35000 रुपए अतिरिक्त मिले हैं.

जालोर में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामला, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने मामले को लिया गंभीरता से

जालोर में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामला, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने मामले को लिया गंभीरता से

जोधपुर: जिले में दो नाबालिग किशोरियों के अपहरण व गैंगरेप मामले में बाल सरंक्षण आयोग अध्यक्ष संगीतन बेनिवाल ने गंभीरता से से लेते हुए पूरे मामले में प्रसंज्ञान लिया है. प्रसंज्ञान लेने के साथ ही संगीता बेनिवाल ने पुलिस अधिकारियों से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है. फरार आरोपियों को लेकर पुलिस को तुरंत गिरफ्तारी के भी आदेश दिए गए है. मामले की गंभीरता को देखते हुए आयोग अध्यक्ष संगीता बेनिवाल जालोर रवाना हुई जहां दोनो नाबालिग किशोरियों से मिलने के अलावा परिवार जनों से मिलकर हालात जानेंगी. 

आरोपी लड़कियों को पहाड़ियों पर बेहोशी की हालत में छोड़कर फरार हो गए थे: 
गौरतलब है कि जालोर जिले के भीनमाल थाना क्षेत्र के खाण्डादेवल गांव से कुछ युवकों द्वारा दो नाबालिग लड़कियों का अपहरण कर उनके साथ गैंगरेप करने की घटना सामने आई थी. गैंगरेप के बाद आरोपी लड़कियों को जसवंतपुरा थाना क्षेत्र के राजपुरा में सुंधामाता की पहाड़ियों पर बेहोशी की हालत में छोड़कर फरार हो गए थे. पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था. सूचना पर पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच लड़कियों को अचेत व घायल अवस्था में भीनमाल शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था. जहां उनका इलाज चल रहा है. 

{related}

पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था:
पड़िता के पिता ने रिर्पोट दर्ज करवाई कि खाण्डादेवल निवासी चेतनराम, अशोक, तेजाराम, पीराराम भील व दो अन्य ने उसके घर में प्रवेश कर उसकी नाबालिग बेटी व उसकी नाबालिग चचेरी बहन का अपहरण कर लिया था. अपहरण करने के बाद आरोपियो ने दोनों को जसवंतपुरा के राजपुरा गांव ले गए. जहां पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया था. गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए. सूचना पर पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच लड़कियों को अचेत व घायल अवस्था में भीनमाल शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया. जहां उनका इलाज चल रहा है. 

गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार:
पुलिस ने बताया कि पड़िता के पिता ने रिर्पोट दर्ज करवाई कि खाण्डादेवल निवासी चेतनराम पुत्र विरकाराम, अशोक पुत्र लसाराम, तेजाराम पुत्र लसाराम, पीराराम पुत्र करताराम भील व दो अन्य ने उसके घर में प्रवेश कर उसकी नाबालिग बेटी व उसकी नाबालिग चचेरी बहन का अपहरण कर लिया. अपहरण करने के बाद आरोपियो ने दोनों को जसवंतपुरा के राजपुरा गांव ले गए. जहां पहाड़ियों पर आरोपितों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया. गैंगरेप के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए.