आसाराम का Oxygen Level पहुंचा 92 पर, Ayurveda Medicine पद्धति से ही इलाज करवाने पर अड़ा आसूमल

आसाराम का Oxygen Level पहुंचा 92 पर, Ayurveda Medicine पद्धति से ही इलाज करवाने पर अड़ा आसूमल

आसाराम का Oxygen Level पहुंचा 92 पर, Ayurveda Medicine पद्धति से ही इलाज करवाने पर अड़ा आसूमल

जयपुर/जोधपुर: कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से मुक्त हुए आसाराम (आसूमल) का ऑक्सीजन लेवल (Oxygen Level) रविवार को एक बार फिर घट गया. जेल से उन्हें एक बार फिर AIIMS ले जाने की तैयारी की गई, लेकिन आसाराम ने वहां इलाज कराने को जाने से मना कर दिया और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति (Ayurveda System of Medicine) से ही इलाज करवाने पर अड़ गया.  इसके बाद आयुर्वेद यूनिवर्सिटी (Ayurveda University) से एक डॉक्टर को बुलाया गया. जांच करने के बाद उसे ऑक्सीजन दी जा रही है. उसे दूबारा 

दो उिदन पूर्व ही आसाराम को AIIMS से किया गया था डिस्चार्ज:
कोरोना मुक्त होने के बाद दो दिन पूर्व आसाराम को AIIMS से डिस्चार्ज कर दिया गया था. जोधपुर जेल में आज सुबह उसकी तबीयत बिगड़ना शुरू हो गई. उसका ऑक्सीजन लेवल घट कर 92 तक आ पहुंचा. इसके बाद जेल में ही उसे ऑक्सीजन पर रखा गया. जेल अधिकारी उसे AIIMS वापस ले जाने के इच्छुक थे. लेकिन आसाराम अड़ गया कि उसे सिर्फ आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से ही इलाज करवाना है. इसके बाद जेल प्रशासन (Jail Administration) ने करवड़ स्थित आयुर्वेद यूनिवर्सिटी के डॉ. अरुण त्यागी (Dr. Arun Tyagi) को बुलाया गया। उन्होंने आसाराम की जांच की और कुछ दवा दी। उनकी जांच करने के बाद फिलहाल उसकी तबीयत स्थिर बनी हुई है।

कोविड के कारण आसूमल को है थोडी दिक्क्त:
डॉ. त्यागी ने बताया कि कोविड के कारण उनको कुछ दिक्कतें है. मैने उन्हें समझाया है कि इलाज के लिए जरूरी है कि उनकी कुछ जांच कराई जाए. ये जांच अस्पताल में ही हो सकती है. ऐसे में वे AIIMS या MDM अस्पताल (Mathura Das Mathur Hospital) में अपनी जांच करवा लें. इसके बाद यदि वे चाहेंगे तो हम आयुर्वेद से उनका इलाज शुरू कर देंगे. उसे प्रोस्टेट (Protest) की समस्या पहले थी, वह अब और बढ़ गई है.

राजस्थान हाईकोर्ट ने दो महीने की अंतरित जमानत याचिका को किया था खारिज:
नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले (Raip Case) में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे आसाराम की जेल से बाहर आने की उम्मीदों को जोरदार झटका लगा था. कोरोना संक्रमित होने के बाद आसाराम की तरफ से राजस्थान हाईकोर्ट में दो महीनेे की अंतरिम जमानत देने का गुहार लगाई थी. हाईकोर्ट (High COurt) ने जोधपुर AIIMS से गठित मेडिकल बोर्ड गठित करके रिपोर्ट देेने को कहा था. इस बोर्ड ने दो दिन पहले ही आसाराम की तबीयत को एकदम सही करार दिया था. कुछेक मामलों में इलाज की आवश्यकता बताई थी. इस रिपोर्ट के आधार पर राजस्थान हाईकोर्ट ने उसकी अंतरिम जमानत (Interim Bail) की याचिका को खारिज कर दिया.

दो दिन पूर्व AIIMS ने तबियत में सुधार होने की कही थी बात:
AIIMS ने यह दी थी रिपाेर्ट में कहा गया कि कोरोना संक्रमित होने के बाद 7 मई को महात्मा गांधी अस्पताल (Mahtma Gandhi Hospital) से आसाराम को AIIMS लाया गया. यहां भर्ती होने के बाद उसकी सेहत में लगातार सुधार हो रहा है. तीन दिन से वह ऑक्सीजन सपोर्ट (Oxygen Support) पर नहीं है. उसके पॉजिटिव आने के बाद अब 14 दिन पूरे हो चुके है. ऐसे में ICMR की गाइडलाइन के अनुसार उसे डिस्चार्ज किया जा सकता है.

अल्सर के कारण आसाराम का हीमोग्लोबिन हो गया कम: 
रिपोर्ट में कहा गया कि 14 मई को पेट में अल्सर के कारण उसका हीमोग्लोबिन (Himoglobin) कम हो गया था. आसाराम ने पहले खून चढ़वाने से मना कर दिया। बाद में 16 मई को वह ऐसा करने को तैयार हो गया। उसे दो यूनिट खून चढ़ाया गया। इसके बाद उसका हीमोग्लोबिन बढ़ गया. उसकी कुछ अन्य जांच की जानी प्रस्तावित थी, लेकिन आसाराम ने ऐसा करवाने से मना कर दिया.

और पढ़ें