VIDEO: मोदी राज पर अशोक गहलोत के प्रहार, कहा-हमारी देशभक्ति पर ही सवाल क्यों ?

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/24 08:19

जयपुर: जम्मू-कश्मीर में पिछले 20 दिन से क्या हालात हैं, किसी को भी पता नहीं. केन्द्र सरकार की जिम्मेदारी होनी चाहिये थी कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को लेकर कश्मीर जाये, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. यह कहना है राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का. गहलोत ने मोदी सरकार और बीजेपी पर प्रहार किये. 

विधानसभा में पत्रकारों से बातचीत में गहलोत ने कहा कि पूरा मुल्क राष्ट्रभक्त और राष्ट्रभक्ति के लिये एकजुट है, लेकिन वातावरण ऐसा बनाया जा रहा है कि कि जैसे हम देशभक्त ही नहीं. गहलोत ने यह भी कहा कि राज्यों को वित्तीय तौर पर कमजोर किया जा रहा है. उधोगधंधो का हाल बेहाल है, डर के कारण उद्योगपति कुछ नहीं बोल पा रहे हैं. पी चिदम्बरम गिरफ्तार मसले पर भी गहलोत ने मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया और कहा कि मोदी सरकार घमंड में चूर है. खास रिपोर्ट:

गहलोत ने कहा देश में अघोषित आपातकाल:
आज राहुल गांधी सर्वदलीय डेलिगेशन के साथ कश्मीर के दौरे पर गए और उन्हें बेरंग लौटना पड़ा. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जम्मू और कश्मीर के वर्तमान हालात और विपक्ष के डेलिगेशन पर अपनी बात कही. विधानसभा में पत्रकारों से बातचीत में अशोक गहलोत ने कहा कि कश्मीर में क्या चल रहा है यह पता तो चले? नेताओं को वहां नजरबंद कर रखा है, किसी का कोई पता नहीं. होना तो यह चाहिये था कि सर्वदलीय डेलिगेशन वहां भेजना चाहिये था. बांग्लादेश को जब पाकिस्तान से अलग किया गया था, तब देश में राष्ट्रभक्ति का ज्वार था और सरकार थी इंदिरा गांधी की. उन्होंने विपक्ष को विश्वास में लेकर निर्णय लिये. सत्तापक्ष को गहलोत ने घमंड का प्रतीक बताया. 

हम भी राष्ट्रभक्त:
अशोक गहलोत ने पी चिदम्बरम की गिरफ्तारी प्रकरण पर कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है. एक सम्मानजक शख्सियत के घर में दीवार फांद कर घुसना बेहद अफसोसजनक है. हालात वाकई चिंताजनक है, देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर नहीं है. नीति आयोग के सदस्य, आरबीआई के गर्वनर कह चुके है. राहुल बजाज और गोदरेज सरीखे उद्योगपति अपनी बात कह चुके हैं और डर के कारण कई उद्योगपति नहीं बोल पा रहे, लेकिन उद्योगधंधो और ऑटोमोबाइल सेक्टर समेत कई क्षेत्र डाउन फाल पर हैं.

देश की अर्थव्यवस्था चिंताजनक दौर में:
अशोक गहलोत ने साफतौर पर कहा कि राज्यों को केन्द्र से मिलने वाले फंड के नियम बदले गये और राज्यों को वित्तीय तौर कमजोर करने की कोशिश हुई है. गहलोत ने सीएसएस फंड को लेकर केन्द्र सरकार की नीतियों की आलोचना की. केन्द्र की नीतियों पर अशोक गहलोत ने एक एक करके प्रहार किये. कांग्रेस के थिंक टैंक के तौर पर अशोक गहलोत को जाना जाता है , लिहाजा उनकी कही बातों का महत्व है. चाहे वो कश्मीर मसला हो या अर्थव्यवस्था से जुड़े मुद्दें. मुख्यमंत्री गहलोत ने मोदी सरकार और बीजेपी की नीतियों पर भी हमला बोला.

... संवाददाता योगेश शर्मा की रिपोर्ट


First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in