9 फरवरी को होगी गहलोत कैबिनेट की बैठक, बजट सत्र में होनेवाले विधायी कार्यों को लेकर होगी चर्चा

9 फरवरी को होगी गहलोत कैबिनेट की बैठक, बजट सत्र में होनेवाले विधायी कार्यों को लेकर होगी चर्चा

9 फरवरी को होगी गहलोत कैबिनेट की बैठक, बजट सत्र में होनेवाले विधायी कार्यों को लेकर होगी चर्चा

जयपुर: पूर्व में 2 बार स्थगित हो चुकी कैबिनेट की बैठक अब 9 फरवरी को दोपहर 12 बजे होगी. इसमें अगले बजट सत्र में होनेवाले विधायी कार्यों को लेकर चर्चा होगी जिसमें खास तौर पर विधानसभा में रखे जानेवाले विधेयकों को लेकर विचार होगा. इससे पहले कैबिनेट की बैठक दो बार मुख्यमंत्री की अस्वस्थता के चलते ऐन वक्त पर स्थगित कर दी गई थी.

बजट सत्र में रखे जाने वाले बिजनेस का मुख्य एजेंडा रखा गया:  
मुख्यमंत्री निवास पर 9 फरवरी को दोपहर 12 बजे होने वाली कैबिनेट की बैठक में विधानसभा के बजट सत्र में रखे जाने वाले बिजनेस का मुख्य एजेंडा रखा गया है. कैबिनेट में तय किया जाएगा कि विधानसभा के बजट सत्र के दौरान ऐसे कानून  जिनका पहले अध्यादेश जारी हो चुका है, उन्हें एक्ट के रूप में विधानसभा में रखना है. साथ ही बजट में सरकार किस तरह से मौजूदा किसान आंदोलन के हालात को लेकर भी  अनौपचारिक चर्चा कर सकती है. 

कृषि कानून को लेकर जारी किया जा सकता संकल्प पत्र:
राज्य सरकार की ओर से पिछले विधानसभा के सत्र में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ  3 नए कृषि कानून पारित कर राज्यपाल को भेजे थे, लेकिन फिलहाल वे कानून राजभवन में ही लंबित है. इसे लेकर भी राज्य सरकार अब इस सत्र में एक संकल्प पत्र जारी करके वापस राज्यपाल को भिजवाने का निर्णय ले सकती है.

7 प्रस्ताव कैबिनेट की बैठक में रखे जाएंगे:
सूत्रों के अनुसार बजट सत्र के अलावा विभिन्न विभागों के विभागीय नियमों में संशोधन सहित 7 प्रस्ताव कैबिनेट की बैठक में रखे जाएंगे. कैबिनेट में ग्राम सेवक के पद को ग्राम विकास अधिकारी के नाम से जाना जाने वाला प्रस्ताव भी रखा जाएगा. हालांकि पदनाम पदलने संबंधी आदेश पहले ही जारी हो चुके हैं लेकिन विभागीय नियमों में संशोधन अब तक नहीं हुआ है.
- राज्य की नई आयुष नीति
- वन निगम की स्थापना
- स्वच्छ भारत मिशन के लिए सोसायटी
- अंबेडकर पीठ को उच्च शिक्षा विभाग से लेकर पुन: सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग को सौंपना
- चिकित्सा सेवा नियम महाविद्यालय शाखा संशोधन नियम
- ग्राम सेवक से ग्राम विकास अधिकारी पदनाम संशोधन

और पढ़ें