अतीत में हुए कुंभ मेलों को बदनाम करने का प्रयास किया गया - योगी आदित्यनाथ

अतीत में हुए कुंभ मेलों को बदनाम करने का प्रयास किया गया - योगी आदित्यनाथ

अतीत में हुए कुंभ मेलों को बदनाम करने का प्रयास किया गया - योगी आदित्यनाथ

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को राज्य में अतीत में आयोजित कुंभ मेलों और दो साल पहले प्रयागराज में आयोजित कुंभ मेले के बीच तुलना करते हुए कहा कि अतीत में आयोजित मेलों को बदनाम करने का प्रयास किया गया.

विश्व पर्यटन दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ की विरासत हजारों साल पुरानी है और यह देश की आस्था से जुड़ी हुई है. लेकिन इसे लेकर दुनिया का विचार क्या था? अगर आप कुंभ-2019 से पहले पश्चिमी देशों में कुंभ पर कुछ लिखा हुआ देखेंगे तो उसमें भगदड़, अव्यवस्था, गंदगी और अराजकता शब्दों की भरमार मिलेगी. वहां परस्पर समन्वय के स्थान पर परस्पर मतभेद मिलेगा. उसे बदनाम करने की कोशिश की गई.

प्रधानमंत्री के निर्देश में हमें दिव्य और भव्य कुंभ के आयोजन का सौभाग्य प्राप्त हुआ:
उन्होंने कहा कि आपने देखा कि इस साल हरिद्वार कुंभ में कैसे शरारत की गई. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश में हमें दिव्य और भव्य कुंभ के आयोजन का सौभाग्य प्राप्त हुआ. उन्होंने कहा कि 2019 में प्रयागराज में कुंभ मेले का आयोजन हुआ, 45 दिन लंबे इस आयोजन में 24 करोड़ से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया. सोर्स- भाषा 

और पढ़ें