VIDEO: जयपुर हेरिटेज में मेयर पद सियासत, ऑडियो रिकॉर्डिंग से जयपुर की राजनीति में आया भूचाल

VIDEO: जयपुर हेरिटेज में मेयर पद सियासत, ऑडियो रिकॉर्डिंग से जयपुर की राजनीति में आया भूचाल

जयपुर: हेरिटेज में बीजेपी की मेयर पद के प्रत्याशी कुसुम यादव के पति अजय यादव पर लगे हॉर्स ट्रेडिंग के आरोपों ने राजनैतिक सनसनी पैदा कर दी है. मेयर के चुनाव के एक दिन पहले ऑडियो रिकॉर्डिंग सामने आने से कांग्रेस को बीजेपी पर हमला करने का अवसर मिल गया. हवामहल से कांग्रेस के विधायक व मुख्य सचेतक महेश जोशी ने गंभीर आरोप लगाए. महेश जोशी ने फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत की.जोशी ने कहा कि दूध का दूध पानी का पानी सामने आ जाए आ जाएगा. 

ACB ने मामले में परिवाद किया दर्ज: 
इससे पहले पार्षद चुनाव में खरीद-फरोख्त का मामला सामने आने के बाद भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) में शिकायत दर्ज की गई हैं.पार्षद दशरथ सिंह ने ACB में शिकायत की हैं. बीजेपी मेयर प्रत्याशी कुसुम यादव के पति पर ये आरोप लगाये गए हैं. कुसुम यादव भाजपा हेरिटेज की मेयर प्रत्याशी हैं. पार्षदों की खरीद-फरोख्त के आरोप लगने के बाद ACB ने मामले में परिवाद दर्ज किया हैं. इस पूरे मामले पर ऑडियो रिकॉर्डिंग सामने आई हैं. ACB को एक पेन ड्राइव भी उपलब्ध करवाई गई हैं. ACB DG बीएल सोनी ने पुष्टि की हैं.

दोषियों के खिलाफ कांग्रेस ने की तुरंत कार्रवाई की मांग:
आपको बता दें कि कुसुम यादव के पति अजय यादव पर पार्षद चुनाव में खरीद-फरोख्त का आरोप लगा हैं. पैसे के बल पर पार्षदों की खरीद-फरोख्त करने की रिकॉर्डिंग ACB में पेश की गई हैं. पार्षद दशरथ सिंह द्वारा मुकदमा दर्ज कराया गया हैं. सबूत के तौर पर पेन ड्राइव में ACB को रिकॉर्डिंग सौंपी गई हैं. ACB ने लिया परिवाद और जांच शुरू की. इस पूरे प्रकरण पर कांग्रेस ने दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने की मांग की हैं.

अब वायरल ऑडियो रिकॉर्डिंग आई सामने: 
अब वायरल ऑडियो रिकॉर्डिंग सामने आई हैं.ऑडियो रिकॉर्डिंग के मुताबिक मेयर प्रत्याशी के पति अजय यादव ने 25-25 लाख रुपए देने, चेयरमैन जैसी सुविधाएं देने, नगर निगम से सरकारी वाहन उपलब्ध कराने सहित वार्ड में कोई भी काम कराने पर कमीशन देने पेशकश की हैं.वहीं मेयर प्रत्याशी के पति ने अपने उपर लगे इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि मैं वॉइस सैंपल देने के लिए तैयार हूं. ये मेरी आवाज नहीं हैं. फिलहाल एसीबी पूरे प्रकरण की जांच कर रही हैं. फर्स्ट इंडिया इस ऑडियो रिकॉर्डिंग की पुष्टि नहीं करता हैं. ये तो एसीबी की जांच के बाद ही पता चल पाएगा, इस ऑडियो में कितनी सच्चाई हैं. 

और पढ़ें